Featured Posts

राजेपुर ब्लाक प्रमुख सुबोध यादव सहित उनके 26 साथियों पर मुकदमा दर्जराजेपुर ब्लाक प्रमुख सुबोध यादव सहित उनके 26 साथियों पर मुकदमा... फर्रुखाबाद: ब्लाक प्रमुखी में अविश्वास प्रस्ताव लाने के प्रयास में लगे बीजेपी नेता को धमकाने के मामले में पुलिस ने राजेपुर ब्लाक प्रमुख सुबोध यादव व उनके 26 साथियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। वहीं बीजेपी नेता को पुलिस सुरक्षा दी गयी है। थाना क्षेत्र के...

Read more

अविश्वास प्रस्ताव- बिना दूल्हे की बारात में दहेज़ पर मसक्कत, सगुना ही रहेगी अध्यक्षा!अविश्वास प्रस्ताव- बिना दूल्हे की बारात में दहेज़ पर मसक्कत,... फर्रुखाबाद: जिला पंचायत में अध्यक्षा के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव बड़े ही ढोल पीट कर दे दिया गया है| मगर अगर अविश्वास प्रस्ताव आ गया तो अगला अध्यक्ष कौन बनेगा? अनुसूचित जाति की महिला के लिए आरक्षित सीट है और दावेदार केवल पांच| एक वर्तमान में अध्यक्षा है और बाकी के चार के लिए...

Read more

आप संडे की छुट्टी मना रहे हैं, वहां योगी ने ले लिया बेहद सनसनीखेज फैसला, पूरे यूपी में मचा तहलकाआप संडे की छुट्टी मना रहे हैं, वहां योगी ने ले लिया बेहद सनसनीखेज... लखनऊ : उत्तर प्रदेश को अब उत्तम प्रदेश बनने से कोई नहीं रोक सकता, ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्कि ऐसा तो आप खुद कहेंगे इस बेहद सनसनीखेज खबर को पढ़ने के बाद. सीएम योगी प्रदेश में कानूनों का सही तरीके से पालन हो इसके लिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहे हैं और अब इसी सिलसिले में योगी सरकार...

Read more

बंदियों ने जेल अधीक्षक का सिर फोड़ा, प्रभारी डीएम घायल, डाक्टर पर कार्यवाहीबंदियों ने जेल अधीक्षक का सिर फोड़ा, प्रभारी डीएम घायल, डाक्टर... फर्रुखाबादः जिला जेल फतेहगढ़ में रविवार सुबह से चल रहे बबाल में आक्रोषित बंदियों ने जेल अधीक्षक का सिर पत्थर मारकर फोड़ दिया। बंदियों की मांग पर जेल के चिकित्सक डा0 नीरज को उनके पद से हटा दिया गया। प्रभारी डीएम सीडीओ एनपी पाण्डेय को भी पत्थर मारकर बंदियों ने घायल कर दिया।...

Read more

ब्रेकिंग - जिला जेल में बंदीयों ने की तोड़फोड़ व पथरावब्रेकिंग - जिला जेल में बंदीयों ने की तोड़फोड़ व पथराव फर्रुखाबादः रविवार को सुबह किसी बात को लेकर जिले जेल के बंदी अचानक भड़क गये। जिसके चलते उन्होंने पथराव शुरू कर दिया। इसके साथ ही बंदियों ने काफी तोड़फोड़ कर दी। आगजनी का मामला भी सामने आया है। सूचना मिलने पर जेल में अलार्म व शायरन भी बजाया गया। लेकिन फिलहाल कोई असर दिखायी...

Read more

योगी मंत्रिमंडल की पूरी अधिकृत सूची- किसको मिला कौन सा विभागयोगी मंत्रिमंडल की पूरी अधिकृत सूची- किसको मिला कौन सा विभाग लखनऊ: उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक ने मुख्यमंत्री श्री आदित्य नाथ योगी के प्रस्ताव दोनों उप मुख्यमंत्रियों सहित सभी 22 मंत्री, 9 राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) तथा 13 राज्यमंत्रियों को विभाग आवंटित करने पर अपना अनुमोदन प्रदान कर दिया है। मुख्यमंत्री ने गृह, आवास...

