Featured Posts

मेजर और विजय समर्थकों की भिड़न्त की खबर पर छावनी बना लोहाई रोडमेजर और विजय समर्थकों की भिड़न्त की खबर पर छावनी बना लोहाई रोड फर्रुखाबाद: शहर के लोहाई रोड स्थित कनौडिया इण्टर कालेज बूथ के बाहर मेजर व विजय समर्थकों में भिड़न्त व नारेबाजी होते ही लोहाई रोड छावनी में तब्दील हो गया। पुलिस ने दोनो नेताओं के समर्थकों को तितर बितर कर दिया। मेजर समर्थकों का आरोप है कि सदर के विधायक व सपा प्रत्याशी विजय...

Read more

पर्ची बंटने के बावजूद नहीं घटी बस्तों की अहमियतपर्ची बंटने के बावजूद नहीं घटी बस्तों की अहमियत फर्रुखाबाद: चुनाव आयोग द्वारा भले ही घर-घर मतदाता पर्ची पहुंचाने की व्यवस्था की गयी हो लेकिन अभी भी बस्तों की अहमियत नहीं घटी। यह नजारा आज हो रहे विधानसभा चुनाव में साफ देखने को मिला। जहां पर प्रत्याशियों द्वारा अपने अपने बस्ते लगवाये गये। किसी पर भीड़ दिखायी दी तो कोई...

Read more

यूपी चुनाव LIVE: तीसरे चरण का मतदान खत्म, करीब 65 फ़ीसदी हुआ मतदानयूपी चुनाव LIVE: तीसरे चरण का मतदान खत्म, करीब 65 फ़ीसदी हुआ मतदान उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण का मतदान शुरू हो गया है. इस फेज में 12 जिलों की 69 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं. यह चरण इसलिए अहम है, क्योंकि इसमें सपा के गढ़ इटावा, मैनपुरी, कन्नौज, बाराबंकी और फर्रुखाबाद में मतदान हो रहे हैं. इस चरण में कुल 826 प्रत्याशी मैदान में हैं और...

Read more

विधानसभा अमृतपुर: ईवीएम खराब होने से कई जगह मतदान रुकाविधानसभा अमृतपुर: ईवीएम खराब होने से कई जगह मतदान रुका फर्रुखाबाद: (राजेपुर)लाख प्रयास के बाद भी आखिर ऐन मौके पर कई ईवीएम मशीने धोखा दे गयीं। जिससे विधानसभा क्षेत्र अमृतपुर के राजेपुर व ग्राम कड़क्का की ईवीएम मशीनें खराब होने से मतदान रुका। विधानसभा के ग्राम कड़क्का के बूथ संख्या 56 पर ईवीएम मशीन खराब होने से मतदान तकरीबन आधा...

Read more

राजनीति का खंजर- केवल चार बचेंगेराजनीति का खंजर- केवल चार बचेंगे पांच साल तक नेताओ के हाथ में रहने वाला राजनैतिक खंजर एक दिन मतदाताओ के हाथ में रहता है| मतदान के दिन ये खंजर किस किस पर कैसे कैसे चलेगा ये वोटिंग मशीन में ही गुप्त रूप से दर्ज हो जायेगा| बात उत्तर प्रदेश के आम विधानसभा चुनाव 2017 के जनपद फर्रुखाबाद की चार विधानसभाओ के परिपेक्ष्य...

Read more

बूथों पर अव्यवस्था के शिकार हुए मतदान कर्मीबूथों पर अव्यवस्था के शिकार हुए मतदान कर्मी फर्रुखाबाद: चुनाव आयोग के लाख प्रयास के बाद भी कहीं न कहीं खामी रह ही गयी। इसे किसके सर मड़ा जाये यह तो प्रशासन और चुनाव आयोग ही तय करे। लेकिन जब कई बूथों पर पोलिंग पार्टियां पहुंचीं तो उन्हें अव्यवस्था के शिकार हो गये। शनिवार शाम तक पोलिंग पार्टियां रवाना हुईं और जब बूथों...

