एनओसी ना देनें पर सांसद पर विधुत विभाग के अफसर को धमकाने का आरोप

0

फर्रुखाबाद:अदेय प्रमाण पत्र देनें को लेकर विधुत विभाग के अधिशासी अभियंता नगरीय ने भाजपा सांसद मुकेश राजपूत पर धमकी देनें का आरोप लगाया है| जिसके चलते जिलाधिकारी व निर्वाचन अधिकारी को इसकी लिखित शिकायत भी की गयी है|
विधुत वितरण खंड नगरीय के अधिशाषी अभियंता पंकज अग्रवाल ने जिलाधिकारी को पत्र भेजकर शिकायत की है| जिसमे कहा है कि लोक सभा सामान्य निर्वाचन के नामांकन हेतु विधुत विभाग की एनओसी मांगी गयी थी| लेकिन सांसद मुकेश राजपूत का बीते 7 वर्षों से विधुत बिल का कोई भुगतान नही किया गया|
31 मार्च को शाम लगभग 6:50 बजे पंकज अग्रवाल के फोन पर सांसद ने निजी सचिव अनूप मिश्रा के फोन से अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए कहा कि “तू पीटने का कार्य कर रहा है,मै बिल जमा नही करुगा”
सांसद मुकेश राजपूत ने जेएनआई को फोन पर बताया की उनका बिल लगभग लगभग पांच लाख रूपये था| जो सामान्य से जादा आ रहा था| इससे पूर्व कई बार अधिशाषी अभियंता से कहा गया लेकिन उन्होंने चेक मीटर नही लगाया| जिससे बिल दुरस्त कराकर जमा किया जाता|इसी सम्बन्ध में बात की तो वह उखड़ गये| सांसद में अधिशाषी अभियंता को विरोधी पार्टी का आदमी बताया|

आजादी के बाद से ही पिछडो के साथ हो रहा धोखा:जैकी

0

Posted on : 01-04-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics-BJP, सामाजिक

फर्रुखाबाद:(जहानगंज) लोक सभा चुनाव के लिए पिछड़ो में जोश का संचार करने आये कारागार मंत्री जय कुमार जैकी ने कहा कि आजादी के बाद से पिछड़े वर्ग के साथ धोखा होता रहा| लेकिन बीजेपी की सरकार बनने के बाद से पिछडो के दिन सुधर गये|
कस्बे के एक मैदान में आयोजित पिछड़ा वर्ग सम्मेलन में पंहुचे कारागार मंत्री ने कहा कि 1947 में देश आजादी के बाद सरदार पटेल को पीएम बनाये जाने की बात हुई लेकिन जबाहर लाल नेहरु को पीएम की कुर्सी मिली| इसके बाद लगातार कांग्रेस के शासन में पिछडो का विकास नही हो सका|
सपा व बसपा सरकार में पिछड़े विकास के लिए मुंह ताकते रहे| लेकिन बीजेपी ने पिछडो के सम्मान का पूरा ध्यान रखा| उन्होंने कहा कि 2014 में मोदी के नाम पर चुनाव जीता गया था| इस बार लोकसभा उनके द्वारा कराये गये विकास के नाम पर फतेह की जायेगी| इस दौरान सांसद व बीजेपी प्रत्याशी मुकेश राजपूत,क्षेत्रीय उपाध्यक्ष सत्यपाल सिंह,जिलाध्यक्ष भूदेव राजपूत,विधायक नागेन्द्र सिंह राठौर,डॉ0 रजनी सरीन,कुलदीप गंगवार आदि रहे|

अधिकारीयों से शिकायत पर बंदी की पिटाई!

0

Posted on : 01-04-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, JAIL, POLICE, जिला प्रशासन

