गठबंधन की सभा में भीड़ ने की तोड़फोड़

0

Posted on : 17-04-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, JAIL, POLICE, Politics

फर्रुखाबाद:लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा गठबंधन के प्रत्याशी की चुनावी जनसभा को सम्बोधित करने के दौरान ही भीड़ ने तोड़फोड़ कर दी|
दरअसल सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव व सांसद डिम्पल यादव के साथ मंच पर पंहुचे| उन्होंने समर्थकों और भीड़ को सम्बोधित किया| उनके भाषण समाप्त होते ही भीड़ बेकाबू हो गयी|भीड़ ने अखिलेश ने मिलने का प्रयास किया तो
पुलिस ने उन्हें रोंक दिया | जिससे भीड़ आक्रोशित हो गयी| भीड़ ने दर्जनों कुर्सियों को तोड़ दिया| जिससे अफरा-तफरी मच गयी|

अधिकारीयों से शिकायत पर बंदी की पिटाई!

0

Posted on : 01-04-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, JAIL, POLICE, जिला प्रशासन

फर्रुखाबाद:सेन्ट्रल जेल में सजा काट रहे बंदी ने अपने साथ मारपीट करने का आरोप जेल प्रशासन पर लगाया है| जिसके बाद उसका मेडिकल परीक्षण कराया गया| जिसमे उसके चोटें होने की पुष्टि हुई है|
जेल में अधिकारियों ने निरीक्षण किया था|जिसमे बंदी सुभाष पुत्र श्रीकृष्ण ने जेल की कुछ अव्यवस्थाओं आदि की शिकायत की थी| अधिकारीयों के जाने के बाद बंदी का आरोप है की जेल कर्मियों ने उसके साथ जमकर मारपीट कर दी|
घटना के बाद वह अपने एक मुकदमे की पेशी में न्यायालय गया तो उसने न्यायिक अधिकारी को घटना से अवगत करा दिया| जिसके बाद जिलाधिकारी आदि के आदेश पर सोमबार को पुलिस लाइन से दरोगा ओमप्रकाश तिवारी उसे लेकर लोहिया अस्पताल पंहुचा| जंहा उसका  मेडिकल पैनल से किया गया| पैनल में डॉ0 अभिषेक चतुर्वेदी,डॉ0 अशोक कुमार व डॉ0 गौरव मिश्रा ने मेडिकल किया|
सेन्ट्रल जेल के अधीक्षक एसएचएम रिजवी ने बताया है कि  बंदी दबाब बनाने के लिए गलत आरोप लगा रहा है| उसने पूर्व में जिला जेल से भागने का प्रयास किया था| जिसके बाद उसे सेन्ट्रल जेल की हाई सिक्योर्टी बैरग में रखा गया है|जिसके चलते वह जेल कर्मियों पर गगलत आरोप लगाया है| उसका दो दिन पहले बंदियों के साथ मारपीट हो गयी थी जिससे उसे चोट आयी होंगी| 

एटीएस ने सेन्ट्रल जेल में खंगाले बद्दो के साथियों के रिकार्ड

0

Posted on : 29-03-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, JAIL, POLICE, राष्ट्रीय, सामाजिक

