Featured Posts

निर्माणधीन बिजली घर चौकीदार नत्थू सिंह की हत्या में चार गिरफ्तारनिर्माणधीन बिजली घर चौकीदार नत्थू सिंह की हत्या में चार गिरफ्तार फर्रुखाबाद:फर्रुखाबाद: बीते 30 अक्टूबर की रात निर्माणाधीन बिजली घर में सो रहे चौकीदार की हत्या कर सिर पर सीमेंट की बोरी रख दी गयी थी| घटना के तकरीबन डेढ़ महीने बाद पुलिस ने हत्या का खुलासा किया| जिसमे पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है| थाना राजेपुर के ग्राम महमदपुर...

Read more

उपमुख्यमंत्री की सभास्थल से कुछ दूर हिन्दू महासंघ का धरनाउपमुख्यमंत्री की सभास्थल से कुछ दूर हिन्दू महासंघ का धरना फर्रुखाबाद: कटरी धर्मपुर गौसदन में गायों की दुर्दशा को लेकर विश्व हिन्दू महासंघ ने धरना दिया| धरने की सूचना पर एसडीएम सदर ने मौके पर जाकर ज्ञापन लिया और धरना समाप्त करा दिया| संगठन के जिलाध्यक्ष अविनाश दुबे ने नेतृत्व में पदाधिकारी रोडबेज बस अड्डे लाल दरवाजे के निकट स्वराज...

Read more

उपमुख्यमंत्री का काफिला रोंक अलीगंज को जिला बनाने की मांगउपमुख्यमंत्री का काफिला रोंक अलीगंज को जिला बनाने की मांग फर्रुखाबाद:उपमुख्यमंत्री केशब प्रसाद मौर्य का काफिला रोंककर अलीगंज को जिला बनाये जाने की मांग की गयी है | इस सम्बन्ध में एक पत्र भी डिप्टी सीएम को सौपा गया है| उन्होंने इस पर जल्द कार्यवाही की बात कही है| केशव प्रसाद मौर्य सभा समाप्त करके जब निरीक्षण भवन फतेहगढ़ पंहुचे वहां...

Read more

जिला उपाध्यक्ष की शिकायत पर उपमुख्यमंत्री ने दिये कार्यवाही के निर्देशजिला उपाध्यक्ष की शिकायत पर उपमुख्यमंत्री ने दिये कार्यवाही... फर्रुखाबाद:शमशाबाद नगर पंचायत के पूर्व अध्यक्ष व वर्तमान में बीजेपी के जिला उपाध्यक्ष विजय गुप्ता ने उप मुख्यमंत्री मंत्री केशव प्रसाद मौर्य से फतेहगढ़ निरीक्षण भवन में मुलाकात की| उन्होंने आरोप लगाया कि क्षेत्राधिकारी कायमगंज के दबाव में उनकी माँ नगर पंचायत अध्यक्ष...

Read more

सपा,बसपा व कांग्रेस बिन दुल्हे की बारात: केशब प्रसाद मौर्यसपा,बसपा व कांग्रेस बिन दुल्हे की बारात: केशब प्रसाद मौर्य फर्रुखाबाद:जनपद आये उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने जिले के 33 मार्गो के साथ ही रेलवे ओवरब्रिज के साथ कुल 15843.64 लाख की योजनाओं का बटन दबाकर शिलान्यास किया| इस दौरान वह पूरी तरह से विरोधियों पर हमलावर रहे| उन्होंने कहा आगामी लोकसभा चुनाव में मोदी फिर से पीएम बनेंगे| लेकिन...

Read more

सोशल मीडिया पर पीएम के खिलाफ अशोभनीय पोस्ट पर एनएसए के खिलाफ तहरीरसोशल मीडिया पर पीएम के खिलाफ अशोभनीय पोस्ट पर एनएसए के खिलाफ... फर्रुखाबाद:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभद्र पोस्ट करने के मामले में बीजेपी नेता भडक गये| उन्होंने नगर शिक्षा अधिकारी के खिलाफ कोतवाली में तहरीर दी| बीजेपी के फतेहगढ़ मंडल अध्यक्ष रामवीर चौहान के नेतृत्व में भाजपा कार्यकर्ता कोतवाली पंहुचे| रामवीर...

