Featured Posts

साफ दिखने लगा है बीते चार वर्ष का विकास कार्य:पीएम मोदीसाफ दिखने लगा है बीते चार वर्ष का विकास कार्य:पीएम मोदी वाराणसी:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में देश का पहला अंतरदेशीय जल मार्ग राष्ट्र को समर्पित किया। इस अंतर्देशीय जलमार्ग टर्मिनल से बंगाल के हल्दिया से वाराणसी तक जलमार्ग संचालित किया जाएगा। इसके बाद उन्होंने एयरपोर्ट से वाजिदपुर का रुख...

Read more

सचिन के नेतृत्व में बीजेपी के आधा सैकड़ा पदाधिकारी व प्रधान सपा में शामिलसचिन के नेतृत्व में बीजेपी के आधा सैकड़ा पदाधिकारी व प्रधान... फर्रुखाबाद:लोकसभा चुनाव के नजदीक आते ही राजनिति में जोड़तोड़ की राजनीति शुरू हो गयी है| जिसके चलते समाजवादी पार्टी कुल 44 बूथ अध्यक्ष व ग्राम प्रधानों को सपा में शामिल करा दिया गया| जिससे बीजेपी में हडकंप है| पूर्व लोक सभा प्रत्याशी रहे सचिन यादव पूर्व मंत्री बाबू राजेन्द्र...

Read more

युवक से चेन और नकदी लूट गोली मारीयुवक से चेन और नकदी लूट गोली मारी फर्रुखाबाद:स्कूटी से अपने गाँव जा रहे युवक से जेवर व नकदी लूट गोली मार दी गयी| जिसके बाद उसने गम्भीर हालत में लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया | जंहा हालत गम्भीर होने पर उसे रिफर कर दिया गया| शहर कोतवाली क्षेत्र मोहल्ला कूंचा भवानी दास निवासी रामकुमार पाण्डेय ने पुलिस...

Read more

भूमि विवाद में ग्रामीण की पीट-पीट कर हत्याभूमि विवाद में ग्रामीण की पीट-पीट कर हत्या फर्रुखाबाद:भूमि विवाद में चलते ग्रामीण की पीट-पीट कर हत्या कर दी गयी| पुलिस घटना की जाँच पड़ताल में जुट गयी है| थाना अमृतपुर के बस स्टेशन के निकट निवासी 55 वर्षीय मुन्नू उर्फ़ अजय अग्निहोत्री का गाँव के ही गंगाराम दुबे से भूमि को लेकर विवाद चल रहा था| रविवार की शाम गंगाराम के...

Read more

अभी भी भूखे पेट मरने को मजबूर गौसदन की गायेंअभी भी भूखे पेट मरने को मजबूर गौसदन की गायें फर्रुखाबाद:थाना मऊदरवाजा क्षेत्र के ग्राम धर्मपुर कटरी में अभी तक पालिका की नजरें इनायत नही की है| केबल आज बीमार गायों का इलाज कराकर इतिश्री कर ली गयी| लेकिन उनकी पेट की आग शांत करने का प्रयास अभी तक नही किया गया है| गौसदन में अभी लगभग 209 गौवंश व गाय है| इससे पूर्व लगभग 30 गायों...

Read more

ई-पॉश मशीनों से सर्वर गायब,एक-एक दाने को तरसे ग्रामीणई-पॉश मशीनों से सर्वर गायब,एक-एक दाने को तरसे ग्रामीण फर्रुखाबाद:(दीपक शुक्ला)अनाज वितरण में पारदर्शिता लाने के लिए लगाई गई ई-पॉश मशीनों ने गरीबों के साथ ही कोटेदारों की भी मुश्किलें बढ़ा दी हैं। लगातार कई दिन गुजर जाने के बाद भी अनाज वितरण पूरी तरह ठप है। कार्डधारक घंटों इंतजार करते रहे। काफी देर तक व्यवस्था में सुधार नहीं...

Read more

आखिर कौन खा रहा गौसदन की भूखी गायों का चारा?आखिर कौन खा रहा गौसदन की भूखी गायों का चारा? फर्रुखाबाद:कटरी धर्मपुर में गायों की दुर्दशा के विषय में प्रमुखता से जेएनआई ने प्रकाशित की थी| जिसके चलते पालिका में खलबली है| वही खबर को संज्ञान में लेकर हिन्दू महासभा आक्रोशित हो गयी| उन्होंने पालिकाध्यक्ष के पति से भेट कर गौशाला की व्यवस्था जल्द दुरस्त करने की बात कही|...

Read more

नहाय खाय के साथ 11 नवंबर से  शुरू होगी छठ मइया की पूजानहाय खाय के साथ 11 नवंबर से शुरू होगी छठ मइया की पूजा डेस्क:पुत्रों की दीर्घायु की कामना का पावन पर्व छठ पूजा 11 नवंबर को शुरू होगा। भगवान सूर्य और छठ मइया के पूजन के पर्व के पहले दिन नहाय खाय होगा। प्रथम दिन महिलाएं लौकी की सब्जी और भात (चावल) का सेवन कर पूजन पर्व का शुभारंभ करेंगी। पुत्रों की दीर्घायु की कामना वाले इस पर्व पर...

Read more

मार्ग दुर्घटनाओं में टैम्पो चालक सहित दो की मौतमार्ग दुर्घटनाओं में टैम्पो चालक सहित दो की मौत फर्रुखाबाद: दो अलग-अलग जगहों पर हुई मार्ग दुर्घटनाओं में दो की मौत हो गयी| जिससे दोनों के ही परिवार में कोहराम मच गया| पुलिस ने जाँच पड़ताल की| शहर कोतवाली क्षेत्र के लिंजीगंज गल्ला मंडी निवासी 45 हरीशंकर राठौर पुत्र राधेश्याम रात को फतेहगढ़ से फर्रुखाबाद तक टैम्पो चलाने का...

