Featured Posts

रावण कह रहा तुम मुझे यूँ जला ना पाओगे!रावण कह रहा तुम मुझे यूँ जला ना पाओगे! फर्रुखाबाद:श्रीराम लीला द्वारा मंचन चल रहा है| जिसके तहत विजय दशमी को रावण के वध के साथ ही उसका पुतला दहन होना है| पुतला बनाने वालों ने पुतले बनाकर तैयार कर मेला मैदान में लगा भी दिये है| बीते कई दिनों से कानपुर के ठेकेदार के द्वारा बनाये जा रहे रावण, कुम्भकरण व मेघनाथ के विशालकाय...

Read more

जिला जेल में सियाराम का हुआ वनवासजिला जेल में सियाराम का हुआ वनवास फर्रुखाबाद:(दीपक शुक्ला)बीते लगभग पांच दिनों से जिला जेल में चल रही राम लीला जनपद में चर्चा का विषय बनी हुई है| आपराधिक मानसिकता के लोगों में अध्यात्म की गंगा बहाने का काम किया जा रहा है| जिसके चलते यह जिला जेल में पहली अनोखी पहल है| जो बंदियों में सकारात्मक ऊर्जा का संचार...

Read more

450 वर्षों के बाद इलाहाबाद को मिला अपना पुराना नाम450 वर्षों के बाद इलाहाबाद को मिला अपना पुराना नाम नई दिल्‍ली:संगम नगरी इलाहाबाद को 450 वर्षों के बाद आखिरकार अपना पुराना नाम वाप‍स मिल गया। कभी मुगल शासक सम्राट अकबर ने इसका नाम बदलकर प्रयागराज से इलाहाबाद (अल्‍लाहबाद) किया था। पुराणों में प्रयागराज का कई जगहों पर जिक्र मिलता है। रामचरित मानस में इलाहाबाद को प्रयागराज...

Read more

सीएमओं ने खड़े होकर जलवा दी लाखों की दवाएंसीएमओं ने खड़े होकर जलवा दी लाखों की दवाएं फर्रुखाबाद:सीएमओ कार्यालय के निकट परिवार नियोजन से सम्बन्धित करोड़ो रूपये की दवा व प्रचार सामिग्री सीएमओं अरुण उपाध्याय की मौजूदगी में आग के हवाले कर दी गयी| इस काम को अंजाम सीएमओ कार्यालय के पूर्व शोध अधिकारी अनिल कटियार निवासी नेकपुर चौरासी ने दिया| अनिल कटियार ने बताया...

Read more

पति के दोस्तों ने नकदी जेबरात चोरी कर महिला की इज्जत लूटीपति के दोस्तों ने नकदी जेबरात चोरी कर महिला की इज्जत लूटी फर्ररूखाबाद:बीती रात एक सनीखेज मामला सामने आया है| घर आये पति के दोस्तों ने महिला के साथ गैंग रेप कर उसके घर से नकदी व जेबरात चोरी कर लिये| घटना के सम्बन्ध में पुलिस को तहरीर दी गयी| पुलिस ने जाँच पड़ताल शुरू कर महिला को लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया| थाना मऊदरवाजा क्षेत्र...

Read more

खड़े होकर पानी पीते हैं? तो जान लीजिए गंभीर नुकसानखड़े होकर पानी पीते हैं? तो जान लीजिए गंभीर नुकसान डेस्क: यह तो हम सभी जानते हैं कि पूरे दिन में 8 से 10 गिलास पानी पीना हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए कितना जरूरी होता है। लेकिन आपको यह नहीं पता होगा कि जिस पोजीशन में आप पानी पीते हैं उसका भी आपकी सेहत पर असर पड़ता है। आपके बड़े-बुजुर्ग हमेशा से कहते आए होंगे कि बैठ कर शांति से पानी...

Read more

करवाचौथ पर शुक्र अस्त होने के कारण इस बार नहीं होगा व्रत का उद्यापनकरवाचौथ पर शुक्र अस्त होने के कारण इस बार नहीं होगा व्रत का... नई दिल्ली:वर्ष करवाचौथ 27 अक्टूबर को है। कार्तिक कृष्ण चतुर्थी को करवाचौथ का व्रत किया जाता है। सुहागिन महिलाओं के लिए इस व्रत का विशेष महत्व है। करवाचौथ के दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती हैं। कई संप्रदायों में कुवांरी कन्याएं भी अच्छे पति की...

Read more

पुलिस की पिटाई से बीजेपी समर्थक की मौत पर बबाल,लगाया जामपुलिस की पिटाई से बीजेपी समर्थक की मौत पर बबाल,लगाया जाम फर्रुखाबाद: साथी के साथ गये युवक से पुलिस ने युवक से मारपीट कर दी| जिससे उसकी मौत हो गयी| आक्रोशित भीड़ ने परिजनों के साथ जाम लगाकर जमकर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की| मौके पर पंहुचे एएसपी ने कार्यवाही का भरोसा दिया| जिसके बाद जाम खोला जा सका| शहर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला दरीवा...

Read more

स्कूल बैन की गैस से मासूम छात्रों की हालत बिगड़ीस्कूल बैन की गैस से मासूम छात्रों की हालत बिगड़ी फर्रुखाबाद:(मेरापुर/नबावगंज) विधालय बच्चो को लेकर जा रही बैन की गैस निकलने से उसमे बैठे कई मासूम छात्र-छात्राओं की हालत बिगड़ गयी| ग्रामीणों का आक्रोश देख बैन का चालक मौके से खिसक गया| जिसके बाद मौके पर पंहुचे एसपी ने जाँच पड़ताल कर कार्यवाही के निर्देश दिये|जिसके बाद विधालय...

Read more

श्रीराम की बारात में श्रद्धालु हुये भावविभोरश्रीराम की बारात में श्रद्धालु हुये भावविभोर फर्रुखाबाद:श्री राम विवाह की शोभायात्रा में सभी बरातियो ने जमकर लुफ्त उठाया| वही राम-सिया के विवाह मंचन से बारात तक के कार्यक्रम में सभी मनोहारी झाँकियो को देख कर श्रद्धालु भावविभोर हो गये| राम बारात में जैसे ही श्री राम के गले में सीता जी ने वरमाला डाली तो रामचरित मानस...

