एसपी ने लोगों को दी हेलमेट व सीटबेल्ट लगानें की सलाह

0

Posted on : 01-07-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS

फर्रुखाबाद:(मोहम्मदाबाद) मेरे भाई हेलमेट लगाया करो, जान प्यारी नहीं है क्या, यह अल्फाज पुलिस अधीक्षक डॉ० अनिल कुमार मिश्रा के है| सोमवार शाम एसपी ने बगैर हेलमेट के चल रहे बाइक सवारों को समझाते हुए यह विचार व्यक्त किए। पुलिस अधीक्षक मित्र की भूमिका में सड़क पर उतरे थे। उन्होंने पुलिस के जवानों के साथ बाजार की सभी सड़कों पर रुट मार्च किया। इस दौरान उन्होंने लोगों से क्षेत्र की कानून व्यवस्था के बारे में बातचीत भी की।
कोतवाली से शुरु फ्लैग मार्च का नेतृत्व कर रहे एसपी सड़क की पटरी पर दुकान लगा कर अतिक्रमण करने वाले दुकानदारों, ठेले खोमचे वालों को एक मित्र की तरह समझा कर भविष्य में ऐसा न करने की हिदायत दी।
एसपी ने कहा कि इस अतिक्रमण से हर किसी को परेशानी होती है। ऐसे में आप सभी अपने सीमा के अंदर रहे। चेतावनी के बाद दुकान लगाने पर कठोर कार्रवाई की चेतावनी भी दी। फ्लैग मार्च करते हुए अतिक्रमण करने वाले दुकानदारों को समझाया। इस मौके पर प्रभारी निरीक्षक राकेश कुमार आदि रहे|
दरोगा की लगायी क्लास
फ्लेग मार्च के दौरान दरोगा जेपी चौहान ने एक बाइक को एसपी के निर्देश पर बाद भी छोड़ दिया| जिसके बाद एसपी का पारा चढ़ गया| जिस पर उन्होंने दरोगा की क्लास लगा दी|
एसपी ने बताया की सीएम योगी के निर्देश पर जिले भर में पुलिस सड़क पर चल फ्लेग मार्च कर रही है| जिससे अपराधियों पर शिंकजा कसा जा रहा है| 

21 लेखपालो के तबादले, जनता का दर्द दरकिनार, सत्ता संतुलन का प्रयास

0

Posted on : 01-07-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS

फर्रुखाबाद: जिलाधिकारी के अनुमोदन पर 21 लेखपालों की तहसीलें बदल दी गईं। इसमें कई लेखपाल ऐसे हैँ जो कि लंबे समय से एक ही तहसील में जमे हुए थे। स्थानांतरित लेखपालों में चार भूलेख कार्यालय से संबद्ध किए गए है तो दो की भूलेख कार्यालय से संबद्धता खत्म कर दी गई है। वहीँ नगर और विधायको की सिफारिश में तैनात लेखपालो को कोई हिला न पाया जबकि सबसे ज्यादा जनता की शिकायते इन्ही की थी| जिला प्रशासन ने जनता के दर्द को दरकिनार कर सत्ता से संतुलन बनाने का प्रयास किया है ऐसा प्रतीत होता है|