Read more

बहनों की भीड़ ने कराया उत्साह का एहसासबहनों की भीड़ ने कराया उत्साह का एहसास फर्रुखाबाद:दीपावली के बाद भाई दूज उल्लास से मनाया गया। ट्रेनों और बसों में उमड़ी भारी भीड़ ने यह बता दिया कि परेशानियों के बावजूद भी भाई-बहन के बीच मनाए जाने वाले त्योहारों की मिठास में कोई कमी नहीं आई है। कहीं बहनें भाइयों को तिलक करने के लिए बस और ट्रेन में जगह पाने की जुगत...

Read more

557 करोड़ का काशी को मोदी का ‘रिटर्न गिफ्ट’

Comments Off on 557 करोड़ का काशी को मोदी का ‘रिटर्न गिफ्ट’

Posted on : 18-09-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Narendra Modi, Politics, Politics-BJP, राष्ट्रीय

वाराणसी :प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी को बड़ा रिटर्न गिफ्ट देने के बाद जनसभा को संबोधित किया। बीएचयू के एम्फीथियेटर ग्राउंड में उन्होंने वाराणसी को पूर्वी भारत के गेट-वे के रूप में विकसित करने की अपनी योजना के बारे में भी बताया।
प्रधानमंत्री ने अपने करीब 48 मिनट के संबोधन में सियासी बातों से पूरी तरह परहेज किया। इस दौरान उन्होने बतौर सांसद सवा चार सालों में अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कराए गए विकास कार्यों का एक तरह से रिपोर्ट कार्ड पेश किया और कहा कि यह तो एक छोटी सी झलक है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीएचयू एम्फीथिएटर, में 557 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण किया।
उन्होंने कहा कि हम चार सवा चार साल पहले काशीवासी बदलाव के इस संकल्प को लेकर निकले थे। आज अंतर स्पष्ट दिखाई दे रहा है। उन्होंने जनसभा में बैठे लोगों से सवाल किया कि बदलाव नजर आ रहा या नहीं। उन्होंने कहा कि आज मुझे संतोष है कि बाबा विश्वनाथ के आशीर्वाद से वाराणसी को विकास की नई दिशा देने मे सफल हुए हैं। हमने वो दिनभी देखें हैं, जब यहां की व्यवस्था को देखकर बेहाल दिखता था। यह शहर भी बिजली के उलझे तारों की तरह अव्यवस्थाओं से उलझा हुआ था। आज काशी में हर जगह परिवर्तन होता दिख रहा है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमरे काशी का लोगन हमरा के एतना प्यार देलन की मन गदगद हो जाला। बार-बार काशी आवे के मन करैला। इसके साथ ही हर-हर महादेव।विकास के कार्य बनारस शहर ही नहीं, आसपास के गांवों से भी जुड़े हैं। बिजली, पानी जैसी मूलभूत आवश्यकताओं से जुड़ी परियोनाएं तो हैं किसानों, बुनकार की योजनाएं भी शामिल है। बनारस हिंदू विश्विविद्लय को 21 वी सदी का नॉलेज सेंटर बनाने की कई परियोजनाएं शुरू की गई है। फिर यााद दिलाया-हम काशी में जो भी बदलाव लाने की कोशिश कर रहे है, उसमें काशी की परंपराओं-पौराणिकताओं को बचाते हुए किया जा रहा है।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यहां सांसद बनने से पहले बिजली के लटकते तारों को देखकर सोचता था इससे कब मुक्ति मिलेगी। देखिए आज शहर के एक बड़े हिस्से से बिजली के लटकते तार गायब हैं।वराणसी में चार साल के दौरान कराए गए विकास कार्यों की पूरी फेहरिस्त सुनाते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वारणसी में हो रहे विकास के गवाह यहां एयरपोर्ट पर आ रहे लोग भी बन गए। टूरिस्टों की तादाद लागातार बढ़ रही है। बाबतपुर एयरपोर्ट पर आने वाले की संख्या प्रतिवर्ष आठ लाख से बढ़कर 11 लाख हो गई है। यह शहर ट्रांसपोर्ट और लॉजिस्टिक के बड़े हब के तौर पर उभरने वाला है।
उन्होंने कहा कि वाराणसी ही नहीं, पास के क्षेत्रों को हर पल बिजली मिलने वाली है। एक और बिजली केंद्र के साथ लो वोल्टेज की समस्या से छुटकारा मिलेगा। वाराणसी को पूर्वी भारत के रूप में विकसित करने का प्रयास हो रहा है। इसके तहत वाराणसी वर्ल्ड क्लास की सुविधा से जोड़ने की कोशिश की जा रही है। आज काशी की सड़कों पर रात में भी मां गंगा का प्रवाह सा दिखता है। एलईडी बल्बों से रोशनी तो दिखती है, बिजली के बिल में भी कमी आई है। बनारस में रिंग रोड की चर्चा हो रही थी, लेकिन काम फाइलों में दबा हुआ था। 