Read more

रिश्वत वसूली ऊपर वाले के लिए करनी पड़ती है...रिश्वत वसूली ऊपर वाले के लिए करनी पड़ती है... भाई साहब फाइल पर साहब का अप्र्रोवल लेना है खर्चा दो| दफ्तर के बाबू ने बड़ी शालीनता से ठेकेदार से रिश्वत की मांग अपने साहब के लिए कर दी| साथ ही ठेकेदार पर एहसान भी लाद दिया, आप तो घर के आदमी है मुझे कुछ नहीं चाहिए| रिश्वत कोई अपने लिए नहीं वसूलता है यहाँ सब ऊपर वाले के लिए रिश्वत...

Read more

ब्रेकिंग-आरोपी के घर बंद कमरे में मिली डिस संचालक की लाशब्रेकिंग-आरोपी के घर बंद कमरे में मिली डिस संचालक की लाश फर्रुखाबाद: शहर कोतवाली क्षेत्र के पक्कापुल निवासी मुकेश पुत्र ओमप्रकाश के अपहरण का मुकदमा तकरीबन 10 दिन पूर्व परिजनों ने कोतवाली में दर्ज कराया था। गुरुवार की शाम आरोपी के घर के अंदर ही मुकेश की लाश मिलने से पुलिस पर सवालिया निशान लगने लगे हैं। गुरुवार की शाम परिजनों...

Read more

रेप के आरोपी गायत्री प्रजापति अरेस्ट, 17 दिन से खोज रही थी पुलिसरेप के आरोपी गायत्री प्रजापति अरेस्ट, 17 दिन से खोज रही थी पुलिस लखनऊ: .रेप के आरोपी गायत्री प्रजापति को लखनऊ पुलिस और एसटीएफ ने यहां बुधवार को अरेस्ट कर लिया है। वह करीब 17 दिन से फरार चल रहे थे। ऐसा कहा जा रहा कि लखनऊ के आलमबाग थाने में पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है। मंगलवार को उनके दोनों बेटों अनुराग प्रजापति और अनि‍ल प्रजापति को पूछताछ...

Read more

हम गायत्री मंत्र बोलते हैं, सपा वाले गायत्री प्रजापति मंत्र बोलते हैंहम गायत्री मंत्र बोलते हैं, सपा वाले गायत्री प्रजापति मंत्र... जौनपुर. काशी में शनिवार को रोड शो करने के बाद नरेंद्र मोदी ने जौनपुर में रैली की। उन्होंने कहा- "हम सबका साथ-सबका विकास का नारा देते हैं। सपा- कांग्रेस वाले कुछ का साथ-कुछ का विकास की ही बात कहते हैं। मैं आपको गारंटी देता हूं कि बीजेपी सरकार की पहली मीटिंग में किसानों का कर्जा...

Read more

एफआईआर दर्ज करने में हीला हवाली करने वाले पुलिसकर्मियों पर होगी कार्यवाही: डीजीपी

0

Posted on : 26-04-2017 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, POLICE, सामाजिक

लखनऊ: यूपी में एफआईआर दर्ज करने में हीला हवाली करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) सुलखान सिंह ने कहा है, सभी प्रकरणों में एफआईआर दर्ज करने में किसी प्रकार की हीला हवाली ना की जाए एवं इसमें क्षेत्राधिकार के विवाद में ना पडकर शिकायतकर्ता की एफआईआर तत्काल दर्ज की जाए। एफआईआर ना दर्ज करने पर संबंधित थाना प्रभारी के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। सिंह ने जिलों के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों और पुलिस अधीक्षकों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत कर उचित निर्देश दिये हैं। इस दौरान उनके साथ वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।

उन्होंने कहा कि गोरक्षा और प्रेम संबंध जैसे मुद्दों पर कानून हाथ में लेकर हिंसा करने वालों और अराजकता फैलाने वालों के खिलाफ कडी कार्रवाई की जानी चाहिए। डीजीपी ने एंटी रोमियो स्क्वायड के बारे में कहा कि एक ‘स्टैडिंग आर्डर’ तैयार करा लिया जाये जिसमें ‘क्या करें और क्या ना करें’ स्पष्ट रूप से वर्णित हो। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एवं पुलिस अधीक्षक स्क्वायड की स्वयं ब्रीफिंग करें, स्क्वायड को किसी प्रकार की कोई तफ्तीश नहीं करनी है, केवल उद्दंड व्यक्तियों के खिलाफ ही कार्रवाई की जाये।

