Featured Posts

सियासी आकाओं की परिक्रमा में जुटे टिकट के दावेदार! फर्रुखाबाद:लोक सभा की चुनावी आहट शुरू होने के साथ ही सियासी सरगर्मियां बढ़ गई है। जिले का सांसद बनने का सपना देखने वाले लोग अपने राजनैतिक आकाओं की परिक्रमा करने में जुट गये है। वैसे तो सपा,भाजपा,बीएसपी आदि के बैनर तले कई लोग चुनाव लड़ने के इच्छुक है मगर सबसे बड़ी फेहरिस्त...

Read more

गणतंत्र की वर्षगांठ का उल्लास,तिरंगे से सजी दुकानेंगणतंत्र की वर्षगांठ का उल्लास,तिरंगे से सजी दुकानें फर्रुखाबाद:गणतंत्र दिवस को लेकर पूरा शहर तिरंगे रंग में रंगा नजर आ रहा है। गणतंत्र दिवस की वर्षगांठ की रौनक शहर में नजर आने लगी है। बड़े व्यवसायियों और ठेली व्यापारियों ने अपनी दुकान तिरंगे, दुपट्टों, मालाओं, पतंगों से रंग दिया है। बाजार में केसरिया, सफेद और हरे रंग से बने...

Read more

जेएनआई विशेष: कुम्भ में बढ़ी फतेहगढ़ सेन्ट्रल जेल के भगवा झोलों की डिमांडजेएनआई विशेष: कुम्भ में बढ़ी फतेहगढ़ सेन्ट्रल जेल के भगवा झोलों... फर्रुखाबाद:(दीपक-शुक्ला)सेन्ट्रल जेल फतेहगढ़ में बनने वाले झोले आदि सामान तो वैसे भी मजबूती के मामले में बेजोड़ माना जाता है| लेकिन आम जनमानस में इसकी खरीददारी को लेकर साधन उपलब्ध नही है| लेकिन इसके बाद भी उसको खरीदने की चाहत लोगों के जगन में रहती है| अब कारोबार कम है लेकिन...

Read more

महिलाओं का प्रतिशत कम देख नोडल अधिकारी खफामहिलाओं का प्रतिशत कम देख नोडल अधिकारी खफा फर्रुखाबाद: अपने निरीक्षण में महिलाओं की संख्या गाँव के पुरूषों से काफी कम देख नोडल अधिकारी खफा हो गये| उन्होंने कहा की सरकार बेटी-बचाओं और बेटी पढाओ पर अपना पूरा जोर दे रही है| लेकिन इस गाँव में पुरुष वर्ग की अपेक्षा महिलाओं का प्रतिशत चिंता का विषय है| उन्होंने अधिकारियों...

Read more

कोटेदारों का खाद्यान्न उठाने से साफ़ इंकारकोटेदारों का खाद्यान्न उठाने से साफ़ इंकार फर्रुखाबाद:अपनी मांगों को लेकर लगातार संघर्ष कर रहे जिले के कोटेदारों ने अब राशन उठान ने मना कर आन्दोलन की राह पकड़ ली है| जिसके चलते कोतेदारों ने साफ़ कह दिया की जब तक उनकी मांगो पर विचार नही होगा तब तक वह राशन नही उठायेंगे| नगर के ग्राम चाँदपुर में आयोजित हुई उचितदर विक्रेताओं...

Read more

छुट्टा गोवंश के भरण-पोषण को 78.5 करोड़ की मंजूरीछुट्टा गोवंश के भरण-पोषण को 78.5 करोड़ की मंजूरी लखनऊ:छुट्टा गोवंश के रखरखाव के लिए चरागाह की जमीनों का इस्तेमाल किया जा सकेगा। इसके लिए ग्राम सभा की भूमि प्रबंधक समिति किसी गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) या कॉरपोरेट घराने से अनुबंध कर सकती है। वहीं पशु आश्रय स्थलों की स्थापना चरागाह की जमीन से हटकर अनारक्षित श्रेणी की भूमि...

Read more

सामूहिक बलात्कार के बाद तीन दरिंदों ने उतारा था गोल्डी को मौत के घाटसामूहिक बलात्कार के बाद तीन दरिंदों ने उतारा था गोल्डी को... फर्रुखाबाद:(अमृतपुर)बीते दिन खेत में दुष्कर्म के बाद हत्या किये जाने की घटना ने पूरे जिले में सनसनी फैला दी थी| घटना के बाद से एसपी ने क्षेत्र में डेरा जमा लिया था| 24 घंटे के भीतर घटना करने के आरोपियों में से दो को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया| जबकि एक फरार आरोपी पर ईनाम भी रखा...