2014 में सरकार बनने के बाद रिंग रोड की फाइल को फिर से निकाला गया। लेकिन यूपी की पहले की सरकार ने काम आगे नहीं बढ़ने दिया गया। उनको फिक्र सता रही थी कि यह काम हो गया तो मोदी की जय-जय हो जाएगी। काशी रिंग रोड के निर्माण से सिर्फ काशी ही नहीं, आसपास के जिलों को भी लाभ मिलने वाला है। वाराणसी शहर के भीतर और दूसरे राज्यों से जोड़ने वाली सड़कों का विस्तार किया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर लोगों को खुशी में वाराणसी कैंट की तस्वीर पोस्ट करते हुए देखता हूं तो मेरी खुशी दोगुनी हो जाती है। स्वच्छता के मामले में भी काशी ने परिवर्तन देखा है, आज यहाँ के घाटों, सड़कों और गलियों में स्वच्छता स्थाई बनती जा रही है। वाराणसी में क्रूज सेवा की शुरुआत भी हो चुकी है। कैंट स्टेशन हो, मडुआडीह हो या फिर सिटी स्टेशन, सभी पर विकास के कार्यों को गति दी गई है, उन्हें आधुनिक बनाने का काम किया जा रहा है। रेल से काशी आने वालों को रेलवे स्टेशन पर आते नई काशी के दर्शन हो जाते हैं। इलाहाबाद-छपरा के रेल लाइन दोहरीकरण का कार्य प्रगति पर है। आधुनिक सुविधाओं वाली ट्रेनों ने भी लोगों का ध्यान खींचा है। आज काशी में न सिर्फ आना जाना आसान हो रहा है। बल्कि इसका सौंदर्य भी निखर रहा है। घाटों पर अब गंदगी नहीं रोशनी स्वागत करती है। पर्यटन से परिवर्तन का अभियान लगातार जारी है। काशी आज हेल्थ हब के रूप में उभरने लगा है। बीएचयू में आधुनिक ट्रॉमा सेंटर हजारों लोगों के जीवन को बचाने का काम कर रहा है। नए कैंसर और सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल लोगों को इलाज की आधुनिक सुविधाएं देंगे। बीएचयू ने एम्स के साथ एक वर्ल्ड क्लास हेल्थ इंस्टीट्यूट बनाने के लिए समझौता किया है। पीएम मोदी ने कहा कि आज यहां एक तरफ वैदिक विज्ञान केंद्र का शिलान्यास हुआ है तो दूसरी तरफ अटल इन्क्यूबेशन सेंटर की भी शुरुआत हुई है। हम सभी को जितना अपनी पुरातन संस्कृति और सभ्यता पर गर्व है उतना ही भविष्य की तकनीक के प्रति हमारा आकर्षण है।
पिछले चार साल ने कई देशों के नेताओं का काशी ने स्वागत किया है। इन नेताओं ने काशी के आतिथ्य को सराहा है। काशी में नए वर्ष की शुरूआत पर दुनियाभर की नजरें होंगी। दुनियाभर में बसे भारतीयों का कुंभ काशी में लगने वाला है। इसके लिए सरकार अपने स्‍तर पर काम कर रही है। लेकिन जनसहयोग जरूरी होगा। एक-एक काशीवासी को आगे आना होगा। हर नुक्कड-गली पर काशी का रस और रंग नजर आना चाहिए। प्रवासी भारतीय दिवस में आए लोग ऐसा अनुभव करके जाएं तो दुनिया में हमेशा के लिए काशी के ट्रेंड सेटर बन जाए।मां गंगा की सफाई के लिए गंगोत्री से लेकर गंगा सागर तक प्रबंध किए जा रहे हैं। इसके लिए 21 हजार से अधिक की 200 परियोजनाएं स्वीकृत की गई हैं। मां गंगा की सफाई के लिए गंगोत्री से लेकर गंगा सागर तक प्रबंध किए जा रहे हैं। इसके लिए 21 हजार से अधिक की 200 परियोजनाएं स्‍वीकृत की गई हैं। यूपी में भाजपा की सरकार बनने के बाद विकास योजनाओं में तेजी आई है। आयुष्मान भारत योजना के क्रियान्वयन के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार को बधाई।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वाराणसी में ‘पर्यटन से परिवर्तन’ का अभियान निरंतर जारी है। बुद्धा थीम पार्क, सारंग नाथ तालाब, गुरुधाम मंदिर, मारकंडेय महादेव मंदिर जैसे अनेक स्थलों का सुंदरीकरण किया जा चुका है। काशी देश के चुनींदा शहरों में शामिल हैं, जहां घरों में पाइप से कुकिंग गैस की सुविधा मिलने जा रही है। वाराणसी शहर ही नहीं बल्कि आसपास के गांवों को भी सड़क, बिजली, पानी जैसी सुविधाएं पहुंचाई गई हैं।
सांसद के रूप में जिन गांवों को विशेष रूप से विकसित करने का जिम्मा मेरे पास है, उनमें से एक नागेपुर गांव के लिए आज पानी के एक बड़े प्रोजेक्ट का लोकार्पण किया गया है। किसानों और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को भी गति देने का काम चार सालों में तेज हुआ है। हम सभी को जितना अपनी पुरातन संस्कृति और सभ्यता पर गर्व है उतना ही भविष्य की तकनीक के प्रति हमारा आकर्षण है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि नई काशी नए भारत के निर्माण में योगदान का आह्वान। कहा-आप यूं ही स्‍नेह देते रहें। आपने भले प्रधानमंत्री बनाया है, लेकिन आप बतौर सांसद मुझसे चार साल में कराए गए कार्यों का हिसाब लेने के लिए जिम्‍मेदार है। आप हमारे मालिक है। आप हमारे हाई कमान हैं।