फर्रुखाबाद:सेन्ट्रल जेल में सजा काट रहे बंदी ने अपने साथ मारपीट करने का आरोप जेल प्रशासन पर लगाया है| जिसके बाद उसका मेडिकल परीक्षण कराया गया| जिसमे उसके चोटें होने की पुष्टि हुई है|
जेल में अधिकारियों ने निरीक्षण किया था|जिसमे बंदी सुभाष पुत्र श्रीकृष्ण ने जेल की कुछ अव्यवस्थाओं आदि की शिकायत की थी| अधिकारीयों के जाने के बाद बंदी का आरोप है की जेल कर्मियों ने उसके साथ जमकर मारपीट कर दी|
घटना के बाद वह अपने एक मुकदमे की पेशी में न्यायालय गया तो उसने न्यायिक अधिकारी को घटना से अवगत करा दिया| जिसके बाद जिलाधिकारी आदि के आदेश पर सोमबार को पुलिस लाइन से दरोगा ओमप्रकाश तिवारी उसे लेकर लोहिया अस्पताल पंहुचा| जंहा उसका  मेडिकल पैनल से किया गया| पैनल में डॉ0 अभिषेक चतुर्वेदी,डॉ0 अशोक कुमार व डॉ0 गौरव मिश्रा ने मेडिकल किया|
सेन्ट्रल जेल के अधीक्षक एसएचएम रिजवी ने बताया है कि  बंदी दबाब बनाने के लिए गलत आरोप लगा रहा है| उसने पूर्व में जिला जेल से भागने का प्रयास किया था| जिसके बाद उसे सेन्ट्रल जेल की हाई सिक्योर्टी बैरग में रखा गया है|जिसके चलते वह जेल कर्मियों पर गगलत आरोप लगाया है| उसका दो दिन पहले बंदियों के साथ मारपीट हो गयी थी जिससे उसे चोट आयी होंगी| 

मुलायम सिंह ने सपा-बसपा गठबंधन से मैनपुरी से भरा पर्चा

0

Posted on : 01-04-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics- Sapaa, लोकसभा चुनाव 2019

मैनपुरी:लोकसभा चुनाव 2019 में मैनपुरी से सपा-बसपा गठबंधन के प्रत्याशी मुलायम सिंह यादव ने नामांकन किया। नामांकन करने के बाद मुलायम सिंह यादव ने लोकसभा चुनाव में बहुमत मिलने के बारे में कहा कि समाजवादी पार्टी को बहुमत मिलेगा।
मुलायम सिंह यादव आज अपने नामांकन के बाद बहुजन समाज पार्टी का नाम लेने से बचते दिखे। जब उनसे पूछा गया कि किसको बहुमत मिलेगा तो उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी को बहुमत मिलेगा। बहुजन समाज पार्टी के बारे में पूछने पर शांत रहे। बसपा के साथ गठबंधन की रैली के बारे में कहा कि इस बारे में तो सिर्फ अखिलेश ही बता सकते हैं। उनको इस बारे में अधिक पता हैं। मैं तो यहां से लोकसभा का प्रत्याशी हूं। मुलायम सिंह यादव आज नामांकन के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान बसपा पर कुछ भी बोलने से बचते रहे।
नामांकन दाखिल करने के बाद समाजवादी पार्टी के सरंक्षक मुलायम सिंह यादव ने कहा कि मैंने अपना नामांकन दाखिल कर दिया है। उन्होंने कहा कि वह प्रधानमंत्री पद के दावेदार नहीं हैं। अब तो देश के प्रधानमंत्री का फैसला लोकसभा चुनाव के बाद ही होगा। मैं तो एक बार फिर मैनपुरी से मैदान में हूं। प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार पर उन्होंने कहा कि इस मामले में तो हम चुनाव के बाद निर्णय लेंगे। उन्होंने कहा कि अभी तो मैनपुरी से लोकसभा का प्रत्याशी हूं। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी को कितनी सीट मिलने के बारे में जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सपा का बहुमत आएगा। बसपा को बहुमत मिलने के बारे में वह पहले हिचके फिर कहा सपा का बहुमत आएगा। बसपा से गठबंधन और 19 अप्रैल की होने वाली सपा-बसपा की रैली पर कहा कि इसका जवाब अखिलेश देंगे।
समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने नामांकन के समय मैनपुरी कलेक्ट्रेट में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव, प्रमुख राष्ट्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव और सांसद तेजप्रताप यादव व धर्मेंद्र यादव भी साथ थे।मुलायम सिंह यादव अपने परिवार के सदस्यों के साथ इटावा से पार्टी के रथ में सवार होकर मैनपुरी के लिए निकले। बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं के जोशीले नारों के बीच मुलायम सिंह यादव पुत्र पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, भतीजे सांसद धर्मेंद्र यादव, सांसद तेजप्रताप सिंह यादव, अनुराग यादव, पूर्व पर्यटन मंत्री ओम प्रकाश सिंह, नाती अर्जुन व नातिन टीना के साथ इटावा से रवाना हुए। इस दौरान मुलायम सिंह यादव ने रथ के अंदर से कार्यकर्ताओं का हाथ हिलाकर अभिवादन किया।