उन्होंने कल पुलिस कप्तानों से बातचीत करते हुए कहा कि ऐसे सभी व्यक्तियों को जेल न भेजा जाये बल्कि उनके अभिभावकों को बुलाकर समझाया जाये। एन्टी रोमियो स्क्वायड यथासम्भव उपरोक्त समस्त कार्रवाई को बाडी कैमरा या वीडियो कैमरे से रिकार्ड करें।सिंह ने निर्देश दिया कि किसी भी स्थिति में कोई नई परम्परा स्थापित नहीं होगी, किसी मुद्दे पर रोड जाम होने नहीं दिया जाये। सभी बड़े कस्बों और जनपद मुख्यालय पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक तथा समस्त अधिकारी जनप्रतिनिधियों की बैठक कर उनका सहयोग लें। इसी तरह लेबर यूनियन, अधिवक्ता एवं समाज के अन्य प्रबुद्घ वर्गों के साथ बैठक कर एक तारतम्य स्थापित किया जाये एवं उनका विश्वास जीता जाये।

यातायात व्यवस्था पर डीजीपी ने कहा कि सड़कों पर यातायात व्यवस्था में अपेक्षित सुधार लाया जाये। अतिक्रमणकर्ता के खिलाफ कार्रवाई की जाये तथा ‘सड़क अनुशासन’ का मजबूती से पालन किया जाये। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी हर दिन सुबह कार्यालय में बैठकर जनता की समस्याओं का निस्तारण करें। पुलिस लाइन में सभी अधिकारी साप्ताहिक परेड में भाग लें एवं अनुशासन स्थापित करें। सिंह ने स्पष्ट निर्देश दिया कि पुलिस कार्रवाई के दौरान किसी भी स्थिति में किसी व्यक्ति को अपमानित ना किया जाए। सभी व्यक्तियों से सम्मानपूर्वक व्यवहार किया जाए।

विधानसभा में सीएम योगी बोले- यूपी को बनाएंगे नंबर एक

Comments Off on विधानसभा में सीएम योगी बोले- यूपी को बनाएंगे नंबर एक

Posted on : 30-03-2017 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, Politics, Politics-BJP

लखनऊ: यूपी का मुख्यमंत्री बनने के बाद विधानसभा में योगी आदित्य नाथ ने अपना पहला भाषण दिया है। इस दौरान उन्होंने कहा कि सदन को चर्चा का मंच बनाना है और यूपी को नंबर एक राज्य बनाना है। उन्होंने कहा- “मेरी सरकार विपक्ष से भेदभाव नहीं करेगी। लोकतंत्र में किसी को भी भेदभाव महसूस नहीं होना चाहिए।” योगी आदित्यनाथ ने कहा,”चुनावों में हम एक-दूसरे के खिलाफ थे, लेकिन अब एक साथ उत्तर प्रदेश के लिए काम करना है। हमें उम्मीदों पर खरा उतरना है। उत्तर प्रदेश की 22 करोड़ जनता के बारे में सोचना है। सत्ता पक्ष और विपक्ष लोकतंत्र के दो महत्वपूर्ण स्तंभ हैं। दोनों मिलकर एक साथ कार्य कर सकें। हम सभी का लक्ष्य एक ही होना चाहिए। जनता की समस्या के समाधान में विपक्ष भी सहयोग करे।”

उन्होंने कहा, “प्रदेश की जनता ने विकास के लिए हमें मौका दिया है, ऐसे में हमें इस मौके का फायदा उठाना चाहिए। विकास दर और उत्तर प्रदेश के आम जन की समस्या को देखा जाए तो हम अभी बहुत पीछे हैं। क्या यह हो सकता है कि यह सदन चर्चा का एक मंच बन सके.. उच्च लोकतांत्रिक मूल्यों का एक आदर्श बन सके।” सीएम योगी ने ने कहा हम आशा करते हैं कि विधानसभा शांति पूर्ण ढंग से चलेगी और प्रदेश के विकास के लिए काम करेगी।