फर्रुखाबाद सदर तहसील में तैनात लेखपाल विजय कृष्ण पाठक को कायमगंज, संजीव दुबे को अमृतपुर, रनबीर सिंह को अमृतपुर, जाहर सिंह को कायमगंज तहसील भेजा गया है। सदर तहसील के ही संजीव कुमार मिश्रा की सहायक भूलेख अधिकारी कार्यालय से संबद्धता समाप्त कर कायमगंज तहसील को स्थानांतरित किया गया। सदर के ही कन्हैयालाल की भी भूलेख अधिकारी कार्यालय से संबद्धता समाप्त कर दी गई है उन्हें अमृतपुर स्थानांतरित कर दिया गया है।  फर्रुखाबाद से रामबाबू को अमृतपुर, कायमगंज से सुरेश चंद्र को फर्रुखाबाद, रविकांत को सहायक भूलेख अधिकारी कार्यालय, कायमगंज से अजय कुमार शुक्ला को सदर तहसील, जगन्नाथ प्रसाद को सहायक भूलेख अधिकारी कार्यालय, आविंद खां को अमृतपुर, सत्य सिंह को सहायक भूलेख अधिकारी कार्यालय, शरद कुमार यादव को अमृतपुर, सोनी मिश्रा को सहायक भूलेख अधिकारी कार्यालय से संबद्ध किया गया है। अमृतपुर तहसील से ज्ञानेंद्र कुमार सिंह, संजीव कुमार सिंह, राजीव कुमार पांडेय को कायमगंज में नवीन तैनाती दी गई है। इसी तरह से अमृतपुर से प्रमोद कुमार अवस्थी को फर्रुखाबाद, राजेश कुमार को कायमगंज, प्रवीन कुमार दुबे को फर्रुखाबाद में नई तैनाती दी गई है। डीएम ने सभी एसडीएम को लेखपालों को तुरंत कार्यमुक्त करने के आदेश दिए हैं।

दलित से मारपीट कर पुत्री के साथ अश्लीलता करने में जेई सहित पांच पर शिकंजा

0

Posted on : 01-07-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, सामाजिक

फर्रुखाबाद: दलित ग्रामीण के साथ मारपीट करने और उसकी पुत्री के साथ अश्लीलता करने के मामले में कोर्ट ने संज्ञान लिया है| कोर्ट ने इस मामले में आख्या पुलिस से तलब की है| जिससे जेई व उसके साथियों के साथ शिकंजा कस सकता है| अधिवक्ता दीपक द्विवेदी ने पैरवी की|
थाना कमालगंज क्षेत्र के ग्राम कुअरपुर निवासी दलित ने कोर्ट में परिवाद दायर किया| जिसमे उसने आरोप लगाया की उसने एक विधुत कनेक्शन सितम्बर 2018 में कराया और उसकी रसीद भी कटायी| जनवरी में जेई ने कहा की विधुत लाइन खीच देंगे लेकिन उसने यह नही किया| बीते 24 जून 2019 को दोपहर लगभग एक बजे सूचना मिली की जेई अजय सिंह यादव तत्कालीन तैनाती राजेपुर, निवासी नेकपुर चौरासी कड़हर के निकट है| जिस पर पीड़ित उससे मिलने पंहुचा|
पीड़ित का आरोप है कि जेई कार से आते दिखे जब कार रोंकी तो पता चला की उसमे जेई के साथ ही साथ टीजी द्वितीय दिनेश कुमार तत्कालीन तैनाती राजेपुर व तीन अज्ञात लोग बैठे थे| उन्होंने मारपीट कर दी|
आरोपियों ने पीड़ित की पुत्री के साथ छेड़छाड़ की| पुत्री के साथ बलात्कार करने की धमकी दी| कोर्ट ने थाने से घटना के सम्बन्ध में आख्या 2 अगस्त को तलब की है|

लखनऊ इमामबाड़े में स्कर्ट पर रोक से पर्यटक भड़के, कई महिला पर्यटकों को प्रवेश न मिलने के कारण निराश लौटना पड़ा

0

Posted on : 01-07-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS

लखनऊ: गोमतीनगर से बड़े इमामबाड़े का दीदार करने पहली बार पहुंची पांच साल की अराइना को पहनावे के कारण रोक दिया जाएगा। अराइना जैसी दर्जनों बच्चियों समेत महिलाओं को उनके परिधानों के कारण इमामबाड़े में प्रवेश नहीं मिला। हुसैनाबाद ट्रस्ट की बैठक में डीएम की ओर से निर्देश दिए गए कि इमामबाड़े में शालीन कपड़े पहनकर कर ही प्रवेश मिल सकेगा। शॉर्ट्स या स्कर्ट पहन कर महिलाओं को इमामबाड़े या छोटे इमामबाड़े में प्रवेश नहीं मिलेगा जिसके बाद छुट्टी के दिन पहुंची महिला पर्यटकों को प्रवेश न मिलने से उनमें हताशा दिखी।