Read more

मतदान के लिये फ़ोर्स ने कमर कसी,अधिकारियों ने दिये टिप्समतदान के लिये फ़ोर्स ने कमर कसी,अधिकारियों ने दिये टिप्स फर्रुखाबाद : विधान सभा सामान्य निर्वाचन-2017 के लिये आगामी 19 फरवरी को मतदान को आयोग की मंशा के अनुसार निष्पक्ष, स्वतंत्र एवं शान्तिपूर्वक रूप से सम्पन्न कराने के लिये जिला प्रशासन विभिन्न तैयारियॉ की जा रही है| मतदान को शान्तिपूर्वक सम्पन्न कराने में पुलिस फोर्स की बहुत...

Read more

बादशाह झूठा नहीं होता, झूठा हो तो बादशाह नहीं होता: आजम खानबादशाह झूठा नहीं होता, झूठा हो तो बादशाह नहीं होता: आजम खान फर्रुखाबाद: (कमालगंज/जहानगंज ) भोजपुर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम जरारी में सपा प्रत्याशी के समर्थन में समाजवादी पार्टी के स्टार प्रचारक मंत्री आजम खान ने जनसभा को सम्बोधित किया। इस दौरान आजम खान ने प्रधानमंत्री मोदी जी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उन्होंने जनता से झूठा वादा...

Read more

कन्नौज में पीएम मोदी बोले, आपके प्यार को विकास के रूप में लौटाऊंगाकन्नौज में पीएम मोदी बोले, आपके प्यार को विकास के रूप में लौटाऊंगा फर्रुखाबाद : सपा के गढ़ कन्नौज में परिवर्तन संकल्प महारैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इतना प्यार 2014 में दे दिया होता तो कितना अच्छा होता। आपने आंख की शर्म के कारण जिन पर कृपा की वह एक कुनबा टूट गया, लेकिन मैं आपसे वादा करता हूं अबकी बार आपके प्यार...

Read more

यूपी चुनाव LIVE: दूसरे चरण का मतदान खत्म, 65.5 फीसदी लोगों ने डाले वोटयूपी चुनाव LIVE: दूसरे चरण का मतदान खत्म, 65.5 फीसदी लोगों ने डाले... उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में दूसरे चरण के लिए 11 जिलों की 67 सीटों पर मतदान बुधवार को संपन्न हो गया. इसी के साथ सभी 721 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला भी ईवीएम में बंद हो गया. जो मतदान केंद्र के अंदर बच गए थे उन्हें शाम 6 बजे तक मतदान के अधिकार का इस्तेमाल करने दिया गया. चुनाव...

Read more

खुद तो शीशे के घरों में रहते हैं मगर दूसरों के घरों में पत्थर मारना नहीं भूलते: मायावती

0

फर्रुखाबाद(कमालगंज): कमालगंज में अपनी चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने बीजेपी व सपा को आड़े हाथों लिया। एक तरफ उन्होंने प्रदेश में सपा के गुन्डाराज का बखान किया तो वहीं दूसरी तरफ बीजेपी के नोटबंदी को भी नहीं बख्सा। यहां तक कि उन्होंने मीडिया पर भी कटाक्ष करने से नहीं छोड़ा, उन्होंने कहा कि वे लोग मैनेज की गयी मीडिया की खबरों से सावधान रहें। यदि सावधानी न बरती तो भारतीय जनता पार्टी या सपा प्रदेश की सत्ता में आ सकती है। वहीं उन्होंने नोटबंदी के द्वारा बड़े पूंजीपतियों को पहले ही बताने व उन्हें लाभ पहुंचाने की भी बात कही। उन्होंने कहा कि जो खुद तो शीशे के घरों में रहते हैं मगर दूसरों के घरों में पत्थर मारना नहीं भूलते। उन्होंने कहा कि इन्ही गलत नीतियों के कारण बीजेपी अपने मुख्यमंत्री का चेहरा नहीं दिखा पायी।

बसपा सुप्रीमों एवं पूर्व मुख्यमंत्री ने कमालगंज मैदान में मौजूद भीड़ को सम्बोधित करते हुए कहा कि लाखों की संख्या में उपस्थित इस अपार भीड़ देखकर पूर्ण भरोसा हो गया है कि आप लोग चुनाव में हर प्रकार से अपने फर्रुखाबाद तथा कन्नौज जिले की सभी विधानसभा सीटों से प्रत्याशी जिताकर बीएसपी की सरकार बनायेंगे और बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर का सपना पूरा करेंगे।