Read more

सरकार के अफसर ही कर रहे पीएम मोदी की फजीयत!सरकार के अफसर ही कर रहे पीएम मोदी की फजीयत! फर्रुखाबाद:सोशल मीडिया पर इन दिनों जिले के बेसिक शिक्षा विभाग के एक अफसर द्वारा डाली गयी पीएम मोदी की तस्वीर में कायदे से फजीयत करने का प्रयास किया गया है| लेकिन इसके बाद भी अभी एक सरकारी महकमे में कार्यवाही किये जाने को लेकर चर्चा तक शुरू नही हुई| यह सही है की लोकतन्त्र...

Read more

सरकारी पदों पर सामाजिक समीकरणों को ध्यान में रख हो तैनाती:अनुप्रिया पटेलसरकारी पदों पर सामाजिक समीकरणों को ध्यान में रख हो तैनाती:अनुप्रिया... फर्रुखाबाद:अपना दल की मासिक बैठक में हिस्सा लेने आयी स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल ने साफ़ किया की उन्हें सरकारी पदों पर बराबरी का दर्जा चाहिए| उन्होंने कहा की सरकार पुलिस व प्रसासनिक पदों पर सामजिक समीकरणों का ध्यान रखकर नियुक्ति करे| शहर के...

Read more

दलाई लामा बोले करुणा सभी धर्मों का मूल उद्देश्यदलाई लामा बोले करुणा सभी धर्मों का मूल उद्देश्य मैनपुरी:तिब्बती धर्मगुरु दलाईलामा का मानना है कि व्यक्ति को खुद के अंदर सुधार कर धर्म की ओर अग्रसर होना चाहिए। शुद्ध आचरण करने से मन को मिलने वाली शांति आध्यात्म की ओर अग्रसर करती है। उन्होंने करुणा को सभी धर्मों का मूल उद्देश्य बताया है। 14 वें दलाईलामा तेनजिन ज्ञात्सो...

Read more

दलाई लामा के मंच पर पिस्टल लेकर पंहुचा अपर्णा यादव का सुरक्षाकर्मी,मचा हड़कम्पदलाई लामा के मंच पर पिस्टल लेकर पंहुचा अपर्णा यादव का सुरक्षाकर्मी,मचा... फर्रुखाबाद:बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा के मंच पर उस समय हड़कम्प मच गया जब पूर्व मुख्यमंत्री की पुत्रबधु का सुरक्षा कर्मी पिस्टल लेकर मंच पर चढ़ गया| यह देखकर पुलिस कर्मियों के हाथ पैर फूल गये| जिसके बाद उसे पुलिस अधिकारियों ने बाहर किया| दरअसल माजरा यह है की मैनपुरी के राजघाट...

Read more

विशुनगढ़ के राजा ने शुरू करायी थी कमालगंज की रामलीला!

Comments Off on विशुनगढ़ के राजा ने शुरू करायी थी कमालगंज की रामलीला!

