Featured Posts

सियासी आकाओं की परिक्रमा में जुटे टिकट के दावेदार! फर्रुखाबाद:लोक सभा की चुनावी आहट शुरू होने के साथ ही सियासी सरगर्मियां बढ़ गई है। जिले का सांसद बनने का सपना देखने वाले लोग अपने राजनैतिक आकाओं की परिक्रमा करने में जुट गये है। वैसे तो सपा,भाजपा,बीएसपी आदि के बैनर तले कई लोग चुनाव लड़ने के इच्छुक है मगर सबसे बड़ी फेहरिस्त...

Read more

गणतंत्र की वर्षगांठ का उल्लास,तिरंगे से सजी दुकानेंगणतंत्र की वर्षगांठ का उल्लास,तिरंगे से सजी दुकानें फर्रुखाबाद:गणतंत्र दिवस को लेकर पूरा शहर तिरंगे रंग में रंगा नजर आ रहा है। गणतंत्र दिवस की वर्षगांठ की रौनक शहर में नजर आने लगी है। बड़े व्यवसायियों और ठेली व्यापारियों ने अपनी दुकान तिरंगे, दुपट्टों, मालाओं, पतंगों से रंग दिया है। बाजार में केसरिया, सफेद और हरे रंग से बने...

Read more

जेएनआई विशेष: कुम्भ में बढ़ी फतेहगढ़ सेन्ट्रल जेल के भगवा झोलों की डिमांडजेएनआई विशेष: कुम्भ में बढ़ी फतेहगढ़ सेन्ट्रल जेल के भगवा झोलों... फर्रुखाबाद:(दीपक-शुक्ला)सेन्ट्रल जेल फतेहगढ़ में बनने वाले झोले आदि सामान तो वैसे भी मजबूती के मामले में बेजोड़ माना जाता है| लेकिन आम जनमानस में इसकी खरीददारी को लेकर साधन उपलब्ध नही है| लेकिन इसके बाद भी उसको खरीदने की चाहत लोगों के जगन में रहती है| अब कारोबार कम है लेकिन...

Read more

महिलाओं का प्रतिशत कम देख नोडल अधिकारी खफामहिलाओं का प्रतिशत कम देख नोडल अधिकारी खफा फर्रुखाबाद: अपने निरीक्षण में महिलाओं की संख्या गाँव के पुरूषों से काफी कम देख नोडल अधिकारी खफा हो गये| उन्होंने कहा की सरकार बेटी-बचाओं और बेटी पढाओ पर अपना पूरा जोर दे रही है| लेकिन इस गाँव में पुरुष वर्ग की अपेक्षा महिलाओं का प्रतिशत चिंता का विषय है| उन्होंने अधिकारियों...

Read more

कोटेदारों का खाद्यान्न उठाने से साफ़ इंकारकोटेदारों का खाद्यान्न उठाने से साफ़ इंकार फर्रुखाबाद:अपनी मांगों को लेकर लगातार संघर्ष कर रहे जिले के कोटेदारों ने अब राशन उठान ने मना कर आन्दोलन की राह पकड़ ली है| जिसके चलते कोतेदारों ने साफ़ कह दिया की जब तक उनकी मांगो पर विचार नही होगा तब तक वह राशन नही उठायेंगे| नगर के ग्राम चाँदपुर में आयोजित हुई उचितदर विक्रेताओं...

Read more

छुट्टा गोवंश के भरण-पोषण को 78.5 करोड़ की मंजूरीछुट्टा गोवंश के भरण-पोषण को 78.5 करोड़ की मंजूरी लखनऊ:छुट्टा गोवंश के रखरखाव के लिए चरागाह की जमीनों का इस्तेमाल किया जा सकेगा। इसके लिए ग्राम सभा की भूमि प्रबंधक समिति किसी गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) या कॉरपोरेट घराने से अनुबंध कर सकती है। वहीं पशु आश्रय स्थलों की स्थापना चरागाह की जमीन से हटकर अनारक्षित श्रेणी की भूमि...

