साक्षी महाराज के तेवर बगावती,राम मंदिर पर बोली बड़ी बात

1

JNI NEWS : 06-10-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics-BJP, राष्ट्रीय

उन्नाव:अयोध्या में राम जन्मभूमि पर राम मंदिर के निर्माण को लेकर संतों के अनशन के बीच भारतीय जनता पार्टी के सांसद भी अब बगावती तेवर में हैं। उन्नाव से भारतीय जनता पार्टी के सांसद सच्चिदानंद हरि साक्षी उर्फ साक्षी महाराज ने दो टूक कहा है कि अगर 2019 से पहले अयोध्या में श्रीराम का भव्य मंदिर नहीं बना तो वह भाजपा से बगावत करेंगे।
भारतीय जनता पार्टी के फायरब्रांड नेता के रूप में विख्यात साक्षी महाराज ने कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी की सरकार अगर 2019 से पहले तक अयोध्या में श्रीराम का भव्य मंदिर नहीं बनवाती है तो वह भारतीय जनता पार्टी से बगावत करने में पीछे नहीं हटेंगे। साक्षी महाराज ने कहा कि वह संतों के पक्ष में हैं। वह भी राम जन्मभूमि में श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण के पक्ष में हैं। राम मंदिर के मुद्दे पर वह संतों के साथ खड़े हैं। उन्होंने कहा कि अगर केंद्र सरकार इस पुनीत कार्य में कदम आगे नहीं बढ़ाती है तो वह संतो के साथ खड़े होंगे। उन्होंने कहा कि आज मैं जो कुछ भी हूं, भगवान श्रीराम की कृपा से हूं। भाजपा पर भी भगवान श्रीराम की बड़ी कृपा है। भाजपा आज जिस मुकाम पर पहुंची है, उसके पीछे राम जी कृपा और संंतों का बहुत बड़ा योगदान है।
पत्रकारों से बातचीत के दौरान उन्होंने साफ कर दिया है कि राम मंदिर के मसले पर वह सरकार और पार्टी के बजाय संतों के साथ खड़े हैं। उन्होंने बताया कि 5 अक्टूबर के विश्व हिन्दू परिषद की शीर्ष बैठक में शंकराचार्य की उपस्थित में संतों ने सरकार से अपनी नाराजगी को जता दी है। उनके मुताबिक संतों का साफ मानना है कि जब सरकार तीन तलाक के लिए अध्यादेश ला सकती है तो मंदिर के लिए क्यों नहीं। उन्होंने बताया कि 3 व 4 नवंबर को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में धर्मादेश सम्मेलन होगा, देश भर के पांच हजार धर्माचार्य शामिल होंगे। सम्मेलन में सरकार से मंदिर के लिए मार्ग प्रशस्त करने की मांग होगी, उसके बाद भी मंदिर निर्माण की पहल नहीं होती है तो संत समाज 6 दिसंबर से मंदिर का निर्माण शुरू कर देंगे। उन्होंने कि बताया वह भी कार्यसेवा के लिए अयोध्या जाएंगे।
राम मंदिर का मुद्दा 2019 लोकसभा चुनाव के नजदीक आने के साथ ही एक बार फिर सुर्खियों में है। साक्षी महाराज ने कहा कि दिल्ली की बैठक में संतों ने भाजपा के खिलाफ नाराजगी जताई है। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट आदेश करे या सरकार अध्यादेश लाये, छह दिसम्बर के बाद संत समाज राम मंदिर के निर्माण की शुरुआत अयोध्या में करेंगे।
इससे पहले साक्षी महाराज का कहा था कि राम मंदिर निर्माण हमेशा से विश्व हिंदू परिषद,भाजपा व आरएसएस के एजेंडे पर रहा है। हमेशा से सभी लोग कहते रहे हैं कि राम मंदिर का निर्माण अयोध्या में होगा। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो। साक्षी महाराज ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई हो रही है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कुछ भी हो पर 2019 के चुनाव से पहले राम मंदिर का निर्माण हो जाएगा।
राहुल की राम भक्ति पर साक्षी ने किया कटाक्ष
सुप्रीम कोर्ट में 29 अक्टूबर से अयोध्या मामले की नियमित सुनवाई के बीच मंदिर को लेकर छिड़ी सियासी बहस के बीच भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने राहुल गांधी पर तीखा हमला किया। साक्षी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट विलंब करता है तो सरकार राम मंदिर के लिए अध्यादेश लाए, तब ये भी पता चल जाएगा राहुल गांधी कितने बड़े राम भक्त हैं। यूं तो राम मंदिर को लेकर पूरे देश में ही सियासत गरमाने लगी है पर चुनाव नजदीक आने के साथ ही उन्नाव से भाजपा के सांसद साक्षी महराज मंदिर को लेकर मुखर हो रहे हैं।
सरकार के साथ राहुल पर भी हमला
साक्षी से साफ कहा कि वह आज जो भी हैं वह राम की कृपा से हैं। भाजपा और सरकार भी राम की कृपा पर ही है। मंदिर निर्माण शुरू न होने से संतों की नाराजगी स्वाभाविक है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट फैसला करता है तो करता है नहीं तो सरकार मंदिर के लिए अध्यादेश लाए। राहुल गांधी पर हमलावर होते हुए कहा कि वह अपने को बहुत बड़े राम भक्त बताते घूमते हैं सरकार अध्यादेश लाए तो पता चल जाएगा कि कौन राम भक्त है कौन नहीं।
सुप्रीम कोर्ट के फैसलों पर दिखाई तल्खी
अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले में विलंब पर सवाल उठाते हुए साक्षी तल्खी भरे अंदाज में कहा कि समलैंगिकता और विवाहेत्तर संबंधों को लेकर तो सुप्रीम कोर्ट बड़े एेतिहासिक कर रहा है तो मंदिर को लेकर देरी क्यों है। उन्होंने कहा कि अगर कोर्ट को लगता है कि वहां मस्जिद बनना चाहिए तो फैसला करें।

पाठक की प्रतिक्रिया (1)

यह सब भाजपा सरकार द्वारा खुद बयानवाजी करवाई जा रही है।