Featured Posts

चिट्ठी आई है- मुख्यमंत्री की चिट्ठी साहब ने आगे बढ़ा दी, छोटे साहब ने और आगे बढ़ा दीचिट्ठी आई है- मुख्यमंत्री की चिट्ठी साहब ने आगे बढ़ा दी, छोटे... 1 जुलाई से हर साल शिक्षा का नया सत्र शुरू होता है| इस बार भी हुआ कोई नयी बात नहीं है| पिछले साल की चिट्ठियों को निकाल लखनऊ के साहब नए साल की तारीख डाल मंडलों और मुख्यालयों पर विभिन्न प्रकार की चिट्ठियां चलाना शुरू कर देते है| चिट्ठियों के कई प्रकार होते है| मगर इनका मजमून हर...

Read more

बीत गए 2 सप्ताह- ..न किताब, और न कापी, शुरू हो गई सत्र की पढ़ाईबीत गए 2 सप्ताह- ..न किताब, और न कापी, शुरू हो गई सत्र की पढ़ाई फर्रुखाबाद: डीएम साहब बड़े सख्त है| मास्टर स्कूल में टाइम से आने और जाने लगे है| हवा हवाई दावे और वादो का हाल ये है कि 2 सप्ताह बीत जाने के बाद भी सरकार के कंधो पर चल रहे सरकारी स्कूल के बच्चो का बस्ता अभी तक खाली है| मास्टर नेतागीरी में मशगूल है, शिक्षा मित्र प्राथमिक शिक्षक बनने...

Read more

डीएम की बैठक- 72 आरा मशीन सील, एक लेखपाल सस्पेंड और 337 नलकूप किसानो के खेत भर रहे है डीएम की बैठक- 72 आरा मशीन सील, एक लेखपाल सस्पेंड और 337 नलकूप किसानो... फर्रुखाबाद: लघु सिचाई में पिछले साल हुआ 14 करोड़ का घोटाला दफ़न है| 112 बोरिंग जो हुई दर्शायी गयी थी वे भौतिक सत्यापन में पुरानी पायी गयी थी| मगर फिर भी नलकूप विभाग के आंकड़े दुरुस्त है| जिलाधिकारी की बैठक में जानकारी दी गयी कि जिले में कुल 337 नलकूप कार्यरत है| 12 नलकूप मैकेनिकल रूप...

Read more

प्रधानमंत्री कार्यालय की तर्ज पर चल रहा जिलाधिकारी कार्यालय... फर्रुखाबाद: अधीनस्थों पर विश्वास न करके जिलाधिकारी को मजबूरन हर विभाग के कामो में सीधी दखल देनी पद रही है| अपने अपने विभागों के दायित्वों को निभाने में नाकाम होने से सरकार की खराब हो रही छवि को सुधरने की जिम्मेदारी अब मुख्यमंत्री से सीधे सीधे जिलाधिकारियो को दी है| इसमें...

Read more

विशेष- जिलाधिकारी एनकेएस राठौर का जुलाई माह में भ्रमण कार्यक्रम विशेष- जिलाधिकारी एनकेएस राठौर का जुलाई माह में भ्रमण कार्यक्रम... फर्रुखाबाद: वैसे तो जिलाधिकारी एनकेएस राठौर के जिले में होने का एहसास जनता को होने लगा है| बाजार समय से बंद होना और बंदी वाले दिन न खुलना जैसे कुछ नए काम बहुत सालो बाद दिखाई पड़ रहे है| हर दफ्तर और सरकारी अमले पर क्रॉस चेकिंग का फंडा भी कामयाब दिख रहा है| जरुरत गलती पकडे जाने...

Read more

JOBS: पार्ट टाइम/फुल टाइम डाटा एंट्री के लिए ऑपरेटर चाहिए JOBS: पार्ट टाइम/फुल टाइम डाटा एंट्री के लिए ऑपरेटर चाहिए फर्रुखाबाद: उत्तर प्रदेश सरकार की कई योजनाओ में काम करने के लिए बड़े पैमाने पर डेटा एंट्री ऑपरेटर को काम मिलने वाला है| फर्रुखाबाद में भी तीन दर्जन डेटा एंट्री की आवश्यकता है| अंग्रेजी हिंदी में डेटा एंट्री करने के लिए आवास विकास कॉलोनी में डेटा एंट्री ऑपरेटर सप्लाई कराने...