पर्यटकों के गुस्से का कर्मचारी भी शिकार
निर्देशों के जारी होने के बाद इमामबाड़े में सैर सपाटा करने पहुंचे पर्यटकों ने परिसर में आदेश बोर्ड न पाने पर कर्मचारियों पर भड़क उठे। इममाबाड़े के कर्मचारी शादाब हैदर ने बताया कि प्रशासन की ओर से निर्देश तो दिए गए पर अभी तक नोटिस बोर्ड पूरे परिसर में नहीं लगाए गए जिसके कारण कर्मचारियों को  पर्यटकों के गुस्से का शिकार होना पड़ा।

पहले भी हो चुका है विवाद
हुसौनाबाद ट्रस्ट ने तीन वर्ष पहले इमामबाड़े में प्रवेश को लेकर दिशा निर्देश जारी किए थे। उस समय प्रशासन से अनुमति नहीं ली गयी थी। इसका काफी विरोध हुआ था। महिलाओं के सिर पर दुपट्टा, परिसर के बाहर चप्पल जूते उतरवाना, कैमरों को जमा करवाना जैसे मुद्दों पर काफी विवाद हो चुका है।
बातचीत

मासूम बच्चियों समेत महिलाओं ने उठाए सवाल
दस साल की अलाया ने बताया कि मैं यहां पहली बार आई हूं। पर मुझे अंदर जाने नहीं दिया गया गाइड अंकल ने बोला कि बेटा आपके शॉट्र्स पहने हो नहीं जा सकते। मैं अब कभी नहीं आउंगी। बच्चों के शॉटर्स पहनने पर क्या अल्लाह नाराज़ हो जाएंगे? घर में पहनती नामाज़ भी अदा करती जो अल्लाह पाक कबूल करते हैं।

ये हुक्मरानों के ही बनाए बेतुके नियम हैं
आलमबाग की अंकाक्षा यादव का कहना है कि परिधानों से आस्था को जोड़ना अच्छा नहीं है। यह धार्मिक स्थल के साथ-साथ पर्यटक स्थल भी है। ऐसे में केवल महिलाओं पर रोक यह उचित नहीं है। ईश्वर नहीं कहता ये हुक्मरानों के बनाए बेतुके नियम हैं।

महिला पर्यटकों को परेशानी
मुम्बई से आई प्रियंका शर्मा ने बताया कि धार्मिक तर्क अच्छा है। सभी लोग इसका पालन करेंगे लेकिन मुझे लगता है कि महिला पर्यटकों को इस नियम के कारण परेशानी उठानी पड़ रही है। पर्यटक स्थल पर इस नियम को लागू नहीं करना चाहिए केवल इमामबाड़े के उस एरिया को चिन्हित कर वहां पर इसको लागू करना चाहिए।

ऐसे तो युवतियां नहीं आएंगी
यहियागंज की शमायला ने बताया कि बच्चों के परिधानों पर रोक-टोक बुरी बात है। ऐसे नियमों के चलते युवतियां और महिलाएं पर्यटन स्थल पर नहीं आएंगी।

विदेशी सैलानियों की बढ़ेंगी मुश्किलें
नेपाल से आई अस्मिता ने बताया कि विदेशी सैलानियों के लिए ऐसे नियमों से मुश्किलें बढ़ जाएंगी। क्योंकि इमामबाड़ा सैलानियों की पहली पसंद है। परिधान के अनुसार महिलाओं को प्रवेश मिलने से दु:खी हूं।

यह प्रशासन की जबरदस्ती है 
जानकीपुरम की ममता मौर्या ने कहा कि प्रशासन की ओर से जारी किए गए निर्देश समाज में महिलाओं को पीछे धकेल रहे। सिर्फ महिलाओं के लिए क्यों? लड़के भी तो  शॉर्ट्स पहन कर आते हैं। उन पर पाबंदी क्यों नहीं लगाते?

