Featured Posts

दुष्कर्मी प्रधान ने नौकरी दिलानें के नाम पर ठगे करोड़ों रूपये!दुष्कर्मी प्रधान ने नौकरी दिलानें के नाम पर ठगे करोड़ों रूपये! फर्रुखाबाद:बीते दिन दुष्कर्म के आरोप में जेल गये प्रधान ने अपना माया जाल पूरे जिले में फैला रखा था| जिसमे उसने नौकरी दिलाने के नाम से करोड़ों रूपये एकत्रित किये| प्रधान के जेल जाने की खबर पर तकरीबन एक सैकड़ा से अधिक लोग उसके कार्यालय पर पंहुचे जंहा प्रधान के ना मिलने पर उन्होंने...

Read more

पंजाब प्रदेश सहित 15 जिलों के 78 बंदियों को सेन्ट्रल जेल से मिली रिहाईपंजाब प्रदेश सहित 15 जिलों के 78 बंदियों को सेन्ट्रल जेल से मिली... फर्रुखाबाद:शासन के आदेश के बाद सेन्ट्रल जेल में सजा काट रहे बंदियों को अब नयी उम्मीद जाग गयी है| चौथे चरण में कुल 78 बंदियों को और रिहाई दे दी गयी| जेल से बाहर निकले बंदियों ने आतंकवाद के खिलाफ अपना आक्रोश प्रगट किया| और कहा कि जिस तरह से हम सभी ने जो अपराध किया था उसकी सजा कानून...

Read more

हाई-वे के निकट मारुती शोरुम के ताले तोड़कर लाखों की चोरीहाई-वे के निकट मारुती शोरुम के ताले तोड़कर लाखों की चोरी फर्रुखाबाद:बीती रात हाई-वे पर स्थित मारुती शोरुम का ताला तोड़कर लाखों की नकदी चोरी कर ली गयी| पुलिस ने जाँच पड़ताल के बाद शोरूम के कैशियर सहित तीन को हिरासत में ले लिया| कोतवाली फतेहगढ़ क्षेत्र के इटावा-बरेली हाई-वे पर नेकपुर पुल के मारुती का शोरुम है| बीती रात उसमे तिजोरी से...

Read more

सोशल मीडिया पर अपने नेता का प्रचार,दावेदारों के समर्थकों में टकरारसोशल मीडिया पर अपने नेता का प्रचार,दावेदारों के समर्थकों... फर्रुखाबाद:(दीपक-शुक्ला)सोशल मीडिया फेसबुक व व्हाट्सएप पर इन दिनों सपा,भाजपा,बसपा व कांग्रेस के दावेदारों के समर्थकों में जमकर रायता फैलाया जा रहा है| समर्थक सोशल मीडिया पर पोलिंग करा रहे है| जिसके जादा लाइक उसे बेहतर प्रत्याशी माना जा रहा है| पुराने फोटो लाकर उसे नई तरह...

Read more

फर्रुखाबाद में फूटा सडकों पर गुस्सा,जगह-जगह से एक आबाज पाकिस्तान मुर्दाबादफर्रुखाबाद में फूटा सडकों पर गुस्सा,जगह-जगह से एक आबाज पाकिस्तान... फर्रुखाबाद: जनपद में शुक्रवार सुबह से लेकर शाम तक केबल पाक के खिलाफ आक्रोश ही सडकों पर नजर आया| शाम तक में कई जगहों पर पुलवामा आतंकी हमले पर लोगों का आक्रोश दिखा। लोगों ने जमकर पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए। कई स्थानों पर पाकिस्तान के पीएम का पुतला जलाया गया। पुलवामा...

Read more

बड़ी खबर:साइकिल सबार माँ-बेटे सहित तीन को गैस टेंकर ने कुचला,मौतबड़ी खबर:साइकिल सबार माँ-बेटे सहित तीन को गैस टेंकर ने कुचला,मौत फर्रुखाबाद:साइकिल से सबार होकर जा रहे माँ-बेटे सहित तीन को तेज रफ्तार गैस टेंकर ने कुचल दिया| जिसमे माँ-बेटे की मौके पर ही मौत हो गयी| जबकि घायल ने लोहिया अस्पताल में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया| थाना राजेपुर के ग्राम शेराखार गौटिया निवासी 50 वर्षीय उर्मिला पत्नी वेदराम जाटव...

Read more

वैलेंटाइन डे: फूलों की जुबाँ से कही गयी दिल की बातवैलेंटाइन डे: फूलों की जुबाँ से कही गयी दिल की बात फर्रुखाबाद:प्यार के इजहार के प्रेम दिवस पर फूल के बाजार सजे रहे| वेलेंटाइन डे पर फूलों की दुकानों पर व बाजारों में गुरुवार की सुबह से ही चहल कदमी दिखी। फूल विक्रेता कोलकाता व लखनऊ से गुलाब की भारी खेप मंगायी थी| बाजार में दिल की बात रखने के लिए कई तरह के गुलाब खास तौर पर मंगवाए...

Read more

30 रुपयें में किस फार्मूले से भरेगा गौ माता का पेट,प्रधान चिंतित30 रुपयें में किस फार्मूले से भरेगा गौ माता का पेट,प्रधान चिंतित फर्रुखाबाद:योगी सरकार ने खुले में विचरण कर रहे अन्ना मबेशियों को अस्थाई गौशालयों में बंद कराकर उसकी देखरेख की जिम्मेदारी प्रधानों को दे रखी है| पहले तो लगभग एक महीने तक पकड़े गये मबेशियों को खिलाने के लिए प्रधानों को फूटी कौड़ी नही मिली| वही काफी हो हल्ला मचने के बाद सरकार...