फर्रुखाबाद:(कमालगंज) कस्बे में प्रति वर्ष होने वाली रामलीला के विषय में अब किसी को बताने की जरूरत नही है| आज गाँव-गाँव गली-गली में रामलीला लोगों के जहन में बना चुकी है| सोशल मीडिया के बढ़ती बाढ़ के स्तर में भी यदि संस्कारों को नाव बनकर तैरा रहा है तो वह वर्षो पुरानी रामलीला है| जो आज भी आम आदमी को अपनी तरफ आकर्षित करती है|
कमालगंज में होने वाली रामलीला की उम्र लगभग 200 वर्ष की हो गयी है| जिसमे संस्थापक के पद पर स्वर्गीय पंडित गौरीशंकर भट्ट और पंडित जानकी प्रसाद दुबे,पंडित नाथूराम औदिच्य,पंडित पुत्तू लाल मिश्र और पंडित राम चरण औदिच्य आदि संस्थापक के पद पर रहे| वही अध्यक्ष की गद्दी स्वर्गीय लाला राम प्रसाद गुप्त,लालाराम चतुरी लाल,लाला बद्री प्रसाद,लाला रामदयाल,मंगली प्रसाद ,लाला जगन्नाथ प्रसाद ,बाबू भवानी शंकर अग्रवाल,लाला होतीलाल महेश्वरी,लाला जमुना प्रसाद व जटाशंकर दुबे व स्वर्गीय पंडित काशी नाथ शुक्ला व स्वर्गीय राम अवतार गुप्त व मूलचंद गुप्ता व बनारसी दास औदिच्य व पंडित सतीश चंद्र दुबे व मदन मोहन महेश्वरी व रवि दुबे आदि अध्यक्ष पद पर रहे है|
लेकिन हालात कैसे भी रहे हो लेकिन कमेटी ने फिर मुड़कर नही देखा| जिसका परिणाम है कि प्रति वर्ष लाखों की संख्या में श्रद्धालु आकर रावण का वध देखकर श्रीराम की जयकार करते है| रामलीला से जुड़े और दशकों से अपने जहन में इतिहास को ताजा किये कस्बे के बुजुर्ग राधे गुरु का कहना है की लगभग 200 वर्ष पूर्व कस्बे में रामलीला नही होती थी| जिससे क्षेत्र के बाशिंदों ने पड़ोसी जनपद कन्नौज के विशुनगढ़ के राजा के दरवार में पेश होकर कमालगंज में रामलीला कराने की गुजारिश की| जिसके बाद राजा ने रामलीला के लिये साजो-सामान की व्यवस्था करायी थी| जिसके बाद कस्बे में रामलीला का चलन शुरू हो गया|
उनका कहना है की पहले इतनी व्यवस्था नही थी| जिसके चलते अँधेरे के लिये लालटेन का प्रयोग होता था| आज इलेक्ट्रानिक समय में रंगबिरंगी लाइटो ने रामलीला की आधुनिकता को बल दिया| रामलीला में बीएससी में पढने वाले विशाल पाठक श्रीराम का रोल अदा कर रहे है| वही सीता का रोल अनमोल मिश्रा सीता की का किरदार निभा रहे है| (मुईद खान)

फर्रुखाबाद के सिपाही की कानपुर देहात में तैनाती के दौरान मौत

Comments Off on फर्रुखाबाद के सिपाही की कानपुर देहात में तैनाती के दौरान मौत

Posted on : 03-10-2018 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, POLICE