प्रशासन की नीति पर सवाल उठाए  
पर्यटकों का कहना था कि धार्मिक स्थल के सभी दिशा-निर्देशों को पालन करेंगे। पर पर्यटकों ने प्रशासन की दोहरी नीति पर सवाल उठाते कहा कि यहां परिसर में सजने वाली खाने-पीने की दुकानें, टिकट काउंटर, गाइड की सुविधा यह सब व्यवसाय के घेरे में आते हैं। ऐसे में वहां ऐसे निर्देशों को देने पर प्रशासन को दोबारा विचार करना चाहिए।

CM योगी का निरीक्षण , पत्रकारों को अस्पताल की इमरजेंसी में किया बंद

0

Posted on : 01-07-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS

मुरादाबाद: जिला अस्पताल में मुख्यमंत्री के निरीक्षण के दौरान रविवार को डीएम की मौजूदगी में 20 से अधिक पत्रकारों और छायाकारों को अस्पताल के आपातकालीन चिकित्सा कक्ष में बंद कर दिया गया। कवरेज से रोके जाने से नाराज पत्रकारों ने हंगामा कर दिया। इसके बाद भी करीब 15 मिनट तक उन्हें कमरे से बाहर नहीं निकलने दिया गया। मुख्यमंत्री के जाने के बाद दरवाजा खुलने पर पत्रकार बाहर निकल सके। इसे लेकर आक्रोशित मीडियाकर्मियों की पुलिस से नोकझोंक भी हुई।

सुबह करीब साढ़े ग्यारह बजे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का काफिला जिला अस्पताल पहुंचा। मुख्यमंत्री की कवरेज के लिए मौजूद मीडिया कर्मी आपातकालीन चिकित्सा कक्ष में पहुंच गए। उन्हें उम्मीद थी कि सीएम पहले आपातकालीन चिकित्सा कक्ष में आएंगे, लेकिन सीएम सीधे इमरजेंसी वार्ड में चले गए। मीडियाकर्मी आपातकालीन चिकित्सा कक्ष से बाहर निकलकर वार्ड में जाते जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह के निर्देश पर कक्ष का दरवाजा बाहर से बंद कर दिया गया।

मीडियाकर्मियों ने मुख्यमंत्री की कवरेज से रोके जाने पर हंगामा शुरू कर दिया। इस तरह अचानक रोके जाने से नाराज पत्रकारों ने शोर मचाना शुरू कर दिया। इसके बाद भी कमरा नहीं खोला गया उल्टा वहां मौजूद एसएसपी के पीआरओ नवल मारवाह को निर्देश दिया गया कि निरीक्षण खत्म होने तक वे पत्रकारों को बाहर न निकलने दें।

मुख्यमंत्री वार्ड में जाकर मरीजों का हाल-चाल जानने लगे। हंगामा बढ़ने पर डीएम पुनः आए और दरवाजे को हल्का सा खोलकर पत्रकारों को समझाने की कोशिश की और पुनः दरवाजा बंद करवाकर चले गए। डीएम के जाने के बाद मीडियाकर्मियों ने हंगामा तेज कर दिया। इस दौरान मुख्यमंत्री आपातकालीन चिकित्सा वार्ड का निरीक्षण पूरा करने के बाद महिला अस्पताल की ओर मुड़ गए। पत्रकारों के काफी शोर-शराबे के बाद भी सीएम के निरीक्षण के बाद करीब 15 मिनट बाद कमरे का दरवाजा खोला गया। मीडियाकर्मियों ने डीएम और एसपी सिटी से विरोध जताया। इससे अस्पताल में अफरातफरी मची रही।