Read more

सपा विधायक व व्लाक प्रमुख के लोहिया ग्राम में बजबजा रही सड़के सपा विधायक व व्लाक प्रमुख के लोहिया ग्राम में बजबजा रही सड़के... फर्रुखाबाद:(कमालगंज)यह उन गांव वालो के लिए बहुत ही हर्ष की बात होगी की जिस गांव में वह रह रहे है वह गांव जनपद को कई विधायक के अ लावा जिलापंचायत अध्यक्ष जिले के विकास के लिए भेज चुका है| लेकिन गांव का विकास अभी भी नही हो सका| चाहे बसपा की सरकार रही हो या फिर सपा की| बजबजाती नाली,...

Read more

यूपी पीसीएस-2011 में कैसे छाए यादवयूपी पीसीएस-2011 में कैसे छाए यादव डेस्क: उत्तर प्रदेश पीसीएस-2011 की मुख्य परीक्षा के नतीजे पिछले साल जुलाई में जब आए तो वे अपने साथ एक तूफान भी लेकर आए थे. उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की भर्तियों में लगातार धांधली का आरोप लगाते आ रहे छात्रों के सब्र का बांध अचानक टूट गया और इलाहाबाद की सड़कों पर जमकर बवाल हुआ....

Read more

तो फिर क्या सपा में केवल बाप बेटा ही रह जायेंगे? तो फिर क्या सपा में केवल बाप बेटा ही रह जायेंगे? फर्रुखाबाद: लोकसभा फर्रुखाबाद की सीट पर समाजवादी पार्टी को जनपद की चारो विधानसभाओ में से एक भी विधानसभा में इतने भी वोट नहीं मिले जितने कि उनके गृह जनपद और विधायकी वाले अलीगंज से भाजपा का प्रत्याशी बटोर लाया| इस पर भी प्रत्याशी के पुत्र सुबोध का ये तुर्रा कि गद्दार पार्टी...

Read more

देखे बूथवार मिले मत- वोटो को देख कर लगता है कि कायमगंज तक पंहुचा थोडा बहुत समाजवाद देखे बूथवार मिले मत- वोटो को देख कर लगता है कि कायमगंज तक पंहुचा... फर्रुखाबाद: वैसे तो चुनावी समीकरण मोदी की लहर में हवा हो गए है| फिर भी कायमगंज में मिले और मतों के बटवारे से एक तस्वीर तो साफ़ है कि अलीगंज से चला समाजवाद कायमगंज के कुछ बूथों तक जरुर पहुच गया| भ्रष्टाचार में लिप्त कुछ कोटेदारो और प्रधानो के दिलो में अपना बस्ता जमा हो जाने...

Read more

JNI विशेष: शिक्षामित्रो के चयन की फाइले तो हो चुकी चोरी, कैसा होगा सत्यापन

0

Posted on : 31-07-2014 | By : JNI DESK | In : EDUCATION NEWS, FARRUKHABAD NEWS, UPTET

shiksha mitraफर्रुखाबाद: शिक्षा मित्रो को यू पी सरकार की पहली सौगात मिल गयी है| भले ही सशर्त हो मगर नियुक्ति पत्र तो मिल ही गया| प्रथम चरण में 554 शिक्षा मित्रो को नियुक्ति पत्र सौपते हुए उन्हें तैनाती दे दी गयी है शिक्षा मित्रो के चेहरे खिल गए| सूखे के मौसम में एक बादल का भी आसरा बहुत होता है ये तो नौकरी का मामला है| चयनित शिक्षा मित्र अब सहायक अध्यापक के तौर पर काम करेंगे| एक साल तक परिवीक्षा के बाद ये स्थायी शिक्षक हो जायेंगे| प्रमाण पत्रो के सत्यापन के बाद इन्हे पहला वेतन भी मिलने लगेगा|

सत्यापन का पेच-
शिक्षा मित्रो के प्रमाण पत्रो के सत्यापन के साथ साथ इनके चयन का भी सत्यापन होना है| यहीं पर आकर एक बार कहानी फिर से अटकेगी| अभी तक परिषद में साफ़ तौर पर इस सबंध में कोई दशा निर्देश नहीं दिए है| वैसे नियुक्ति इतनी आसानी से हो गयी जितनी आसान लगती नहीं थी|