कानपुर:(फर्रूखाबाद) कानपुर देहात में गश्त के दौरान गजनेर की पामा चौकी के सिपाही की गोली लगने से मौत और फर्रुखाबाद में मंत्री की सुरक्षा ड्यूटी में तैनात दारोगा के खुद को गोली मार लेने की घटना को लेकर अभी पुलिस महकमे में चर्चाएं थमी नहीं थीं कि बुधवार को एक और सिपाही मौत की जानकारी मिलते ही पुलिस कर्मी सकते में आ गए। अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया, वहीं पुलिस अफसरों ने मामले की जानकारी की है।
मूलरूप से राजेपुर फर्रुखाबाद निवासी सिपाही 40 वर्षीय अनिल कुमार सिंह अकबरपुर स्थित पुलिस लाइन में चालक के पद पर पिछले पांच साल से तैनात थे। यहीं पर ही बने आवास में वह रहते थे। उनका परिवार राजेपुर में ही रहता है। बुधवार सुबह उनके सीने व पेट में अचानक तेज दर्द होने लगा। इसपर सहकर्मी महेश और राजपाल एक गाड़ी से उसे सुबह करीब 6.30 बजे जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। रजिस्टर में बिना लिखा पढ़ी किए डॉ अमरचंद्रा ने उसका इलाज शुरू कर दिया और फार्मासिस्ट से इंजेक्शन लगवाया। उसे अस्पताल में छोड़कर सहकर्मी चले गए।
पुलिस आई तब हुई पहचान
अस्पताल में करीब साढ़े दस बजे के बाद डॉ. आराधना ड्यूटी पर आईं तो परीक्षण में वह मृत अवस्था में मिले। डॉ. आराधना ने बताया कि कोई तीमारदार न होने की दशा तथा लिखा पढ़ी भी न होने पर लावारिस मरीज मरने की सूचना पुलिस को दी। कुछ देर बाद पुलिस पहुंची तो पता चला कि वह पुलिस लाइन का चालक अनिल था। जानकारी होते ही सदर एसडीएम एके सिंह, सीओ सदर अर्पित कपूर, इंस्पेक्टर ऋषिकांत शुक्ला मौके पर पहुंच गए।
अफसरों की छानबीन के दौरान बिना लिखापढ़ी के उसके इलाज कराने की बात सामने आई। पूछताछ में पता चला कि इंडोर ड्यूटी पर मौजूद डॉ. अमर चंद्रा ने उसका उपचार कर फार्मासिस्ट डीके गौतम से इंजेक्शन भी लगवाया था। इसके बाद एसडीएम ने डॉक्टर व फार्मासिस्ट को अपने साथ ले जाकर पूछताछ कर रहे हैं। अनिल सिंह 1994 में तैनात एटा पीएससी में तैनात हुए थे वहीं 6 वर्ष के बाद कानपुर देहात सिपाही हो गए वहीं परिवहन शाखा चालक सिपाही थे

शिक्षक भर्ती घोटाले में एक निलंबित, पांच का तबादला

Comments Off on शिक्षक भर्ती घोटाले में एक निलंबित, पांच का तबादला

Posted on : 08-09-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, LUCKNOW, Politics, Politics-BJP