Read more

61 बंदियों के साथ रिहा हुए शिव और अली ने पेश की गंगा-जमुनी तहजीब61 बंदियों के साथ रिहा हुए शिव और अली ने पेश की गंगा-जमुनी तहजीब फर्रुखाबाद:शासन के फरमान के बाद जेल से बन्दियो के रिहा होने का सिलसिला लगातार जारी है| अभी तक कुल 65 बंदियों को रिहा किया गया था| बुधवार शाम कुल 14 जिलों के 61 और बंदियों की सेन्ट्रल जेल से रिहाई कर दी गयी| इस दौरान जेल से रिहा हुए बंदी शिवबालक व अरबी अली ने एक दूसरे के गले मिल गंगा-जमुनी...

Read more

Exactly why Almost Every thing Might Discovered About Online business Is Unsuitable and Precisely what You should consider Your supplier can be created in cable connections. Actually it could not basically in company that you enter to be able to observe a profitable business card holder. The necessary thing is in order to take care of an online business like a new tricky lending broker whose man or women types need to have routine maintenance along with notice a lot like any sort of machine. Follow the clean necessities up to the point your business has the ability to obtain the supplemental things. You don't need to struggle with learning how to perform your company entity, or the technique to promote it since the exact serious business is able to which. Which means that get began your link offering online...

Read more

राम मंदिर, गौमाता, अपराध, सरकारी योजनाओ की चिल्ल पौ में कुछ खो सा रहा है……..

Comments Off on राम मंदिर, गौमाता, अपराध, सरकारी योजनाओ की चिल्ल पौ में कुछ खो सा रहा है……..

Posted on : 26-11-2018 | By : पंकज दीक्षित | In : EDITORIALS, FARRUKHABAD NEWS

कार्तिक माह के आते आते वर्षांत का एहसास होने लगता है| नवम्बर में चुपके से गरीब के बिस्तर में सेंध लगाती मीठी सर्दी कब चिल्ला जाड़े में तब्दील हो जाती है इसका एहसास गरीब, अमीर और हुक्मरानों को अलग अलग तरीके से होता है| साहब लोगो को गरीबो के लिए कम्बल खरीदने के उपक्रम से इसका एहसास होता है तो छोटे साहबो को अलाव की| बच्चो के साहबो को स्वेटर और मोज़े खरीदने होते है तो ठेकेदारों को इन सबसे सरोकार होता है| इन सबके हिस्से में कुछ न कुछ आना होता है| मगर जिनके कारण साहब के हाथ गरम होने है उनकी चर्चा के बिना पूरी रामकथा बेकार है|

हर सकारात्मक पहलु का महत्त्व तभी है जब उसका नकारात्मक प्रभावशाली हो| गरीब और कमजोर है तभी जबर साहब के हाथ और जेब गरम है| अपराध और अपराधी है तभी पुलिस की पूछ है| वर्ना रामराज में पुलिस की क्या जरुरत? छाते तो तभी बिकेंगे जब बरसात होगी| अब बरसात होगी तो गरीब की छत टपकेगी| और बरसात नहीं होगी तो किसान बेहाल होगा| यानि सूखा पड़ेगा| सूखा पड़ेगा तो बीमा कम्पनी की पूछ होगी| यानि हर सुख दुःख के पीछे कोई न कोई कारण होना जरुरी है|

जनवरी में गंगा के तट पर रामनगरिया मेला का आयोजन होना है| अब लोकसभा चुनावो की तैयारियो का असर हिन्दुओ के तीज त्योहारों में खूब दिखेगा| तमाम बजट भी आएगा| गंगा के किनारे मेलो के लिए भी पैसा आने की भरपूर सम्भावना है| मगर अभी तक तो गंगा के पुल और उसके दोनों तरफ 10 किलोमीटर तक टूटी सड़के विकास के होने और न होने के बीच का अंतर खूब दिखा रहा है| गंगा में कल कल अविरल गिरता फर्रुखाबाद नगर का नाला और फतेहगढ़ में अर्धशोधित नालो का गन्दा पानी गंगा में नगर से गंगा के बहाव के बाद गिरता रहे, साहब की बला से| पिछले तमाम वर्षो में गंगा सफाई के नाम पर सैकड़ो करोड़ खर्च हो चुके है, गंगा अविरल हुई हो या नहीं, गंगा सफाई वाले साहब का विकास 2 किलोमीटर दूर से उनके आलिशान आशियाने से दिखाई पड़ने लगा है| इसमें विधायक, नगर पालिका अध्यक्ष और सांसद जैसे जनप्रतिनिधियो को दोष देना बेकार है| इन तीनो के ही पास समाजसेवा का वो डमरू है जिसे बजाकर मदारी खेल सजाता है और जनता को ही जमूरा बना देता है| अब जनता भी इनके कहने पर जमा नहीं होती स्वागत सत्कार के लिए माला और तलवार अपने चमचो से पहले खुद ही भेजनी पड़ती है| खैर नेताओ से तो जनता का भरोसा उठ ही चुका है| मगर साहब की क्या कहे जिन्हें सब कुछ सही करने का वेतन करदाताओ की जेब से मिलना होता है| अब साहब गंगा में गिरने से न नाला रोक पाए और न ही गाय का पेट भर पाए| पाप लगना था लग गया| एक्स्ट्रा बगलियाई कुर्सी और चली गयी| और नासपीटे ये नारदियो को भी दूसरा कोई काम नहीं है… एक भी गाय दूध दे रही होती तो थोडा थोडा सबके घर भिजवा देते| अब ठंठ से क्या आसरा|