फर्रुखाबाद: बीते दिन सेन्ट्रल जेल से गाजियाबाद तारीख पर गये शातिर अपराधी बदन सिंह बद्दो के फरार हो जाने के बाद पूरे प्रदेश में पुलिस उसकी गिरफ्तारी को लेकर सक्रिय है| जिसके चलते एटीएस ने सेन्ट्रल जेल जाकर बद्दो से मिलने वाले साथियों के अभिलेख खंगाले और उन्हें अपने साथ ले गयी|
शुक्रवार को आगरा एटीएस की टीम ने सेन्ट्रल जेल पंहुच कर जेल अधिकारीयों से वार्ता की| इसके  साथ ही बद्दो से जेल में मिलने आने वाले साथियों के बारे में जानकारी ली| वही एटीएस ने जाँच में पाया की बीते 22 मार्च को बद्दो से मुलाकात की थी|एटीएस उनके आधार कार्ड की फोटो कांपी,नाम व पता आदि अपने साथ ले गयी|
उधर बद्दो के फरार होने के बाद सेन्ट्रल जेल की हाई सिक्योरटी बैरंग में बंद अन्य कैदियों पर शिकंजा कस दिया गया| उनका बाहर से आने वाला सामान आदि भी बंद करा दिया गया|जिससे कई कैदी भडक गये| उन्होंने हंगामा भी किया| लेकिन बाद में जेल अधिकारीयों के समझाने के बाद वह शांत हुए|
कारागार अधीक्षक एसएचएम रिजवी ने जेएनआई को बताया की चुनाव आयोग की के निर्देश के चलते जेल जेल में बंद शातिर अपराधियों की तलाशी आदि की गयी|बंदियों ने किसी तरह का हंगामा नही किया |

“बद्दू” को लेकर गये दरोगा सहित आधा दर्जन पुलिस कर्मी निलंबित

0

Posted on : 29-03-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, JAIL, POLICE, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद:बीते दिन गाजियावाद पेशी पर गये कुख्यात बदन सिंह बद्दू के फरार होने के बाद मेरठ पुलिस ने पुलिस कर्मियों को गिरफ्तार कर लिया|
इसके साथ ही उन्हें फतेहगढ़ पुलिस के द्वारा निलंबित भी किया गया है| पुलिस अधीक्षक डॉ0 अनिल कुमार मिश्रा ने उपनिरीक्षक देशराज त्यागी,चालक भूपेन्द्र सिंह,मुख्य आरक्षी संतोष कुमार,आरक्षी राजकुमार,सुनील सिंह व ओमवीर को निलंबित कर दिया है|
उधर मेरठ पुलिस ने आरोपी दरोगा व पुलिस कर्मियों सहित आधा दर्जन को गिरफ्तार भी कर लिया गया है|एसपी के निलंबित आदेश में कहा है कि पुलिस कर्मी पुलिस लाइन से सरकारी वाहन के द्वारा सेन्ट्रल जेल से बंदी बदन सिंह उर्फ़ बद्दू को लेकर जनपद गाजियाबाद के विजय नगर थाना क्षेत्र के तहत अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के कोर्ट संख्या 2 में पेश करने के लिए रवाना हुए थे| बंदी बदन सिंह बद्दू वापसी में थाना क्षेत्र ब्रह्मपुरी मेरठ से अभिरक्षा के दौरान फरार हो गया| इसके बाद ब्रह्मपुरी थाने में 221,224,120 बी के तहत मुकदमा दर्ज किया गया| इसी के चलते दरोगा व चालक सहित आधा पुलिस कर्मियों को एसपी निलंबित कर दिया है|

10 महीने से सेन्ट्रल जेल में बंद था बदन सिंह बद्दू

0

Posted on : 28-03-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, JAIL, POLICE, जिला प्रशासन

फर्रुखाबाद:फतेहगढ़ सेन्ट्रल जेल से तारीख पर गाजियाबाद गये शातिर बदन सिंह उर्फ़ बद्दू के मेरठ से फरार हो जाने के बाद पुलिस प्रशासन में हडकंप है|बदन सिंह बीते लगभग 10 महीने पूर्व ही सेन्ट्रल जेल निरुद्ध किया गया था|
बीते बुधवार को पुलिस लाइन से दरोगा देशराज,हेड कांस्टेबल संतोष कुमार,कांस्टेबल राजकुमार और सुनील को शातिर बदन सिंह को गाजियाबाद सीजेएम कोर्ट 2 में पेश करने की जिम्मेदारी दी गयी| दरोगा देशराज के नेतृत्व में पुलिस बल बुधवार की शाम सेन्ट्रल जेल पंहुचा और बदन सिंह को अपनी सुरक्षा में लेकर गाजियावाद कोर्ट में पेश करने के लिए रवाना हुआ|
गाजियाबाद से बदन सिंह पुलिस कर्मियों को मेरठ ले गया और एक होटल में पार्टी के दौरान फरार हो गया| सेन्ट्रल जेल के अधीक्षक एसएचएम रिजवी ने जेएनआई को बताया की बदन सिंह नोयडा जेल से सेन्ट्रल जेल फतेहगढ़ जून 2018 को लाया गया था| उसे गाजियाबाद पेशी पर जाना था|