सीएम के निरीक्षण के दौरान काफी संख्या में मीडिया के लोग अस्पताल पहुंच गए। उनसे आग्रह किया गया कि मुख्यमंत्री के साथ इतनी संख्या में लोगों का  वार्ड में आना मरीजों की सेहत के लिहाज से ठीक नहीं है। कुछ मीडिया वाले एक कमरे  में थे जबकि कुछ वार्ड में। सीएम का दौरा होते ही सभी लोग बाहर आ गए थे। कमरे में ताला बंद करने जैसी बात गलत है।
राकेश कुमार सिंह, जिलाधिकारी

प्रियंका ने किया ट्वीट
पत्रकारों को बंधक बनाने का मामला शाम होते-होते वायरल हो गया। इस पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी ट्वीट कर दिया।  प्रियंका ने लिखा कि पत्रकार बंधक बनाए जा रहे हैं, सवालों पर पर्दा डाला जा रहा है। समस्याओं को दरकिनार किया जा रहा है। प्रचंड बहुमत पाने वाली उत्तर प्रदेश भाजपा सरकार जनता के सवालों से मुंह बिचका रही हैं। नेताजी ये पब्लिक है ये सब जानती हैं। सवाल पूछेगी भी और जवाब लेगी भी।

UP Board 2020: तय हुई हाईस्कूल और इंटर परीक्षा की तारीख

0

Posted on : 01-07-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS

यूपी बोर्ड परीक्षाएं 2020 की परीक्षाएं 18 फरवरी से होंगी। इंटरमीडिएट की परीक्षाएं 6 मार्च और हाईस्कूल की परीक्षाएं 3 मार्च तक चलेंगी। यह घोषणा माध्यमिक शिक्षा मंत्री डा. दिनेश शर्मा ने की है। वहीं इसका रिजल्ट 20 से 25 अप्रैल के बीच आएगा। इस बार 55 लाख परीक्षार्थी परीक्षा देंगे।

डा. दिनेश शर्मा ने बताया कि वह 9 जुलाई को स्वयं लखनऊ विश्वविद्यालय में क्लास लेंगे।  डा. दिनेश शर्मा ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि हाईस्कूल की परीक्षाएं 12 और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं 15 दिन तक चलेंगी। 15 से 25 मार्च तक सिर्फ दस दिनों में कॉपियों का मूल्यांकन होगा।

पहली बार ऐसा हुआ है कि एक जुलाई को स्कूल शुरू होने के साथ ही परीक्षाओं का कार्यक्रम जारी कर दिया गया है। नकल रोकने के लिए इस बार ‘बी’ कॉपी पर भी क्रमांक डाला जाएगा। सभी आंसर शीट पर लाइन का रंग अलग-अलग होगा।

उन्होंने कहा कि पाठ्यक्रम को पूरा कराने के लिए मासिक विभाजन किया गया है। एक जुलाई से स्कूलों में पढ़ाई शुरू हो गई है। पिछली बार 7 फरवरी से परीक्षाएं हुई थी। 50 लाख से अधिक परीक्षार्थी थे। 14 दिन में हाइस्कूल और 12वीं की 16 दिन पूरी हुई थी।

वहीं नकल पर सख्ती के चलते 335 नकलची पकड़े गए।  उन्होंने बताया कि माध्यमिक शिक्षा में 10 हजार शिक्षक भर्ती और उच्च शिक्षा में 13000 भर्तियां हो रही हैं। विश्वविद्यालय व महाविद्यालय में मुख्य परीक्षाएं 5 मार्च से 30 अप्रैल तक होंगी। 5 जून तक रिजल्ट जारी करना होगा।

मंडप में लुढ़क गया दूल्हा, दुल्हन बोली-ये तो शराबी है, नहीं करूंगी शादी

0

Posted on : 01-07-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, POLICE, जिला प्रशासन, सामाजिक