जाड़े में सबकी जय जय होगी| जन प्रतिनिधि से लेकर जिले के आला अफसरों को रात्रि प्रवास पर गाँव जाड़े में ही भेजा जाता है| क्या सुखद एहसास| प्रधान , ग्रामसचिव और लेखपाल सब व्यवस्था करेंगे| झमाझम टेंट, अलाव, और संगीत के साथ साथ भुने आलू और शकरकंद का आनंद लिया जायेगा| कुछ घंटे में ही भोज आदि कर छायाचित्र कैद कर वापसी होगी और वातानुकूलित (हीटर) कमरे में बची रात गुजरेगी| रामनगरिया मेला में गरीबो की बाढ़ आएगी| कुछ मिटटी का तेल चुरायेंगे कुछ मेले के प्लाट| दान पुण्य करने के पवित्र माघ के महीने में मजाल है कि साहब की जेब से एक रुपये का भी पुण्य दान हो जाए| दाल बाटी से लेकर भुने आलू का स्वाद भरपूर मिलेगा| मगर जिस पैसे से ये खरीद कर साहब को खिलाया जायेगा वो पैसा मालूम है कहाँ से आता है….इस दुनिया में सबसे अभिशप्त गरीब की खाल खीच कर….. यकीन नहीं होता| साइकिल स्टैंड के ठेकेदार जरूर होंगे| कार वाला भले ही मेले में बिना कर दिए मेले में चला जाए मगर मजाल क्या साइकिल वाला बिना पैसा दिए मेले में घुस जाए| कुछ कुछ समझ में आ रहा है न….| बड़ी मोटी खाल के होते रहे है इंचार्ज इन मेलो के| इस बार क्या अलग थोड़ी होगा| राम के नाम पर लगने वाले मेले की वो वो असल कहानियां जरुर आपको पेश करेंगे जिसे पढ़ कर आपकी रूह कांप उठेगी|

इक्कसवी सदी आज बालिग़ हो गयी….

Comments Off on इक्कसवी सदी आज बालिग़ हो गयी….

Posted on : 01-01-2018 | By : पंकज दीक्षित | In : EDITORIALS, FARRUKHABAD NEWS

इक्कसवी सदी के लिए आज 1 जनवरी 2018 का दिन महत्वपूर्ण हो चला है| खुशियां मनाने का दिन तो उसी का है| मन में जवान होने की उमंग और अभिलाषा में एक एक कर 17 साल कब गुजर गए पता ही नहीं चला| अब जब सदी जवानी की दहलीज छू रही है तो वो सवाल भी पूछेगी| बताओ बीते 17 साल में क्या क्या किया| इक्कसवी सदी का सपना राजीव गाँधी ने पाला था| सदी की शुरुआत में देश की कमान अटल बिहारी बाजपेयी के हाथो में हुआ करती थी और जवान होते होते मनमोहन सिंह की परिवरिश में नरेंद्र मोदी के हाथो में आ चुकी है| कैसे मेरे देश की परवरिश की?

सवालों और जबाबो के बीच देश का युवा भी खड़ा है| स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार की तुलना अपने से ज्यादा तरक्की कर चुके पडोसी चीन से कर रहा है| चीन से हमने किसी चीज में तरक्की की हो या नहीं जनसंख्या वृद्धि में हम उनसे आगे निकलने में कामयाब रहे| देश में कोई काम करना हो चीन की तरफ देखना ही पड़ रहा है| द्वितीय विश्व युद्ध काल के दौरान जो औद्यौगिक क्रांति फ़्रांस, इंग्लैंड, जर्मनी जैसे पश्चिमी देशो में हुई वैसी ही औद्यौगिक क्रांति चीन में हो रही है| चीन का बना सामान छोटे बड़े हर घर की जरुरत पूरी कर रहा है| इस दबदबे को भारतीय युवा को एक चुनौती मान कर चलना होगा| आखिर अब वो जवान हो चला है|

बात सवालों की है तो पहला सवाल ही युवा पूछता है कि सरकार ने 17 सालो में क्या किया? सरकार कहती है कि हमने विकास किया| सड़के बनबा दी| नए साल के पहले दिन घपलो घोटालो जैसी नकरात्मक बात नहीं करना चाहता| सरकार के विकास में बनी सड़को के निर्माण में इस्तेमाल होने वाली मशीनरी विदेश से आयी| अब तैयार सड़को पर ढुलने वाला अधिकांश सामान भी चीन से बंदरगाहों के रास्ते होता हुआ हमारे घरो तक पहुंचेगा| आज़ादी के बाद स्वदेशीकरण के नाम पर चालू हुई सरकार की देशी कम्पनिया अधिकांश बंद हो चुकी है| इसलिए सरकार के भरोसे कोई काम करना इस सदी की सबसे बड़ी बेबकूफी होगी| युवाओ को जैसे हालात है की दशा में ही अपने लिए सरोकार तलाशना होगा क्योंकि अब वो जवान हो चला है| जोखिम लेने की हिम्मत जुटानी होगी| लोकतंत्र के माने तो अब बदल से गए है| आम जनता से सरोकार मात्र वोट लेना, सरकार बनाना और फिर अगले चुनाव की तयारी में जुट जाना भर रह सा गया है|