उन्होंने कहा कि इसके लिए आप लोगों को इस चुनाव में सत्ता में कांग्रेस, सपा गंठबंधन, बीजेपी आदि को वोट न देकर मात्र हितैषी पार्टी बहुजन समाज पार्टी को वोट दें। इन विरोधी पाटियों के बारे में आप लोगों को मालूम है कि उत्तर प्रदेश में सपा के पांच वर्ष एवं केन्द्र में बीजेपी के तीन वर्षों के कार्यकाल में गरीब, पिछड़े, अल्पसंख्य, किसान आदि विरोधी नीतियों के कारण प्रदेश की लगभग 22 करोड़ जनता में जनाक्रोष व्याप्त है। ऐसे हालात में बीजेपी अपने मुख्यमंत्री का चेहरा नहीं दिखा पायी।

उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि अपने आपको सेक्युलर कहने वाले कांग्रेस पार्टी सपा से गंठबंधन कर चुकी है। आजादी के बाद उत्तर प्रदेश में 37 वर्षों तक तथा केन्द्र में 54 वर्षों तक अकेले राज्य किया। गलत कार्यशैली के बजह से केन्द्र व राज्यों की सत्ता से कांग्रेस बाहर हो गयी।

उन्होंने कहा कि वर्तमान सपा सरकार में अराजकता, सम्प्रदायिकता व्याप्त रही है। पूरे प्रदेश में चोरी, लूट, हत्या, अपहरण, महिला उत्पीड़न, अवैध कब्जे, सम्प्रदायिक दंगे चरमसीमा पर लगातार जारी है। वहीं उन्होंने बीजेपी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि मुजफ्फर नगर सहित 500 छोटे बड़े दंगे, मथुरा में जमीन अवैध कब्जे को लेकर खूनी संघर्ष हुआ। प्रदेश में अधिकांश बड़े कार्यों की शुरूआत बीएसपी में कर दी गयी थी। वर्तमान सपा सरकार ने बहुत चालाकी से नाम बदलकर उन्हीं कार्यो को दोहरया। सपा सरकार में प्रदेश के गरीबों, मजदूरों, कर्मचारियों, वकीलों, युवाओं, महिलाओं, बुजुर्गों की भी हालत खराब बनी रही। जिसके लिए वर्तमान भाजपा सरकार भी बराबर की जिम्मेदार है। जिसे जबर्दस्त नुकसान भी उठाना पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि सपा नेता मुलायम सिंह यादव ने पुत्र मोह में अपने भाई शिवपाल सिंह यादव को अपमानित किया है। वह अंदर अंदर जरूर नुकसान पहुंचायेंगे। वह एक दूसरे के उम्मीदवारों को हराने की भी कोशिश करेंगे। उन्होंने अल्पसख्ंयक समाज के लिए कहा कि अल्पसंख्यक समाज के लोग सपा के उम्मीदवारों को यदि वोट देते है तो उसका सीधा फायदा बीजेपी को होगा।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि मोदी जी ने सन 2014 में उत्तर प्रदेश व पूरे देश की जनता में कल्याण के लिए जो अनेक चुनावी वादे किये थे। जिसमें गरीबों, किसानों के लिए केन्द्र में बीजेपी की सरकार बनने पर विदेशों से सभी काला धन वापस लाकर सभी गरीब परिवारों को 15 से 20 लाख रुपये दिये जायेंगे। किसानों का सभी कर्जा माफ कर दिया जायेगा। जिसे अब यह लोग इस चुनाव में फिर से भुनाने में लगे हैं। दोनो चुनावी वायदे अन्य वायदों की तरह हवा हवाई रह गये।