शतिर बदन सिंह बद्दू को फरार कराने का ऐसे रचा गया चक्रव्यूह

0

Posted on : 01-04-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, जिला प्रशासन, सामाजिक

मेरठ:पुलिस कस्टडी से फरार हुए मोस्टवांटेड बदन सिंह बद्दो के बारे में सनसनीखेज जानकारी सामने आई है। उसकी फरारी में अहम भूमिका शातिर पपीत बढ़ला और सदर के एक व्यापारी ने निभाई है। उन्हीं की कार में वह फरार हुआ। साठगांठ के बाद बद्दो को फरार होने का पूरा मौका दिया गया।
ऐसे रचा गया चक्रव्यूह
विश्वसनीय सूत्रों के मुताबिक,28 मार्च को गाजियाबाद कोर्ट में पेशी के बाद अहतेशाम इलाही, जवाहरलाल, शिशुपाल उर्फ बंटी बद्दो के साथ करीब 12 बजे मेरठ पहुंचे। उनसे ठीक आधा घंटा पहले पपीत बढ़ला और सदर क्षेत्र के एक फाइनेंस व्यापारी अपनी स्टील कलर की सेंट्रो कार लेकर होटल मुकुट महल गए और सीसीटीवी कैमरे बंद करा दिए। इसके बाद कमरा नंबर 201 में पुलिसकर्मियों के साथ दारू पार्टी चली,जहां लगभग साढ़े 12 बजे बद्दो खाना खाकर हाथ धोने के बहाने से पपीत बढ़ला और व्यापारी के साथ कार में फरार हो गया।
समझा कि बद्दो कहीं गया है 
काफी देर तक जब बद्दो नहीं आया तो शराब के नशे में धुत दारोगा देशराज त्यागी ने अपने साथियों को नींद से जगाया। उन्होंने समझा कि बद्दो किसी से मिलने गया है, खुद वापस आ जाएगा। अन्य पुलिसकर्मियों का नशा नहीं उतरा तो वह अकेला ही शहर में उसे ढूंढने निकल पड़ा। सूत्रों के मुताबिक, बात वश से बाहर होने पर दोपहर सवा तीन बजे टीपीनगर पुलिस को सूचना दी गई और तब तक बद्दो कहीं दूर जा चुका था। चर्चा तो यहां तक है कि इसमें पुलिस ने बड़ा खेल किया और बद्दो को सेटिंग कर भगा दिया। यही वजह है कि स्थानीय पुलिस को काफी देर बाद सूचना दी गई।
सीसीटीवी में कैद है पपीत बढ़ला 
पुलिस ने होटल के सीसीटीवी कैमरों की डीवीआर निकाली थी, जिसमें जांच में आया कि पपीत बढ़ला और सदर का व्यापारी करीब साढ़े 11 बजे होटल में दाखिल होते हैं। कुछ देर बाद ही कैमरे बंद हो जाते हैं। फरारी के दिन भी शोर मचा था कि एक सिख युवक बद्दो के साथ है। यह व्यापारी वही बताया जा रहा है जो बद्दो के साथ था। पपीत बढ़ला व दिपिन सूरी पर 50-50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया जाएगा। एसएसपी ने आइजी को फाइल भेज दी है।
होटल मुकुट महल हो सकता है सील 
बदन सिंह बद्दो को पुलिस कस्टडी से फरार कराने के षड्यंत्र में शामिल होटल मुकुट महल के मालिक मुकेश गुप्ता पर पुलिस ने शिकंजा कस दिया है। सोमवार को पुलिस होटल सील कर सकती है, जिसके चलते कई समारोह खटाई में पड़ गए हैं। होटल मालिक ने शनिवार को आत्मसमर्पण के लिए अदालत में अर्जी डाली। सुनवाई करते हुए अदालत ने पुलिस से एक अप्रैल तक रिपोर्ट मांगी थी। यदि सोमवार यानी आज वह खुद सरेंडर नहीं करता है तो पुलिस होटल सील कर देगी। इसकी प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। एसएसपी नितिन तिवारी के निर्देश पर पुलिस ने रविवार को होटल में जाकर कर्मचारियों को अवगत कराया। दूसरी ओर होटल सील होने की खबर से आयोजकों में हड़कंप मच गया। एकाएक कार्यक्रम स्थल रद होने से आयोजक परेशान हो गए हैं।