ऐसा नहीं कि हमने इक्क्सवी सदी के बचपन में कोई विकास नहीं किया मगर पडोसी का बच्चा दौड़ने लगा और हमारे ने अभी अभी ट्राईसाइकिल छोड़ी है इतना फरक तो हो ही चला है| हम सिर्फ पाकिस्तान से तुलना कर खुश होते रहे और चीन सिल्क रुट से आगे निकल गया| हम अपने घर में सिर्फ 2जी, 3जी और जीजाजी में उलझे रहे और पडोसी के घर में दुनिया भर से रिश्ते आने लगे| क्या शानदार तरक्की की है हमने| देश के किसान के हिस्से में हाइब्रिड बीज आ गया| बेचारा अपना देशी बीज जो हर साल पैदावार से बचा कर बो लेता था उसे भी खो चुका| अन्नदाता किसान “बेचारा” हो गया| हिन्दुस्तान में औद्यौगिक क्षेत्र में अनिश्चितता की स्थिति बानी हुई है| विदेशी सामान भारत के सामान से सस्ता होने के कारण बाजार से गायब हो रहा है| कारखाने बंद हो रहे है| हम बना बनाया सामान बाहर से मगा कर मात्र पैकिंग कर मेक इन इंडिया (मोबाइल और सोलर कम्पनिया) बनने में लग गए| क्या यही इक्कसवी सदी का भारत है? मेरे जवान होने पर यही तोहफा भारत के नेताओ ने मुझे दिया|

कुल मिलाकर दूर दूर तक झाँकने पर एक मात्र बाबा रामदेव ही इस इक्क्सवी सदी में क्रांतिदूत समझ में आते है| स्वदेशी अपनाओ के नारे को साकार करते करते वे स्वामी से योगा करते करते हुए उद्योगपति बन गए| एक पतंजलि ही इक्क्सवी सदी के बचपन में भरपूर जवानी की ओर चल पाया है| कोई सरकारी सहायता नहीं| खुद का हौसला और दूरदृष्टि| फिर सरकारी सहायता जो मिली वो बाबा की जरुरत नहीं प्रदेश की सरकारों की जरुरत थी| बाबा के व्यापार और उद्योग से टैक्स जो मिलना था| आज देश में जवानी की दहलीज पर खड़े युवा के सामने बहुत से रास्ते है| देश में एक बार फिर से औद्यौगिक क्रांति की जरुरत है| जिसे बिना किसी सरकारी सहायता से खड़ा करने का यत्न तलाशना होगा| सरकारों से उम्मीद लगाने में जैसे बचपन गुजरा है वैसे ही जवानी भी ढल जाएगी| देश में सिस्टम कहीं दिख नहीं रहा| कदम कदम बढ़ते हुए खुद के रास्ते के बनाने होंगे| स्वास्थ्य, शिक्षा जो सेवा थे अब चरम पर व्यवसाय है| और जो व्यवसाय होना था उसे पडोसी से पूरा कर लेने की फितरत हमारे कुछ नया सोचने के रास्ते बंद चुका है| जरुरत है उन्ही बंद रास्तो को फिर से खोलने की| भाषण देने से सब कुछ हो जाता तो भारत इक्कसवी सदी के शुरू होते ही जवान हो जाता क्योंकि तब जिन हाथो में भारत था उनसे अच्छा भाषण अभी मोदी नहीं दे पाते है| तो इक्क्सवी सदी के बालिग़ होने पर एक बार फिर से सभी को शुभकामनाये इस उम्मीद के साथ कि अब तुझ पर किसी की बंदिश नहीं है| 18 की हो गयी है तू अब फैसला लेने का हक तेरा है………

फ़्लैश बैक: काला धन खपाने के लिए एक डॉक्टर ने खरीदे थे 13 एसी, 5 एलईडी और ….

Comments Off on फ़्लैश बैक: काला धन खपाने के लिए एक डॉक्टर ने खरीदे थे 13 एसी, 5 एलईडी और ….

Posted on : 09-11-2017 | By : पंकज दीक्षित | In : EDITORIALS, FARRUKHABAD NEWS

फर्रुखाबाद: नोटबंदी का एक साल पूरा हुआ, कहीं जश्न मना तो किसी के जख्म हरे हुए| 8 नवम्बर 2016 वो दिन है जो इतिहास बन गया| रात 8 बजे उस दिन दफ्तर में सामान्य कार्य में लगा था कि 5 मिनट बाद ही जूनियर ने फोन पर बताया कि 500 का नोट बंद हो गया| किसी बात को एक बार में ही न मानने की आदत पत्रकार होने के कारण लग चुकी थी| आदतन पुष्टि के लिए दूसरे साधनो पर दिमाग लगाया और लैपटॉप पर एक साथ धड़ाधड़ 3 -4 न्यूज़ वेबसाइट खोल डाली| सब पर एक ही खबर… 500 और 1000 के नोट बंद बैंक बंद करने की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर दी|

