Featured Posts

गंगा-जमुनी तहजीब की मिशाल बन रहा जेल में बंदियों का रोजागंगा-जमुनी तहजीब की मिशाल बन रहा जेल में बंदियों का रोजा फर्रुखाबाद:(दीपक-शुक्ला) रमजान का पवित्र माह शुरू हो गया। जहां एक ओर लोगों ने सुबह सहरी कर पहला रोजा रखा। वहीं सेन्ट्रल जेल में बंद बंदियों ने भी रोजे रखे। मुस्लिम समाज के करीब 175 कैदियों ने अल्लाह की रजा (खुशी) हासिल करने के लिए रमजान का रोजा रखा। जिनकी सहरी और इफ्तार की जिम्मेदारी...

Read more

सांसद करेंगे नरेन्द्र से नरेन्द्र तक पुस्तक का विमोचनसांसद करेंगे नरेन्द्र से नरेन्द्र तक पुस्तक का विमोचन फर्रुखाबाद: आचार्य ओम प्रकाश मिश्रा (कंचन) द्वारा लिखित पुस्तक नरेंन्द्र से नरेन्द्र तक का विमोचन सांसद मुकेश राजपूत के द्वारा किया जायेगा| जिसकी सभी तैयारी पूर्ण कर ली गयी है| शहर के कोटा पार्चा स्थित एशियन कम्प्यूटर सेंटर अपर आयोजित प्रेस वार्ता में आचार्य कंचन ने बताया...

Read more

खूनी जबड़ों के साये में जीने को मजबूर रतनपुर के ग्रामीणखूनी जबड़ों के साये में जीने को मजबूर रतनपुर के ग्रामीण फर्रुखाबाद:(जहानगंज) आदमखोर कुत्तों के साये में ग्रामीण व नैनिहाल अभी भी जी रहे है| डर भय का आलम यह है की गाँव के बच्चों ने विधालय जाना तकज छोड़ दिया दिया है| जिससे सरकारी विधालय की छात्र उपस्थिति लगातार कम होती जा रही है| परिजन खुद अपने बच्चों की लाठी-डंडो से लैस होकर सुरक्षा...

Read more

एक ही फंदे पर माँ-बेटे की झूलती मिली लाश,हत्या का आरोपएक ही फंदे पर माँ-बेटे की झूलती मिली लाश,हत्या का आरोप फर्रुखाबाद:(कंपिल) विवाहिता व उसके मासूम बेटे का शव फांसी पर लटका मिला| घटना की सूचना पर परिजन मौके पर पंहुचे| उन्होंने दहेज के लिये हत्या कर शव फांसी पर लटका दिये जाने का आरोप लगाया | कमरे में ही एक सुसाइड नोट भी मिला है| थाना क्षेत्र के ग्राम मेदपुर निवासी आनन्द उर्फ़ लालू...

Read more

निर्माणाधीन ओवरब्रिज की दो बीम गिरने से 25 लोगों की मौतनिर्माणाधीन ओवरब्रिज की दो बीम गिरने से 25 लोगों की मौत वाराणसी:पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रेलवे स्टेशन के सामने बन रहे फ्लाई ओवर की दो बीम गिरने से 25 लोगों की मौत हो गई है। बीम गिरने के कारण बस सहित छह गाडिय़ां फंसी हैं। छह क्रेन बीम को उठाने में लगी हैं। घटनास्थल पर नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स की सात टीमें...

Read more

प्राथमिक शिक्षक संघ ने बीएसए कार्यालय पर दिया धरनाप्राथमिक शिक्षक संघ ने बीएसए कार्यालय पर दिया धरना फर्रुखाबाद: उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ ने फरवरी माह का वेतन ना मिलने से खफा होकर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया धरना दिया| शिक्षकों की नारेबाजी देख बीएसए अपने कक्ष से वित्त एवं लेखाधिकारी को साथ लेकर निकल आए और बिना अनुमति के धरना दिए जाने...

Read more

फरियादियों के फोन पर नही हो सकी एडीजी की बातफरियादियों के फोन पर नही हो सकी एडीजी की बात फर्रुखाबाद:(जहानगंज) एडीजी अविनाश चन्द्र ने थाने के निरीक्षण के दौरान पुलिस कर्मियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये| वही उन्होंने आगन्तुक रजिस्टर चेक किया| जिसके बाद उन्होंने उसमे दर्ज फरियादियों को फोन लगाया लेकिन बात नही हो सकी| सुबह एडीजी थाने का निरीक्षण एसपी मृगेंद्र...