होटल में पुलिस ने क्राइम सीन दोहराया 
11 टीम, सात राज्य, 30 हिरासत में और 110 से अधिक लोगों से पूछताछ। बावजूद इसके,पुलिस कस्टडी से फरार मोस्टवांटेड बदन सिंह बद्दो का चौथे दिन भी कोई सुराग नहीं लग पाया। घटना को दोहराने के लिए मेरठ व फतेहगढ़ पुलिस ने होटल मुकुट महल में क्राइम सीन भी किया। आसपास के लोगों से पूछताछ में कोई निष्कर्ष नहीं निकल सका।
लगातार दबिशें 
बद्दो की तलाश में उप्र के अलावा दिल्ली, हरियाणा, उत्तराखंड, राजस्थान, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र तक पुलिस, एसटीएफ,क्राइम ब्रांच और सर्विलांस सेल की गतिविधि बढ़ी हैं। इन राज्यों में तमाम टीम लगातार उसके ठिकानों पर दबिश दे रही हैं। रविवार को भी एक दर्जन से अधिक जगहों पर दबिश दी गई। पूछताछ के लिए विभिन्न स्थानों से 14 लोगों को हिरासत में भी लिया। देर रात तक मेरठ व अन्य स्थानों पर गोपनीय तरीके से पूछताछ की जाती रही।
ये है मामला 
मेरठ के पंजाबीपुरा निवासी बदन सिंह बद्दो शहर के ही अधिवक्ता रविंद्र सिंह की हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है। 28 मार्च को फतेहगढ़ सेंट्रल जेल से बद्दो को गाजियाबाद कोर्ट में पेशी के बाद वह पुलिसकर्मियों से साठगांठ कर दोपहर करीब ढाई बजे मेरठ के होटल मुकुट महल में पहुंच गया। यहां शराब पार्टी के दौरान बद्दो फरार हो गया। इसमें छह पुलिसकर्मियों दारोगा देशराज त्यागी व हवलदार संतोष कुमार, सिपाही सुनील कुमार, राजकुमार, ओमवीर, चालक भूपेन्द्र सिंह तथा बद्दो के सहयोगियों अहतेशाम इलाही, जवाहर लाल, शिशुपाल उर्फ बंटी, व्यापारी सोनू सहगल, बेटा सिकंदर, पपीत बढला, व्यापारी नेता लल्लू मक्कड़, होटल मुकुट महल के मालिक मुकेश गुप्ता, ट्रांसपोर्टर दिपिन सूरी व व्यापारी अनिल छाबड़ा को नामजद कर मुकदमा दर्ज किया था। पुलिस ने छह पुलिसकर्मियों व तीन सहयोगियों अहतेशाम, जवाहरलाल व शिशुपाल को गुरुवार को ही गिरफ्तार कर लिया था।
फोरेंसिक जांच,पूछताछ 
मेरठ पुलिस व फतेहगढ़ एसओजी ने रविवार शाम होटल में क्राइम सीन किया। कर्मचारियों से भी पूछताछ की। बद्दो को किस समय होटल लाया गया। कमरे के अंदर बद्दो और पुलिसकर्मियों के अलावा कितने लोग थे। कौन, कहां बैठा था। आदि तमाम सवालों को लेकर जांच-पड़ताल की गई। फोरेंसिक जांच भी की।
मददगार भी भूमिगत 
बद्दो को भगाने के मामले में शहर के सुपरटेक पामग्रीन निवासी ट्रांसपोर्टर दिपिन सूरी, व्यापारी नेता लल्लू मक्कड़, बदन सिंह का बेटा सिकंदर, व्यापारी सोनू सहगल, होटल मुकुट महल के मालिक मुकेश गुप्ता व सहयोगी पपीत बढला को भी नामजद किया गया है। दबाव बढ़ता देखकर मददगार भी भूमिगत हो गए हैं। उनके घरों, प्रतिष्ठानों और रिश्तेदारों के यहां ताबड़तोड़ दबिश दी जा रही है।