बता दें कि हृदय नारायण दिक्षित को यूपी विधानसभा का नया स्पीकर चुना गया है। उनके सम्मान में योगी आदित्यनाथ ने अपना पहला भाषण दिया है। सीएम योगी ने विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित का अभिनंदन करते हुए कहा, आपने अपने जीवन में काफी संघर्ष किया है। आपने पत्रकारिता जगत में काफी सक्रिय योगदान दिया है। इससे पहले योगी आदित्यनाथ ने लोकसभा में अपनी आखिरी स्पीच दी थी।

शिक्षामित्रों का मानदेय बढ़ सकता है तीन गुना

2

लखनऊ:लंबे समय से मानदेय बढ़ाने की मांग कर रहे शिक्षामित्रों की मुराद जल्द ही पूरी हो सकती है 27 मार्च को नई दिल्ली में हुई सर्व शिक्षा अभियान (एसएसए) के प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड की बैठक में केंद्र सरकार ने शिक्षामित्रों का मासिक मानदेय बढ़ाकर 10 हजार रुपये करने पर विचार करने पर सहमति जतायी है। अभी शिक्षामित्रों को 3500 रुपये प्रति माह मानदेय मिलता है। यदि केंद्र सरकार ने राज्य की ओर से भेजे गए प्रस्ताव पर मुहर लगायी तो प्रदेश के 26,504 शिक्षामित्रों के मानदेय में तकरीबन तीन गुने का इजाफा हो जाएगा।

एसएसए के राज्य परियोजना कार्यालय ने वित्तीय वर्ष 2017-18 के लिए उत्तर प्रदेश की जो वार्षिक कार्ययोजना प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड की मंजूरी के लिए भेजी थी, उसमें शिक्षामित्रों का मानदेय बढ़ाकर 10,000 रुपये करने का प्रस्ताव था। एसएसए के राज्य परियोजना निदेशक डॉ.वेदपति मिश्र ने बताया कि प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड की बैठक में केंद्र सरकार की ओर से शिक्षामित्रों का मानदेय बढ़ाने पर विचार करने के लिए कहा गया है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि असल स्थिति प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड की बैठक का कार्यवृत्त जारी होने पर पता चलेगी। इससे पहले पिछले दो वर्षों में भी राज्य की ओर शिक्षामित्रों का मानदेय बढ़ाने का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा था लेकिन, प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड की बैठक में नामंजूर कर दिया गया था।

बढ़ेगा अंशकालिक अनुदेशकों का मानदेय : प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड की बैठक में केंद्र सरकार ने अंशकालिक अनुदेशकों का मासिक मानदेय बढ़ाकर 10,000 रुपये करने पर भी सहमति जतायी है। अंशकालिक अनुदेशकों को अभी 8470 रुपये मासिक मानदेय मिलता है। राज्य कर्मचारियों के लिए सातवां वेतन आयोग लागू होने के क्रम में एसएसए के राज्य परियोजना कार्यालय ने अंशकालिक अनुदेशकों का मानदेय बढ़ाकर 17,000 रुपये प्रति माह करने का प्रस्ताव भेजा था।

प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड की बैठक में केंद्र सरकार की ओर से पहले तो अनुदेशकों के मानदेय में सिर्फ 10 प्रतिशत वृद्धि की बात की गई लेकिन, बाद में इसे बढ़ाकर 10,000 रुपये करने पर सहमति बनी। सहमति के इस बिंदु पर अमल होने पर प्रदेश के 30,949 अंशकालिक अनुदेशकों के मानदेय में लगभग डेढ़ हजार रुपये की बढ़ोतरी होगी। राज्य सरकार ने वार्षिक कार्ययोजना के तहत 23,538 करोड़ रुपये के प्रस्ताव भेजे थे, जिसमें से प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड ने 20,500 करोड़ के प्रस्तावों को मंजूरी दी। इसमें से लगभग 17,500 करोड़ रुपये वेतन खर्च के हैं।