सबसे पहले घर पर पत्नी के पास फोन लगाया (मैं जानता हूँ कि ज्यादातर ने यही किया होगा), पूछा 500 और 1000 के कितने नोट है तुम्हारे पास| जबाब जैसा सबको मिला, मुझे भी मिला| पता नहीं देखना पड़ेगा| ऐसा जबाब सबको मिला होगा मगर कारण अलग अलग हो सकते है| किसी के पास बेहिसाब हो सकता था और किसी के पास जो था वो प्रथम दृष्टया बताना नहीं चाहती थी| दो दिन बैंक बंद रहेगी उसके बाद नोट बदली शुरू होगी| अपने को नोट बदलने की चिंता से ज्यादा चिंता उन लोगो की होने लगी जिनके पास बोरो में नोट थे| बेहिसाब थे| मोदी जानते थे कि ऐसे लोग गिनती के होंगे जिनके पास बेहिसाब दौलत होगी मेरे जैसे बहुतायत में| वोट बैंक के हिसाब से देखे तो चिंता बहुतायत की होती है| मोदी का तीर निशाने पर लगा| नोट बंदी के बाद कई राज्यों में भाजपा चुनाव जीतती जा रही है| क्योंकि हम भारतीयों में वसुधैव कुटुम्बकम ठूस ठूस कर भरा है| अपने घर में बिजली जाने पर फ्यूज चेक करने की जगह घर से बाहर निकल कर पडोसी की बिजली चेक करने की आदत जो है| पडोसी की भी बिजली नहीं आ रही तो संतोष हो जाता है| नोट बंदी से मुझ पर क्या असर पड़ा इससे ज्यादा ख़ुशी इस बात में जनता को हो रही थी कि फलां की “लुटिया डूबी”| मध्यमवर्गीय से लेकर निम्नवर्गीय भारतीय को कोई खास फरक नहीं पड़ रहा था| हाँ अगले तीन महीने टीवी न्यूज़ चेंनल वालो की उड़ के लग गयी थी| नवम्बर का महीना, मीठी सर्दी में नास्ता पानी करके मूंगफली चवाते हुए घर से निकलो, किसी एटीएम पर खड़े हो जाओ, ध्यान से गैर भाजपाई तलाशो और सरकार और नोट बंदी के खिलाफ बयान रिकॉर्ड करो और चलाओ| क्या धूम थी| कई मौते भी एटीएम के पास हो गयी| खैर वो सब तो टीवी पर खूब देखा| और अगले कई सालो तक हमारे बच्चो के बच्चो को भी टीवी वाले लाइब्रेरीज़ से विडियो निकाल निकाल कर दिखाते रहेंगे| हमने तो नोट बंदी के बाद दिसम्बर के आखिरी दिनों में 1 नोट 500 का और 1 नोट 1000 का छोड़ अपने नोट भी जमा कराये| पत्नी के सारे 786 क्रमांक वाले नोट रिजर्व बैंक की टकसाल में चले गए| मुझे याद है बड़े बेमन से दिए थे|

जनवरी आते आते अब नोट बंदी अब डिजिटल कैशलेस में तब्दील होने की हुंकार भर रही थी| मगर सर पर उत्तर प्रदेश का चुनाव थे| मध्य फरवरी तक बाजार में प्रयाप्त नोट आ चुका था और डिजिटल कैशलेस के फेफड़े किसी सांस के रोगी की तरह फूलने लगे| व्यापारियों ने अपने स्वाइप मशीने बंद कर अन्दर रख दी| 1 मार्च २०१७ के बाद कार्ड से पेमेंट करने पर बैंक चार्ज वसूलने लगी और कैशलेस की दम निकल गयी| सरकार बिकी मशीनों और मोबाइल में इंस्टाल पेटीम की संख्या बताकर आंकड़ेबाजी करती रही|

खैर अब बताते है उस बात को इसके लिए आपने पूरा लेख पढ़ डाला| भारतीय होने और भारतीयता दिखाने वाली आदत के अनुसार भारतीयों वाली बात हो जाए| नोट बंदी पर पडोसी का घर झाँक लिया जाए| कई दोस्तों और सूत्रों से मिली जानकारी की पुष्ठी कर लेने के बाद बताने वाली बात ये है कि नोट बंदी के दौरान किस किस ने काला धन सफ़ेद किया इसकी जानकारी सबसे ज्यादा जिन लोगो को है उनमे बैंक कर्मी और वो व्यापारी है जिनके यहाँ मोटा सौदा होता है| मसलन कार, बाइक, टीवी एसी के शोरूम वाले, भवन निर्माण सामग्री विक्रेता सुनार आदि| काला धन सफ़ेद करने के लिए लोगो ने भवन निर्माण सामग्री बेचने वाले और हार्डवेयर स्टोर्स पर अग्रिम करोडो धन जमा कर दिया| जिसमे तम तो ऐसे है जिन्होंने एक साल बीतने के बाद भी सामान नहीं लिया है| दुकानदारो ने इसी अग्रिम धनराशी से अपने बैंक के सीसी खातो में रकम जमा कर दी| बैंक को व्याज मिलना कम हो गया| अभी भी बैंक इस व्यथा से बाहर नहीं निकले है| बड़ी लम्बी जानकारी है कभी फुर्सत में लिखूंगा| चलते चलते बता दू आवास विकास में एक डॉक्टर ने नोट बंदी के दौरान 13 स्प्लिट एसी, 5 1.5 मीटर के एलईडी टीवी खरीद डाले| जिनमे से 2 आइटम को छोड़ कर साल भर बाद भी डिब्बे में ही बंद तहखाने में पड़े है| सनद रहे इस बार की दीवाली नोट बंदी के बाद की दिवाली थी मगर कमजोर नहीं रही| बाजार से बहुत सा कीमती सामान जिसका पैसा अग्रिम 500 और 1000 के नोट की शक्ल में नोटबंदी के बाद दुकानदार के पास जमा किया था इस दिवाली पर घर गया था| दुकानदार ने भी दिल खोल कर बैक डेट में बिलिंग कर खूब काले धन को सफ़ेद करने में आखिरी कील ठोकी थी| फिर मिलेंगे…..