Read more

बोले मोदी, जितना कीचड़ उछालोगे उतना कमल खिलेगा

0

Posted on : 25-09-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Narendra Modi, Politics, Politics-BJP, राष्ट्रीय

भोपाल:मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा ने अपना चुनावी बिगुल फूंक दिया है। भाजपा महाकुंभ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विपक्ष को जमकर निशाने पर लिया और भाजपा के दृष्टिकोण की बात की। पीएम मोदी ने वोट बैंक की राजनीतिक को दीमक जैसा बताया, तो वहीं शाह और शिवराज ने भी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को निशाने पर लिया।
पीएम मोदी का संबोधन
कार्यकर्ता महाकुंभ के दौरान पीएम मोदी ने कहा, ‘ हम कितने भाग्यवान है, पता नहीं किस जन्म में हमने कितने पुण्य किए होंगे कि हमें भी इस महान पार्टी (भाजपा) के कार्यकर्ता के रूप में मां भारती की सेवा करने का मौका मिला।’ उन्होंने कहा कि 19 राज्यों में भाजपा की सरकार होना गौरव की बात है। लेकिन उससे भी बड़ा गौरव इस बात से है कि ये विश्व की सबसे बड़ी पार्टी है।
कांग्रेस बन गई बोझ
पीएम मोदी ने कहा कि सवा सौ साल पुरानी पार्टी में कुछ नहीं बचा है, कांग्रेस बोझ बन गई है। ये पार्टी हिंदुस्‍तान में गठबंधन करने में सफल नहीं हो रही है इसलिए भारत के बाहर गठबंधन खोजा जा रहा है। दुनिया के देश अब तय करेंगे कि भारत में प्रधानमंत्री कौन होगा? कांग्रेस पार्टी क्‍या हाल हो गया है आपका? क्‍या सत्‍ता खोने के बाद अपना संतुलन भी खो दिया? डिक्शनरी में कोई ऐसी गाली नहीं जो कांग्रेस ने मुझपर इस्तेमाल नहीं किया हो, ऐसा कोई मौका नहीं मिला जब हम पर कीचड़ नहीं उछाला गया है। लेकिन जितना कीचड़ उछालोगे, उतना ही कमल खिलेगा। वोटबैंक की राजनीति की वजह से कांग्रेस तीन तलाक को खत्म नहीं होने देना चाहती है।
महात्मा गांधी, दीन दयाल, लोहिया को किया याद
पंडित दीन दयाल उपाध्याय को याद करते हुए उन्होंने कहा कि उनके विचार ही हमारी प्रेरणा है। साथ ही उन्होंने महात्मा गांधी, लोहिया और अटल जी को भी याद किया। उन्होंने कहा, ‘हमारे प्रिय अटल जी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी, राजमाता सिंधिया जी और हमारे लाखों मेहनती कार्यकर्ताओं ने इस भूमि की सेवा करने का कोई मौका नहीं छोड़ा है। उनसे प्रेरणा लेते हुए, हम अपने देश के कल्याण की दिशा में काम करना जारी रखेंगे।’ उन्होंने कहा कि हम वो लोग है जिन्हें गांधी भी मंजूर है, राम मनोहर लोहिया भी मंजूर है और दीनदयाल उपाध्याय भी मंजूर है क्योंकि हम समन्वय, सामाजिक न्याय और सबका साथ, सबका विकास में विश्वास करते हैं।
वोट बैंक की राजनीति दीमक जैसी
प्रधानमंत्री ने 2014 में दिए अपने नारे का जिक्र करते हुए कहा, ‘सबका साथ सबका विकास ये सिर्फ चुनावी नारा नहीं है। उज्जवल भारत के लिए, कोटि-कोटि भारतीय आशा और आकांक्षाओं की पूर्ति के लिए सोच समझ के चुना हुआ ये हमारा मार्ग है।’ उन्होंने कहा, ‘हमारे देश में वोट बैंक की राजनीति ने समाज को दीमक की तरह तबाह कर दिया है और इसीलिए आज़ादी के 70 साल में जो बर्बादी आयी, उससे हमें देश को बचाना होगा। वोट बैंक की राजनीति के दीमक से देश को मुक्त कराना, ये भाजपा की विशेष जिम्मेवारी है।
अमित शाह का संबोधन
इस मौके पर भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर जीत का संकल्प लिया। उन्होंने कहा, ‘आज हम सब संकल्प लेकर जाए कि आने वाले पांच विधानसभा चुनावों और 2019 लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी का ध्वज फिर से ऊंचा करने का काम करें।’ उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को देश के हर बूथ और हर गांव तक पहुंचाने का काम हम सभी कार्यकर्ताओं को करना है। भाजपा की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ‘जो पार्टी 10 सदस्यों से शुरू हुई थी, आज वो 11 करोड़ कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर विश्व की सबसे बड़ी पार्टी बन गयी है या एक दृष्टि से देखें तो भारत के मानचित्र के 70 फीसद भू-भाग पर मोदी जी के नेतृत्व में भाजपा की सरकार है।’ शाह ने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा,’ पूरे विश्व में देश का मान-सम्मान और गौरव बढ़ाने का काम देश के प्रधानमंत्री मोदी ने किया है।’ उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री ने कोई भी ऐसा काम नहीं किया है जिससे हमारे कार्यकर्ता का सर नीचा हो सके, पीएम मोदी और शिवराज जी ने इस प्रकार कार्य किया है कि हमारा कार्यकर्ता जनता के बीच सिर उठा के जा सके।
इस दौरान शाह ने कांग्रेस को भी निशाने पर लिया। उन्होंने कहा, ‘ मध्य प्रदेश को बीमारू राज्य बना देनी वाली कांग्रेस पार्टी क्या राजा, महाराजा या फिर उद्योगपतियों के नाम पर जनता से वोट मांगेगी।’
मुख्यमंत्री का संबोधन