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी के प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक भावनात्मक रिश्ता है। उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के साथ प्रदेश को इतना दिया है, जितनी कल्पना नहीं की गई थी।इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने 557 करोड़ की परियोजना का शिलान्यास-लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी जनपद के हर घर तक बिजली लाइन पहुंचाने और हर घर को रौशन करने के लिए एक बड़े कार्यक्रम का आज शुभारंभ हो रहा है, इसके लिए भी मैं आदरणीय प्रधानमंत्री जी का अभिनंदन करता हूं।
पीएम मोदी का वाराणसी से भावनात्मक रिश्ता : योगी आदित्यनाथ
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी के प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक भावनात्मक रिश्ता है। उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के साथ प्रदेश को इतना दिया है, जितनी कल्पना नहीं की गई थी। उन्होंने कहा कि विगत एक वर्ष के दौरान उत्तर प्रदेश के अंदर के प्रधानमंत्री के नेतृत्व में 72 हजार मजरों का विद्युतीकरण कराया गया। जिन्हें बिजली सुलभ नहीं मिल पाती है, उन्हें सौभाग्य योजना के अंतर्गत नि:शुल्क बिजली मिल रही है। मोदी जी के नेतृत्व में बिना किसी भेदभाव के योजनाओं को लागू किया जा रहा है। चार वर्ष के दौरान काशी की जनता विकास की प्रक्रिया को लगातार देखा तथा महसूस किया है। पीएम के प्रयास से काशी में योजनाएं आगे बढी हैं। आइपीडीएस के अंतर्गत काशी में लटके तारों को केबलिंग के माध्यम से अंडर ग्राउंड करना भी शामिल है। विगत चार वर्षों के दौरान विद्युतीकरण का काम शुरू हुआ है, 52 लाख परिवारों को सौभाग्‍य योजना के तहत नि:शुल्क बिजली देने का कार्य भी हुआ है। जिन्‍हें बिजली सुलभ नहीं हो जाती थी उन्‍हें बिजली मिल रही है। प्रदेश के अंदर बिना भेदभाव के नरेंद्र मोदी ने योजनाओं को पहुंचाने का काम किया है। काशी के अंदर बीएचयू मालवीय जी की साधना स्थली है। बीएचयू में दो नए केंद्रों का उदघाटन हो रहा है जिससे विकास को गति मिलेगी। आंखों के उपचार की बात आती थी तो दक्षिण भारत के शंकर नेत्रालय की बात याद आती थी लेकिन अब नेत्र संस्थान को आधुनिक रूप मिलने जा रहा है।
इससे पहले भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्रनाथ पाण्डेय ने पीएम मोदी को जन्मदिन की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने भोजपुरी में कहा कि न बनारस अइसन आपन सांसद देखलस, ना अइसन प्रधानमंत्री देखलस। हे बाबा भालेनाथ, अइसन प्रधानमंत्री क लगातार जरूरत बा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वाराणसी को रिटर्न गिफ्ट देने वाराणसी के बीएचयू के एम्फीथियेटर ग्राउंड पहुंचे। वहां पर भाजपा अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पाण्डेय के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनका स्वागत किया।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कल अपना 68वां जन्मदिन मनाया है। बीएचयू की सभा के बाद पीएम मोदी वाराणसी से रवाना हो जाएंगे।
मिले तोहफे – लोकार्पण
-362 करोड़ : शहरी विद्युत सुधार कार्य, पुरानी काशी (आइपीडीएस)
-84.61 करोड़ : 3722 मजरो में विद्युतीकरण का काम
-9.90 करोड़ : सिंगल फेज के 90 हजार मीटर लगाने का काम
-2.80 करोड़ : 33 केवी विद्युत उपकेंद्र बेटावर का निर्माण
-2.58 करोड़ : 33 केवी विद्युत उपकेंद्र कुरुसातो का निर्माण
-2.74 करोड़ : नागेपुर ग्राम पेयजल योजना
-20 करोड़ : बीएचयू में अटल इन्क्यूबेशन सेंटर।
मिले तोहफे- आधारशिला
-14.10 करोड़ : बीएचयू में वैदिक विज्ञान केंद्र की स्थापना
-34 करोड़ : रीजनल इंस्टीट्यूट ऑफ आफ्थेल्मोलाजी
-23.08 करोड़ : 132 केवी विद्युत उपकेंद्र चोलापुर का निर्माण।
मिले तोहफे- बांटे रोजगार
-98 लाख : कुंभकारी उद्योग के तहत 260 विद्युत चालित चाक, आधुनिक भट्ठी
-53.25 लाख : हनी मिशन के तहत 500 मधुमक्खी बॉक्स
-7.50 लाख : खादी व सोलर वस्त्र के अंतर्गत 3 रेडीबार्प मशीन।