वैशाली:गाजे-बाजे के साथ बारात आई और दरवाजा लगने की रस्म के बाद जब जयमाला के लिए स्टेज पर दूल्हे को बैठाया गया तो वह लुढ़क गया। लड़की पक्ष के लोगों ने समझा कि दूल्हे को गर्मी से चक्कर आ गया होगा,लेकिन दुल्हन ये देखकर परेशान थी। जयमाला की रस्म के बाद जब दूल्हे को शादी के लिए मंडप पर बैठाया गया तो वह वहां भी लुढ़क गया।इसके बाद लड़की पक्ष के लोगों को विश्वास हो गया कि दूल्हा नशे में है।
दूल्हे को नशे में देख दुल्हन मंडप पर ही जोर से चीखी और सबके सामने  शादी से इनकार कर दिया। दूल्हे को नशे की हालत में देख और लड़की द्वारा शादी से इनकार करने के बाद लड़की पक्ष के लोग भड़क गए और लोगों ने लड़का, उसके चाचा, बहनोई और बूढे नाना को बंधक बना लिया।इधर दूल्हे सहित कुछ लोगों को बंधक बनाए जाने की जानकारी मिलते ही दूल्हे के पिता सहित बरात में गए कई गाड़ी वाले एवं अन्य बराती किसी तरह वहां से भाग निकले। मामला वैशाली जिले के जंदाहा थाना के वहसी गांव का है। मिली जानकारी के अनुसार, बीते शुक्रवार की रात महुआ थाना क्षेत्र की सिंघाड़ा दक्षिणी पंचायत के निवासी मुकेश झा के पुत्र की बरात जंदाहा थाना के वहसी गांव में  मनोज मिश्र के यहां गई थी। मनोज मिश्र की भतीजी की शादी थी। दरवाजे पर पहुंची बरात का लड़की पक्ष के लोगों ने जमकर स्वागत किया।
बताया जाता है कि लड़की के पिता इस दुनिया में नहीं हैं। लड़की के चाचा ने ही शादी की सारी तैयारी की थी। उनका कहना था कि वे ऐसे लड़के से अपनी भतीजी की शादी नहीं करेंगे जो नशा करता हो। लड़की के भविष्य का सवाल है। लड़की पक्ष के लोगों द्वारा दूल्हे सहित बारातियों को बंधक बनाए जाने की जानकारी मिलने पर बीते शनिवार को वहसी गांव में कई प्रबुद्ध लोग पहुंचे। लड़के के पिता को भी बुलाया गया। शादी में लड़की पक्ष के लोगों ने जो उपहार आदि दिए थे, उन्हें लौटाने के लिए लड़का पक्ष पर दबाव दिया गया। सारा सामान लौटाने के बाद लड़का सहित अन्य को लगभग 15 घंटे के बाद मुक्त किया गया।
इस संबंध में वहसी के पूर्व मुखिया व वर्तमान मुखिया के पति अरविंद राय ने बताया कि लड़का नशे में था। इसलिए लड़की पक्ष के लोगों ने शादी से इनकार कर दिया। यह भी बताया कि लड़के के नाना को बंधक नहीं बनाया गया था। लड़का, उसके चाचा और बहनोई को रोक कर रखा गया था, ताकि लड़की वालों ने जो उपहार आदि दिए थे, उसे लड़का पक्ष लौटा दे।

भारतीय सेना में शामिल हुए 273 जवान

0

Posted on : 01-07-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद: सिखलाई इन्फेंट्री रेजीमेंटल सेन्टर के परेड ग्राउंड में शपथग्रहण समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें सिखलाई के कुल 273 जबानों ने तिरंगे की कसम खाकर देश सेवा में प्राणों तक का मोह न करने के व्रत के साथ ही भारतीय सेना में शामिल कर लिये गये।
कर्नल एके मोहना नें सैन्य वेश भूषा से सुसज्जित 273 जवानों की परेड की सलामी ली व निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि सैन्य जीवन बलिदान और देशभक्ति का प्रतीक है। आर्मी की वर्दी व उसके जज्बे को देखकर युवाओं व छात्राओं को प्रेरणा मिलती है। उन्होंने कहा कि जवानों को इस बात का गौरव होना चाहिए कि वह उस सर्वोच्च सिखलाई रेजीमेंट के जाबाज सिपाही हैं। उन्होंने कहा की सैन्य जीवन बलिदान और देशभक्ति का जीवन है| उन्होंने जबानो के अभिभावकों को धन्यवाद देते हुए कहा कि उन्होंने अपने बच्चो को देश सेवा के लिए दिया|