लखनऊ:मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा में अनियमित्ताओं पर आज बड़ी कार्रवाई की है। इस पूरे मामले में सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी सुत्ता सिंह को निलंबित किया गया है। इस सारे मामले की जांच प्रमुख सचिव संजय भूसरेड्डी की समिति को सौंपने के साथ ही अन्य अधिकारियों पर भी एक्शन लिया है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाल ही में सम्पन्न हुई 68,500 सहायक शिक्षकों की भर्ती परीक्षा में संज्ञान में आयी अनियमित्ताओं की जांच के लिए एक उच्च स्तरीय समिति गठित की है। यह समिति दोषियों का उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए सात दिन के अन्दर अपनी आख्या प्रस्तुत करेगी। उन्होंने अनियमितताओं के लिए प्रथम दृष्टया दोषी पायी गईं सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी सुत्ता सिंह को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर उनके विरूद्ध अनुशासनिक कार्यवाई प्रारम्भ करने के निर्देश दिए हैं। निलम्बन की अवधि में इन्हें निदेशक बेसिक शिक्षा के लखनऊ कार्यालय से सम्बद्ध किया जाएगा।
इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने बेसिक शिक्षा परिषद तथा सचिव, परीक्षा नियामक प्राधिकारी इलाहाबाद के रिक्त पदों पर अविलम्ब अधिकारियों की तैनाती किए जाने के निर्देश भी दिए हैं। राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देशों के अनुपालन में शासन ने प्रमुख सचिव चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास संजय आर भूसरेड्डी की अध्यक्षता में जांच समिति गठित की गई है। निदेशक सर्व शिक्षा अभियान वेदपति मिश्रा तथा निदेशक बेसिक शिक्षा सर्वेंद्र विक्रम सिंह को इस समिति का सदस्य नामित किया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में की जांच के लिए एक उच्च स्तरीय समिति गठित की है। यह समिति दोषियों का उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए सात दिन के अन्दर अपनी आख्या प्रस्तुत करेगी।
प्रवक्ता ने बताया कि बेसिक शिक्षा परिषद तथा सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी, इलाहाबाद के रिक्त पदों पर तत्काल अधिकारियों की नियुक्ति किए जाने सम्बन्धी मुख्यमंत्री जी के आदेशों के क्रम में अपर शिक्षा निदेशक बेसिक शिक्षा निदेशालय लखनऊ रूबी सिंह को सचिव, बेसिक शिक्षा परिषद इलाहाबाद के पद पर तैनात किया गया है। इसी प्रकार बेसिक शिक्षा विभाग के निवर्तन पर ललिता प्रदीप को अपर शिक्षा निदेशक बेसिक शिक्षा निदेशालय लखनऊ तथा संयुक्त शिक्षा निदेशक मेरठ अनिल भूषण चतुर्वेदी को निदेशक राज्य विज्ञान संस्थान इलाहाबाद एवं सचिव, परीक्षा नियामक प्राधिकारी इलाहाबाद के पद पर तैनात किया गया है।
रजिस्ट्रार विभागीय परीक्षाएं इलाहाबाद, जीवेन्द्र सिंह ऐरी को वरिष्ठ प्रवक्ता, जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान कौशाम्बी तथा संयुक्त निदेशक सर्व शिक्षा अभियान लखनऊ अजय कुमार को रजिस्ट्रार विभागीय परीक्षाएं इलाहाबाद के पद पर तैनात किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। प्राचार्य जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान लखनऊ पवन सचान को संयुक्त निदेशक सर्व शिक्षा अभियान लखनऊ तथा उप निदेशक माध्यमिक शिक्षा निदेशालय इलाहाबाद भगवती सिंह को बेसिक शिक्षा विभाग के कार्यों के लिए शासन से सम्बद्ध किया गया है।
ज्ञातव्य है कि इस प्रकरण में एक रिट याचिका संख्या 24172/2018 सोनिका देवी बनाम उत्तर प्रदेश राज्य में उच्च न्यायालय द्वारा यह संवीक्षण किया गया है कि इस प्रकरण में मूल्यांकन के समय अभ्यर्थी की उत्तर पुस्तिका ही बदल दी गयी। इस सम्बन्ध में प्रदेश के महाधिवक्ता ने हाईकोर्ट को जानकारी दी कि कि शासन स्तर पर इस सम्बन्ध में आवश्यक जॉच कराने के पश्चात, इसमें जो भी व्यक्ति दोषी पाये जायेंगे उनके विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जायेगी।
इसी भर्ती परीक्षा के सम्बन्ध में 23 ऐसे अभ्यर्थियों की सूची भी प्राप्त हुई जो अनक्वालिफाइड थे, लेकिन उन्हें परीक्षा में क्वालीफाइड बताया गया। संज्ञान में आने पर इन सभी की नियुक्तियां परिषद के माध्यम से रोक दी गयी हैं। प्रथम दृष्टया परीक्षा के मूल्यांकन में तथा परिणाम घोषित होने में गम्भीर अनियमित्ताएं परिलक्षित हुईं हैं, जिसमें और अधिक जांच की आवश्यकता है, ताकि सभी दोषियों के विरूद्ध एक्जेम्प्लरी कार्यवाही की जा सके। प्रकरण में कार्रवाई की प्रभावी मिसाल स्थापित करते हुए वरिष्ठ स्तर पर जिम्मेदारी निर्धारित करने के लिए मुख्यमंत्री जी ने यह निर्णय लिए हैं।