फ़्लैश बैक- संतोष यादव की मदद न करना भारी पड़ा है सांसद मुकेश राजपूत को

Comments Off on फ़्लैश बैक- संतोष यादव की मदद न करना भारी पड़ा है सांसद मुकेश राजपूत को

Posted on : 22-08-2017 | By : पंकज दीक्षित | In : EDITORIALS, FARRUKHABAD NEWS

फर्रुखाबाद: जरा फ़्लैश बैक में चलिए| तारीख 2 नवम्बर 2015 | जिला पंचायत सदस्य का चुनाव| स्थान राजेपुर मतगणना केंद्र| और राजेपुर चतुर्थ क्षेत्र का काउंटिंग हाल| यहाँ सीधा मुकाबला सांसद मुकेश राजपूत के समर्थक संतोष यादव और सुबोध यादव की पत्नी रश्मि यादव के बीच था| राजेपुर में जब कुछ मतपेटिया ही खुलनी बाकी रह गयी थी, लगभग आखिरी राउंड तक की गिनती तक संतोष यादव लम्बे अंतराल से बढ़त बनाये हुए थे फिर भी हारे घोषित किये गए और अपनी आवाज भी बुलंद नहीं कर पाए| तमाम प्रयासों के बाबजूद सांसद मदद को नहीं आये| और सुबोध यादव की पत्नी रश्मि यादव विजयी घोषित हुई और सुबोध यादव को फर्रुखाबाद की राजनीति मे पहला कदम रखने का मौका मिल गया| स्वयं तो वे कायमगंज क्षेत्र से हार ही गए थे| जिला पंचायत अध्यक्षी के दूसरे दौर में सांसद समर्थक प्रत्याशी की हार सांकेतिक रूप से सांसद की ही हार है जिसका बीज 2 नवम्बर 2015 में बोया गया था| आज पौधा बनकर लहराने लगा है| कल किसने देखा, वृक्ष बन कर अपने नीचे की हरियाली को भी सुखा दे|

जरा अतीत में लौटते है| उस समय जब जिला पंचायत सदस्य के चुनाव कई मतगणना चल रही थी| देर रात तक जिला मुख्यालय के एक दर्जन पत्रकार राजेपुर में ही डेरा डाले हुए थे| सांसद ने जिस सदस्य को चुनाव लड़ाया था वो पुकार रहा था| उसे जीत का प्रमाण पत्र न मिलने का अन्देशा हो चला था| तत्कालीन सरकार के अफसर सपा नेताओ की मदद आँख मीच कर रहे थे| लखनऊ से राजनेताओ और सचिवों के फोन जिले अधिकारियो को बार बार निर्देशित कर रहे थे| राजेपुर चतुर्थ क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे संतोष यादव मतगणना के आखिरी दौर तक आगे थे और अचानक मतगणना रुकी और फिर कई घंटे के बाद परिणाम आया कि संतोष यादव चुनाव हार गए| मीडिया और पुलिस कप्तान जो निरंतर मतगणना पर निगाह लगाये थे, वे भी बाजीगरी के आगे हार चुके थे| भाजपा समर्थित प्रत्याशी जिसे मुकेश राजपूत ने ही खड़ा किया था वो संतोष यादव तब विरोध की आवाज बुलंद न कर सका| उसकी मदद के लिये सांसद मुकेश राजपूत को भी कई फोन किये गए मगर वो भी मदद के लिये राजेपुर नहीं पहुचे| और फर्रुखाबाद में वो राजनैतिक बीज अंकुरित हो गया जो आज पौधा बन गया और उसी की मामूली हवा में ही मुकेश की चौसर के सारे पत्ते हवा में बिखर गए| न विधायक काम आये और न समर्थक| राजनीति मे गिरती विश्वसनीयता और धनबल का बढ़ता प्रभाव इसी का नाम है|

जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठने वाला निरक्षर है| उसकी कमान निश्चित रूप से वही चलाएगा जिसने उन्हें जीतने के लिये आवश्यक व्यवस्था की है| ऐसा पहली बार नहीं हुआ है| मुकेश राजपूत को इसका बेहतर तजुर्बा है| अपनी पत्नी की अध्यक्षता वही चलाते रहे| इसलिए उन्हें टोकने का नैतिक अधिकार ही नहीं है| फिर दो साल के कार्यकाल के लिये बची जिला पंचायत की कुर्सी मुकेश राजपूत के लिये केवल आर्थिक सौदा था वहीँ सुबोध के लिये राजनैतिक स्थापत्य का पहला खम्भा| कौन नहीं जनता कि जिला पंचायत में पैसा कमाने के लिये ही पैसा लगाते रहे है राजनैतिक लोग| खेल धनबल का था| एक का पहले से ही फसा हुआ था दूसरे को लगाना था| नए खरीददार के लिये ज्यादा पैसा देकर सदस्य खरीदना घाटे का सौदा था लिहाजा सदस्य कम रह गए| इतिहास फिर दोहरा रहा है| सबक लेने की जरुरत है| एक पत्रकार गुरु की सलाह थी कभी कि घर की किसी दीवार पर पंछियों के परांगन के द्वारा पीपल का पौधा अगर उग आये तो उसे वृक्ष बनने से पहले ही उखाड़ देना चाहिए| वर्ना किसी दिन बड़ा होकर वो दीवार ही उखाड़ देगा| देश में मोदी की राजनीति से ये बेहतर समझा जा सकता है| विपक्ष शून्य की ओर भाजपा निरंतर प्रयास करती दिखाई पड़ रही है| मोदी और शाह की जोड़ी कांग्रेस मुक्त भारत की ओर चल पड़ी है| नया उदहारण तमिलनाडु का है| अब शीर्ष से भी भाजपाई सबक न ले सके तो फिर भगवान् ही मालिक………
इसे भी पढ़िए- राजेपुर में जनता के चुने हुए प्रतिनिधि की सदस्यता की फिर चढ़ी बलि