स्कूलों में बनेंगे 17 हजार शौचालय
मोदी सरकार के स्वच्छता मिशन को रफ्तार देने के लिए प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड की बैठक में परिषदीय स्कूलों में 17 हजार अतिरिक्त शौचालयों के निर्माण को भी अगले वित्तीय वर्ष की कार्ययोजना में मंजूरी दी गई है। यह शौचालय उन स्कूलों में बनाये जाएंगे जहां बच्चों की संख्या ज्यादा है।
नए निर्माण कार्यों पर कैंची
प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड की बैठक में सर्व शिक्षा अभियान के तहत प्रदेश में नये स्कूलों, अतिरिक्त क्लास रूम, विद्यालयों की चहारदीवारी आदि के निर्माण के प्रस्ताव पर एक बार फिर कैंची चल गई। बैठक में केंद्र सरकार ने इन प्रस्तावों को नामंजूर कर दिया।
सोलर पैनल का प्रस्ताव नामंजूर
सौ से अधिक छात्र नामांकन वाले स्कूलों में सोलर पैनल सिस्टम लगाने के प्रस्ताव को भी केंद्र सरकार ने मंजूरी देने से इन्कार कर दिया है।

खुद तो शीशे के घरों में रहते हैं मगर दूसरों के घरों में पत्थर मारना नहीं भूलते: मायावती

Comments Off on खुद तो शीशे के घरों में रहते हैं मगर दूसरों के घरों में पत्थर मारना नहीं भूलते: मायावती

फर्रुखाबाद(कमालगंज): कमालगंज में अपनी चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने बीजेपी व सपा को आड़े हाथों लिया। एक तरफ उन्होंने प्रदेश में सपा के गुन्डाराज का बखान किया तो वहीं दूसरी तरफ बीजेपी के नोटबंदी को भी नहीं बख्सा। यहां तक कि उन्होंने मीडिया पर भी कटाक्ष करने से नहीं छोड़ा, उन्होंने कहा कि वे लोग मैनेज की गयी मीडिया की खबरों से सावधान रहें। यदि सावधानी न बरती तो भारतीय जनता पार्टी या सपा प्रदेश की सत्ता में आ सकती है। वहीं उन्होंने नोटबंदी के द्वारा बड़े पूंजीपतियों को पहले ही बताने व उन्हें लाभ पहुंचाने की भी बात कही। उन्होंने कहा कि जो खुद तो शीशे के घरों में रहते हैं मगर दूसरों के घरों में पत्थर मारना नहीं भूलते। उन्होंने कहा कि इन्ही गलत नीतियों के कारण बीजेपी अपने मुख्यमंत्री का चेहरा नहीं दिखा पायी।

बसपा सुप्रीमों एवं पूर्व मुख्यमंत्री ने कमालगंज मैदान में मौजूद भीड़ को सम्बोधित करते हुए कहा कि लाखों की संख्या में उपस्थित इस अपार भीड़ देखकर पूर्ण भरोसा हो गया है कि आप लोग चुनाव में हर प्रकार से अपने फर्रुखाबाद तथा कन्नौज जिले की सभी विधानसभा सीटों से प्रत्याशी जिताकर बीएसपी की सरकार बनायेंगे और बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर का सपना पूरा करेंगे।

उन्होंने कहा कि इसके लिए आप लोगों को इस चुनाव में सत्ता में कांग्रेस, सपा गंठबंधन, बीजेपी आदि को वोट न देकर मात्र हितैषी पार्टी बहुजन समाज पार्टी को वोट दें। इन विरोधी पाटियों के बारे में आप लोगों को मालूम है कि उत्तर प्रदेश में सपा के पांच वर्ष एवं केन्द्र में बीजेपी के तीन वर्षों के कार्यकाल में गरीब, पिछड़े, अल्पसंख्य, किसान आदि विरोधी नीतियों के कारण प्रदेश की लगभग 22 करोड़ जनता में जनाक्रोष व्याप्त है। ऐसे हालात में बीजेपी अपने मुख्यमंत्री का चेहरा नहीं दिखा पायी।

उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि अपने आपको सेक्युलर कहने वाले कांग्रेस पार्टी सपा से गंठबंधन कर चुकी है। आजादी के बाद उत्तर प्रदेश में 37 वर्षों तक तथा केन्द्र में 54 वर्षों तक अकेले राज्य किया। गलत कार्यशैली के बजह से केन्द्र व राज्यों की सत्ता से कांग्रेस बाहर हो गयी।