पिछले 8 सालो से फर्रुखाबाद के बेसिक शिक्षा में एक रिकॉर्ड बन चुका है| अफसर बिना दाग लगाए नहीं गया| एक बार आसार वैसे ही बन रहे है| शिक्षा मित्रो के शिक्षक बनने के आदेश और नियुक्ति पत्र तो धड़ाधड़ जारी किये जा रहे है मगर सत्यापन के लिए उन फर्जी शिक्षा मित्रो की पत्रवलियां कहाँ से आएँगी जिनके फर्जी होने की आशंका में दफ्तर से अलमारी तोड़ कर चोरी हुई थी| न तो अदालत और न ही उच्च अधिकारियो से इस मामले पर राय मांगी गयी है और न ही वो पत्रावलियां बरामद हो सकी है|

वाकया वर्ष 2012 का है जब शिकायत मिलने पर तत्कालीन जिलाधिकारी मुथु कुमार स्वामी ने शिक्षा मैत्री की पत्रवलियां सत्यापन के लिए कह दी| फिर क्या था डीएम के सख्त रुख को देखते हुए बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय के बाबुओं और अफसरों के हाथ पैर फूल गए| और चौहान साहब की अलमारी एक रात चोरो ने तोड़ कर पत्रवलियां चोरी कर ली| तत्कालीन डीएम मुथु कुमार स्वामी ने और भी सख्त रुख अपनाते हुए चोरी के प्रकरण के लिए जाँच समिति बनाने का आदेश किया| मगर जाँच समिति ने तत्कालीन बेसिक शिक्षा अधिकारी ने उन्ही लोगो को जाँच समिति का सदस्य बना दिया जिन पर फर्जीवाड़े में कमाई करने और उन्हें बचाने की जिम्मेदारी थी|

मामला वर्तमान में जिला बेसिक शिक्षा भगवत पटेल के समय का ही है| सत्यापन का फर्जीवाड़ा उस वक़्त डॉ कौशल किशोर के समय में हो रहा था जिस पर रोक भगवत पटेल ने ही लगायी थी| पटेल साहब की सख्ती का ही परिणाम निकला कि छोटे अफसरों और बाबुओं को अलमारी तोड़ कर चोरी जैसा कदम उठवाना पड़ा| हालाँकि ये प्रमाणिक नहीं हो सका कि चोर कौन था| मगर सारे राज जानते हुए भी शिक्षा मित्रो को नियुक्ति पत्र सौपने से पहले कोई मार्गदर्शन उच्चाधिकारियों और अदालत से नहीं लिया गया| निकट भविष्य में जब भी कोई शिकायतकर्ता आगे आएगा सवाल सौ खड़े होंगे कि शिक्षा मित्र का चयन असली था या नकली इसका मिलान कहा से होगा क्योंकि जो पत्रावलियां गायब हुई थी वे ग्राम पंचायत से ही मंगाई गयी थी| अब उन फर्जी शिक्षा मित्रो का रिकॉर्ड न ग्राम पंचायत के पास है और न ही बेसिक शिक्षा के पास?

पढ़िए दो साल पहले का मामला- फर्जी शिक्षामित्रों को बचाने के लिए बाबू ने रचा चोरी का ड्रामा, मास्टरमाइंड ही बना जांच अधिकारी
भ्रष्टाचार और गोलमाल छिपाने के लिए BSA दफ्तर में चोरी की पुरानी परम्परा

‘शिक्षामित्रों के लिए टीईटी जरूरी’? अदालत के आदेशो के सशर्त मिल रहा नियुक्ति पत्र

0

Posted on : 30-07-2014 | By : JNI DESK | In : EDUCATION NEWS, FARRUKHABAD NEWS, UPTET

uptetफर्रुखाबाद: प्रदेश सरकार भले ही बड़े पैमाने पर शिक्षामित्रों का समायोजन कर रही है, लेकिन केंद्र सरकार के अधीन मंत्रालय और शैक्षिक संस्थान प्रदेश सरकार के इस कदम से सहमत नहीं है। एनसीटीई ने जन सूचना के जवाब में कहा है कि शिक्षामित्रों को भी टीईटी की परीक्षा से गुजरना होगा। इन टिप्पणियों से भले ही अभी नियुक्ति प्रक्रिया पर असर नहीं पड़ रहा है, लेकिन कोर्ट में जो याचिकाएं लंबित हैं, इससे संघर्ष समिति को बल मिलना तय है।