मॉब लिंचिंग के विरोध में बवाल, पुलिस ने पथराव के बाद किया लाठीचार्ज

0

Posted on : 01-07-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, सामाजिक

आगरा: मॉब लिंचिंग को लेकर मेरठ के बाद आगरा में भी तनाव की स्थिति है। झारखंड के सरायकेला निवासी तरवेज अंसारी की हत्या के विरोध में आगरा में सोमवार को सुबह जमकर बवाल हुआ। एक विशेष संप्रदाय के लोगों ने जब जबरन कश्मीरी गेट बाजार व सदर भट्टी में दुकानें बंद कराने की कोशिश की तो दूसरे संप्रदाय के लोगों ने उसका विरोध किया। देखते-देखते वहां पथराव हुआ और भगदड़ मच गई। मौके पर फोर्स पहुंच गया। पथराव करते लोगों पर लाठियां फटकार कर तितर-बितर कर दिया। स्थिति अभी तनावपूर्ण बनी हुई हैं।
झारखंड के सरायकेला निवासी तरवेज अंसारी की हत्या के विरोध के प्रदर्शन व नारेबाजी करते हुए भारतीय मुस्लिम एक्शन कमेटी व भारतीय विकास परिषद के सदस्य जामा मस्जिद से पैदल मार्च करते हुए कलक्ट्रेट की ओर कूच करने लगे तो पुलिस ने उन्हें सदर भट्टी चौराहे पर रोक लिया। इस दौरान मंडी थाना प्रभारी व प्रदर्शनकारियों बीच तीखी नोकझोंक हुई। बाद में एडीएम सिटी केपी सिंह व एसपी सिटी ने उनका ज्ञापन ले दिया। इसी बीच पुलिस को सूचना मिली कि एक विशेष संप्रदाय के दो दर्जन युवक कश्मीरी गेट, मंटोला व ढाकरान चौराहे पर जबरन दुकान बंद करा रहे हैंं।
ढाकरान चौराहे पर एक हलवाई ने दुकान बंद कराने का विरोध किया और युवकों पर गर्म पानी फेंक दिया। एक पान विक्रेता की दुकान बंद कराने की कोशिश की तो दुकानदार ने हंगामा व गालीगलाैैच कर रहे उपद्रवियों पर कांच की बोतल फेंक दीं। तभी वहांं पथराव शुरू हो गया। सूचना पर कई थानों का पुलिस बल मौके पर आ गया। पुलिस ने उपद्रवियों को खदेड़ने के लिए हल्‍का बल प्रयोग करते हुए लाठीचार्ज किया। इसके बाद भीड़ तितर बितर हो गई। स्थिति अभी तनावपूर्ण बनी है। एडीएम सिटी केपी सिंह ने बताया कि इस प्रदर्शन की कोई पूर्व अनुमति नहीें ली गई थी।  जेल भेजे जाएंगे उपद्रवी
मंटोला में सोमवार सुबह हुए पथराव और बवाल के बाद पुलिस अब बड़ी कार्रवाई करने की तैयारी में है। भारत बंद प्रदर्शन के दौरान उपद्रवियों के खिलाफ जो निरोधात्मक कार्रवाई की गई थी, वही प्रक्रिया पुलिस इस मामले में भी दोहराएगी। कानून व शांति व्यवस्था के मद्देनजर एहतियात के तौर अप्रिय घटना से निबटने के लिए सभी एसडीएम व सभी एसीएम की ड्यूटी लगाई गई है। दिन में एसीएम तैनात रहेंगे और रात में एसडीएम तैनात रहेंगे। ढाकरान चौराहा पर एसीएम पंचम व कोतवाली सीओ और एसडीएम सदर, बिजलीघर चौराहा पर एसीएम चतुर्थ एसडीएम किरावली, मंटोला पर एसीएम फर्स्ट व एसडीएम एत्मादपुर, चिम्मन पूड़ी चौराहे पर एसीएम तृतीय व एसडीएम फतेहाबाद की ड्यूटी लगाई गई है। इनके बैकअप के लिए सीओ के साथ पुलिस बल को तैनात रखा गया है।
कल मेरठ में बिना अनुमति निकाले जा रहे जुलूस के दौरान हुआ था बवाल
मॉब लिंचिंग की घटनाओं के विरोध में रविवार को मेरठ में बिना अनुमति निकाले जा रहे जुलूस के दौरान बवाल हो गया था। जुलूस में शामिल हजारों युवा आसपास के क्षेत्र में फैल गए। शहर में इनका पुलिस से तीन जगह टकराव हुआ। इंदिरा चौक पर लोगों ने पुलिस पर पथराव कर दिया। पुलिस ने लाठीचार्ज कर उन्हें खदेड़ा। इसके बाद हापुड़ अड्डे पर जाम लगा दिया गया। वहां एसएसपी खुद मौके पर पहुंचे और बमुश्किल हालात पर काबू पाया। लाठीचार्ज, पथराव और भगदड़ से शहर में घंटों तक अफरातफरी का आलम रहा। युवा सेवा समिति के अध्यक्ष बदर अली, फैज-ए-आम के प्रबंधक विस्माउद्दीन समेत 50 लोग नामजद व 800 अज्ञात के खिलाफ पांच थानों में मुकदमा कायम किया गया है।