Read more

एडीजी के जाते ही थाने से चली गयी उधार की हरियालीएडीजी के जाते ही थाने से चली गयी उधार की हरियाली फर्रुखाबाद:(जहानगंज) एडीजी के स्वागत के लिये थाना पुलिस ने कोई कोर कसर नही छोड़ी| यंहा तक की उन्हें खुश करने के लिये उधार की फुलवारी भी थाने में लाकर रखनी पड़ी| लेकिन जाने के बाद उसे पुलिस को वापस करना पड़ा| एडीजी अबिनाश चन्द्र के द्वारा थाने का निरीक्षण किया जाना पूर्व में ही...

Read more

मोर को शिकार के लिये ले जाते समय दबोचामोर को शिकार के लिये ले जाते समय दबोचा फर्रुखाबाद:(जहानगंज) शिकार करने के इरादे से ले जाए जा रहे जिंदा मोर व एक आरोपी को ग्रामीण ने दबोच लिया| जिसके बाद उसे पुलिस के हबाले कर दिया गया| मौके से दो आरोपी भागने में कामयाब रहे| मामले में पुलिस को तहरीर दी गयी है| कोतवाली मोहम्मदाबाद क्षेत्र ग्राम मुरास के निकट थाना...

Read more

पुलिस जीप से कूदकर भागा आरोपी दबोचापुलिस जीप से कूदकर भागा आरोपी दबोचा फर्रुखाबाद:(अमृतपुर) काफी समय से फरार चल रहे आरोपी को पुलिस न्यायालय ले जा रही थी| वही वह पुलिस जीप से कूदकर फरार हो गया| लेकिन पुलिस ने उसे कुछ दूर दौड़कर दबोच लिया| जिसके बाद उसे न्यायालय में पेश किया गया| जंहा से उसे जेल भेज दिया गया| थाना में आरोपी राजेश उर्फ़ जितेन्द्र पुत्र...

Read more

अब लाउडस्पीकर की अनुमति नहीं लेने वालों के खिलाफ कार्रवाई की बारी

Comments Off on अब लाउडस्पीकर की अनुमति नहीं लेने वालों के खिलाफ कार्रवाई की बारी

Posted on : 27-01-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, Politics

लखनऊ:उत्तर प्रदेश शासन के आदेश के बावजूद बड़ी संख्या में धर्मस्थलों पर लाडस्पीकर बजाने की अनुमति नहीं ली गई। जिला प्रशासन की ओर से इन सभी स्थलों पर पहले नोटिस भेजा जा चुका है। अब 27 जनवरी से विशेष अभियान चलाने की बारी है। अब ऐसे स्थलों का सत्यापन शुरू कर दिया गया है। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। एक सैंपल सर्वे के मुताबिक करीब एक तिहाई स्थलों पर अनुमित नहीं ली गई है। इस मामले में अब राजस्व विभाग की टीम की रिपोर्ट पर थाना पुलिस कार्रवाई को अंजाम देगी।
पांच साल सजा या एक लाख रुपये जुर्माना
प्रदेश सरकार के आदेश के बाद बिना अनुमति के लाडस्पीकर बजाना प्रतिबंधित होगा। इलाहाबाद हाईकोर्ट इस मामले में पहले ही अपना फैसला सुना चुका है। आदेश का अनुपालन न करने वालों पर पांच साल की सजा या फिर एक लाख रुपये जुर्माना हो सकता है। जिन स्थलों की अनुमति दी गई है वहां केवल एक हार्न या एक लाउडस्पीकर ही लगाया जा सकता है।
जानकारी के मुताबिक करीब एक तिहाई स्थानों पर लाउडस्पीकर बजाने की अनुमति नहीं ली गई। गोंडा के तरबगंज में 101 स्थलों पर नोटिस के बावजूद लाडस्पीकर बजाने की अनुमति नहीं ली गई। एसडीएम अमरेश कुमार ने बताया हाईकोर्ट के आदेश पर धार्मिक व अन्य स्थलों पर लाउडस्पीकर का चिह्नांकन राजस्व टीम से कराया गया था। क्षेत्र में 312 स्थलों को चिह्नित करके नोटिस जारी की गई थी। निर्धारित अवधि में 211 लोगों को लाडस्पीकर की अनुमति जारी की गई है जबकि 101 स्थलों के लिए अनुमति नहीं ली गई।
फैजाबाद के रुदौली में 621 धार्मिक स्थलों को लाउडस्पीकर की अनुमति प्रशासन ने दी है। एसडीएम पंकज सिंह ने बताया कि 27 जनवरी से विशेष अभियान चलाकर धार्मिक स्थलों का सत्यापन कराया जाएगा। जहां बगैर अनुमति लाउडस्पीकर का प्रयोग होगा, वहां लाउडस्पीकर उतराने के साथ ही कार्रवाई की जाएगी। अनुमति न लेने वाले सभी इलाकों के थानाध्यक्ष को ऐसे स्थलों पर कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।

