बूथों पर मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए चली पिंक एक्सप्रेस

0

फर्रुखाबाद:(राजेपुर) जिला प्रशासन ने पिछले चुनाव में कम मतदान वाले बूथों को चिंह्नित किया है। जहां, पिंक एक्सप्रेस के माध्यम से मतदाताओं को जागरूक किया जाएगा।इसी के तहत पिंक एक्सप्रेस ने कई कम मतदान वाले बुथो पर जाकर मतदाताओं को मतदान के लिए जागरुक किया|
पिंक एक्सप्रेस के साथ एक टीम गांवों में पहुंचकर मतदान करने के लिए लोगों से अपील की|गुरुवार को कड़क्का प्राथमिक विद्यालय,इमादपुर सोमवंशी,कुवेरपुर आदि गाँवो में पिक एक्सप्रेस की टीम पंहुची और महिलाओं व पुरुषों की चौपाल लगाकर उन्हें आगामी 29 अप्रैल को मतदान करने की शपथ दिलाई|लोकसभा चुनाव में शत प्रतिशत मतदान कराने के लिए पिंक एक्सप्रेस के माध्यम से लोगों को मतदान के लिए जागरूक किया|
मतदान केंद्रो में बीएलओ के बैठने की भी मतदाताओं को जानकारी दी जाएगी। जिससे बीएलओ के माध्यम से कहां, कैसे वोट डाली जाएगी। इसके बारे में जानकारी दी जाएगी। मतदाताओं को बीएलओ के माध्यम से वोट, मतदान केंद्र, बूथ संख्या के बारे में भी जानकारी दी|
दीप्ति दुवे,इंदिरा राठौर पूजा ने ग्रामीणों को टीम सहित शपथ दिलाई| आंगनबाड़ी मिथिलेश द्विवेदी, प्रधानाध्यापिका ऊषा,ब्रजपाल ने भी शपथ लेकर पूरा सहयोग किया|

वसूली कांड में एसपी बाराबंकी निलंबित

0

Posted on : 04-04-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, जिला प्रशासन, सामाजिक

लखनऊ:बाराबंकी में ट्रेडिंग कंपनी के अधिकारियों से 65 लाख रुपये की वसूली कांड में गुरुवार को आखिरकार एसपी बाराबंकी डॉ. सतीश कुमार को निलंबित कर दिया गया। चुनाव आयोग की अनुमति मिलने के बाद यह कार्रवाई की गई। 2013 बैच के आइपीएस अधिकारी डॉ. सतीश कुमार को डीजीपी मुख्यालय से संबद्ध किया गया है। वसूली कांड में डॉ. सतीश की संलिप्तता की विस्तृत जांच के निर्देश भी दिए गए हैं।
बाराबंकी पुलिस की साइबर सेल प्रभारी दारोगा अनूप कुमार यादव पर विश्वास ट्रेडिंग कंपनी के पदाधिकारियों से 65 लाख रुपये वसूलने का आरोप है। डीजीपी ओपी सिंह के निर्देश पर प्रकरण की गोपनीय जांच में पुष्टि के बाद आरोपित दारोगा को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। प्रकरण में एसपी बाराबंकी की भूमिका भी संदेह के दायरे में है। एसटीएफ की गोपनीय जांच में सामने आया कि आठ जनवरी को दारोगा अनूप यादव ने कंपनी के कार्यालय जाकर संचालकों से कहा था कि वे अपने संबंधित दस्तावेज लेकर एसपी बाराबंकी के दफ्तर पहुंचे और कामकाज के बारे में बताएं। इसी क्रम में कंपनी संचालक क्राइम ब्रांच आफिस और फिर एसपी आफिस गए थे।
गृह विभाग की रिपोर्ट में बताया गया है कि एसपी आफिस में कंपनी संचालक और कर्मचारी एसपी डॉ. सतीश कुमार से मिले थे और उन्हें कंपनी के बारे में जानकारी दी थी। डॉ. सतीश कुमार ने कंपनी संचालक से कहा था कि ‘आप जाइए और जब विवेचना के लिए बुलाया जाएगा तो सहयोग करिएगा’। जब कंपनी संचालक लौटने लगे तो दारोगा अनूप यादव ने कहा कि आप लोग गिरफ्तार हो गए हैं। कहा गया कि 60 लाख रुपये दो नहीं तो कंपनी और माल सीज हो जाएगा।
कर्मचारी को छोड़कर मंगाए थे 60 लाख
10 जनवरी को दारोगा अनूप यादव ने कर्मचारी राजू को छोड़ा और रकम का बंदोबस्त करने के लिए कहा। उसी दिन रात में राजू ने 60 लाख रुपये दारोगा अनूप यादव को दिए थे। एसटीएफ के एएसपी की अध्यक्षता में गठित जांच टीम ने अपनी रिपोर्ट में आरोपों की पुष्टि होने पर रिपोर्ट डीजीपी को सौंपी थी। हालांकि पुलिस के मुताबिक उक्त मामला 65 लाख रुपये का है।
एसपी की संलिप्तता से इन्कार नहीं
डीजीपी द्वारा एक अप्रैल को शासन को दी गई आख्या में कहा गया था कि एसटीएफ की रिपोर्ट पढ़ने पर यह पाया गया कि संपूर्ण प्रकरण में एसपी बाराबंकी डॉ. सतीश कुमार की संलिप्तता से इन्कार नहीं किया जा सकता, जिसकी गहन जांच की जरूरत है। इसी आधार पर डॉ. सतीश कुमार को निलंबित कर उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।
यह था मामला
बाराबंकी के हैदरगढ़ कोतवाली क्षेत्र निवासी सावले शर्मा ने विश्वास ट्रेडिंग कंपनी के पदाधिकारी मूलरूप से कोलकता निवासी कंपनी संचालक प्रेसनजी सरदार, शंकर गायन व धीरज श्रीवास्तव के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। शंकर का आरोप है कि उन्हें व उनके साथियों को फर्जी मामले में साक्ष्यों के बगैर 11 जनवरी को जेल भेज दिया गया था। यही नहीं लखनऊ स्थित उनका ऑफिस भी सील कर दिया गया था। जमानत पर छूटने के बाद आरोपितों ने डीजीपी को पूरे मामले की जानकारी दी और दारोगा अनूप यादव पर 65 लाख रुपये वसूलने का आरोप लगाया था। मामले की गंभीरता को देखते हुए डीजीपी ने प्रकरण की गोपनीय जांच कराई थी।