सपाईयों ने केक काटकर मनाया अखिलेश का जन्मदिन

0

Posted on : 01-07-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics- Sapaa, राष्ट्रीय

फर्रुखाबाद: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का जन्मदिन सपाइयों ने सोमबार को जिला कार्यालय पर धूमधाम से मनाया। इस दौरान केक काटकर अखिलेश के दीर्घायु होने की कामना की गई। कार्यकर्ताओं ने अखिलेश सरकार में कराए गए कार्य जन-जन तक पहुंचाने का संकल्प भी लिया। लेकिन अखिलेश के जन्मदिन पर कार्यकर्ताओं की संख्या कम रहना चर्चा का विषय रहा|
नगर के आवास विकास स्थित पार्टी के जिला कार्यालय पर जिलाध्यक्ष नदीम अहमद फारुखी, पूर्व मंत्री सतीश दीक्षित, पूर्व सांसद मुन्नू बाबू, मंदीप यादव, महानगर अध्यक्ष विजय यादव, सचिन सिंह यादव ने संयुक्त रूप से अखिलेश यादव का केक काटा|जिलाध्यक्ष ने कहा कि  पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव गरीबों के मसीहा है और वह प्रत्येक वर्ग को साथ लेकर चलते है। उनकी सरकार में हर वर्ग के लिए काम किया| राजनीति में कभी एक से दिन नही रहते| कार्यकर्ता धैर्य के साथ काम करे| आगामी 2022 के चुनाव में प्रदेश में सपा की सरकार बनेगी|
इस  दौरान पूर्व जिलाध्यक्ष रामसेवक यादव, महेंद्र सिंह कटियार, मनमोहन मिश्रा, राजन यादव, जीतू यादव, राधेश्याम श्रीवास्तव, युनुस अंसारी, छोटे सिंह यादव, समीर मिर्जा आदि रहे|
पूर्व सपा प्रवक्ता ने किया हबन
भोलेपुर हनुमान मन्दिर के सामने सपा के पूर्व प्रवक्ता पुष्पेन्द्र सिंह यादव, पूर्व जिलाध्यक्ष चन्द्रपाल यादव आदि ने कार्यकर्ताओं के साथ हबन किया| उन्होंने सुप्रीमो की दीर्घायु की कामना की| पूर्व जिला महासचिव समीर यादव, नगर उपाध्यक्ष अरविन्द यादव, रजत क्रांतिकारी, रवि कुमार, रजत वाथम आदि रहे|