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पीएम मोदी और अमित शाह की तारीफ के साथ संबोधन शुरू किया। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष दोनों एक साथ यहां मौजूद हैं, ये दुर्लभ संयोग है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यूपीए के समय प्रदेश को उसका हिस्सा 30 हजार करोड़ रुपए मिलता था लेकिन मोदी सरकार आने के बाद अब प्रदेश को 61 हजार करोड़ रुपए मिल रहे हैं। पहले रेलवे और सड़क के मामले में मप्र उपेक्षित था लेकिन आज हजारों करोड़ की परियोजनाएं मप्र में शुरू हुई। मोदी सरकार ने आयुष्मान भारत योजना शुरू की जिससे अब गरीब लोगों को इलाज मिल रहा है। पीएम मोदी किसानों के लिए फसल बीमा योजना लेकर आए हैं जिसका फायदा किसानों को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी भगवान के वरदान के रुप में मिले हैं।
भाजपा ही बनाएगा देश विश्व गुरु
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ये नियति ने तय किया है कि भाजपा के नेतृत्व में ही देश विश्व गुरू बने।श्यामाप्रसाद मुखर्जी और दीनदयाल उपाध्याय की जोड़ी मिली। उसके बाद कुशाभाऊ ठाकरे, सुंदरलाल पटवा जैसा कुशल नेतृत्व प्रदेश को मिला। इसके बाद अटलजी, आडवाणीजी की जोड़ी आई। इस जोड़ी के नेतृत्व में पहली बार हमारी सरकार बनी। अब आई है मोदीजी और अमित शाह की जोड़ी जिन्होंने भाजपा को नई ऊंचाईयां दी। आज देश विश्व गुरू बनने की राह पर है।
राहुल को दिया करारा जवाब
मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी करारा जवाब दिया। उन्होंने कहा कुछ दिन पहले ‘बाबा” भी यहां आए थे, लेकिन उस समय भीड़ केवल सड़कों तक सीमित रह गई। कांग्रेस ने सभा के लिए हिम्मत भी की तो दशहरा मैदान की। उन्होंने कहा- हमें लगा कि बाबा परिपक्व हो गए होंगे, लेकिन वो देश को मजाक और राजनीति को तमाशा समझते हैं। मोदीजी को गले लगाने के बाद उन्होंने आंखों से जैसी हरकत की उससे पूरा देश शर्मसार हुआ। मध्यप्रदेश में वो शिवभक्त बनकर आए। कैलाश गए तो वहां के फोटो, वीडियो वायरल करते हो, जब विदेश जाते हो तो वहां के फोटो क्यों नहीं वायरल करते।
राहुल तो फन मशीन हैं
सीएम यहीं नहीं रुके। उन्होंने कहा कि जिन्हें ये नहीं पता कि मूली जमीन के ऊपर उगती है या नीचे.. वो किसानों की बात कर रहे हैं। राहुल गांधी ने मुझे घोषणा मशीन कहा, लेकिन बाबा तो फन मशीन हैं। उन्होंने कहा – मैं घोषणा मशीन हूं लेकिन हम घोषणा के साथ पोषणा भी करते हैं। हमने सड़क, बिजली, किसान सबके लिए घोषणा की और उन्हें पूरा किया। घोषणा कौन करता है, जिसके दिल और दिमाग में जुनून हो वह घोषणा करता है।
हमने नर्मदा को क्षिप्रा से जोड़ने की घोषणा की थी, जिसे हमने पूरा किया। कांग्रेस के मुख्यमंत्री ने तो इस संभावना को सिरे से खारिज कर दिया था। हमने समृद्ध मध्यप्रदेश बनाने का संकल्प लिया है जिसे हम पूरा करने की दिशा में तेजी से काम कर रहे हैं। हमे बीमारू मध्यप्रदेश मिला था, लेकिन आज हमने इसे विकसित राज्य बनाया था। अगले 5 सालों में हम प्रदेश को समृद्ध मध्यप्रदेश बनाएंगे और देश के शीर्षस्थ राज्यों में पहुंचेंगे। उन्होंने कार्यकर्ताओं से आग्रह किया कि 2018 के चुनावों में पार्टी को प्रचंड बहुमत से जिताएंगे और चौथी बार प्रदेश में भाजपा की सरकार बनाएंगे। फिर उसके बाद 2019 में प्रदेश की सभी 29 सीटें जीतकर पीएम मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष की झोली में डालेंगे।
स्टेट हैंगर पर स्वागत
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वायुसेना के विमान से और अमित शाह विशेष विमान से भोपाल पहुंचे। पीएम मोदी, अमित शाह और अन्य सभी नेता स्टेट हैंगर से ही हेलीकॉप्टर से जंबूरी मैदान पर बने हेलीपैड पहुंचे।
बता दें कि इस आयोजन को ‘कार्यकर्ता महाकुंभ’ का नाम दिया गया है। पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयंती के अवसर पर भोपाल के जंबूरी मैदान पर ‘कार्यकर्ता महाकुंभ’ का आयोजन किया गया है । इस मौके पर जंबूरी मैदान पर बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ताओं के एकत्रित हुए हैं। इस सभा स्थल को देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की याद में ‘अटल महाकुंभ परिसर’ का नाम दिया गया है। अटल बिहारी वाजपेयी का इसी अगस्त महीने में दिल्ली में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था। सभा स्थल पर भाजपा के नेता स्वर्गीय अनिल माधव दवे के नाम पर एक प्रदर्शनी हॉल बनाया गया है। इस प्रदर्शनी में भाजपा के बड़े नेताओं की जीवन और उनकी उपलब्धियों को दिखाया गया है। इसमें अटल बिहारी वाजपेयी, पीएम मोदी और शिवराज सिंह चौहान शामिल हैं।
भाजपा के पांच स्तम्भों को दिखाया जाएगा
इस प्रदर्शनी में दीन दयाल उपाध्याय, श्यामा प्रसाद मुख़र्जी, अटल बिहारी वाजपेयी, राजमाता विजयाराजे सिंधिया और कुशाभाऊ ठाकरे को भाजपा के पांच स्तम्भों के रूप में दर्शाया गया है। सुरक्षा के भी पुख्ता इंतज़ाम किए गए हैं। लगभग 6000 सुरक्षाकर्मियों को पूरे आयोजन के लिए लगाया गया है। 6000 सुरक्षाकर्मियों में से 4000 सेंट्रल रिजर्व फोर्स के जवान हैं। कुल 22 आईपीएस अधिकारी सुरक्षा की कमान संभालेंगे। मध्यप्रदेश में इस साल के आखिरी में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं। विधानसभा चुनावो को देखते हुए कांग्रेस और बीजेपी दोनों चुनावी तैयारी में जुट गए हैं।