वोनस व वेतन ना मिलने पर सीएमओ कार्यालय में जड़ा ताला

0

Posted on : 04-04-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, जिला प्रशासन

फर्रुखाबाद:स्वास्थ्य संबिदा कर्मियों ने मार्च माह का वेतन और बोनस ना मिलने से खफा होकर सीएमओ कार्यालय में ताला जड दिया| जिसके बाद मुर्दाबाद की नारेबाजी की गयी|
उत्तर-प्रदेश राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कर्मचारी संघ के अध्यक्ष डॉ० गौरव वर्मा के नेतृत्व में संविदा स्वास्थ्य कर्मी मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय पंहुचे|जंहा उन्होंने कहा कि संबिदा कर्मियों की कई कार्यवाही लम्बे समय से लम्बित पड़ी है| जिनका निस्तारण नही किया गया| इसके साथ ही मार्च माह का वेतन भी नही मिला| रोयल्टी,बोनस,इंक्रीमेंट,एरियर आदि कुछ भी नही मिला|संगठन ने कार्यालय के कर्मियों पर भ्रष्टाचार में लिप्त होने का आरोप भी लगाया|
उन्होंने कहा कि जल्द कार्यवाही ना होने पर आन्दोलन किया जायेगा|इस दौरान जिला महामंत्री नरेंद्र मिश्रा,डॉ० पुनीत पाण्डेय,अंकित दीक्षित,अमित सक्सेना,आलोक तिवारी,दुर्गेश,साबिर हुसैन आदि रहे|

काली नदी में आधा दर्जन मासूम डूबे,बालिका सहित दो लापता

0

फर्रुखाबाद:(मोहम्मदाबाद)नदी के किनारे  बकरी चराने गये आधा दर्जन मासूम अचानक गहरे पानी में डूब गये| जिसमे से चार को सकुशल बचा लिया गया|जबकि एक बालिका व एक बालक अभी लापता है|
कोतवाली क्षेत्र के ग्राम कटिन्ना मानिकपुर निवासी रामशरण का 13 वर्षीय पुत्र महावीर व सिपाहीराम की  13 वर्षीय पुत्री नीलम अपने गाँव के आधा दर्जन दोस्तों के साथ गाँव के ही निकट जनपद सीमा पर काली नदी के निकट बकरी चराने गये थे|
जंहा सभी काली नदी में नहाने के लिए उतर गये| अचानक गहरे पानी में जाने से सभी डूबने लगे| शोर-शराबा सुनकर पास के खेत में काम कर रहे अमित व गुड्डू आदि आये और काफी मसक्कत के बाद चार को सकुशल बाहर निकाला|लेकिन नीलम व महावीर का पता नही चला|
जिसके बाद पुलिस को सूचना दी गयी| जिसके बाद सीओ राजीव सिंह,प्रभारी निरीक्षक जय प्रकाश,मदनपुर चौकी इंचार्ज वीरेंद्र पाल आदि मौके पर पंहुचे| उन्होंने पांचाल घाट से गोताखोर बुलाये|काफी देर प्रयास के बाद देर रात तक शव बरामद नही हुए|उनकी तलाश जारी है |

आपरेशन असीम LIVE:सीमा को बोरवेल से निकालने में दबे दो सैनिक,बाल-बाल बचे,एनडीआरएफ ने सम्भाली कमान

0

Posted on : 04-04-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, POLICE, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद:(कमालगंज) सीमा बीते लगभग 24 घंटे से मौत से जंग लड़ रही है| उसको निकालने का प्रयास लगातार जारी है|लेकिन एक हादसा होते-होते बच गया| जब सीमा को निकालने में लगे दो सैनिक मिट्टी के नीचे दब गये| जैसे तैसे उन्हें बाहर निकाला गया| एनडीआरएफ की टीम मौके पर पंहुची और बचाव कार्य शुरू कर दिया|
दरअसल बीते दिन से लगातार रसीदपुर में बोरवेल में 60 फिट जमीन में फंसी मासूम आठ वर्षीय सीमा को निकालने में जिला प्रशासन के साथ ही साथ सेना के जबान भी पूरी ताकत के साथ लगे है| रात भर चले आपरेशन असीम के तहत उसे बचाने का कार्य जारी है| कई दौर जेसीबी के चलने के बाद जेसीबी भी फेल हुई तो सेना ने खुद ही सुरंग बनाकर सीमा तक पंहुचने की कबायद शुरू की|
लेकिन अचानक मिट्टी भरभरा कर जबान पर गिर गयी| जिसमे सेना के दो जबान भी दब गये|जैसे-तैसे उन्हें सकुशल बाहर निकाला गया|इसके साथ ही एनडीआरएफ की टीम को मदद के लिए बुलाया गया| एनडीआरएफ ने बचाव कार्य शुरू कर दिया|इसके साथ ही राज्य आपदा राहत बल (एसडीआरएफ) को भी बुलाया गया है|