ब्रेकिंग: - **बेटी-पढ़ाओ-बेटी बचाओ के नाम पर खुली लूट, डाकखाने के बाहर मुंहमांगे दाम पर भरवाए और बेचे जा रहे है फार्म, भाजपा नेता पूजा कसौधन ने मौके पर पहुँच कर लोगो को समझाया - **सुल्तानपुर लम्भुआ विधायक के गुर्गो का आतंक, इमरजेंसी में तैनात डाक्टर को जमकर पीटा, वार्ड छोड़कर भागे डाक्टर और तीमारदार, जिला अस्पताल में ठप्प हुयी चिकित्सा सेवा, मरीज हलकान - *"रहिये हमेशा खबरों से अपडेट" अपने मोबाईल पर लगातार सुल्तानपुर और अमेठी की ताज़ा खबरों को एसएम्एस से प्राप्त करने के लिए अपन नाम और पता अपने मोबाईल नम्बर के साथ एसएमएस करे-9451555255 *** - **सुल्तानपुर :गोमती पुल बना सुसाईड प्वाइंट, फिर कूदा नदी में एक युवक

‘सुसाइड प्वाइंट’बना गोमती नदी का पुल

0

JNI NEWS : 28-08-2017 | By : न्यूज़ ब्यूरो | In : समाचार, सुल्तानपुर

 

28_08_2017-27slt72

सुलतानपुर : शहर के उत्तरी छोर पर बना गोमती नदी का नया व पुराना पुल सुसाइड प्वाइंट बन गया है। बीते पांच दिन में हुई तीन आत्महत्याओं ने शहरवासियों को झकझोर कर रख दिया है। सामाजिक संगठनों ने भी पुल पर जाली लगाने की आवाज उठाई है। हालांकि अभी तक अफसरों की तंद्रा नहीं टूटी है। व्यवस्था करने के लिए विभागीय अफसर एक दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं।

पांच दिन के अंदर तीन घटनाएं

*केएनआई में बीएससी (कृषि) तृतीय वर्ष की छात्रा रायबरेली निवासी निवेदिता ¨सह ने 23 अगस्त को सुबह पांच बजे गोमती के पुराने पुल से छलांग लगा दी। उसका मोबाइल व चप्पल पुल के पास मिली। चार दिन बीत गए अभी उसका शव नहीं बरामद किया जा सका।*शहर के शास्त्रीनगर निवासी विजय श्रीवास्तव के पुत्र शिवांग श्रीवास्तव ने शुक्रवार की शाम गोमती नदी के पुल से छलांग लगा दी। जिसका शव शनिवार को बरामद किया।*शनिवार की शाम को भी एक युवक ने गोमती नदी के पुल से छलांग लगा दी। मौके पर मौजूद लोगों ने तत्काल उसे बाहर निकाला। सिर में गंभीर चोट लगने की वजह से अस्पताल ले जाते समय उसने दम तोड़ दिया।

*जुलाई माह में एक युवक नशे की हालत में जाते समय गोमती में गिर गया। दूसरे दिन उसका शव सिरवारा घाट पर पाया गया।इनसेट.डेढ़ साल पूर्व सीओ सिटी ने लिया था संज्ञान इसे संवेदनहीनता की हद न कहें तो और क्या ! सन 2016 की शुरुआत में एकाएक खुदकुशी की कई वारदातें गोलाघाट पुल से घटीं। इसे पुलिस महकमे ने संज्ञान में लिया। तत्कालीन सीओ सिटी नवीन कुमार ¨सह ने उस वक्त ही जिलाधिकारी को पत्र लिखकर गोलाघाट के दोनों नए व पुराने पुलों की रे¨लग पर कंटीले तारों की बाढ़ लगाकर इसे सुरक्षित करने का प्रस्ताव किया था। बावजूद इसके डेढ़ वर्ष बीत गए लेकिन प्रशासनिक अमला खामोश बैठा रहा। नतीजतन कई और लोगों की जान चली गई।

 

क्या कहते है अधिकारी -

संजीव भारती, अधिशासी अभियंता पीडब्ल्यूडी:“पुल पर जाली लगाने का प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजा गया है। अभी तक बजट स्वीकृत नहीं हुआ है। धनराशि मिलने का इंतजार है”

हरेंद्रवीर ¨सह, डीएम सुलतानपुर-”पुलिस, पीडब्ल्यूडी व प्रशासनिक अधिकारियों से वार्ता की जाएगी। गोमती नदी पर जाली लगने से कई फायदे होंगे। जल्द सार्थक परिणाम सामने आएंगे। पुल को जाली से कवर किया जाएगा”

Comments are closed.