Read more

सामूहिक बलात्कार के बाद तीन दरिंदों ने उतारा था गोल्डी को मौत के घाटसामूहिक बलात्कार के बाद तीन दरिंदों ने उतारा था गोल्डी को... फर्रुखाबाद:(अमृतपुर)बीते दिन खेत में दुष्कर्म के बाद हत्या किये जाने की घटना ने पूरे जिले में सनसनी फैला दी थी| घटना के बाद से एसपी ने क्षेत्र में डेरा जमा लिया था| 24 घंटे के भीतर घटना करने के आरोपियों में से दो को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया| जबकि एक फरार आरोपी पर ईनाम भी रखा...

Read more

खास खबर:यह शख्स रोज करता परिंदों की मेहमान नवाजीखास खबर:यह शख्स रोज करता परिंदों की मेहमान नवाजी फर्रुखाबाद:(दीपक शुक्ला)ऋषि-मुनि, संत-महात्मा सही कह गए हैं कि पशु-पक्षियों को दाना-पानी खिलाने से मनुष्य के ज‍ीवन में आने वाली कई परेशानियों से छुटकारा बड़ी ही आसानी से मिल जाता है। एक ओर ईश्वर की भक्ति के कृपा पात्र बनते हैं वहीं हमें अच्छे स्वास्थ्य के साथ ही पुण्य-लाभ...

Read more

मिक्सी ने मिस कर दिया सिल-बट्टा के मसालों का स्वादमिक्सी ने मिस कर दिया सिल-बट्टा के मसालों का स्वाद फर्रुखाबाद:(दीपक-शुक्ला)पुराने समय में खाना पकाने के लिए मसाले पीसने के लिए ओखली-मूसल और सिल बट्टा का इस्तेमाल किया करते थे। बेशक इन चीजों में मसाला पीसने में मेहनत और समय दोनों खर्च होते थे लेकिन खाने का जो स्वाद आता था, यब बात आपके परिजन अच्छी तरह जानते होंगे। आजकल लोगों...