उन्होंने कहा कि वर्तमान सपा सरकार में अराजकता, सम्प्रदायिकता व्याप्त रही है। पूरे प्रदेश में चोरी, लूट, हत्या, अपहरण, महिला उत्पीड़न, अवैध कब्जे, सम्प्रदायिक दंगे चरमसीमा पर लगातार जारी है। वहीं उन्होंने बीजेपी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि मुजफ्फर नगर सहित 500 छोटे बड़े दंगे, मथुरा में जमीन अवैध कब्जे को लेकर खूनी संघर्ष हुआ। प्रदेश में अधिकांश बड़े कार्यों की शुरूआत बीएसपी में कर दी गयी थी। वर्तमान सपा सरकार ने बहुत चालाकी से नाम बदलकर उन्हीं कार्यो को दोहरया। सपा सरकार में प्रदेश के गरीबों, मजदूरों, कर्मचारियों, वकीलों, युवाओं, महिलाओं, बुजुर्गों की भी हालत खराब बनी रही। जिसके लिए वर्तमान भाजपा सरकार भी बराबर की जिम्मेदार है। जिसे जबर्दस्त नुकसान भी उठाना पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि सपा नेता मुलायम सिंह यादव ने पुत्र मोह में अपने भाई शिवपाल सिंह यादव को अपमानित किया है। वह अंदर अंदर जरूर नुकसान पहुंचायेंगे। वह एक दूसरे के उम्मीदवारों को हराने की भी कोशिश करेंगे। उन्होंने अल्पसख्ंयक समाज के लिए कहा कि अल्पसंख्यक समाज के लोग सपा के उम्मीदवारों को यदि वोट देते है तो उसका सीधा फायदा बीजेपी को होगा।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि मोदी जी ने सन 2014 में उत्तर प्रदेश व पूरे देश की जनता में कल्याण के लिए जो अनेक चुनावी वादे किये थे। जिसमें गरीबों, किसानों के लिए केन्द्र में बीजेपी की सरकार बनने पर विदेशों से सभी काला धन वापस लाकर सभी गरीब परिवारों को 15 से 20 लाख रुपये दिये जायेंगे। किसानों का सभी कर्जा माफ कर दिया जायेगा। जिसे अब यह लोग इस चुनाव में फिर से भुनाने में लगे हैं। दोनो चुनावी वायदे अन्य वायदों की तरह हवा हवाई रह गये।

बीजेपी ने पूरे देश में अचानक 500 व 1000 के नोट पर पाबंदी लगाने का फैसला ले लिया। 90 प्रतिशत गरीब, किसान व मध्यम वर्गीय उभर नहीं पा रहे। पूरे देश में करोड़ों लोग बेरोजगार भी हो चुके। यह भी आम चर्चा है कि बीजेपी प्रधानमंत्री ने अपने फैसले के पहले ही 10 महीनों के अंदर अपनी पार्टी, अपने चेहते पूंजीपतियों का कालाधन ठिकाने लगवा दिया था। जिसका अभी तक खुलासा नहीं किया गया। आज तक इन्होंने यह भी नहीं बताया कि देश में नोटबंदी करने के बाद इन तीन महीनों के अंदर कितना काला धन इकट्ठा किया गया कितने लोगों को सजा दी गयी। बीजेपी ने नोटबंदी का फैसला अपने राजनैतिक स्वार्थ में किया।

मोदी जी ने केवल देश में अपने चहते बड़े बड़े पूंजीपतियों व धन्नासेठों को कई गुना माला माल व धनवान बना दिया। उत्तर प्रदेश में भी सत्ता में आने के सपने देख रहे है। जातिवादी मानसिकता के चलते देश के दलितों, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों का शोषण किया है।

ब्रेकिंग: मुलायम सिंह ने लिया बड़ा एक्शन, अखिलेश यादव और रामगोपाल को पार्टी से निकाला

Comments Off on ब्रेकिंग: मुलायम सिंह ने लिया बड़ा एक्शन, अखिलेश यादव और रामगोपाल को पार्टी से निकाला