जन्मदिन खास: कैसे चायवाले से पहले सीएम और फिर पीएम बने नरेंद्र मोदी

Comments Off on जन्मदिन खास: कैसे चायवाले से पहले सीएम और फिर पीएम बने नरेंद्र मोदी

Posted on : 17-09-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Narendra Modi, Politics, Politics-BJP, सामाजिक

लखनऊ:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को 68 वर्ष के हो गए। गुजरात के वडनगर स्टेशन पर चाय बेचने वाले बालक के हाथ में कभी देश की बागडोर होगी, इसका किसी को सपने में भी अंदाजा नहीं रहा होगा।मगर नरेंद्र मोदी ने करिश्मा कर दिखाया। चायवाले से देश के प्रधानमंत्री बनकर मोदी यह संदेश देने में सफल रहे कि लक्ष्य के प्रति समर्पण और जुनून के आगे कोई भी चीज असंभव नहीं है। उन्होंने आम जन के सपनों को उड़ान भी दी।
खास बात है कि जब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री बने, उस वक्त उन्होंने एक अदना सा चुनाव भी नहीं लड़ा था। दिल्ली में बीजेपी के राष्ट्रीय संगठन स्तर का कामकाज देखने के दौरान ही उन्हें पार्टी और संघ की ओर से गुजरात का मुख्यमंत्री बनाने का फैसला हुआ था। प्रधानमंत्री बनने से पहले नरेंद्र मोदी वर्ष 2001 से 2014( पीएम बनने से पहले) तक लगातार चार बार गुजरात के मुख्यमंत्री रहे। जानिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़ी अनोखी बातें।
नरेंद्र मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को गुजरात के मेहसाणा जिला स्थित वडनगर में हुआ। उनकी मां हीराबेन मोदी और पिता दामोदरदास थे। मोदी अपने मां-बाप की छह संतानों में तीसरे नंबर के थे। आठ वर्ष की अवस्था में ही बाल नरेंद्र मोदी का झुकाव संघ की तरफ हुआ तो शाखाओं में जाने लगे। 1967 में 17 साल की उम्र में हाईस्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने घर छोड़ दिया और अहमदाबाद पहुंचे और फिर उन्होंने आरएसएस की औपचारिक सदस्यता ग्रहण की।
नरेंद्र मोदी अहमदाबाद में संघ प्रचारकों के साथ काम करने लगे। जब 1975 में इंदिरा गांधी सरकार ने इमरजेंसी लगाई तो मोदी वेश बदलकर भूमिगत हो गए थे। उस समय वह संघ प्रचारकों को अंडरग्राउंड रहकर मदद करते थे। तीस वर्ष की अवस्था में नरेंद्र मोदी आरएसएस में संभाग प्रचारक बन गए। बतौर प्रचारक संघ के प्रचार-प्रसार में जोर-शोर से जुटे रहे।
1985 में मोदी मुख्य धारा की राजनीति से जुड़े, जब संघ ने आवश्यकता के मद्देनजर उन्हें बीजेपी में भेजा। लाल कृष्ण आडवाणी ने 1990 की सोमनाथ-अयोध्या रथ यात्रा निकाली तो नरेंद्र मोदी सारथी बने। इसी तरह वर्ष 1991 में बीजेपी नेता मुरली मनोहर जोशी की कन्याकुमारी से श्रीनगर एकता यात्रा के आयोजन में भी मोदी ने बढ़चढ़कर भूमिका निभाई। जिससे मोदी खासे चर्चित हुए। बड़े नेताओं से जुड़े आयोजनों के सफल निर्वहन और संगठन के प्रति निष्ठा तथा लगन देख बीजेपी में नरेंद्र मोदी का 1995 में काफी बढ़ गया। जब पार्टी ने उन्हें राष्ट्रीय सचिव बनाया। इसके बाद मोदी दिल्ली मुख्यालय पहुंचे। इसके तीन साल बाद ही 1998 में उन्हें महासचिव (संगठन) बनाया गया। अक्टूबर 2001 तक मोदी इस पद पर रहे।
वर्ष 2001 में जब गुजरात में भूकंप आया तो भारी संख्या में जान-माल की क्षति हुई। 20 हजार से ज्यादा लोगों की जान गई। तब पार्टी ने केशुभाई पटेल को मुख्यमंत्री पद से हटाकर नरेंद्र मोदी को सीएम की जिम्मेदारी दी।मुख्यमंत्री बनने से पहले मोदी एक भी चुनाव नहीं लड़े थे। उन्होंने अक्टूबर 2001 में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। अभी सत्ता संभाले हुए पांच महीने ही हुए थे कि गुजरात के गोधरा में दंगा भड़क उठा। एक रिपोर्ट के मुताबिक गोधरा दंगे में दो हजार से ज्यादा लोग मारे गए। उस वक्त तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने गुजरात के दौरे के दौरान नरेंद्र मोदी को राजधर्म का पालन करने की नसीहत दी थी। कहा जाता है कि उस वक्त उन्हें सीएम पद से हटाने की भी बात चल रही थी, मगर लालकृष्ण आडवाणी के समर्थन की वजह से वाजपेयी को निर्णय बदलना पड़ा था।
दंगे के कुछ ही महीने बाद गुजरात में विधानसभा चुनाव हुए तो मोदी बहुमत से सत्ता में लौटे। खास बात रही कि दंगे में जो इलाके सर्वाधिक प्रभावित रहे, वहां पर बीजेपी को ज्यादा लाभ मिलता दिखाई दिया। इसके बाद नरेंद्र मोदी ने गुजरात की सत्ता की इस कदर नब्ज पकड़ी कि फिर प्रधानमंत्री बनने तक चार बार सीएम बने रहे|सितंबर 2013 में बीजेपी की नई दिल्ली में हुई संसदीय दल की बैठक में नरेंद्र मोदी को 2014 के लोकसभा चुनाव के लिए प्रधानमंत्री उम्मीदवार चुना गया। तब आडवाणी सहित कुछ अन्य वरिष्ठ नेताओं ने इसका विरोध किया था। भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने उनकी उम्मीदवारी की घोषणा की थी।
2014 के लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी 282 सीटों के साथ बहुमत से सत्ता में पहुंची। फिर 26 मई 2014 को कई पड़ोसी देशों के राष्ट्राध्यक्षों की मौजूदगी में नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। और अब तक नरेंद्र मोदी देश हित में कई महत्वपूर्ण फैसले ले चुके हैं।