दुनिया की सबसे बड़ी स्कीम आयुष्मान भारत लॉन्च

0

रांची:पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ योजना प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना- आयुष्मान भारत को देश को समर्पित किया। झारखंड की राजधानी रांची से इस आयोजन की शुरुआत करते हुए मोदी ने कहा कि इस योजना के तहत अब गरीबों को भी धनी लोगों की तरह स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी। इस अवसर पर पीएम ने देश की पुरानी सरकारों को भी कोसा और कहा कि उन्होंने केवल गरीबों के नाम पर राजनीति की।
रांची में पीएम मोदी द्वारा आयुष्मान भारत योजना के लॉन्च के अवसर पर झारखंड के सीएम रघुवर दास, स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा, केंद्रीय उड्डयन राज्य मंत्री जयंस सिन्हा समेत अन्य लोग भी मौजूद रहे। पीएम मोदी ने योजना को लॉन्च करते हुए कहा, ‘हमारे ऋषि मुनियों ने सपना देखा था सर्वे भवंतु सुखिन का। हमें सदियों पुराने संकल्प को इसी शताब्दी में पूरा करना है। समाज की आखिरी पंक्ति में जो इंसान खड़ा है, गरीब से गरीब इंसान को इलाज मिले। स्वास्थ्य की बेहतर सुविधा मिले। आज इस सपने को साकार करने का एक अहम कदम बिरसा मुंडा की धरती से उठाया जा रहा है।’
लोगों ने दिया मोदी केयर का नाम: पीएम मोदी
पीएम मोदी ने कहा, ‘आयुष्मान भारत के संकल्प के साथ प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना लागू हो रही है। लोग इसे अलग-अलग नामों से पुकार रहे हैं। कोई इसे मोदी केयर का नाम दे रहा है। पर मेरे लिए यह देश के दरिद्र नारायण की सेवा का अभियान है। दुनिया के किसी भी देश में इतनी बड़ी योजना नहीं चल रही है।’
मोदी ने कहा कि यहां बैठे-बैठे इस योजना की विशालता का अंदाजा लगाना कठिन है। उन्होंने कहा, ‘पूरे यूरोपीय यूनियन के देशों की जनसंख्या, अमेरिका, कनाडा, मैक्सिको की जनसंख्या से भी ज्यादा लोगों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ। आने वाले दिनों में दुनिया में मेडिकल क्षेत्र में काम करने वाले लोग इसपर बात करेंगे।’ पीएम ने इस योजना को मूर्त रूप देने में शामिल टीम का भी शुक्रिया अदा किया।
बीमारी लोगों को गरीबी में ढकेल देती है: मोदी
अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि देश में बेहतर इलाज कुछ लोगों तक सीमित न हो, सभी को इलाज मिले, इसी भावना के साथ यह योजना देश को समर्पित की जा रही है। पीएम ने कहा, ‘हेल्थ सेक्टर की जब भी बात आती है तो कहा जाता है कि किसी इलाज पर अगर 100 रुपये खर्च होते हैं तो 60 रुपये का बोझ व्यक्ति या परिवार पर आता है। कमाई का ज्यादातर हिस्सा ऐसे ही खर्च होने के कारण हर साल लाखों लोग गरीबी से बाहर निकलने के कगार पर होते हैं, लेकिन एक बीमारी फिर उन्हें गरीबी में वापस ले जाती है।’

पीएम ने कहा कि जबसे देश आजाद हुआ तब से गरीबी हटाओं का नारा सुनते आए हैं। मोदी बोले, ‘गरीबों का आंख में धूल झोंकने वाले अगर आज से 40-50 साल पहले गरीबों के नाम पर राजनीति करने की बजाय गरीबों के सशक्तिकरण पर बल देते तो आज जो हिंदुस्तान दिख रहा है वैसा नहीं होता। उन्होंने गरीबी को समझने में गलती की। उन्हें लगा कि गरीब कुछ न कुछ मांगता है। गरीब को मुफ्त में दे दो। यही सोच गलत थी। गरीब जितना स्वाभिमानी होता है शायद उसे नापने का कोई तराजू नहीं है।’

मोदी ने कहा, ‘मैंने गरीबी को जीया है। एक स्वाभिमान है जो गरीबी में जीने की आदत देता है। हमने बीमारी की जड़ को पकड़ा है। देश गरीबी से मुक्ति की ओर तेजी से बढ़ा है। एक संस्था ने बताया कि दो-तीन सालों में 5 करोड़ से अधिक लोग अति गरीबी से बाहर निकले।’ मोदी ने पिछली सरकारों को घेरते हुए कहा कि पिछली सरकारों ने सरकारी खजाने को लूटा। जाति, धर्म देखकर योजनाएं बनाईं। आयुष्मान भारत संप्रदाय, जाति, ऊंच-नीच के आधार पर नहीं होगा।
कैंसर जैसी 1300 गंभीर बीमारियों का इलाज
पीएम ने योजना की जानकारी देते हुए बताया कि कैंसर जैसी 1300 गंभीर बीमारियों को इसमें शामिल किया गया है। इन बीमारियों का इलाज सरकारी ही नहीं प्राइवेट अस्पतालों में भी सुलभ होगा। पीएम ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना से एक विशेष अवसर जुड़ा हुआ है। 14 अप्रैल को जब छत्तीसगढ़ के बस्तर के जंगलों से इसका प्रथम चरण शुरू किया था वह अंबेडकर की जयंती थी। आज जब दूसरा चरण आगे बढ़ रहा है तो पंडित दीनदयाल उपाध्याय जयंती 25 सितंबर को है, लेकिन रविवार को होने वाली सहूलियत की वजह से इसे आज लॉन्च किया गया। 23 सितंबर को राष्ट्रकवि दिनकर की जयंती के अवसर पर इसी क्रम में पीएम ने उन्हें भी याद किया।
पीएम ने कहा कि मैं चाहता हूं कि हर गरीब परिवार 14555 हेल्पलाइन नंबर याद रखे। इसपर योजना की सारी जानकारी मिल जाएगी। पीएम ने स्वास्थ्य क्षेत्र में किए जाने वाले कार्यों की जानकारी भी दी। मोदी ने कहा कि 4 सालों में देश में डेढ़ लाख वेलनेस सेंटर तैयार करने का लक्ष्य है। 4 सालों में देश में 14 नए एम्स की स्वीकृति दी गई। हर राज्य में कम से कम एक एम्स बनाने का काम किया जा रहा है। 82 नए सरकारी मेडिकल कॉलेज बनाए जा रहे हैं। भविष्य में एक लाख डॉक्टर तैयार करने की क्षमता विकसित होगी। पीएम ने अंत में कहा कि न्यू इंडिया स्वस्थ हो, न्यू इंडिया सशक्त हो, आप सभी आरोग्य रहें आयुष्मान रहें, यही कामना है।