बीजेपी ने पूरे देश में अचानक 500 व 1000 के नोट पर पाबंदी लगाने का फैसला ले लिया। 90 प्रतिशत गरीब, किसान व मध्यम वर्गीय उभर नहीं पा रहे। पूरे देश में करोड़ों लोग बेरोजगार भी हो चुके। यह भी आम चर्चा है कि बीजेपी प्रधानमंत्री ने अपने फैसले के पहले ही 10 महीनों के अंदर अपनी पार्टी, अपने चेहते पूंजीपतियों का कालाधन ठिकाने लगवा दिया था। जिसका अभी तक खुलासा नहीं किया गया। आज तक इन्होंने यह भी नहीं बताया कि देश में नोटबंदी करने के बाद इन तीन महीनों के अंदर कितना काला धन इकट्ठा किया गया कितने लोगों को सजा दी गयी। बीजेपी ने नोटबंदी का फैसला अपने राजनैतिक स्वार्थ में किया।

मोदी जी ने केवल देश में अपने चहते बड़े बड़े पूंजीपतियों व धन्नासेठों को कई गुना माला माल व धनवान बना दिया। उत्तर प्रदेश में भी सत्ता में आने के सपने देख रहे है। जातिवादी मानसिकता के चलते देश के दलितों, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों का शोषण किया है।

ब्रेकिंग: मुलायम सिंह ने लिया बड़ा एक्शन, अखिलेश यादव और रामगोपाल को पार्टी से निकाला

Comments Off on ब्रेकिंग: मुलायम सिंह ने लिया बड़ा एक्शन, अखिलेश यादव और रामगोपाल को पार्टी से निकाला

Posted on : 30-12-2016 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, Politics, Politics- Sapaa

mulayam12लखनऊ: समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह ने अखिलेश यादव और रामगोपाल यादव को पार्टी से 6 साल के लिए निकाल दिया है। इससे पहले पार्टी अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने सीएम अखिलेश यादव को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। यह नोटिस 2017 में होने वाले यूपी चुनाव के लिए अखिलेश द्वारा अलग से जारी की गई उम्मीदवारों की लिस्ट को लेकर दिया गया था। इसके बाद मुलायम ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ऐलान किया कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और रामगोपाल यादव को पार्टी से 6 साल के लिए निकाल दिया गया है। अब मैं तय करूंगा कि कौन होगा मुख्यमंत्री। इस दौरान शिवपाल यादव भी उनके साथ ही मौजूद थे। उन्होंने कहा कि सीएम गुटबाजी कर रहे हैं। रामगोपाल सीएम का भविष्य बर्बाद कर रहे हैं।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुलायम ने कहा कि 30 दिसंबर 2016 को रामगोपाल यादव को मैंने पत्र लिखा। उन्होंने पार्टी का आपातकालीन सम्मेलन 1 जनवरी को बुलाया है। राष्ट्रीय अध्यक्ष के अलावा किसी और को सम्मेलन बुलाने का अधिकार नहीं है। ये न सिर्फ अनुशासनहीनता है, बल्कि पार्टी को भारी आघात पहुंचाया। पार्टी को कमज़ोर करने का काम किया। इसलिए आपको सभी पदों और सदस्यता से बर्खास्त किया जाता है। रामगोपाल को छह साल के लिए पार्टी से निकाला जाता है।मुलायम ने कहा कि अखिलेश ने अनुशासनहीनता की इसलिए पार्टी से निकाला। रामगोपाल यादव अखिलेश का भविष्य खत्म कर रहे हैं और अखिलेश उनकी चाल समझ नहीं पा रहे। उन्होंने जानबूझकर एसी स्थिति पैदा की। उन्होंने पार्टी अध्यक्ष पर हमला किया।

सूत्रों की मानें तो नोटिस देने से पहले हुई बैठक में शिवपाल के सामने मुलायम रो पड़े। कहा जिस पार्टी को इतनी मेहनत से बनाया, अखिलेश उसे तोड़ने को अमादा, लेकिन उसकी मनमानी नहीं चलने दूंगा। बताया जा रहा है कि इस बैठक में बेनी प्रसाद वर्मा भी मौजूद थे। सूत्रों के अनुसार रामगोपाल यादव को एक बार फिर पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है। बता दें कि अखिलेश के साथ-साथ रामगोपाल यादव को भी नोटिस जारी किया गया है। नोटिस में मुलायम सिंह ने पूछा है कि अलग लिस्ट क्यों निकाली गई और इस पर क्यों न कार्रवाई की जाए। हालांकि, नोटिस का जवाब देने की समय सीमा तय नहीं की गई है। इधर, रामगोपाल ने राष्ट्रीय प्रतिनिधि सम्मेलन बुलाया है। पहली तारीख को पार्टी का विशेष प्रतिनिधि सम्मेलन राममनोहर लोहिया विश्वविद्यालय के सभागार में 11 बजे होगा। ये पार्टी का सबसे बड़ा फोरम होता है जो पार्टी में अगर कहीं गरबड़ी हो तो उसे सुधारने का काम करता है।