प्रदेश सरकार ने शिक्षामित्रों के समायोजन के लिए बीते 19 जून को शासनादेश जारी किया था। इस प्रक्रिया में शिक्षकों की नियुक्ति की नियमावली भी बदली गई है। उसके आधार पर जुलाई महीने में जनपदवार शिक्षामित्रों की काउंसिलिंग हुई और विकल्प मांगे जा रहे हैं। 58 हजार शिक्षामित्रों को 31 जुलाई तक नियुक्ति पत्र दिया जाना है। उधर, बीटीसी संघर्ष समिति और टेट मोर्चा उत्तर प्रदेश ने समायोजन की इस प्रक्रिया को हाईकोर्ट में चुनौती दी है। बताते हैं कि इस प्रकरण में तीन अलग-अलग याचिकाओं पर सुनवाई चल रही है। वैसे कोर्ट ने अभी तक समायोजन प्रक्रिया को रोका नहीं है।

इसी बीच मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने भी एक जनसूचना के जवाब में स्पष्ट किया है कि शिक्षामित्रों की नियुक्ति में टीईटी करवाना जरूरी है, इसमें यूपी सरकार को कोई राहत नहीं दी गई है। मंत्रालय के साथ ही राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद यानी एनसीटीई ने भी इस पर मुहर लगायी है। मथुरा के तालाब शाही कोसीकलां निवासी ब्रजेश कुमार को जनसूचना के जवाब में एनसीटीई ने स्पष्ट किया है कि शिक्षामित्रों को भी टीईटी की परीक्षा से गुजरना होगा। शिक्षामित्रों में शैक्षिक गुणवत्ता लाने के लिए उन्हें प्रशिक्षित कराया जाना जरूरी है। एनसीटीई ने यह जवाब यूपी सरकार के शिक्षामित्रों की समायोजन प्रक्रिया को देखते हुए नहीं दिया है, बल्कि 2011 में ही दो टूक कहा था कि टीईटी सभी के लिए अनिवार्य है। हाल में ही उत्तराखंड हाईकोर्ट ने भी शिक्षामित्रों की नियुक्ति के लिए टीईटी को अनिवार्य बताया है। इस उठापटक से बेपरवाह प्राथमिक शिक्षा विभाग शिक्षामित्रों को नियुक्ति पत्र देने जा रहा है। माना जा रहा है कि यह काम महज दो दिन में ही पूरा हो जाएगा।

जिलो के बेसिक शिक्षा अधिकारी सरकार के आदेश पर शिक्षामित्रों के समायोजन प्रक्रिया को अंतिम रूप देने में जुटे हैं। केंद्र सरकार के मंत्रालय और शैक्षिक संस्थानों की मंशा की जानकारी नहीं है और न ही सरकार ने कोई ऐसा आदेश दिया है।फिलहाल तो शिक्षामित्र चरणवार सहायक शिक्षक बन जाएंगे’|

टीईटी की दूसरी परीक्षा नवम्बर में

0

Posted on : 28-07-2014 | By : JNI DESK | In : EDUCATION NEWS, FARRUKHABAD NEWS, UPTET

uptetडेस्क: उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी-2014) की दूसरी परीक्षा नवंबर में होने की पूरी संभावना है। इसकी तैयारियां सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय उत्तर प्रदेश, इलाहाबाद में जोरशोर से शुरू हो गयी है। यह परीक्षा पहले दिसम्बर में संभावित थी लेकिन भीषण कोहरे को देखते हुए यह परीक्षा नवंबर के दूसरे या तीसरे हफ्ते में किसी भी दिन कराने की तैयारियां चल रही है। इस बार टीईटी की परीक्षा में करीब 10 लाख अभ्यर्थियों के शामिल होने की संभावना है। टीईटी का परीक्षा परिणाम दो माह के अंदर घोषित कर अभ्यर्थियों को सार्टिफिके ट प्रदान कर दिया जायेगा। सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि दूसरी टीईटी परीक्षा कराने की तैयारियां शुरू हो गयी है। परीक्षा के लिए आनलाइन आवेदन अगस्त के तीसरे हफ्ते से लेने की तैयारियां है। वह किस तारीख से शुरू होकर, कब तक लिया जायेगा, संशोधन सहित अन्य तिथियां तय हो गयी है। बस, शासन से मंजूरी मिलते ही अभ्यर्थियों से आन लाइन आवेदन लेना शुरू कर दिया जायेगा।