मोदी की हत्या के लिए खरीदे जाने वाले थे ये हथियार,पढ़े

Comments Off on मोदी की हत्या के लिए खरीदे जाने वाले थे ये हथियार,पढ़े

नई दिल्ली:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश के आरोप में जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है, उनसे कई सनसनीखेज सबूत हाथ लगे हैं। महाराष्‍ट्र पुलिस के एडीशनल डायरेक्‍टर जनरल (एडीजी) परम बीर सिंह ने बताया कि छापेमारी के दौरान कई ऐसे सबूत मिले हैं जो गिरफ्तार आरोपियों और माओवादियों का और साजिश का संबंध स्‍पष्‍ट कर रहे हैं। इसकी पुष्‍टि होने के बाद ही पुलिस ने इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की।
महाराष्ट्र पुलिस के मुताबिक आरोपी रोना विल्सन के कंप्यूटर से इस मामले में अहम सबूत हाथ लगे हैं। ये सबूत कंप्यूटर में फाइलों के रूप में सुरक्षित थे। बताया गया है कि ये पासवर्ड प्रोटेक्टेड फाइल्स थी। जिनमें एक बड़ी आपराधिक साजिश के लिए कई आधुनिक हथियारों की लिस्ट थी।
इन हथियारों का है जिक्र
पुलिस की मानें तो रोना विल्सन के कंप्यूटर से मिली हथियारों की लिस्ट वाली फाइल में रूसी, चीनी और अमेरिकी ग्रेनेड लॉन्चर का जिक्र है। जानिए कौन-कौन से हैं ये हथियारः
जीएम-94 ग्रेनेड लॉन्चर
ये एक रशियन ग्रेनेड लॉन्चर है। जिसकी मारक क्षमता 300 मीटर तक है। इसमें तीन राउंड की मैगजीन कैपेसिटी है। यह करीब 5 किलो वजन का होता है और इससे मैनुअली रीलोड किया जाता है।
क्यूएलजेड डब्ल्यू87
यह चाइनीज ग्रेनेड लॉन्चर है, जिसकी मारक क्षमता 600 मीटर तक है। यह एक ऑटोमैटिक हथियार है। जिससे करीब एक मिनट में 500 राउंड तक फायर किए जा सकते हैं।
एम 203 (एम4)
यह एक अमेरिकी हथियार है। डेढ़ किलो वजनी इस हथियार की मारक क्षमता 150 मीटर से लेकर 300 मीटर तक है। इसे एम-4 के नाम से भी जाना जाता है।
चिट्ठी में भी हथियारों का जिक्र
पीबी सिंह ने प्रेसवार्ता में रोना विल्सन की ओर से कामरेड प्रकाश को लिखी गई चिट्ठठी का कुछ अंश भी पढ़ा। जिसमें प्रधानमंत्री मोदी को मारने की साजिश का साफ-साफ जिक्र था। इसमें लिखा है, ‘मुझे उम्मीद है कि आपको ग्रेनेड सप्लाई के लिए दिए जाने वाले 8 करोड़ रुपये की जानकारी मिल गई है। कॉमरेड किशन और बाकी लोगों ने राजीव गांधी की तर्ज पर मोदी राज को खत्म करने का प्रस्ताव रखा है।’
एडीजी ने बताया कि इन पत्रों से जाहिर होता है कि ये कार्यकर्ता माओवादियों के साथ संपर्क में थे और कानूनी रूप से चुनी हुई सरकार को अस्थिर करने की कोशिश में जुटे थे। उन्‍होंने कहा कि 31 दिसंबर, 2017 को हुई घटना के संबंध में 8 जनवरी, 2018 को मामला दर्ज किया गया। जांच से खुलासा हुआ कि माओवादी बड़ी वारदात को अंजाम देने की साजिश कर रहे थे और गिरफ्तार आरोपी इसमें उनकी मदद कर रहे थे।

PM मोदी मन की बात में बोले तीन तलाक बिल में मुस्लिम महिलाओं को मिलेगा इंसाफ

Comments Off on PM मोदी मन की बात में बोले तीन तलाक बिल में मुस्लिम महिलाओं को मिलेगा इंसाफ