ओम प्रकाश सिंह बने उत्‍तर प्रदेश के नए डीजीपी

Comments Off on ओम प्रकाश सिंह बने उत्‍तर प्रदेश के नए डीजीपी

Posted on : 23-01-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, POLICE

लखनऊ: डीजीपी के जनसम्पर्क अधिकारी राहुल गुप्ता ने बताया कि सिंह ने कार्यभार ग्रहण कर लिया है। उन्होंने 31 दिसंबर को ही सेवानिवृत्त हो चुके सुलखान सिंह का स्थान लिया है।
साफ-सुथरी छवि वाले 1983 बैच के आईपीएस अफसर ओम प्रकाश सिंह इससे पहले केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के महानिदेशक थे। केन्द्र से उन्हें कार्यमुक्त करने में काफी समय लगने के कारण वह पदभार ग्रहण नहीं कर सके थे। प्रदेश में डीजीपी का पद पिछले 22 दिन से खाली था।सेंट जेवियर्स कॉलेज, नेशनल डिफेंस कॉलेज और दिल्ली विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त कर चुके सिंह आपदा प्रबन्धन में एमबीए के साथ-साथ एम.फिल डिग्रीधारी हैं। वह पूर्व में उत्तर प्रदेश तथा केन्द्र सरकार में अनेक महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके हैं।

वर्ष 1992-93 में लखीमपुर खीरी जिले के पुलिस अधीक्षक पद पर रहते हुए उन्होंने आतंकवादी गतिविधियों पर सख्ती से लगाम कसी थी। इसके अलावा लखनऊ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पद पर काम करते हुए उन्होंने धार्मिक जुलूसों को लेकर अर्से पुराने शिया-सुन्नी विवाद को सुलझाने में अहम भूमिका निभायी थी| आपदा राहत बल के महानिदेशक के तौर पर सिंह ने जम्मू-कश्मीर में आयी बाढ़, नेपाल में आये विनाशकारी भूकम्प, हुदहुद तूफान तथा चेन्नई के शहरी इलाकों में आयी बाढ़ की विभीषिका से निपटने के लिये सराहनीय कार्य किये थे। सिंह को उत्कृष्ट सेवा के लिये वीरता पुरस्कार समेत कई तमगे भी मिल चुके हैं।

सरकार अपराधी पकड़े,आलू किसान नहीं:अखिलेश

Comments Off on सरकार अपराधी पकड़े,आलू किसान नहीं:अखिलेश

Posted on : 13-01-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, Politics, Politics- Sapaa, Politics-BJP

लखनऊ:विधानसभा के सामने आलू फेंकने के मामले में गिरफ्तारी को लेकर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार को भाजपा सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा-‘सरकार अपराधी पकड़े आलू किसान नहीं। एलान किया कि समाजवादी पार्टी किसानों की बदहाली व अन्य मुद्दों को लेकर 27 जनवरी को प्रदेश की सभी तहसीलों में धरना-प्रदर्शन करेगी। इस दौरान कार्यकर्ता जिलाधिकारी को एक बोरी आलू भेंट करेंगे। साथ ही आवारा जानवर भी उन्हें दिए जाएंगे।