वहीं दूसरी ओर प्रश्नपत्रों को तैयार करने के लिए शिक्षाविदें की टीम को लगा दिया गया है। इस बार पूरी कोशिश की जा रही है कि प्रश्नपत्र तैयार होने के बाद उसका तीन स्तरों पर परीक्षण होगा जिससे कि परीक्षा के बाद अभ्यर्थियों से आनलाइन गलत प्रश्न या उत्तर लेने की स्थिति न बनने पाये। टीईटी परीक्षार्थियों की बढ़ती हुई भीड़ को देखते हुए परीक्षा केन्द्रों पर भी विशेष निगाह रखी जा रही है। जो भी दागी विद्यालय होंगे उनको परीक्षा केन्द्र नहीं बनाया जायेगा बल्कि उनके स्थान पर नये परीक्षा केन्द्र बनेंगे। पूरी कोशिश है कि सभी परीक्षा केन्द्र शहरी क्षेत्र में हो जिससे कि प्रश्नपत्र और अफसरों को जांच के लिए पहुंचने में परेशानी न होने पाये। अभी करीब 12 हजार परीक्षा केन्द्रों के अधिग्रहण की तैयारियां चल रही है। इनको भी शीघ्र फाइनल कर लिया जायेगा।

उधर, प्रभारी सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी श्रीमती नीना श्रीवास्तव ने बताया कि टीईटी परीक्षाएं कराने की तैयारियां चल रही है लेकिन शासन को परीक्षा का प्रस्ताव अभी तक नहीं भेजा गया है। संभावना है कि परीक्षा की तिथि सहित अन्य कार्यक्रमों के लिए शासन को शीघ्र प्रस्ताव भेजा जायेगा। उन्होंने बताया कि इस बार टीईटी की परीक्षा में अभ्यर्थियों की संख्या ज्यादा रहेंगी।

बीटीसी के शेष अभ्यर्थियों की दूसरी काउंसलिंग आज :

बीटीसी के अभ्यर्थियों की सहायक अध्यापक पद पर भर्ती के लिए दूसरी काउंसलिंग सोमवार को सुबह 10 बजे से सर्व शिक्षा अभियान मम्फोर्डगंज में होगी। इलाहाबाद जिले में बीटीसी की सौ सीटें थी। शेष 28 सीटों के लिए काउंसलिंग सोमवार को होगी। बीएसए राजकुमार ने बताया कि सभी अभ्यर्थी अपने मूल शैक्षणिक प्रमाण पत्रों,उनकी छाया प्रति और रंगीन फोटो के साथ समय से काउंसलिंग में शामिल हो। अभ्यर्थियों का बीटीसी, विशिष्ट बीटीसी, बीटीसी उर्दू और टीईटी परीक्षा पास होना जरूरी है। कहा कि जो भी अभ्यर्थी समय से काउंसलिंग में शामिल नहीं होंगे उनकी नियुक्ति न हो पाने के लिए वह स्वयं जिम्मेदार होंगे। शिक्षामित्रों की तैनाती को काउंसलिंग शुरू : शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक की तरह तैनाती के लिए काउंसलिंग रविवार को सुबह 10 बजे से सर्व शिक्षा अभियान मम्फोर्डगंज में शुरू हो गयी है। पहले दिन विकलांग महिला और पुरूष अभ्यर्थियों की काउंसलिंग हुई। इन लोगों से शैक्षिक प्रमाण पत्र सहित अन्य प्रमाण पत्र जमा कराये गये। यह काउंसलिंग सोमवार और बुधवार को भी होगी। बीएसए राजकुमार ने बताया कि सभी शिक्षामित्रों की काउंसलिंग 31 जुलाई तक करने के बाद उनकी सहायक अध्यापक पद पर नियुक्ति की जानी है।

गणित-विज्ञान शिक्षकों की तीसरी काउंसलिंग शीघ्र :

जूनियर हाईस्कूल के गणित और विज्ञान की दूसरी काउंसलिंग में मेरिट अधिक होने से करीब 15 हजार से अधिक सीटे रिक्त रह गयी है। इनको भरने के लिए शीघ्र तीसरे काउंसलिंग होने जा रही। इसके तिथि की घोषणा एक-दो दिनों में हो जायेगी। बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव संजय सिन्हा ने बताया कि सभी जिलों से दूसरी काउंसलिंग का विवरण आने के बाद ही तीसरी काउंसलिंग के लिए तिथि और समय तय हो पायेगा। उन्होंने बताया कि मेरिट अधिक होने की वजह से काउंसलिंग में अधिक अभ्यर्थी शामिल नहीं हो पाये जबकि काउंसलिंग में शामिल होने के लिए पांच गुना अधिक अभ्यर्थियों को बुलाया गया था। गणित और विज्ञान के 29334 पदों के लिए पहली काउंसलिंग में 7521 अभ्यर्थी शामिल हुए थे जबकि दूसरी काउंसलिंग में भी करीब 2500 अभ्यर्थी शामिल हुए है। इस प्रकार से करीब 19 हजार गणित और विज्ञान के शिक्षकों की सीटें अभी रिक्त है। उन पर शिक्षकों की तैनाती के लिए शीघ्र काउंसलिंग होगी।