557 करोड़ का काशी को मोदी का ‘रिटर्न गिफ्ट’

Comments Off on 557 करोड़ का काशी को मोदी का ‘रिटर्न गिफ्ट’

Posted on : 18-09-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Narendra Modi, Politics, Politics-BJP, राष्ट्रीय

वाराणसी :प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी को बड़ा रिटर्न गिफ्ट देने के बाद जनसभा को संबोधित किया। बीएचयू के एम्फीथियेटर ग्राउंड में उन्होंने वाराणसी को पूर्वी भारत के गेट-वे के रूप में विकसित करने की अपनी योजना के बारे में भी बताया।
प्रधानमंत्री ने अपने करीब 48 मिनट के संबोधन में सियासी बातों से पूरी तरह परहेज किया। इस दौरान उन्होने बतौर सांसद सवा चार सालों में अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कराए गए विकास कार्यों का एक तरह से रिपोर्ट कार्ड पेश किया और कहा कि यह तो एक छोटी सी झलक है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीएचयू एम्फीथिएटर, में 557 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण किया।
उन्होंने कहा कि हम चार सवा चार साल पहले काशीवासी बदलाव के इस संकल्प को लेकर निकले थे। आज अंतर स्पष्ट दिखाई दे रहा है। उन्होंने जनसभा में बैठे लोगों से सवाल किया कि बदलाव नजर आ रहा या नहीं। उन्होंने कहा कि आज मुझे संतोष है कि बाबा विश्वनाथ के आशीर्वाद से वाराणसी को विकास की नई दिशा देने मे सफल हुए हैं। हमने वो दिनभी देखें हैं, जब यहां की व्यवस्था को देखकर बेहाल दिखता था। यह शहर भी बिजली के उलझे तारों की तरह अव्यवस्थाओं से उलझा हुआ था। आज काशी में हर जगह परिवर्तन होता दिख रहा है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमरे काशी का लोगन हमरा के एतना प्यार देलन की मन गदगद हो जाला। बार-बार काशी आवे के मन करैला। इसके साथ ही हर-हर महादेव।विकास के कार्य बनारस शहर ही नहीं, आसपास के गांवों से भी जुड़े हैं। बिजली, पानी जैसी मूलभूत आवश्यकताओं से जुड़ी परियोनाएं तो हैं किसानों, बुनकार की योजनाएं भी शामिल है। बनारस हिंदू विश्विविद्लय को 21 वी सदी का नॉलेज सेंटर बनाने की कई परियोजनाएं शुरू की गई है। फिर यााद दिलाया-हम काशी में जो भी बदलाव लाने की कोशिश कर रहे है, उसमें काशी की परंपराओं-पौराणिकताओं को बचाते हुए किया जा रहा है।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यहां सांसद बनने से पहले बिजली के लटकते तारों को देखकर सोचता था इससे कब मुक्ति मिलेगी। देखिए आज शहर के एक बड़े हिस्से से बिजली के लटकते तार गायब हैं।वराणसी में चार साल के दौरान कराए गए विकास कार्यों की पूरी फेहरिस्त सुनाते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वारणसी में हो रहे विकास के गवाह यहां एयरपोर्ट पर आ रहे लोग भी बन गए। टूरिस्टों की तादाद लागातार बढ़ रही है। बाबतपुर एयरपोर्ट पर आने वाले की संख्या प्रतिवर्ष आठ लाख से बढ़कर 11 लाख हो गई है। यह शहर ट्रांसपोर्ट और लॉजिस्टिक के बड़े हब के तौर पर उभरने वाला है।
उन्होंने कहा कि वाराणसी ही नहीं, पास के क्षेत्रों को हर पल बिजली मिलने वाली है। एक और बिजली केंद्र के साथ लो वोल्टेज की समस्या से छुटकारा मिलेगा। वाराणसी को पूर्वी भारत के रूप में विकसित करने का प्रयास हो रहा है। इसके तहत वाराणसी वर्ल्ड क्लास की सुविधा से जोड़ने की कोशिश की जा रही है। आज काशी की सड़कों पर रात में भी मां गंगा का प्रवाह सा दिखता है। एलईडी बल्बों से रोशनी तो दिखती है, बिजली के बिल में भी कमी आई है। बनारस में रिंग रोड की चर्चा हो रही थी, लेकिन काम फाइलों में दबा हुआ था। 2014 में सरकार बनने के बाद रिंग रोड की फाइल को फिर से निकाला गया। लेकिन यूपी की पहले की सरकार ने काम आगे नहीं बढ़ने दिया गया। उनको फिक्र सता रही थी कि यह काम हो गया तो मोदी की जय-जय हो जाएगी। काशी रिंग रोड के निर्माण से सिर्फ काशी ही नहीं, आसपास के जिलों को भी लाभ मिलने वाला है। वाराणसी शहर के भीतर और दूसरे राज्यों से जोड़ने वाली सड़कों का विस्तार किया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर लोगों को खुशी में वाराणसी कैंट की तस्वीर पोस्ट करते हुए देखता हूं तो मेरी खुशी दोगुनी हो जाती है। स्वच्छता के मामले में भी काशी ने परिवर्तन देखा है, आज यहाँ के घाटों, सड़कों और गलियों में स्वच्छता स्थाई बनती जा रही है। वाराणसी में क्रूज सेवा की शुरुआत भी हो चुकी है। कैंट स्टेशन हो, मडुआडीह हो या फिर सिटी स्टेशन, सभी पर विकास के कार्यों को गति दी गई है, उन्हें आधुनिक बनाने का काम किया जा रहा है। रेल से काशी आने वालों को रेलवे स्टेशन पर आते नई काशी के दर्शन हो जाते हैं। इलाहाबाद-छपरा के रेल लाइन दोहरीकरण का कार्य प्रगति पर है। आधुनिक सुविधाओं वाली ट्रेनों ने भी लोगों का ध्यान खींचा है। आज काशी में न सिर्फ आना जाना आसान हो रहा है। बल्कि इसका सौंदर्य भी निखर रहा है। घाटों पर अब गंदगी नहीं रोशनी स्वागत करती है। पर्यटन से परिवर्तन का अभियान लगातार जारी है। काशी आज हेल्थ हब के रूप में उभरने लगा है। बीएचयू में आधुनिक ट्रॉमा सेंटर हजारों लोगों के जीवन को बचाने का काम कर रहा है। नए कैंसर और सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल लोगों को इलाज की आधुनिक सुविधाएं देंगे। बीएचयू ने एम्स के साथ एक वर्ल्ड क्लास हेल्थ इंस्टीट्यूट बनाने के लिए समझौता किया है। पीएम मोदी ने कहा कि आज यहां एक तरफ वैदिक विज्ञान केंद्र का शिलान्यास हुआ है तो दूसरी तरफ अटल इन्क्यूबेशन सेंटर की भी शुरुआत हुई है। हम सभी को जितना अपनी पुरातन संस्कृति और सभ्यता पर गर्व है उतना ही भविष्य की तकनीक के प्रति हमारा आकर्षण है।