नई दिल्ली :प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात के जरिए देशवासियों को संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने सबसे पहले देशवासियों को रक्षा बंधन और कृष्ण जन्माष्टमी के पर्व की शुभकामनाएं दी। साथ ही, केरल बाढ़, एशियाड गेम्स से लेकर फिट इंडिया जैसे मुद्दों पर बात की।
PM मोदी के संबोधन की खास बातें
रक्षाबंधन और जन्माष्टमी की बधाई
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रक्षाबंधन और जन्माष्टमी की बधाई देते हुए मन की बात कार्यक्रम की शुरुआत की। उन्होंने कहा, ‘अभी कुछ ही दिन बाद जन्माष्टमी का पर्व भी आने वाला है। पूरा वातावरण हाथी, घोड़ा, पालकी, जय कन्हैयालाल की, गोविन्दा-गोविन्दा की जयघोष से गूंजने वाला है। सभी देशवासियों को रक्षाबन्धन एवं जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं।’
भाषा का महत्व
पीएम ने भाषा के महत्व पर बात करते हुए कहा, ‘हर भाषा का अपना माहात्म्य होता है। भारत इस बात का गर्व करता है कि तमिल भाषा विश्व की सबसे पुरानी भाषा है और हम सभी भारतीय इस बात पर भी गर्व करते हैं कि वेदकाल से वर्तमान तक संस्कृत भाषा ने भी ज्ञान के प्रचार-प्रसार में बड़ी भूमिका निभाई है।’
शिक्षक दिवस की दी शुभकामनाएं
5 सितंबर को शिक्षक दिवस होता है। प्रधानमंत्री मोदी ने देशवासियों को शिक्षक दिवस की बधाई देते हुए कहा, ‘जैसे जीवन में गुरु का महत्व समझाने के लिए कहा गया है- कोई गुरु अपने शिष्य को एक भी अक्षर का ज्ञान देता है तो पूरी पृथ्वी में ऐसी कोई वस्तु या धन नहीं, जिससे शिष्य अपने गुरु का वह ऋण उतार सके। मैं देश के शिक्षकों को आने वाले शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं देता हूं।’
केरल बाढ़ पर कहा
पीएम मोदी ने केरल की भयंकर बाढ़ का जिक्र करते हुए कहा कि केरल में भीषण बाढ़ ने जन-जीवन को बुरी तरह से प्रभावित किया है। आज इस कठिन परिस्थितियों में पूरा देश केरल के साथ खड़ा है और मुझे पूरा विश्वास है कि राज्य के लोगों के जज्बे और साहस के बल पर केरल दोबारा उठ खड़ा होगा। पीएम ने कहा, ‘कठिन परिश्रम करने वाले यह हमारे किसानों के लिए मानसून नई उम्मीदें लेकर आता है। भीषण गर्मी से झुलसते पेड़-पौधे, सूखे जलाशयों को राहत देता है लेकिन कभी-कभी यह अतिवृष्टि और विनाशकारी बाढ़ भी लाता है।’ पीएम मोदी ने कहा कि आपदाएं अपने पीछे जिस प्रकार की बर्बादी छोड़ जाती हैं, वह दुर्भाग्यपूर्ण हैं लेकिन आपदाओं के समय मानवता के भी दर्शन हमें देखने को मिलते हैं। कच्छ से कामरूप और कश्मीर से कन्याकुमारी तक हर कोई अपने-अपने स्तर पर कुछ-न-कुछ कर रहा है।
अटल जी को किया याद
पीएम मोदी ने इस दौरान पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भी याद किया। उन्होंने कहा, ‘अटल जी के लिए जिस प्रकार का स्नेह, श्रद्धा और शोक की भावना पूरे देश में उमड़ पड़ी है, वो उनके विशाल व्यक्तित्व को दर्शाती है।’ उन्होंने कहा कि मैं आज अटल जी के विशाल व्यक्तित्व का एक और पहलू, उसे सिर्फ स्पर्श करना चाहता हूं। पीएम ने कहा, ‘वर्ष 2001 में अटल जी ने बजट पेश करने का समय शाम 5 बजे से बदलकर सुबह 11 बजे कर दिया। अटल जी के समृद्ध और विकसित भारत के सपने को पूरा करने का संकल्प दोहराते हुए मैं हम सबकी ओर से अटल जी को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।’
मानसून सत्र का जिक्र किया
पीएम ने अपने संबोधन में मानसून सत्र का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि अभी कुछ दिन पहले ही संसद का मानसून सत्र खत्म हुआ है। आपको यह जानकार प्रसन्नता होगी कि लोकसभा में 118 फीसद और राज्यसभा में 74 फीसद काम हुआ। लोकसभा में 21 विधेयक जबकि राज्यसभा में 14 विधेयकों को पारित किया गया।
मुस्लिम महिलाओं को मिलेगा इंसाफ
महिला सुरक्षा की बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि दुष्कर्म के दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई के लिए संसद में कानून लाया गया। वहीं, मंदसौर दुष्कर्म मामले का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि मंदसौर की अदालत ने बहुत ही कम वक्त में दोषियों को फांसी की सजा सुनाई। इस बीच उन्होंने तीन तलाक से संबंधित बिल का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, ‘यह बिल लोकसभा में पास हो गया है, अभी राज्यसभा से पास होना है। पीएम ने कहा, ‘मैं मुस्लिम महिलाओं को विश्वास दिलाता हूं कि पूरा देश उन्हें न्याय दिलाने के लिए खड़ा है।’
एशियन गेम्स को लेकर कहा
पीएम मोदी ने जकार्ता में चल रहे एशियन गेम्स में भारत का नाम रोशन करने वाले खिलाड़ियों को भी मनोबल बढ़ाते हुए कहा कि मैं देश के लिए मेडल जीतने वाले सभी खिलाड़ियों को बधाई देता हूं। उन खिलाड़ियों को भी मेरी बहुत-बहुत शुभकामना, जिनकी स्पर्धाएं अभी बाकी हैं। पीएम ने कहा कि देश के लिए मेडल जीतने वालों में बढ़ी संख्या में हमारी बेटियां भी शामिल हैं और ये बहुत ही सकारात्मक संकेत है।
जरूर खेलें और फिटनेस पर ध्यान दें
पीएम मोदी ने खेल और फिटनेस पर जोर देते हुए देशवासियों से अपील की वे जरूर खेलें और अपनी फिटनेस का भी पूरा ध्यान रखें। पीएम ने कहा कि स्वस्थ भारत ही संपन्न और समृद्ध भारत का निर्माण करेगा। साथ ही पीएम ने देशवासियों को राष्ट्रीय खेल दिवस की भी शुभकामनाएं दी।
इंजीनियर्स डे की बधाई
बता दें कि हर वर्ष 15 सितंबर को इंजीनियर्स डे मनाया जाता है। इस दिन का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने भारत रत्न डॉ.एम. विश्वेश्वरय्या को याद किया। उन्होंने कहा, ‘विश्वेश्वरय्या द्वारा कावेरी नदी पर बनाए कृष्णराज सागर बांध से आज भी लाखों की संख्या में किसान और जन-सामान्य लाभान्वित हो रहे हैं।’इसी के साथ पीएम मोदी ने कहा कि मन की बात में मिलते रहेंगे, मन की बातें करते रहेंगे और अपने मन से देश को आगे बढ़ाने में भी हम जुटते रहेंगे। बता दें कि पीएम मोदी 47वें बार मन बात बात के जरिए लोगों को संबोधित किया।
इससे पहले पीएम मोदी ने 29 जुलाई को ‘मन की बात’ के जरिये देशवासियों को संबोधित किया था। इस दौरान पीएम मोदी ने इस बार सभी से इको-फ्रेंडली गणेश उत्सव मनाने की अपील की। उन्होंने कहा, हर शहर में इको-फ्रेंडली गणेश उत्सव की अलग स्पर्धाएं हों, उनको इनाम दिए जाएं। साथ ही उन्होंने लोकमान्य तिलक, चंद्र शेखर आजाद जैसे महान स्वतंत्रता सेनानियों को भी याद किया। इस दौरान प्रधानमंत्री ने प्रकृति प्रेमी बने और इसके रक्षक बनने की भी सलाह दी थी।