बंदी रक्षक की हत्या कर फांसी पर लटकाने का आरोप,लगाया जाम

0

Posted on : 14-03-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, JAIL

फर्रुखाबाद:बुधवार को सुबह फांसी पर बंदी रक्षक का शव लटका मिला था| पुलिस ने जाँच पड़ताल की थी| गुरुवार को मृतक बंदी रक्षक के परिजनों ने उसका शव रखकर कोतवाली के सामने हंगामा किया| पुलिस ने समझाकर जाम खुला दिया| जिला जेल फ़तेहगढ़ में बंदी रक्षक के पद पर तैनात रीतराम निवासी शाहूगंज कालोनी हाई-वे मथुरा ने सरकारी भवन में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी| जिसके बाद पुलिस ने शव उतार कर क़ानूनी कार्यवाही की|
गुरुवार को मृतक बंदी रक्षक की पत्नी संगीता अपने परिजनों के साथ पुलिस अधीक्षक डॉ० अनिल मिश्रा से मिलने का प्रयास किया| लेकिन वह नही मिले| इसके बाद परिजनों ने अपर पुलिस अधीक्षक त्रिभुवन सिंह की गाडी रोक ली| इसके बाद एएसपी ने जाँच कर कार्यवाही का भरोसा दिया|लेकिन परिजन मुकदमा दर्ज कराने की मांग करते हुए कोतवाली फतेहगढ़ के सामने शव लेकर पंहुचे और जाम लगा दिया| मृतक बंदी रक्षक रीतराम ने बताया उनके पति के साथ अधिवक्ता कुंवर सिंह सिसौदिया,बिल्लू शर्मा,मोनू यादव व एक अज्ञात चिकित्सक का उठाना बैठना था| यह लोग उनकी पास बुक अपने पास रखते थे और एटीएम व ब्लैंक चेक आदि भी लेते थे| एटीएम बीते लगभग 6 महीने से आरोपियों के पास था|
संगीता के अनुसार उनके पति की हत्या कर शव फांसी पर टांग दिया गया| परिजनों ने शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद कोतवाली के सामने जाम लगा दिया|घटना की सूचना मिलने से पुलिस मौके पर आ गयी| पुलिस ने समझाकर जाम खुलाया|
प्रभारी निरीक्षक ने बताया की जाम नही लगाया था| परिजनों को समझाकर घर भेज दिया गया है| जाँच की जा रही है|

जिला जेल के बंदी रक्षक ने सरकारी आवास पर लगायी फांसी

0

Posted on : 13-03-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, JAIL, POLICE