पार्टी मुख्यालय में समाजवादी छात्र सभा के बैनर तले जीते छात्र संघ के पदाधिकारियों को संबोधित करने के बाद पत्रकारों के सवाल पर अखिलेश सरकार के प्रति आक्रामक नजर आए। कहा, भाजपा जो कहती है, वह करती नहीं है और जो करती है, उसका पता नहीं चलता। इसे लोगों का ध्यान बंटाने में महारत हासिल है। यह कभी भी ध्यान भटका सकती है। चार जजों ने प्रेस कांफ्रेंस की तो लोगों का ध्यान बंटाने के लिए चिदंबरम के यहां छापा डाल दिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में असल मुद्दों का अनदेखी की जा रही है।कानून व्यवस्था की हालत खराब है। सरकार बेहतर कानून व्यवस्था दे, हम विपक्ष के रूप में सहयोग करेंगे। छात्रसंघ पदाधिकारियों को नेता विरोधी दल राम गोविंद चौधरी, स्वामी अग्निवेश ने भी संबोधित किया। संचालन प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने किया। समाजवादी छात्रसभा के प्रदेश अध्यक्ष दिग्विजय सिंह देव ने पदाधिकारियों का परिचय दिया।
एफडीआइ और जीएसटी से स्वदेशी का सत्यानाश
इससे पहले छात्रसंघ पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए अखिलेश ने कहा कि केंद्र सरकार ने कहा कि एफडीआइ ले आएंगे। जीएसटी और एफडीआइ से देश का क्या हाल होगा, कोई नहीं जानता। इसका सबसे अधिक असर भाजपा के स्वदेशी नारे पर ही पड़ेगा। एफडीआइ स्वदेशी आंदोलन को खत्म कर देगा। उन्होंने युवाओं से कहा कि यह दौर नई टेक्नालॉजी का है। वे टेक्नालॉजी से जुड़ेंं और इसका बेहतर व अच्छा इस्तेमाल करें।
महोत्सव के बहाने योगी को घेरा
अखिलेश ने गोरखपुर महोत्सव के बहाने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर कटाक्ष किए। कहा कि हमारा महोत्सव होता था तो बहुत बुराई करते थे। हम नहीं करेंगे, क्योंकि हम खुद भी उत्सव मनाते थे लेकिन, योगीजी आप पीछे रह गए। बजट बढ़ाइए। जो सीएम अपने यहां के लिए बजट नहीं दे सकता, उससे कमजोर मुख्यमंत्री कोई नहीं। उन्होंने महोत्सव के दौरान ईवीएम मशीनों के मेंटेनेंस पर भी आपत्ति जताई। कहा कि जब पूरा प्रशासन महोत्सव में व्यस्त हैै तो मेंटेनेंस कराने का प्रयोजन क्या है।
एसएसपी लखनऊ को दूंगा यश भारती
विधानसभा के सामने आलू फेंके जाने के मामले में कुछ सपाइयों की गिरफ्तारी को लेकर अखिलेश ने लखनऊ के एसएसपी पर भी तंज किया। कहा कि मैं उन्हें यश भारती दूंगा। उनके घर के पड़ोस में पूर्व विधायक के बेटे की हत्या हो जाती है। वह अपनी हैसियत में रहें। चोर-बदमाश को तो पकड़ नहीं पा रहे, आलू किसानों को गिरफ्तार कर रहे हैं, यह कौन सी बड़ी उपलब्धि है।

स्वाती सिंह व चेतन चौहान ने विधानपरिषद में कराई सरकार की किरकिरी

Comments Off on स्वाती सिंह व चेतन चौहान ने विधानपरिषद में कराई सरकार की किरकिरी

Posted on : 20-12-2017 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, Politics, Politics- Sapaa, Politics-BJP

लखनऊ:मंत्रियों द्वारा पूरी तैयारी से सदन में नहीं आने के कारण विधानमंडल में सरकार की किरीकिरी हुई। विधान परिषद में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने ही दो मंत्रियों ने फजीहत कराई। कृषि विपणन राज्यमंत्री स्वाती सिंह व खेल मंत्री चेतन चौहान विपक्ष के सवालों का जवाब ठीक से नहीं दे पाए और प्रश्न संदर्भ समिति को भेज दिए गए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 11 बजे उच्च सदन पहुंच गए। पहला प्रश्न सपा के शतरुद्र प्रकाश का था। उन्होंने कृषि विपणन मंत्री से मुख्यमंत्री के विशेष सचिव अमित सिंह के 10 अगस्त 2017 के उस पत्र के बारे में पूछा था जिसमें उन्होंने मुख्य अभियंता ग्रेड-2 के अभियंताओं के खिलाफ जांच कराने के आदेश दिए थे। लेकिन, प्रश्न का उत्तर मंत्री स्वाती सिंह ठीक से नहीं दे पाईं। उन्होंने कहा कि जांच चल रही है।इस पर सपा सदस्य ने पूछा कि क्या जांच के लिए तकनीकी सलाहकार समिति गठित हो गई है। मंत्री ने कहा अगर समिति गठित न होती तो जांच कैसे शुरू हो जाती। मंत्री के इस जवाब पर सदस्यों ने आपत्ति उठाई। कहा, सदन में अगर, मगर के जरिये उत्तर नहीं दिए जाते हैं। इस पर नेता सदन डॉ. दिनेश शर्मा ने बीच-बचाव करते हुए कहा कि अभी तकनीकी सलाहकार समिति के गठन की प्रक्रिया गतिमान है। इस पर सदस्यों ने प्रश्न को स्थगित करने की मांग की। सभापति ने इस प्रश्न को संदर्भ समिति के पास भेज दिया।