केरल की मदद को PM ने की 500 करोड़ राहत पैकेज की घोषणा

Comments Off on केरल की मदद को PM ने की 500 करोड़ राहत पैकेज की घोषणा

कोच्चि:भयंकर बारिश और बाढ़ की मार झेल रहे केरल के लिए देश और दुनिया एकजुट होकर मदद के लिए सामने आई है। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद केरल जाकर बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। इस दौरान उनके साथ केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन और केंद्रीय मंत्री केजे अल्फोंस भी थे। साथ ही, उन्होंने मुख्यमंत्री विजयन समेत उच्च अधिकारियों के साथ बैठक कर बाढ़ से हुए नुकसान और स्थिति का जायजा लिया।
इस बीच पीएम मोदी ने केरल के लिए 500 करोड़ रूपये के राहत पैकेज की भी घोषणा की है। केंद्र सरकार पहले ही केरल के बाढ़ प्रभावित इलाकों के लिए 100 करोड़ रुपये की राहत दे चुकी है। इसके आलावा प्रधानमंत्री ने राज्य को खाद्यान और दवाई की सप्लाई का आशवासन दिया है। साथ ही उन्होंने बाढ़ से हुए जान और माल के नुकसान पर शोक भी व्यक्त किया है।
केरल की मदद के लिए PM मोदी की घोषणा
केंद्र ने प्रधानमंत्री राहत कोष से बाढ़ में मारे गए व्यक्ति के परिजनों को दो लाख रुपये और घायलों को 50,000 रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीमा कंपनियों को स्पेशल कैंप लगाकर बाढ़ से हुए नुकसान का आकलन करने और उसके आधार पर विभिन्न सामाजिक सुरक्षा के तहत मिलने वाली राशि/सहायता को शीघ्र जारी करने को कहा है। किसानों की फसल को हुए नुकसान को देखते हुए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से मिलने वाली राशि को शीघ्र जारी करने को कहा है।
बिजली की व्यवस्था सुचारू बनाने का निर्देश
इस बीच पीएम मोदी ने नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया से खराब सड़कों की तुरंत मरम्मत और NTPC और PGCIL को राज्य में बिजली की व्यवस्था को जल्दी-जल्दी सुचारू बनाने के निर्देश दिए है। जिन लोगों के कच्चे घर बाढ़ में नष्ट हो गए हैं, उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत शीघ्र आवास दिलाने को कहा गया है। पीएम ने कहा, ‘केंद्र सरकार यह सुनिश्चित कर रही है कि प्रधानमंत्री आवास योजना, मनरेगा, विभिन्न सामाजिक सुरक्षा योजनाओं, बागवानी के एकीकृत विकास प्राथमिकता के आधार पर केरल के प्रभावित (बाढ़) लोगों तक पहुंचे।’
पीएम मोदी ने ट्वीट कर बताया कि एनडीआरएफ, बीएसएफ, सीआइएसएफ और आरएएफ की कंपनियों को राज्य में बचाव और राहत कार्यों के लिए तैनात किया गया है। वहीं, वायुसेना, सेना, नौसेना और तटरक्षक केरल के विभिन्न हिस्सों में परिचालन में सहायता कर रहे हैं। बाढ़ में फंसे हुए लोगों का रेस्क्यू सर्वोच्च प्राथमिकता बनी हुई है।
मदद के लिए आगे आए कई राज्य
इस बीच केरल के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 10-10 करोड़ रुपये की राशि देने की घोषणा की है। वहीं, आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू भी केरल को मदद के तौर पर 10 करोड़ रुपये देने की घोषणा कर चुके हैं। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने 25 करोड़ रुपये की मदद देने का ऐलान किया है। ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने केरल के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए 5 करोड़ रुपये की मदद की घोषणा की। इसके साथ ही वे बचाव कार्य के लिए 254 दमकल कर्मचारी और नाव भी भेजेंगे।
संयुक्त राष्ट्र केरल में बाढ़ से हुई तबाही पर चिंतित
केरल में बाढ़ से मची भारी तबाही पर संयुक्त राष्ट्र ने चिंता जाहिर की है। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस केरल में बांध से लोगों की मौत और तबाही से चिंतित हैं। वैश्विक संगठन इस घटनाक्रम पर करीब से नजर बनाए हुए है।

[bannergarden id="12"]