Read more

खास खबर:यह शख्स रोज करता परिंदों की मेहमान नवाजीखास खबर:यह शख्स रोज करता परिंदों की मेहमान नवाजी फर्रुखाबाद:(दीपक शुक्ला)ऋषि-मुनि, संत-महात्मा सही कह गए हैं कि पशु-पक्षियों को दाना-पानी खिलाने से मनुष्य के ज‍ीवन में आने वाली कई परेशानियों से छुटकारा बड़ी ही आसानी से मिल जाता है। एक ओर ईश्वर की भक्ति के कृपा पात्र बनते हैं वहीं हमें अच्छे स्वास्थ्य के साथ ही पुण्य-लाभ...

Read more

मिक्सी ने मिस कर दिया सिल-बट्टा के मसालों का स्वादमिक्सी ने मिस कर दिया सिल-बट्टा के मसालों का स्वाद फर्रुखाबाद:(दीपक-शुक्ला)पुराने समय में खाना पकाने के लिए मसाले पीसने के लिए ओखली-मूसल और सिल बट्टा का इस्तेमाल किया करते थे। बेशक इन चीजों में मसाला पीसने में मेहनत और समय दोनों खर्च होते थे लेकिन खाने का जो स्वाद आता था, यब बात आपके परिजन अच्छी तरह जानते होंगे। आजकल लोगों...

Read more

सियासत की सिल्वर जुबली पर राजा भैया करेंगे नई पार्टी बनाने का ऐलान

Comments Off on सियासत की सिल्वर जुबली पर राजा भैया करेंगे नई पार्टी बनाने का ऐलान