वहीं, दूसरे प्रश्न पर खेल मंत्री चेतन चौहान फंस गए। सपा के हीरा लाल यादव ने पूछा था कि अंबेडकरनगर के स्टेडियम में किन-किन खेलों की सुविधाएं उपलब्ध हैं। इसमें कोच की क्या स्थिति है, लेकिन मंत्री इस प्रश्न का ठीक से जवाब नहीं दे पाए। इस पर विपक्ष ने कहा कि सरकार के मंत्री बिना तैयारी के सदन में आ रहे हैं। अफसर आइएएस वीक में मस्त थे इसलिए सही जवाब नहीं आए हैं। सभापति रमेश यादव ने इस प्रश्न को भी प्रश्न संदर्भ समिति को भेज दिया।

तहसीलों की संख्या भी भूले : विधान सभा में भी मंत्रियों के रवैये से सरकार की खिल्ली उड़ी। संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना भी हड़बड़ा गए। सपा के शिवपाल यादव द्वारा प्रदेश में तहसीलों की संख्या पूछ लेने पर असहज हुए खन्ना काफी देर बाद यह जानकारी दे पाए। अपनी भूल छिपाने के फेर में उन्होंने कहा कि ऐसी जानकारियां तो हमारे स्टाफ के पास रहती है। इस पर सदन में ठहाका गूंज गया। पंचायतीराज राज्यमंत्री भूपेंद्र सिंह के गोलमोल जवाब से भी विपक्ष संतुष्ट नहीं था।

विधानसभा सदन स्थगित हो गया और विधायक धरने पर बैठे रहे

Comments Off on विधानसभा सदन स्थगित हो गया और विधायक धरने पर बैठे रहे

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की 17वीं विधानमंडल के शीतकालीन सत्र का दूसरा दिन भी हंगामे की भेंट चढ़ गया। दोनों सदनों में बिजली दरों में वृद्धि को लेकर जबरदस्त तकरार हुई। विधानसभा में विपक्षी दलों ने कार्यवाही नहीं चलने दी। सपा-कांग्रेस का धरना दिया जबकि बसपा और रालोद ने वाकआउट किया। समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के तेवर काफी तीखे नजर आए। हंगामे के चलते विधानसभा सोमवार तक स्थगित कर दिया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा पर सदन बाधित करने का आरोप लगाया और कहा कि सपा हंगामा कर अपने कार्यकाल के काले कारनामे छिपाना चाहती है, इसीलिए सदन में चर्चा से भाग रही हैं।

दरअसल, सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सपा-कांग्रेस सदस्य हंगामा करने लगे और नारेबाजी करते हुए वेल में सदन के कूपे (वेल) में आ गए। यहां सदस्यों ने धरना शुरू कर दिया। देर तक धरना जारी रहा। हंगामे के बीच विधानसभा अध्यक्ष ने कार्यवाही स्थगित कर दी।। नेता विरोधी दल रामगोविंद बोले-बढ़ी विधुत दर वापस की जाएं तो वह चर्चा में शामिल होंगे। इसी मसले को लेकर बसपा और रालोद ने वाकआउट किया।
विधान परिषद में भी हंगामा
बिजली की बढ़ी दरें वापस लेने की मांग को लेकर सपा सदस्यों ने विधान परिषद में भी हंगामा किया। सरकार के जवाब से असंतुष्ट सपा सदस्य सभापति के सामने वेल में आ गए और हंगामा करने लगे। शोर-शराबे के बीच विधान परिषद में विधायी कार्य निपटाए गए। इसके बाद सदन सोमवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया। ल्लेखनीय है कि शीतकालीन सत्र 22 दिसंबर तक चलेगा। इसमें अनुपूरक बजट के अलावा यूपीकोका जैसे विधेयक भी पारित होंगे।

[bannergarden id="12"]