पिछले चार साल ने कई देशों के नेताओं का काशी ने स्वागत किया है। इन नेताओं ने काशी के आतिथ्य को सराहा है। काशी में नए वर्ष की शुरूआत पर दुनियाभर की नजरें होंगी। दुनियाभर में बसे भारतीयों का कुंभ काशी में लगने वाला है। इसके लिए सरकार अपने स्‍तर पर काम कर रही है। लेकिन जनसहयोग जरूरी होगा। एक-एक काशीवासी को आगे आना होगा। हर नुक्कड-गली पर काशी का रस और रंग नजर आना चाहिए। प्रवासी भारतीय दिवस में आए लोग ऐसा अनुभव करके जाएं तो दुनिया में हमेशा के लिए काशी के ट्रेंड सेटर बन जाए।मां गंगा की सफाई के लिए गंगोत्री से लेकर गंगा सागर तक प्रबंध किए जा रहे हैं। इसके लिए 21 हजार से अधिक की 200 परियोजनाएं स्वीकृत की गई हैं। मां गंगा की सफाई के लिए गंगोत्री से लेकर गंगा सागर तक प्रबंध किए जा रहे हैं। इसके लिए 21 हजार से अधिक की 200 परियोजनाएं स्‍वीकृत की गई हैं। यूपी में भाजपा की सरकार बनने के बाद विकास योजनाओं में तेजी आई है। आयुष्मान भारत योजना के क्रियान्वयन के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार को बधाई।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वाराणसी में ‘पर्यटन से परिवर्तन’ का अभियान निरंतर जारी है। बुद्धा थीम पार्क, सारंग नाथ तालाब, गुरुधाम मंदिर, मारकंडेय महादेव मंदिर जैसे अनेक स्थलों का सुंदरीकरण किया जा चुका है। काशी देश के चुनींदा शहरों में शामिल हैं, जहां घरों में पाइप से कुकिंग गैस की सुविधा मिलने जा रही है। वाराणसी शहर ही नहीं बल्कि आसपास के गांवों को भी सड़क, बिजली, पानी जैसी सुविधाएं पहुंचाई गई हैं।
सांसद के रूप में जिन गांवों को विशेष रूप से विकसित करने का जिम्मा मेरे पास है, उनमें से एक नागेपुर गांव के लिए आज पानी के एक बड़े प्रोजेक्ट का लोकार्पण किया गया है। किसानों और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को भी गति देने का काम चार सालों में तेज हुआ है। हम सभी को जितना अपनी पुरातन संस्कृति और सभ्यता पर गर्व है उतना ही भविष्य की तकनीक के प्रति हमारा आकर्षण है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि नई काशी नए भारत के निर्माण में योगदान का आह्वान। कहा-आप यूं ही स्‍नेह देते रहें। आपने भले प्रधानमंत्री बनाया है, लेकिन आप बतौर सांसद मुझसे चार साल में कराए गए कार्यों का हिसाब लेने के लिए जिम्‍मेदार है। आप हमारे मालिक है। आप हमारे हाई कमान हैं।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी के प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक भावनात्मक रिश्ता है। उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के साथ प्रदेश को इतना दिया है, जितनी कल्पना नहीं की गई थी।इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने 557 करोड़ की परियोजना का शिलान्यास-लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी जनपद के हर घर तक बिजली लाइन पहुंचाने और हर घर को रौशन करने के लिए एक बड़े कार्यक्रम का आज शुभारंभ हो रहा है, इसके लिए भी मैं आदरणीय प्रधानमंत्री जी का अभिनंदन करता हूं।
पीएम मोदी का वाराणसी से भावनात्मक रिश्ता : योगी आदित्यनाथ
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी के प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक भावनात्मक रिश्ता है। उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के साथ प्रदेश को इतना दिया है, जितनी कल्पना नहीं की गई थी। उन्होंने कहा कि विगत एक वर्ष के दौरान उत्तर प्रदेश के अंदर के प्रधानमंत्री के नेतृत्व में 72 हजार मजरों का विद्युतीकरण कराया गया। जिन्हें बिजली सुलभ नहीं मिल पाती है, उन्हें सौभाग्य योजना के अंतर्गत नि:शुल्क बिजली मिल रही है। मोदी जी के नेतृत्व में बिना किसी भेदभाव के योजनाओं को लागू किया जा रहा है। चार वर्ष के दौरान काशी की जनता विकास की प्रक्रिया को लगातार देखा तथा महसूस किया है। पीएम के प्रयास से काशी में योजनाएं आगे बढी हैं। आइपीडीएस के अंतर्गत काशी में लटके तारों को केबलिंग के माध्यम से अंडर ग्राउंड करना भी शामिल है। विगत चार वर्षों के दौरान विद्युतीकरण का काम शुरू हुआ है, 52 लाख परिवारों को सौभाग्‍य योजना के तहत नि:शुल्क बिजली देने का कार्य भी हुआ है। जिन्‍हें बिजली सुलभ नहीं हो जाती थी उन्‍हें बिजली मिल रही है। प्रदेश के अंदर बिना भेदभाव के नरेंद्र मोदी ने योजनाओं को पहुंचाने का काम किया है। काशी के अंदर बीएचयू मालवीय जी की साधना स्थली है। बीएचयू में दो नए केंद्रों का उदघाटन हो रहा है जिससे विकास को गति मिलेगी। आंखों के उपचार की बात आती थी तो दक्षिण भारत के शंकर नेत्रालय की बात याद आती थी लेकिन अब नेत्र संस्थान को आधुनिक रूप मिलने जा रहा है।
इससे पहले भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्रनाथ पाण्डेय ने पीएम मोदी को जन्मदिन की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने भोजपुरी में कहा कि न बनारस अइसन आपन सांसद देखलस, ना अइसन प्रधानमंत्री देखलस। हे बाबा भालेनाथ, अइसन प्रधानमंत्री क लगातार जरूरत बा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वाराणसी को रिटर्न गिफ्ट देने वाराणसी के बीएचयू के एम्फीथियेटर ग्राउंड पहुंचे। वहां पर भाजपा अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पाण्डेय के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनका स्वागत किया।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कल अपना 68वां जन्मदिन मनाया है। बीएचयू की सभा के बाद पीएम मोदी वाराणसी से रवाना हो जाएंगे।
मिले तोहफे – लोकार्पण
-362 करोड़ : शहरी विद्युत सुधार कार्य, पुरानी काशी (आइपीडीएस)
-84.61 करोड़ : 3722 मजरो में विद्युतीकरण का काम
-9.90 करोड़ : सिंगल फेज के 90 हजार मीटर लगाने का काम
-2.80 करोड़ : 33 केवी विद्युत उपकेंद्र बेटावर का निर्माण
-2.58 करोड़ : 33 केवी विद्युत उपकेंद्र कुरुसातो का निर्माण
-2.74 करोड़ : नागेपुर ग्राम पेयजल योजना
-20 करोड़ : बीएचयू में अटल इन्क्यूबेशन सेंटर।
मिले तोहफे- आधारशिला
-14.10 करोड़ : बीएचयू में वैदिक विज्ञान केंद्र की स्थापना
-34 करोड़ : रीजनल इंस्टीट्यूट ऑफ आफ्थेल्मोलाजी
-23.08 करोड़ : 132 केवी विद्युत उपकेंद्र चोलापुर का निर्माण।
मिले तोहफे- बांटे रोजगार
-98 लाख : कुंभकारी उद्योग के तहत 260 विद्युत चालित चाक, आधुनिक भट्ठी
-53.25 लाख : हनी मिशन के तहत 500 मधुमक्खी बॉक्स
-7.50 लाख : खादी व सोलर वस्त्र के अंतर्गत 3 रेडीबार्प मशीन।