लखनऊ:उत्तर प्रदेश की राजनीति में बड़ा चेहरा बन चुके कुंडा से निर्दलीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया सक्रिय राजनीति में अपनी सिल्वर जुबली अनोखे ढंग से मनाने की तैयारी में हैं। प्रतापगढ़ के कुंडा से 1993 में पहली बार निर्दलीय विधायक चुने गए दबंग छवि के राजा भैया प्रदेश में आधा दर्जन बार भले ही कैबिनेट मंत्री रहे हैं, लेकिन किसी भी पार्टी का दामन नहीं थामा।
लगातार सात बार विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया 26 वर्ष की उम्र में प्रतापगढ़ के कुंडा से पहली बार निर्दलीय विधायक बने। इसके बाद उन्होंने अपना जीत का सिलसिला बरकरार रखा। हमेशा से ही रिकार्ड मतों से जीतने वाले रघुराज प्रताप सिंह भी अब शिवपाल सिंह यादव की राह पर है। उन्होंने अपना एक राजनीतिक दल बनाने का फैसला किया है। उनके साथ ही समर्थकों को भरोसा है कि प्रदेश के एक दर्जन से अधिक राजपूत नेता उनके साथ जुड़ सकते हैं। उन्होंने अपनी राजनीतिक पार्टी बनाने की कवायद शुरू कर दी है। इसके लिए उनकी तरफ से चुनाव आयोग में आवेदन भी किया जा चुका है।
माना जा रहा है कि रघुराज प्रताप सिंह अपनी पार्टी का गठन करके लोकसभा चुनाव 2019 में अपने उम्मीदवार खड़े कर सकते हैं। राजा भैया के कई उत्साही समर्थक नवगठित पार्टी के नाम के साथ उनकी तस्वीर भी सोशल मीडिया पर वायरल कर रहे हैं। राजपूत के साथ ही पिछड़ा वर्ग तथा दलित नेता भी उनके साथ आ सकते हैं। इसमें मौजूदा विधायक से लेकर पूर्व सांसद तक शामिल हैं।प्रदेश में शिवपाल यादव की राह पर अब कुंडा के बाहुबली निर्दलीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह (राजा भैया) भी निकल चुके हैं। आज वह अपने दल की घोषणा करेंगे। माना जा रहा है कि आज अपनी नई पार्टी बनाने का औपचारिक ऐलान कर सकते हैं। अपनी पार्टी का शक्ति प्रदर्शन वह 30 नवंबर को लखनऊ की रैली में करेंगे।
प्रतापगढ़ के बाबागंज से निर्दलीय विधायक विनोद सरोज का राजा भैया के साथ जाना पूरी तरह से तय है। सरोज ही लखनऊ में आज राजा भैया की प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित करा रहे हैं। राजा भैया के सियासी रुतबे के दम पर ही विनोद सरोज 1996 से लगातार विधायक बनते आ रहे हैं। विनोद सरोज प्रतापगढ़ की बिहार विधासभा सीट से 1996 और 2002 में विधायक रहे। इसके बाद 2007, 2012 और 2017 में बाबागंज सीट से विधायक बने। समाजवादी पार्टी के साथ ही भाजपा भी राजा भैया तथा विनोद सरोज के खिलाफ अपना उम्मीदवार नहीं उतारती है।
प्रतापगढ़ से समाजवादी पार्टी से सांसद रहे विधान परिषद सदस्य अक्षय प्रताप सिंह उर्फ गोपाल का भी राजा भैया के साथ रहना तय है। अक्षय प्रताप के जीत में राजा का काफी अहम भूमिका रहती है। वो उनके सबसे करीबी माने जाते हैं। आज अगर अक्षय प्रताप राजा भैया के नये दल में शामिल होते हैं तो उनकी विधान परिषद सदस्य की सदस्यता खतरे में पड़ सकती है।
कौशांबी से समाजवादी पार्टी से सांसद रहे शैलेंद्र कुमार भी राजा भैया के साथ जा सकते हैं। परिसीमन के बाद प्रतापगढ़ जिले का बड़ा इलाका कौशांबी संसदीय में आता है। अब कौशांबी से समाजवादी पार्टी इलाका राजा भैया के वर्चस्व वाला है। इसके साथ ही बसपा के इंद्रजीत सरोज के समाजवादी पार्टी का दामन थाम लेने के बाद शैलेंद्र कुमार को टिकट मिलना भी तय नहीं है। 2009 के लोकसभा चुनाव में शैलेन्द्र कुमार की जीत में राजा भैया का काफी अहम भूमिका रही है। कयास लगाया जा रहा है कि वो समाजवादी पार्टी का साथ छोड़कर राजा भैया के साथ जुड़ सकते हैं।
पूर्वांचल और मध्य उत्तर प्रदेश से कई राजनीतिक दलों वाले कई राजपूत नेता रघुराज प्रताप सिंह के संपर्क में है। कुछ विधायक अभी उनके साथ नहीं जुड़ेंगे। ऐसा करने से उनकी सदस्यता जा सकती है। इसके चलते अभी अपनी पार्टियों में बने रहेंगे। फैजाबाद के गोसाईगंज से पूर्व विधायक अभय सिंह भी राजा भैया के करीबी माने जाते हैं। उनके अखिलेश यादव के साथ रिश्ते बहुत अच्छे हैं। इसके अलावा भारतीय जनता पार्टी के एमएलसी यशंवत सिंह से राजा भैया के नजदीकी रिश्ते हैं। यशवंत सिंह ने योगी आदित्यनाथ सरकार के आने के बाद समाजवादी पार्टी को छोड़कर भाजपा का दामन थामा था। बलिया के बैरिया से बीजेपी के विधायक सुरेंद्र सिंह भी राजा भैया के बेहद करीबी माने जाते हैं।
रघुराज प्रताप सिंह ने 26 साल की उम्र में 1993 में पहली बार कुंडा विधानसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर जीत हासिल की थी। इसके बाद से वह निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीत हासिल करते आ रहे हैं। उन्होंने सियासत में पहला कदम 26 वर्ष की उम्र में रखा। इस तरह से राजा भैया 30 नवंबर को राजनीतिक जीवन के 25 साल पूरे करने जा रहे हैं। उन्होंने इसी 30 नवंबर के दिन लखनऊ में एक बड़ा राजनीतिक कार्यक्रम आयोजित किया है।
1993 से वह लगातार अजेय
राजा भैया ने 1993 में हुए विधानसभा चुनाव से कुंडा की राजनीति में कदम रखा था। तब से वह लगातार अजेय बने हैं। उनसे पहले कुंडा में कांग्रेस के नियाज हसन का डंका बजता था। नियाज हसन 1962 से लेकर 1989 तक कुंडा से पांच बार विधायक चुने गए। राजा भैया 1993 व 1996 के विधानसभा चुनाव में भाजपा समर्थित थे। इसके बाद 2002 और 2007, 2012 के चुनाव में समाजवादी पार्टी समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में विधायक चुने गए। राजा भैया प्रदेश सरकार में कल्याण सिंह, मुलायम सिंह यादव, राजनाथ सिंह, रामप्रकाश गुप्ता तथा अखिलेश यादव सरकार में कैबिनेट मंत्री थे।
राजा भैया को 1997 में भारतीय जनता पार्टी के कल्याण सिंह के मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री, 1999 व 2000 में राम प्रकाश गुप्ता व राजनाथ सिंह सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया। 2004 में समाजवादी पार्टी की मुलायम सिंह यादव सरकार में कैबिनेट मंत्री बने। 15 मार्च, 2012 को राजा भैया को अखिलेश यादव सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया। दो मार्च 2013 को कुंडा में तीहरे हत्याकांड मामले में डीएसपी जिया उल हक की हत्या मामले राजा भैया का नाम आने पर इन्होंने चार मार्च 2013 को मंत्री पद से इस्तिफा दे दिया। केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो के प्रारंभिक जांच में ही राजा भैया निर्दोष पाए गए और क्लोजर रिपोर्ट में इन्हें क्लीन चिट मिल गई। सीबीआई की अंतरिम रिपोर्ट में राजा भैया को पूरी तरह क्लीन चिट मिल गयी और 11 अक्टूबर को उन्हें उत्तर प्रदेश सरकार ने पुन: कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया।