फर्रुखाबाद:काफी समय से मानसिक रूप से परेशान चल रहे जिला जेल के सरकारी आवास में बंदी रक्षक नें फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली| पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया|
मूल रूप से जनपद मथुरा निवासी बंदी रक्षक रीतराम पुत्र गजाधर सिंह काफी दिनों से जिला जेल फ़तेहगढ़ पर बंदी रक्षक के पद पर तैनात था| वह जेल के सरकारी भवन में दो मंजिल पर कमरा नम्बर 37 टीआई में अकेले ही रह रहा था| सुबह लगभग आठ बजे उनके पडोस में रहने वाला बंदी रक्षक महेश सिंह घर पर पंहुचा तो उसने आवाज दी|हालात संदिग्ध होने पर उसने तत्काल जिला जेल के गेट पर विभागीय लोगों को अवगत कराया| जिसके बाद पुलिस को सूचना दी गयी|
जिसके बाद मौके पर उपनिरीक्षक मो० रहीस खां आदि फिल्ड यूनिट के साथ मौके पर आ गये| भीतर जाकर देखा तो बंदी रक्षक कमरे की किचन में छत के कुंडे पर मफलर से फांसी पर झूलता हुआ मिला|पुलिस ने शव को नीचे उतारा| उसके पास एक सोसाइड नोट मिला| जिसमे उसने खुद को काफी परेशान होने का जिक्र किया है|बताया जा रहा था की बंदी रक्षक पर काफी कर्जा था| जिससे सम्बन्धित कई अभिलेख भी पुलिस को उसके घर पर मिले है|
जिला जेल के कारापाल जीएस यादव ने जेएनआई को बताया कि फांसी लगाने वाला बंदी रीतराम बीते लगभग तीन महीने से अवकाश पर चल रहा था|वह कल ही आया था|उसने अभी अपनी डियूटी ग्रहण नही की थी| परिवार को सूचना दी गयी है| 

31 बंदियों को सेन्ट्रल जेल की सलाखों से मिली आजादी

0

Posted on : 21-02-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, JAIL, जिला प्रशासन, सामाजिक
सेन्ट्रलजेल के बाहर बैठे रिहा हुए बंदी

फर्रुखाबाद:बीते कई वर्षों से सजा काट रहे सजायाफ्ता 31 और बंदियों की शासन के आदेश पर रिहाई कर दी गयी| जिसके बाद उन्होंने खुली हवा में साँस ली| उनके परिजन ख़ुशी का इजहार करते हुए उन्हें अपने साथ ले गये| केन्द्रीय कारागार में शासन के आदेश पर पहले चरण में 9 फरवरी को 35 बंदियों की रिहाई की गयी थी|इसके बाद 12 फरवरी को 30 बंदियों को रिहा किया गया| 13 फरवरी को पुन:आदेश आने पर 61 बंदी रिहा किये गये थे| 16 दरवारी को सर्वाधिक 78 बंदियों को रिहाई मिली थी|वही गुरुवार को शासन के फरमान पर सेन्ट्रल जेल से पांचवे चरण में एक बार फिर से 31 बंदियों को जेल से आजादी मिल गयी|रिहा किये गये बंदी चन्द्रसेन,शिववीर,सुरेश,रनवीर,देवेन्द्र कुमार,महिपाल व रामूदास ने बताया कि उन्हें बेहद ख़ुशी है की सरकार ने उनके रिहाई के विषय में विचार किया|उन्होंने रिहा होने की आस ही छोड़ दी थी|लेकिन अब सरकार के आदेश पर रिहाई मिल गयी है तो अब बचा हुआ जीवन अपनों के साथ सादगी से व्यतीत करेंगे|इस दौरान जेल अधीक्षक एसएचएम रिजवी,जेलर सुरेश चन्द्र,डिप्टी जेलर अरविन्द कुमार,पीके मिश्रा के साथ ही साथ बंदी रक्षक विकास कटियार,नमन दुबे,त्रिवेणी सिंह भदौरिया आदि रहे|

पुलवामा शहीदों के परिजनों को सेन्ट्रल जेल के बंदी भेज रहे 1 लाख 25 हजार

0

Posted on : 19-02-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, JAIL, जिला प्रशासन
सेन्ट्रल जेल में बैठे बंदियों के फाइल फोटो