जन्मदिन खास: कैसे चायवाले से पहले सीएम और फिर पीएम बने नरेंद्र मोदी

Comments Off on जन्मदिन खास: कैसे चायवाले से पहले सीएम और फिर पीएम बने नरेंद्र मोदी

Posted on : 17-09-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Narendra Modi, Politics, Politics-BJP, सामाजिक

लखनऊ:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को 68 वर्ष के हो गए। गुजरात के वडनगर स्टेशन पर चाय बेचने वाले बालक के हाथ में कभी देश की बागडोर होगी, इसका किसी को सपने में भी अंदाजा नहीं रहा होगा।मगर नरेंद्र मोदी ने करिश्मा कर दिखाया। चायवाले से देश के प्रधानमंत्री बनकर मोदी यह संदेश देने में सफल रहे कि लक्ष्य के प्रति समर्पण और जुनून के आगे कोई भी चीज असंभव नहीं है। उन्होंने आम जन के सपनों को उड़ान भी दी।
खास बात है कि जब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री बने, उस वक्त उन्होंने एक अदना सा चुनाव भी नहीं लड़ा था। दिल्ली में बीजेपी के राष्ट्रीय संगठन स्तर का कामकाज देखने के दौरान ही उन्हें पार्टी और संघ की ओर से गुजरात का मुख्यमंत्री बनाने का फैसला हुआ था। प्रधानमंत्री बनने से पहले नरेंद्र मोदी वर्ष 2001 से 2014( पीएम बनने से पहले) तक लगातार चार बार गुजरात के मुख्यमंत्री रहे। जानिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़ी अनोखी बातें।
नरेंद्र मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को गुजरात के मेहसाणा जिला स्थित वडनगर में हुआ। उनकी मां हीराबेन मोदी और पिता दामोदरदास थे। मोदी अपने मां-बाप की छह संतानों में तीसरे नंबर के थे। आठ वर्ष की अवस्था में ही बाल नरेंद्र मोदी का झुकाव संघ की तरफ हुआ तो शाखाओं में जाने लगे। 1967 में 17 साल की उम्र में हाईस्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने घर छोड़ दिया और अहमदाबाद पहुंचे और फिर उन्होंने आरएसएस की औपचारिक सदस्यता ग्रहण की।
नरेंद्र मोदी अहमदाबाद में संघ प्रचारकों के साथ काम करने लगे। जब 1975 में इंदिरा गांधी सरकार ने इमरजेंसी लगाई तो मोदी वेश बदलकर भूमिगत हो गए थे। उस समय वह संघ प्रचारकों को अंडरग्राउंड रहकर मदद करते थे। तीस वर्ष की अवस्था में नरेंद्र मोदी आरएसएस में संभाग प्रचारक बन गए। बतौर प्रचारक संघ के प्रचार-प्रसार में जोर-शोर से जुटे रहे।
1985 में मोदी मुख्य धारा की राजनीति से जुड़े, जब संघ ने आवश्यकता के मद्देनजर उन्हें बीजेपी में भेजा। लाल कृष्ण आडवाणी ने 1990 की सोमनाथ-अयोध्या रथ यात्रा निकाली तो नरेंद्र मोदी सारथी बने। इसी तरह वर्ष 1991 में बीजेपी नेता मुरली मनोहर जोशी की कन्याकुमारी से श्रीनगर एकता यात्रा के आयोजन में भी मोदी ने बढ़चढ़कर भूमिका निभाई। जिससे मोदी खासे चर्चित हुए। बड़े नेताओं से जुड़े आयोजनों के सफल निर्वहन और संगठन के प्रति निष्ठा तथा लगन देख बीजेपी में नरेंद्र मोदी का 1995 में काफी बढ़ गया। जब पार्टी ने उन्हें राष्ट्रीय सचिव बनाया। इसके बाद मोदी दिल्ली मुख्यालय पहुंचे। इसके तीन साल बाद ही 1998 में उन्हें महासचिव (संगठन) बनाया गया। अक्टूबर 2001 तक मोदी इस पद पर रहे।
वर्ष 2001 में जब गुजरात में भूकंप आया तो भारी संख्या में जान-माल की क्षति हुई। 20 हजार से ज्यादा लोगों की जान गई। तब पार्टी ने केशुभाई पटेल को मुख्यमंत्री पद से हटाकर नरेंद्र मोदी को सीएम की जिम्मेदारी दी।मुख्यमंत्री बनने से पहले मोदी एक भी चुनाव नहीं लड़े थे। उन्होंने अक्टूबर 2001 में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। अभी सत्ता संभाले हुए पांच महीने ही हुए थे कि गुजरात के गोधरा में दंगा भड़क उठा। एक रिपोर्ट के मुताबिक गोधरा दंगे में दो हजार से ज्यादा लोग मारे गए। उस वक्त तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने गुजरात के दौरे के दौरान नरेंद्र मोदी को राजधर्म का पालन करने की नसीहत दी थी। कहा जाता है कि उस वक्त उन्हें सीएम पद से हटाने की भी बात चल रही थी, मगर लालकृष्ण आडवाणी के समर्थन की वजह से वाजपेयी को निर्णय बदलना पड़ा था।
दंगे के कुछ ही महीने बाद गुजरात में विधानसभा चुनाव हुए तो मोदी बहुमत से सत्ता में लौटे। खास बात रही कि दंगे में जो इलाके सर्वाधिक प्रभावित रहे, वहां पर बीजेपी को ज्यादा लाभ मिलता दिखाई दिया। इसके बाद नरेंद्र मोदी ने गुजरात की सत्ता की इस कदर नब्ज पकड़ी कि फिर प्रधानमंत्री बनने तक चार बार सीएम बने रहे|सितंबर 2013 में बीजेपी की नई दिल्ली में हुई संसदीय दल की बैठक में नरेंद्र मोदी को 2014 के लोकसभा चुनाव के लिए प्रधानमंत्री उम्मीदवार चुना गया। तब आडवाणी सहित कुछ अन्य वरिष्ठ नेताओं ने इसका विरोध किया था। भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने उनकी उम्मीदवारी की घोषणा की थी।
2014 के लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी 282 सीटों के साथ बहुमत से सत्ता में पहुंची। फिर 26 मई 2014 को कई पड़ोसी देशों के राष्ट्राध्यक्षों की मौजूदगी में नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। और अब तक नरेंद्र मोदी देश हित में कई महत्वपूर्ण फैसले ले चुके हैं।