अमृतसर ट्रेन हादसे में यूपी के सात लोगों की मौत में दो हरदोई के भी

Comments Off on अमृतसर ट्रेन हादसे में यूपी के सात लोगों की मौत में दो हरदोई के भी

लखनऊ:पंजाब के अमृतसर ट्रेन हादसे में मृतकों की शिनाख्त में उत्तर प्रदेश से भी सात लोगों के नाम अबतक सामने आए हैं। इनमें तीन लोग सुल्तानपुर, दो लोग गाजीपुर और दो लोग हरदोई के हैं। सूचना मिलते ही परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। हादसे में एक पूरा परिवार तबहा हो गया।
एक परिवार के तीन लोगों की मौत
अमृतसर ट्रेन हादसे में सुलतानपुर(बल्दीराय) के एक परिवार के तीन लोग दिनेश (34 वर्ष), पत्नी प्रीति (32) व 11 वर्षीय बेटे अभिषेक की मौत हो गई। मृतक दिनेश चतुर्थ श्रेणी रेलवे कर्मचारी थे। वहीं, हादसे में दो वर्षीय बेटा बाल-बाल बच गया।
हादसे में चाचा भतीजे की मौत, भतीजी घायल
रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा के संसदीय क्षेत्र गाजीपुर के करीमुद्दीनपुर थानाक्षेत्र के बगेन निवासी प्रदीप कुशवाहा (22 वर्ष) व भतीजा सार्थक (4 वर्ष) भी अमृतसर ट्रेन हादसे का शिकार होकर मौत के मुंह में समा गए। वहीं, प्रदीप की सात वर्षीय भतीजी घायल हो गई है। सूचना मिलते ही परिवार में कोहराम मचा है। बगेन गांव निवासी सगे भाई रामबिलास कुशवाहा व प्रदीप कुशवाहा वहां रहकर निजी कंपनी में नौकरी करते हैं और सब्जी की दुकान भी चलाते हैं। प्रदीप अविवाहित थे और वह अपने बड़े भाई रामबिलास के पुत्र सार्थक व पुत्री काजल को मेला घुमाने ले गए थे। इसी दौरान हादसे के शिकार हो गए। गंभीर रूप से घायल काजल का अस्पताल में इलाज चल रहा है।
हरदोई के दोनों भाइयों की मौत
उधर, ट्रेन हादसे में मरने वालों में हरदोई जिले के बेहटागोकुल थाना क्षेत्र के सुरजीपुर निवासी गिरींद्र और पवन कुमार दोनों भाइयों की भी मौत हो गई। सूचना से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है।

योगी सरकार के मंत्री ने जेल अधीक्षक को किया सम्मानित

Comments Off on योगी सरकार के मंत्री ने जेल अधीक्षक को किया सम्मानित

फर्रुखाबाद: जिला जेल में लगातार बेहतर कार्य करने के चलते सरकार के गन्ना राज्य मंत्री ने जिला जेल अधीक्षक को सम्मानित कर उनकी पीठ ठोंकी और आगे भी बेहतर कार्य के करने की नसीहत दी|
जिला जेल अधीक्षक विजय विक्रम ने जब से जेल का कार्यभार ग्रहण किया तभी से लगातार सुधारात्मक कार्य किये जा रहे है| योग शिविर, स्वास्थ्य शिविर,नेत्र परीक्षण मशीन लगाना, जेल के भोजनालय में आधुनिकता, बंदियों में खेल भावना पैदा करने के लिये खेलकूद का आयोजन लगातार हो रहा है| जिससे बंदियों के व्यवहार में भी लगातार परिवर्तन आया है| जिसके चलते बीते दिनों मंत्री अर्चना पाण्डेय ने भी जिला जेल पंहुचकर नेत्र परीक्षण मशीन का लोकार्पण जेल के भीतर किया था|
इसी के चलते एक विजय दशमी के अवसर पर आयोजित शस्त्र पूजन कार्यक्रम में आये गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने जेल अधीक्षक विजय विक्रम सिंह को मंच पर बुलाकर सम्मानित किया|