उस स्याह रात का मंजर जब हत्यारो ने मौत के घाट उतार दिया ब्रह्मदत्त द्विवेदी को

Comments Off on उस स्याह रात का मंजर जब हत्यारो ने मौत के घाट उतार दिया ब्रह्मदत्त द्विवेदी को

Posted on : 26-05-2017 | By : JNI-Desk | In : CRIME, EDITORIALS, FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics-BJP

फर्रुखाबाद: प्रदेश में राष्ट्रपति शासन था| रोमेश भंडारी राज्यपाल थे| बसपा और भाजपा में 6-6 महीने मुख्यमंत्री बनाकर सरकार बनाने के फार्मूले पर लखनऊ में बैठको का दौर चल रहा था| फार्मूले की अगुआई स्व ब्रह्मदत्त द्विवेदी कर रहे थे| वही समझौते का फार्मूला लेकर मायावती के पास आ-जा रहे थे| बताते है कि मायावती सिर्फ एक शर्त पर इस फार्मूले पर राजी थी कि भाजपा की पारी में सिर्फ ब्रह्मदत्त द्विवेदी मुख्यमंत्री बने| कल्याण सिंह के नाम पर मायावती नाक भौ सिकोड़ रही थी| इसी बीच प्रदेश के कद्दावर भाजपा नेता की हत्या कर दी गयी| पक्ष हो या विपक्ष जनता भी मानती है कि अगर ब्रह्मदत्त द्विवेदी आज जिन्दा होते तो फर्रुखाबाद की विकास के रास्ते पर चलते हुए तस्वीर ही बदल जाती| मगर समय और नियति के आगे किसी की नहीं चलती| 17 साल बीत जाने के बाद भी याद करने पर उस काली रात का मंजर दिलो में सिहरन पैदा कर देता है|

लोहाई रोड के जिस मकान के बाहर ब्रह्मदत्त द्विवेदी की हत्या हुई थी वहाँ हर साल 10 फरवरी को उनकी याद में पुष्पांजलि और मशाल जलती है| अपने दोस्त रामजी अग्रवाल के भतीजे के तिलक में शामिल होने के लिए द्विवेदी पहुचे थे| एक गनर ब्रजकिशोर मिश्र और ड्राइवर के साथ| लगभग 11.30 से 12 बजे के बीच का समय था| सर्दी की रात में कार्यक्रम समापन की और हो चला था| द्विवेदी जी वापस घर जाने के लिए निकले ऊँचे मकान की सीड़ियो से उतरने के बाद अपनी कार तक पहुचे| खिड़की खोल कर बैठ गए| कार के शीशे खुले हुए थे| रामजी अग्रवाल उनका भतीजा और परिवार के अन्य सदस्य अपने मकान के गेट तक उन्हें छोड़ने के लिए आये थे और उनकी गाड़ी के रवाना होने का इन्तजार कर रहे थे| गनर गाड़ी के बाहर खड़ा था| तभी उनकी कार के चारो और से घेर कर फायरिंग होने लगी| लाबड़तोड़ गोलियां चली| ब्रह्मदत्त द्विवेदी और गनर बृजकिशोर सहित ड्राईवर और रामजी अग्रवाल के भतीजे के भी गोली लगी| बताते है कि दरवाजे पर खड़े लोग अपनी जान बचाने को घर में छुप गए| सड़क पर सन्नाटा हो गया| ऊपरी मंजिल की बालकनी या छत पर खड़े मनोज अग्रवाल ने अपनी पिस्तौल निकाल गोली चलाई| ऊंचाई और दूरी के कारण शायद पिस्तौल स्वचालित हथियारो के आगे नाकाम साबित हो रही थी| मगर फिर भी हिम्मत की गयी| मगर सब बेकार गया| दुर्दांत हत्यारे अपने मकसद में कामयाब हो गए| लगभग 20 से 25 मिनट तक पूरे लोहाई रोड सन्नाटा|