इससे पहले मुलायम सिंह और शिवपाल यादव ने यूपी चुनाव के लिए लिस्ट जारी की थी, जिसमें अखिलेश के करीबियों के टिकट काट दिए गए थे। इसके बाद अखिलेश ने मुलायम सिंह और शिवपाल यादव से मुलाकात भी की, लेकिन बात नहीं बनने पर गुरुवार की शाम को उन्होंने खुद 235 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की। साथ ही यह बात भी सामने आई कि ये 235 उम्मीदवार अलग चुनाव चिन्ह पर 2017 का चुनाव लड़ेंगे।

मुलायम सिंह के फैसले के बाद तुरंत पार्टी कार्यालय के बाहर अखिलेश समर्थकों ने हंगामा शुरू कर दिया। पार्टी के तमाम कार्यकर्ता हाथ में पोस्टर-बैनर लेकर अखिलेश जिंदाबाद के नारे लगाने लगे।अखिलेश को पार्टी से बाहर निकाले जाने की खबर पाते ही अखिलेश समर्थक पार्टी कार्यालय और सीएम आवास के बाहर जुट गए। अखिलेश समर्थकों ने मुलायम सिंह और शिवपाल यादव के खिलाफ हाय-हाय के नारे लगाए गए।

अखिलेश की रथयात्रा को मायावती ने ‘दिवालिया रथयात्रा’ बताया

Comments Off on अखिलेश की रथयात्रा को मायावती ने ‘दिवालिया रथयात्रा’ बताया

Posted on : 04-11-2016 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, Politics, Politics-BJP, Politics-BSP

mayawatiलखनऊ: बसपा सुप्रीमो मायावती ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की विकास रथयात्रा को ‘दिवालिया रथयात्रा’ करार दिया। मायावती ने शुक्रवार को कहा कि मुख्यमंत्री को गुमनाम होने की शिकायत है तो जनता को उनके विकास के दावे खोखले होने की शिकायत है।

मायावती ने यहां जारी एक बयान में कहा कि करोड़ों रुपए की लागत से बनने वाला लक्जरी रथ का जहां वर्तमान सरकार के मुखिया अखिलेश यादव की यात्रा के प्रारंभ में ही दिवाला निकाल गया, वहीं रथयात्रा के साथ चलने वाले उनके हुड़दंगबाज रास्ते में लूटते खसोटते चले गए। पुलिस को तमाशबीन बने रहने पर मजबूर होना पड़ा। उन्होंने कहा कि वैसे तो किसी भी सरकार के लिए उसके काम को बोलना चाहिए लेकिन जिस प्रकार वर्तमान मुख्यमंत्री को अपने गुमनाम होने की शिकायत है कि लोग उन्हें पहचानते नहीं, ठीक उसी प्रकार उनके विकास के दावे भी हवा हवाई होने की शिकायत लोगों को है क्योंकि उनके विकास के दावों का लाभ अभी तक जनता को मिलना शुरू ही नहीं हुआ। बसपा सुप्रीमो मायावती ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की विकास रथयात्रा को ‘दिवालिया रथयात्रा’ करार दिया।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि अगर सपा सरकार ने जनहित और जन कल्याण के वास्तविक काम किये होते तो फिर उन्हें भारी सरकारी शान शौकत के साथ यह विकास रथयात्रा निकालने की जरूरत ही नहीं पड़ती।

25 दिन बाद आत्मदाह की चेतावनी

Comments Off on 25 दिन बाद आत्मदाह की चेतावनी

Posted on : 21-10-2016 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, POLICE, जिला प्रशासन

dhrnaaफर्रुखाबादल ट्यूबवेळ टेक्नीशियन इम्पलाईज एसोसिएशन के प्रांतीय महामंत्री रजनेश कुमार माथुर ने आगामी 16 नवम्बर को आत्मदाह करने की धमकी दी है|