जिला जेल में 168 बंदियों व जेल कर्मियों को मिला इलाज

Comments Off on जिला जेल में 168 बंदियों व जेल कर्मियों को मिला इलाज

Posted on : 20-10-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, JAIL, POLICE, जिला प्रशासन

फर्रुखाबाद:फतेहगढ़ की जिला जेल में निरुद्ध बंदियों के उपचार हेतु शिविर लगाकर उपचार दिया | इसके साथ ही बंदी रक्षकों व उनके परिवारों को भी उपचार दिया गया|
जेल परिसर में नि:शुल्क एक्यूप्रेशर तकनीकी चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया| शिविर जिलाधिकारी मोनिका रानी के निर्देशन में लगाया गया|शिविर में चिकित्सक स्वदीप सक्सेना, डॉ० आशीष सक्सेना द्वारा जटिल व असाध्य रोगों जैसे हाई ब्लड प्रेशर के कुल 55 बंदी, स्वांस के 25 बंदी, मधुमेह के 32 बंदी, कमर व सिर दर्द के कुल 56 बंदियों व बंदी रक्षकों को चेकअप के साथ ही उपचार किया गया| इस दौरान जेल अधीक्षक विजय विक्रम सिंह, डॉ० विजय अनुरागी,जेलर गिरिजा शंकर, उपजेलर जितेन्द्र कुमार यादव, राकेश कुमार, प्रशिक्षक राजकुमार,ओम प्रकाश श्रीवास्तव,प्रेम कुमार श्रीवास्तव आदि रहे|

शिवपाल सिंह यादव के ऊपर मेहरबान नही है बीजेपी

Comments Off on शिवपाल सिंह यादव के ऊपर मेहरबान नही है बीजेपी

फर्रुखाबाद: शिवपाल सिंह यादव के साथ लगातार हो रही रहमतों की वारिस पर योगी सरकार पर लगातार सबालिया निशान लग रहे है| आम जनमानस ने भी बीजेपी के साथ शिवपाल सिंह की मिली भगत को समझ लिया है| लेकिन बीजेपी इससे पल्ला झाड़ रही है| बीजेपी में शिवपाल के साथ अपने सम्बन्ध केबल विरोधी दल के नेताओं के जैसे बताये|
बढ़पुर स्थित एक होटल में पत्रकारों से भेट करने के लिये पंहुचे बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता हरीश चन्द्र श्रीवास्तव ने कहा कि योगी व मोदी सरकार अपने वादे निभाने में पूरी तरह से लगी है| बीजेपी की सरकार ने मंहगाई को काबू किया है| आवास योजना, सड़क योजना, बिजली, गैस आदि ना जाने कितनी योजनाओ को आम जनता के लिये चलाया जा रहा है|
कांग्रेस पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा आज तो डीजल-पेट्रोल पर काफी लगाम लगी है| जब केंद्र में मनमोहन सरकार थी तो पेट्रोल 82 रूपये तक पंहुच गया था| आज किसान खुशहाल है| शिवपाल सिंह को सुरक्षा व सरकारी बंगला उपलब्ध कराये जाने की बात पर उन्होंने कहा कि जब अखिलेश यादव ने शिवपाल को पार्टी से निकाला तो बीजेपी से राय लेकर नही निकाला, डेढ़ साल तक शिवपाल इंतजार में रहे| उसके बाद उन्होंने अपनी पार्टी बना ली| वह आधा दर्जन बार विधायक रहे और दो बार कैबिनेट मंत्री रहे| यह राज्य सम्पत्ति विभाग के नियम है की वरिष्ठ है उसी को सरकारी बंगला उपलब्ध कराया जाता है| उन्होंने शिवपाल के साथ बीजेपी की अंदरूनी दोस्ती से इंकार कर दिया|
इस दौरान शैलेन्द्र सिंह राठौर,मीडिया प्रभारी शिवांग रस्तोगी, नगर अध्यक्ष हिमांशु गुप्ता, संजीब गुप्ता, रुपेश गुप्ता, आदि रहे|

[bannergarden id="12"]