करीब 10 लाख अभ्यर्थी परीक्षा में होंगे शामिल शिक्षाविदें की टीम तैयार कर रही प्रश्नपत्रों को परीक्षा का तैयार हो रहा प्रस्ताव : प्रभारी सचिव

सरफरोसी की तमन्ना के साथ लखनऊ में आन्दोलन को तैयार टीईटी मोर्चा

6

Posted on : 27-07-2014 | By : JNI DESK | In : UPTET

TET2फर्रुखाबाद: अपनी नौकरी पाने को भटक रहे टीई टी अभ्यर्थी एक बार फिर से मायूस हुए है| उन्होंने कहा है की आने वाले 5 अगस्त को पुरे प्रदेश से टीईटी अभ्यर्थी लखनऊ पंहुच कर आन्दोलन करेगे|
शहर के बढ़पुर स्थित मिशन इंटर कालेज में टीईटी संघर्ष मोर्चा ने बैठक की जिसमे मोर्चा के अध्यक्ष धीरेन्द्र वर्मा ने कहा की 72 हजार शिक्षको की भर्ती में प्रत्यावेदन लेने के बाद सरकार ने धोखा दिया है| दूसरी तरफ डायट में अभी भी काम शुरू नही नहो सका|
राकेश मिश्रा व रविन्द्र दिवाकर की अगर सरकार जंद ही कोई तारीख काउंसलिंग के लिए नही दी गयी तो हम लोग विधान सभा का घेराव करेगे|
इस दौरान अनुज कटियार, मुनीश सिंह, अलोक पाल, सतीश पाण्डेय, प्रदीप पांडे, आशीष तिवारी आदि लोग मौजूद रहे|

द्रोपदी का चीर बनेगी 72 हजार बी.एड शिक्षक भर्ती

3

Posted on : 25-07-2014 | By : JNI DESK | In : FARRUKHABAD NEWS, UPTET

up tet 2013डेस्क: (सुगंध गंगवार): अब द्रोपदी का चीर बनेगी 72 हजार बी.एड शिक्षक भर्ती लगभग तीन वर्षो से मुंगेरीलाल के हसीन सपने दिखाने बाली 72 हजार बी.एड. बेरोजगार शिक्षकों की भर्ती सुप्रीमकोर्ट के आदेश के बाद अव द्रोपदी का चीर बनते साफ नजर आने लगी है ऐसा शासन की मज़बूरी से स्पष्ट भी होता नजर आ रहा है|

विदित हो की पिछली सरकार द्वारा इन बेरोजगारों को टी.इ.टी. मेरिट पर चयन करने का आदेश जरी हुआ जिसमे काफी घपलेबाजी की आशंका को संज्ञान में लेते हुए बर्तमान में नयी सरकार में शैक्षणिक मेरिट पर भर्ती करने का आदेश दिया जिसके खिलाफ बेरोजगारों ने न्यायालय की शरण ली और सर्वोच्य न्यालय में टी.इ.टी. मेरिट पर भर्ती का आदेश दिया किन्तु बर्तमान सरकार ने तकनीकी गड़बड़ी का बहाना करके पुना इन बेरोजगारों से प्रत्याबेदन जमा करने को कहा जिसके कारण इन लाखों बेरोजगारों को बिभिन्न डायटो पर जाकर
प्रत्याबेदन देने पड़े काफी धन व् पैसा बर्बाद हुआ इतना ही नहीं यदि मूल रिकार्ड से इस बी.एड. 72 हजार बेरोजगारों के प्रमाण पत्रों का सही ढंग से सत्यापन हुआ तो भी हजारों की संख्या में फर्जी टी.इ.टी. पास उजागर होंगे और पुनः शासन की लापरबाही/ तकनीकी गड़बड़ी से
पात्र बेरोजगारों का चयन न हो सका तो उसे पुना न्यायलय की शरण लेंगे और अभी तक मुंगेरी लाल के हसीन सपने दिखाने बाली 72 हजार बी.एड. शिक्षक भर्ती भबिष्य के लिए द्रोपदी का चीर बनेगी|