संगठन के पदाधिकारियों ने जनपद के अधिशाषी अभियंता कार्यालय पर विरोध सभा का आयोजन किया| जिसमे सिचाई विभाग के नलकूप मिस्त्री व तकनीकी कर्मचारियों के वेतन विसंगति तत्काल प्रभाव से दूर करने की मांग सहित 11 सूत्रीय मांगो को रखा गया | इसके बाद सभी ने रैली निकाल कर नारेबाजी करते हुये जिलाधिकारी कार्यालय पंहुचे| जंहा उन्होंने ज्ञापन सौपा|

ट्यूबवेळ टेक्नीशियन इम्पलाईज एसोसिएशन के प्रांतीय महामंत्री रजनेश कुमार माथुर ने घोषणा की है कि यदि 16 नवम्बर तक उनकी मांगो को नही माना गया तो वह वह प्रमुख अभियंता सिचाई विभाग के कैंट रोड लखनऊ कार्यालय पर आत्मदाह करेंगे| प्रदर्शन में सुनील कुमार, अवधेश शुक्ला, ऋषि पाल, शैलेन्द्र गुप्ता, आदेश प्रताप सिंह, अरविन्द सिंह व अरुण प्रताप सिंह सहित दर्जनों कर्मचारी मौजूद रहे|

फार्मासिस्टो की हड़ताल से चरमराई स्वास्थ्य सेवाएं

Comments Off on फार्मासिस्टो की हड़ताल से चरमराई स्वास्थ्य सेवाएं

Posted on : 21-09-2016 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, Politics, जिला प्रशासन

farmsistlohiyaasptalफर्रुखाबाद: प्रदेश नेतृत्व के आवाहन पर जनपद में फार्मासिस्ट, लैवटेक्नीशियन, नेत्र परीक्षण अधिकारी एवं चिकित्सा विभाग के अन्य कर्मचारियों ने हड़ताल पर चले जाने से पूरे जिले में हाहाकार मच गया है| जिला अस्पताल के अलावा सीएचसी और पीएससी पर भी मरीज दर्द से कराहते नजर आये| लेकिन हड़ताल के आगे उन्हें मायूस होकर लौटना पड़ा|

लोहिया अस्पताल की ओपीडी के बाहर फार्मासिस्टो की अनिश्चित कालीन हड़ताल का दूसरा दिन चल रहा है| हड़ताल में शामिल सभी की मांग है कि वेतन विसंगति, मानक निर्धारण, ग्रेड वेतन 4600 किया जाये, पुरानी पेंशन व्यवस्था, ब्लड बैंक एवं पोस्टमार्टम में तैनात फार्मासिस्टो से डियूटी के हिसाब से डियूटी लेने सहित आदि मांगे रखी गयी| पूरे जिले में कायमगंज, कमालगंज, शमसाबाद, नबावगंज, राजेपुर, मोहम्मदाबाद, बरौन के सामुदायिक केंद्र हड़ताल से जबरदस्त असर दिखा| कर्मचारियों ने अस्पतालों में जाकर साथियों से कार्य ना करने को कहा| मरीज एक गोली के लिये तरसते रहे| दवा वितरण कक्ष भी पुन रूप से बंद रहा| मरीजो की खून की जाँच भी नही हो सकी| इसके साथ ही साथ इमरजेंसी में भी हड़ताल का दर्द साफ नजर आया|

पूरे जिले में मरीज दवा लेने स्वास्थ्य केन्द्रों पर पंहुचे तो उन्हें काफी प्रयास के बाद मायूसी ही हाथ लगी| डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष चक्र सिंह यादव ने बताया कि यदि सरकार ने तुरंत उनकी मांगो पर विचार नही किया तो आन्दोलन और उग्र होगा| इस दौरान अनिल विधार्थी, केके अस्थाना, संजीब चौधरी, अरविन्द चौहान, अभिषेक शुक्ला, प्रवीन यादव, पंकज शुक्ला, दिनेश राजपूत, हरीश्याम सिंह, मंजू शाक्य, शिवकुमार, मनीष दीक्षित सहित दर्जनों की संख्या में लोग मौजूद रहे|

[bannergarden id="12"]