मोदी की हत्या के लिए खरीदे जाने वाले थे ये हथियार,पढ़े

Comments Off on मोदी की हत्या के लिए खरीदे जाने वाले थे ये हथियार,पढ़े

नई दिल्ली:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश के आरोप में जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है, उनसे कई सनसनीखेज सबूत हाथ लगे हैं। महाराष्‍ट्र पुलिस के एडीशनल डायरेक्‍टर जनरल (एडीजी) परम बीर सिंह ने बताया कि छापेमारी के दौरान कई ऐसे सबूत मिले हैं जो गिरफ्तार आरोपियों और माओवादियों का और साजिश का संबंध स्‍पष्‍ट कर रहे हैं। इसकी पुष्‍टि होने के बाद ही पुलिस ने इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की।
महाराष्ट्र पुलिस के मुताबिक आरोपी रोना विल्सन के कंप्यूटर से इस मामले में अहम सबूत हाथ लगे हैं। ये सबूत कंप्यूटर में फाइलों के रूप में सुरक्षित थे। बताया गया है कि ये पासवर्ड प्रोटेक्टेड फाइल्स थी। जिनमें एक बड़ी आपराधिक साजिश के लिए कई आधुनिक हथियारों की लिस्ट थी।
इन हथियारों का है जिक्र
पुलिस की मानें तो रोना विल्सन के कंप्यूटर से मिली हथियारों की लिस्ट वाली फाइल में रूसी, चीनी और अमेरिकी ग्रेनेड लॉन्चर का जिक्र है। जानिए कौन-कौन से हैं ये हथियारः
जीएम-94 ग्रेनेड लॉन्चर
ये एक रशियन ग्रेनेड लॉन्चर है। जिसकी मारक क्षमता 300 मीटर तक है। इसमें तीन राउंड की मैगजीन कैपेसिटी है। यह करीब 5 किलो वजन का होता है और इससे मैनुअली रीलोड किया जाता है।
क्यूएलजेड डब्ल्यू87
यह चाइनीज ग्रेनेड लॉन्चर है, जिसकी मारक क्षमता 600 मीटर तक है। यह एक ऑटोमैटिक हथियार है। जिससे करीब एक मिनट में 500 राउंड तक फायर किए जा सकते हैं।
एम 203 (एम4)
यह एक अमेरिकी हथियार है। डेढ़ किलो वजनी इस हथियार की मारक क्षमता 150 मीटर से लेकर 300 मीटर तक है। इसे एम-4 के नाम से भी जाना जाता है।
चिट्ठी में भी हथियारों का जिक्र
पीबी सिंह ने प्रेसवार्ता में रोना विल्सन की ओर से कामरेड प्रकाश को लिखी गई चिट्ठठी का कुछ अंश भी पढ़ा। जिसमें प्रधानमंत्री मोदी को मारने की साजिश का साफ-साफ जिक्र था। इसमें लिखा है, ‘मुझे उम्मीद है कि आपको ग्रेनेड सप्लाई के लिए दिए जाने वाले 8 करोड़ रुपये की जानकारी मिल गई है। कॉमरेड किशन और बाकी लोगों ने राजीव गांधी की तर्ज पर मोदी राज को खत्म करने का प्रस्ताव रखा है।’
एडीजी ने बताया कि इन पत्रों से जाहिर होता है कि ये कार्यकर्ता माओवादियों के साथ संपर्क में थे और कानूनी रूप से चुनी हुई सरकार को अस्थिर करने की कोशिश में जुटे थे। उन्‍होंने कहा कि 31 दिसंबर, 2017 को हुई घटना के संबंध में 8 जनवरी, 2018 को मामला दर्ज किया गया। जांच से खुलासा हुआ कि माओवादी बड़ी वारदात को अंजाम देने की साजिश कर रहे थे और गिरफ्तार आरोपी इसमें उनकी मदद कर रहे थे।

[bannergarden id="12"]