Posted on : 30-12-2016 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, Politics, Politics- Sapaa

mulayam12लखनऊ: समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह ने अखिलेश यादव और रामगोपाल यादव को पार्टी से 6 साल के लिए निकाल दिया है। इससे पहले पार्टी अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने सीएम अखिलेश यादव को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। यह नोटिस 2017 में होने वाले यूपी चुनाव के लिए अखिलेश द्वारा अलग से जारी की गई उम्मीदवारों की लिस्ट को लेकर दिया गया था। इसके बाद मुलायम ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ऐलान किया कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और रामगोपाल यादव को पार्टी से 6 साल के लिए निकाल दिया गया है। अब मैं तय करूंगा कि कौन होगा मुख्यमंत्री। इस दौरान शिवपाल यादव भी उनके साथ ही मौजूद थे। उन्होंने कहा कि सीएम गुटबाजी कर रहे हैं। रामगोपाल सीएम का भविष्य बर्बाद कर रहे हैं।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुलायम ने कहा कि 30 दिसंबर 2016 को रामगोपाल यादव को मैंने पत्र लिखा। उन्होंने पार्टी का आपातकालीन सम्मेलन 1 जनवरी को बुलाया है। राष्ट्रीय अध्यक्ष के अलावा किसी और को सम्मेलन बुलाने का अधिकार नहीं है। ये न सिर्फ अनुशासनहीनता है, बल्कि पार्टी को भारी आघात पहुंचाया। पार्टी को कमज़ोर करने का काम किया। इसलिए आपको सभी पदों और सदस्यता से बर्खास्त किया जाता है। रामगोपाल को छह साल के लिए पार्टी से निकाला जाता है।मुलायम ने कहा कि अखिलेश ने अनुशासनहीनता की इसलिए पार्टी से निकाला। रामगोपाल यादव अखिलेश का भविष्य खत्म कर रहे हैं और अखिलेश उनकी चाल समझ नहीं पा रहे। उन्होंने जानबूझकर एसी स्थिति पैदा की। उन्होंने पार्टी अध्यक्ष पर हमला किया।

सूत्रों की मानें तो नोटिस देने से पहले हुई बैठक में शिवपाल के सामने मुलायम रो पड़े। कहा जिस पार्टी को इतनी मेहनत से बनाया, अखिलेश उसे तोड़ने को अमादा, लेकिन उसकी मनमानी नहीं चलने दूंगा। बताया जा रहा है कि इस बैठक में बेनी प्रसाद वर्मा भी मौजूद थे। सूत्रों के अनुसार रामगोपाल यादव को एक बार फिर पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है। बता दें कि अखिलेश के साथ-साथ रामगोपाल यादव को भी नोटिस जारी किया गया है। नोटिस में मुलायम सिंह ने पूछा है कि अलग लिस्ट क्यों निकाली गई और इस पर क्यों न कार्रवाई की जाए। हालांकि, नोटिस का जवाब देने की समय सीमा तय नहीं की गई है। इधर, रामगोपाल ने राष्ट्रीय प्रतिनिधि सम्मेलन बुलाया है। पहली तारीख को पार्टी का विशेष प्रतिनिधि सम्मेलन राममनोहर लोहिया विश्वविद्यालय के सभागार में 11 बजे होगा। ये पार्टी का सबसे बड़ा फोरम होता है जो पार्टी में अगर कहीं गरबड़ी हो तो उसे सुधारने का काम करता है।

इससे पहले मुलायम सिंह और शिवपाल यादव ने यूपी चुनाव के लिए लिस्ट जारी की थी, जिसमें अखिलेश के करीबियों के टिकट काट दिए गए थे। इसके बाद अखिलेश ने मुलायम सिंह और शिवपाल यादव से मुलाकात भी की, लेकिन बात नहीं बनने पर गुरुवार की शाम को उन्होंने खुद 235 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की। साथ ही यह बात भी सामने आई कि ये 235 उम्मीदवार अलग चुनाव चिन्ह पर 2017 का चुनाव लड़ेंगे।

मुलायम सिंह के फैसले के बाद तुरंत पार्टी कार्यालय के बाहर अखिलेश समर्थकों ने हंगामा शुरू कर दिया। पार्टी के तमाम कार्यकर्ता हाथ में पोस्टर-बैनर लेकर अखिलेश जिंदाबाद के नारे लगाने लगे।अखिलेश को पार्टी से बाहर निकाले जाने की खबर पाते ही अखिलेश समर्थक पार्टी कार्यालय और सीएम आवास के बाहर जुट गए। अखिलेश समर्थकों ने मुलायम सिंह और शिवपाल यादव के खिलाफ हाय-हाय के नारे लगाए गए।

[bannergarden id="12"]