घटना के कुछ समय बीत जाने के बाद आखिर फिर हिम्मत जुटाकर वापस लोग जुटे और रामजी अग्रवाल के भतीजे की टाटा सूमो में द्विवेदी जी को लिटाकर पहले डॉ जितेन्द्र कटियार के नर्सिंग होम जो चंद कदमो कि दूरी पर था वहाँ लाया गया| मगर डॉ जितेन्द्र कटियार का दरवाजा नहीं खुला तो आनन् फानन में बढ़पुर स्थित डॉ एन सी जैन के नर्सिंग होम में लाया गया| जहाँ उन्हें डॉ जैन ने मृत घोषित कर दिया| एक विकास का दिया बुझ चुका था| प्रभुदत्त, सुधांशु, डॉ हरिदत्त कोई कुछ भी बोलने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था| यकीन नहीं कर पा रहा था कि उनका कोई करीबी इस तरह दुनिया से विदा हो जायेगा| गनेश दुबे, सदानंद शुक्ल, स्व बागीश अग्निहोत्री, राम चन्द्र कुशवाहा, मोती लाल गुप्ता, अजय पाराशर, अयोध्या प्रकाश सिंह जैसे तमाम चेहरे जैन अस्पताल के बाहर मौजूद थे| मोबाइल का जमाना नहीं था| बेसिक फोन से जहाँ तक सूचना पहुचती दो चार को लोग बताते और अस्पताल की ओर दौड़ पड़ते| मंजुल दुनिया से विदा हो चुका था| खामोश चेहरा, बंद आँखे और शांत शरीर जीवन के अंतिम पड़ाव की तस्वीर साफ़ थी मगर यकीन फिर भी नहीं हो रहा था| लोग शव देखने के बाद भी इशारो इशारो में एक दूसरे से पूछ कर पुष्टि कर लेना चाहते थे कि क्या उनका नेता क्या बाकई चला गया!

प्रशासन से लेकर पुलिस तक खामोश थी| जिलाधिकारी अरविन्द कुमार, पुलिस अधीक्षक अखिलेश मल्होत्रा, अपर पुलिस अधीक्षक एस एन सिंह, कोतवाल ओपी शर्मा सब डॉ जैन के अस्पताल पहुचे| पुलिस अधीक्षक ने डीजीपी और डीआईजी को सूचना दी| जिलाधिकारी ने फोन पर कमिश्नर कानपुर को द्विवेदी जी की हत्या की सूचना दी| लोग पीसीओ खोजने में लगे थे| सूचना देने के लिए बेसिक फोन तलाश किये जा रहे थे| खबरनवीसों में अखबारो के पत्रकार सक्रिय हो चुके थे| तब टीवी का जमाना नहीं था| रेडियो पर समाचार प्रमोद कुदेसिया ने प्रसारित करवाया| सत्यमोहन पाण्डेय अपने कार्यालय में समाचार भेजने में लगे थे| मगर शहर ख़ामोशी से सो रहा था|
घटना स्थल पर स्वर्गीय द्विवेदी की कार खड़ी थी| पुलिस जांच पड़ताल में लगी थी| रात सुबह की और बढ़ रही थी और भाजपा कार्यकर्ता जैन अस्पताल पहुँच रहे थे| द्विवेदी परिवार के सभी सदस्य यहाँ मौजूद थे| ब्रह्मदत्त द्विवेदी की पत्नी स्व प्रभा द्विवेदी और उनके पुत्र मेजर सुनील द्विवेदी सुबह 4/5 बजे के आसपास लखनऊ से फर्रुखाबाद पहुच चुके थे| दोनों लोग उस दिन लखनऊ में ही थे| हर चेहरा उदास और शांत| कोई कुछ बोलने की स्थिति में नहीं था| यह पहली बार देखा था जब हर कार्यकर्त्ता दिल से दुखी दिखा|

साक्षी महाराज उस दिन अनन्त होटल में थे| साक्षी महाराज ने राम नगरिया के बड़े क्षेत्र में अपना पंडाल लगाकर उसी दिन भागवत कथा शुरू की थी जिस रात यह घटना हुई| साक्षी जी भी जैन अस्पताल पहुंचे थे| हर शख्स की पूरी रात जागते ही कट गयी और शव पोस्टमार्टम के लिए फतेहगढ़ ले जाया गया| अब रिटायर हो चुके कन्हैया ने ही पोस्ट मार्टम किया था| पोस्टमार्टम हाउस का वह मंजर पहली बार दिखा था| जहाँ धर्म, जाति और दलीय सीमाएं टूट गई थीं| ऐसी भीड़ पहली बार देखी गयी थी| पूरे पोस्टमार्टम के दौरान भीड़ बढ़ती रही| जो आ जाता वो रुक जाता था| साक्षी, उर्मिला भी पहुंचे थे| पोस्टमार्टम के बाद शव को पहले ब्रह्मदत्त द्विवेदी के घर पर लाया गया| उसके बाद दिन में लोगों के अंतिम दर्शनार्थ भारतीय पाठशाला ले जाया गया| ऍफ़आईआर हो चुकी थी| एक नामजद और 3-4 अज्ञात में मुकदमा कोतवाली में लिखा जा चुका था| सुबह दोपहर की और बढ़ रही थी| पूरी भारतीय जनता पार्टी फर्रुखाबाद में पहुच रही थी| पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपयी, लालकृष्ण अडवाणी, विनय कटियार, प्रेमलता कटियार, लालजी टंडन, कलराज मिश्र से लेकर हर नामी भाजपाई चेहरा फर्रुखाबाद पहुच रहा था| मगर मायावती और कल्याण सिंह नयी आये| आम जनता में सुबह जब लोग घर से निकलते तो खबर मिलती और जिसे जैसा साधन मिलता वो सेनापत स्ट्रीट पहुच रहा था| नेहरू रोड उस जमाने में जाम की स्थिति में पहुच चुका था|

[bannergarden id="12"]