SC/ST आरक्षण का लाभ सिर्फ एक ही राज्य में ले सकेंगे:सुप्रीम कोर्ट

Comments Off on SC/ST आरक्षण का लाभ सिर्फ एक ही राज्य में ले सकेंगे:सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली:सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली समेत केंद्र शासित राज्यों में आरक्षण के मुद्दे पर अहम टिप्पणी की है। कोर्ट की पांच सदस्यीय संवैधानिक पीठ ने कहा कि देशभर में आरक्षण की एक समान व्यवस्था अपनाई जाएं और इसी प्रक्रिया के तहत दिल्ली में अनुसूचित जाति और जनजाति के लोगों को नौकरी में आरक्षण का लाभ दिया जाए।
सुप्रीम कोर्ट के मुताबिक, SC/ST आरक्षण के तहत सेवा या नौकरी में लाभ पाने वाला व्यक्ति किसी दूसरे राज्य में उसका फायदा नहीं ले सकता है। जबतक कि वहां उसकी जाति सूचीबद्ध न हो। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अनुसूचित जाति और जनजाति के लिये अखिल भारत स्तर पर आरक्षण का नियम विचार करने योग्य होगा। अनुसूचित जाति और जनजाति के लिये आरक्षण का लाभ एक राज्य या केन्द्र शासित प्रदेश की सीमा तक ही सीमित रहेगा।
एक राज्य के अनुसूचित जाति या अनुसूचति जनजाति समूह के सदस्य दूसरे राज्य के सरकारी नौकरी में आरक्षण के लाभ का तब तक दावा नहीं कर सकते जब तक उनकी जाति वहां सूचीबद्ध नहीं हो। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट के सामने सवाल था कि एक राज्य में जो व्यक्ति अनुसूचित जाति में है तो क्या वह दूसरे राज्य में अनुसूचित जाति में मिलने वाले आरक्षण का लाभ ले सकता है। जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा है कि नहीं, ऐसा नहीं हो सकता।
इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने ये भी आदेश दिया है कि कोई भी राज्य सरकार अपनी मर्जी से अनुसूचित जाति, जनजाति की लिस्ट में कोई बदलाव नहीं कर सकती है। ये अधिकार सिर्फ राष्ट्रपति का ही है। या फिर राज्य सरकारें संसद की सहमति से ही लिस्ट में कोई बदलाव कर सकती है। हालांकि, जो व्यक्ति राजधानी दिल्ली में सरकारी नौकरी करने वालों को अनुसूचित जाति से संबंधित आरक्षण केंद्रीय सूची के हिसाब से मिलेगा।आपको बता दें कि एक अन्य मामले में भी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। जिसमें ये तय होना है कि क्या सरकारी नौकरी में मिलने वाले प्रमोशन में भी एससी/एसटी वालों को आरक्षण मिलना चाहिए या नहीं।
सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ में शामिल पांच जजों में से चार जजों ने इस बात पर जोर दिया कि देशभर आरक्षण की व्यवस्था समान हो, और ये व्यवस्था दिल्ली और बाकी के केंद्र शासित प्रदेशों में लागू हो। वहीं पीठ के पांचवें जज ने अलग निर्णय दिया। उनके मुताबिक दिल्ली और अन्य केंद्र शासित प्रदेशों को एक राज्य के तौर पर माना जाएं और उसी के मुताबिक उन्हें अनुसूचित जाति और जनजाति के लिए अपनी अलग लिस्ट तैयार करने की इजाजत दी जानी चाहिए।