फर्रुखाबाद:केन्द्रीय कारागार में बंद बंदियों ने भी पुलवामा हमले में शहीद हुए सैनिकों के परिजनों को एक लाख 25 हजार रूपये देनें तैयारी कर ली है| पता चला है कि इसकी प्रक्रिया भी शूरू कर डी गयी है|अपने देश के लिए जीने-मरने का जूनून केबल सलाखों के बाहर खुली हवा में सांस ले रहे लोगों में ही नही है| विभिन्य संगीन घटनाओं के आरोप में सजा काट रहे बंदियों में भी शहीदों के प्रति दुःख और पाक के खिलाफ आक्रोश है| जिसके चलते जेल के तकरीबन एक सैकड़ा बंदियों ने भी शहीदों के प्रति कुछ करने की इच्छा जाहिर की| जेल में बंद बंदियों ने अपने परिश्रमिक की जमा धनराशि शहीदों के परिवारों को देनें का फैसला किया है|इसके लिए तकरीबन एक सैकड़ा बंदियों ने मिलकर जेल अधिक्षक को इससे अवगत कराया है|अभी तक परिश्रमिक देनें वाले बंदियों की कुल धनराशि लगभग 1 लाख 25 हजार रूपये हो रही है| जिन्हें शहीद के परिवारों के लिए भेजा जायेगा|जेल अधीक्षक एसएचएम रिजवी ने जेएनआई को बताया कि बंदियों की मंशा के चलते उनकी धनराशि शहीदों के परिवारों को देनें की प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है| जल्द धनराशि भेजी जायेगी|

पंजाब प्रदेश सहित 15 जिलों के 78 बंदियों को सेन्ट्रल जेल से मिली रिहाई

0

Posted on : 16-02-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, JAIL, जिला प्रशासन

फर्रुखाबाद:शासन के आदेश के बाद सेन्ट्रल जेल में सजा काट रहे बंदियों को अब नयी उम्मीद जाग गयी है| चौथे चरण में कुल 78 बंदियों को और रिहाई दे दी गयी| जेल से बाहर निकले बंदियों ने आतंकवाद के खिलाफ अपना आक्रोश प्रगट किया| और कहा कि जिस तरह से हम सभी ने जो अपराध किया था उसकी सजा कानून ने उन्हें दी| उसी तरह जो पाक ने जघन्य अपराध किया है सरकार उनको कठोर सजा दे|
सेन्ट्रल जेल फतेहगढ़ में बीते 9 फरवरी को कुल 35 बंदियों की रिहाई हुई थी| उसके बाद 12 फरवरी को 30 बंदी रिहा किये गये| 13 फरवरी को पुनः 61 बंदियों को आजादी मिल गयी| इसके ठीक तीन दिन बाद वह मौका शनिवार को पुन: आ गया जिसमे 78 बंदियों को फिर रिहाई दी गयी| जेल से रिहा हुए वृद्ध बंदियों को उनके परिजन सहारा देकर घर ले गये| अपनों को वर्षो बाद आजाद देखने और अपनों से वर्षों के बाद सलाखों के बाहर आकर मिलने का दौर चला तो आँखों में आंसू भी आ ही गये| लेकिन उसी में एक वृद्ध व दिव्यांग बंदी वह भी था जिसको लेने कोई भी नही आया| हरदोई जनपद के मटियामऊ मल्लावां निवासी फहीम पुत्र नन्हू पैरो से चलने से लाचार था| उसके अकेला देखकर कारापाल पीके सिंह ने उसको जेल की एम्बुलेंस से घर भेजा| वही पंजाब प्रदेश के जिला लुधियाना सानेवाल भूखडी कला निवासी सरदार अमरजीत उर्फ़ जोगा पुत्र शेर सिंह जब जेल से बाहर आया तो पहले उसने जेल गेट के बाहर धरती के पैर छुए और उसके बाद रवाना हुआ|
15 जनपदों के बंदियों को मिली रिहाई
शनिवारकोजालौन,कन्नौज,एटा,कानपुरनगर,मैनपुरी,उन्नाव,फतेहपुर,लुधियानापंजाब,प्रतापगढ़,हरदोई,फर्रुखाबाद,कासगंज,लखनऊ,इटावा,औरैया के बंदियों को रिहाई मिली| सेन्ट्रल जेल अधीक्षक एसएचएम रिजवी,जेलर पीके सिंह आदि रहे|