अटलजी की अस्थियां हरकी पैड़ी पर गंगा में विसर्जित

Comments Off on अटलजी की अस्थियां हरकी पैड़ी पर गंगा में विसर्जित

हरिद्वार:भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री जन-नायक अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां रविवार को ‘अटल तुम लौट के आना और भारत माता की जय’ के गगनभेदी नारों के बीच पूरे विधि-विधान और वैदिक मंत्रोचारण के साथ हरकी पैड़ी ब्रह्मकुंड पर गंगा में विसर्जित कर दी गईं। अस्थि विसर्जन के निमित्त कर्म-कांड उनकी दत्तक पुत्री नमिता भट्टाचार्य, दामाद रंजन भट्टाचार्य, नातिन निहारिका भट्टाचार्य और भांजे भाजपा सांसद अनूप मिश्रा ने किया।
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह, उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उत्‍तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित स्थानीय व बाहर से आए गणमान्य व्यक्तियों के साथ बड़ी संख्या में संतगण प्रमुख रूप से मौजूद थे। इस मौके पर अपने प्रिय नेता को अंतिम विदाई देने के लिए गंगा घाट पर लाखों की संख्या में अटल समर्थकों का जन-सैलाब उमड़ पड़ा। जिस वक्त ब्रह्मकुंड पर वाजपेयी परिवार के तीर्थ पुरोहित पंडित अखिलेश शर्मा ‘शास्त्री’ और श्रीगंगासभा के आचार्य हरिओम जैवाल अस्थि विसर्जन का कर्म-कांड संपन्न करा रहे थे, उस वक्त पाश्र्व में अटल जी के प्रसिद्ध भाषण की ये पंक्तियां गूंज रही थी कि’..और मरने के बाद भी गंगाजल में बहती हुई हमारी अस्थियों को कोई कान लगाकर सुनेगा तो एक ही आवाज आयेगी, भारत माता की जय।’
इससे पहले अटल जी का अस्थि कलश लेकर उनके परिजन, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और अटल जी के सहयोगी शिवकुमार सुबह करीब साढ़े ग्यारह बजे जौलीग्रांट हवाई अड्डे से हरिद्वार भल्ला कॉलेज स्टेडियम अस्थाई हैलीपैड पहुंचे। यहां से अस्थि कलश को रथ में तब्दील सेना के ट्रक में रख अस्थि कलश यात्रा हरकी पैड़ी रवाना हुई। इस दौरान अटल बिहारी वाजपेयी को अपने श्रृद्धा सुमन अर्पित करने को जन-सैलाब सड़कों पर उतर आया, क्या बच्चे और क्या बूढ़े।
विदेशियों ने भी उन्हें श्रृद्धा सुमन अर्पित किए। पूरे रास्ते प्रसिद्ध गीत ‘ए मेरे वतन के लोगों की पंक्तियां’ खुश रहना देश के प्यारों, अब हम तो सफर करते हैं’ गूंज रही थी। जगह-जगह अटल के कट-आउट लगे हुए थे, उनमें उल्लखित थीं, उनके भाषण और कविताओं की पंक्तियां।
डेढ़ घंटे का सफर पूरा कर अस्थि कलश यात्रा तकरीबन एक बजे हरकी पैड़ी पहुंची, यहां श्रीगंगा सभा ने श्रृद्धांजलि सभा का आयोजन किया हुआ था। अस्थि कलश को यहां बने मंच पर कुछ देर सभी के दर्शनार्थ रखा गया, यहां मौजूद संतों ने उन्हें अपने श्रृद्धा सुमन अर्पित किए और अटल जी के साथ अपने संस्मरणों को साझा किया। यहां से अस्थियों को ब्रह्मकुंड अस्थि विसर्जन स्थल ले जाया गया, जहां अटल बिहारी वाजपेयी परिवार के तीर्थ पुरोहित पंडित अखिलेश शर्मा ‘शास्त्री’ और श्रीगंगासभा के आचार्य हरिओम जैवाल ने वैदिक मंत्रोचारण के बीच पिंडदान व तिलांजलि आदि समस्त कर्म-कांड को पूरा कराते हुए अस्थियों को गंगा में उसका विसर्जन करा दिया।
अस्थियों को गंगाजल से कराया स्नान
भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियों को हरकी पैड़ी पर गंगाजल से स्नान कराने के बाद वैदिक मंत्रोचारण के साथ दुग्ध स्नान कराने के बाद अन्य कर्म-कांड पूरा करने के साथ गंगा में विसर्जित किया गया। वाजपेयी परिवार के तीर्थ पुरोहित पंडित अखिलेश शर्मा ‘शास्त्री’ ने बताया कि अस्थियों को सर्व प्रथम गंगाजल से स्नान कराने के बाद ही अन्य कर्म-कांड शुरु किए गए।

[bannergarden id="12"]