Read more

प्रियंका गांधी के सियासी ब्रह्मास्त्र के सहारे यूपी के रण में उतरी कांग्रेस

0

नई दिल्ली:प्रियंका गांधी वाड्रा को सक्रिय राजनीति में उतारने का ऐलान कर कांग्रेस ने 2019 लोकसभा चुनाव 2019 के रण में अपना सबसे बड़ा सियासी ट्रंप कार्ड चल दिया है। कांग्रेस महासचिव के रूप में सियासत में उतरीं प्रियंका गांधी को पूर्वी उत्तरप्रदेश का प्रभारी बनाया गया है। सूबे में अगड़ी जातियों विशेषकर ब्राह्मणों को साधने की रणनीति के तहत कांग्रेस ने प्रियंका पर यह दांव लगाया है।
प्रियंका को पूर्वी उत्तरप्रदेश की कमान सौंप कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सीधे सियासी चुनौती देने का साफ संदेश दिया है। प्रियंका को सियासी मैदान में उतारे जाने को कांग्रेस के फ्रंट फूट पर खेलने की रणनीति बता राहुल गांधी ने पार्टी के इन इरादों को जाहिर भी कर दिया। प्रियंका के अलावा ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी पहली बार कांग्रेस महासचिव बनाते हुए उन्हें पश्चिमी उत्तरप्रदेश का प्रभारी बनाया गया है। इन दोनों युवा चेहरों को सियासी रण में उतारकर कांग्रेस ने केवल भाजपा ही नहीं सपा-बसपा के मजबूत माने जा रहे गठबंधन की भी राजनीतिक चुनौती बढ़ा दी है।
राहुल गांधी ने उत्तरप्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन में जगह नहीं मिलने से परेशान कांग्रेस नेताओं-कार्यकर्ताओं को प्रियंका की सियासी एंट्री का ‘टॉनिक’ भी दे दिया है। प्रियंका के सीधे राजनीति में आने की चर्चाएं वैसे तो लंबे समय से होती रही हैं मगर कांग्रेस और राहुल के लिए यह सबसे निर्णायक और नाजुक समय है।भाजपा और सपा-बसपा गठबंधन की लड़ाई में चुनावी अखाड़े से बाहर होने की चुनौती का सामना कर रही कांग्रेस के लिए प्रियंका का ट्रंप कार्ड चलने के सिवाय कोई दूसरा विकल्प नहीं था। इसीलिए बुधवार को राहुल गांधी ने उधर अमेठी दौरे की शुरूआत की तो इधर दिल्ली में उसी वक्त कांग्रेस ने प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया को महासचिव बनाने की घोषणा की।
कांग्रेस के पुराने परंपरागत ब्राह्मण और अगड़ी जातियों को जोड़ने के साथ प्रियंका व सिंधिया के जरिए पार्टी ने सूबे के युवा वोटरों को भी साधने की रणनीति का संकेत दिया है। नई उम्मीदों से परिपूर्ण संवेदनशील भारत के लिए उत्तरप्रदेश को मुख्य धूरी बताते हुए राहुल ने अपने ट्वीट में प्रियंका व ज्योतिरादित्य की नियुक्ति को उम्मीदों की सियासत से जोड़ा।
उन्होंने कहा कि प्रियंका और ज्योतिरादित्य के नेतृत्व में एआईसीसी की नई टीम उत्तरप्रदेश में एक नई तरह की राजनीति का आगाज करेगी। कांग्रेस उत्तरप्रदेश के युवाओं को सूबे में परिर्वतन का एक नया गतिशील व प्रभावशाली प्लेटफार्म देगी। राहुल के बयान से साफ है कि सामाजिक समीकरणों को साधने के अलावा कांग्रेस का प्रियंका कार्ड युवा वोटरों को केंद्र में रखते हुए चला गया है।प्रियंका गांधी को पूर्वी उत्तरप्रदेश की कमान सौंपना केवल इस लिहाज से अहम नहीं कि पीएम मोदी का चुनाव क्षेत्र वाराणसी और योगी आदित्यनाथ की सियासी कर्मभूमि गोरखपुर इसमें आते हैं। पूर्वाचल इसलिए भी अहम है कि ब्राह्मण मतदाताओं की निर्णायक भूमिका वाले इस इलाके की आजमगढ़ को छोड़कर लगभग सभी सीटें 2014 में भाजपा और उसके सहयोगी दलों ने जीती थी।
ऐसे में प्रियंका के लिए भी भाजपा की जमीनी पकड़ और सपा-बसपा के सामाजिक समीकरणों की ताकत में सेंध लगाते हुए उत्तरप्रदेश में कांग्रेस की वापसी कराना आसान चुनौती नहीं है। खासकर यह देखते हुए कि प्रियंका रायबरेली और अमेठी से आगे सियासी रूप से सक्रिय नहीं रही थीं। मगर अब इन दोनों सीटों समेत करीब 40 लोकसभा सीटों की सीधी जिम्मेदारी उन पर होगी। इन सीटों पर 2019 में कांग्रेस का चुनावी प्रदर्शन जाहिर तौर पर प्रियंका के लिए भी राजनीति में आने के तत्काल बाद की सबसे बड़ी परीक्षा है। प्रियंका ट्रंप कार्ड के साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया को बतौर महासचिव पश्चिमी उत्तरप्रदेश का प्रभारी बनाकर राहुल गांधी ने सूबे की अपनी चुनावी रणनीति को धार तो दी ही है। साथ ही सिंधिया को महासचिव के रूप में ही उत्तरप्रदेश जैसे बड़े राज्य में जिम्मेदारी से साफ है कि मध्यप्रदेश के चुनाव अभियान में अहम रोल के लिए उन्हें यह सियासी प्रमोशन मिला है।
मध्यप्रदेश के चुनाव में सिंधिया कांग्रेस के सबसे ज्यादा भीड़ जुटाऊ नेता के रूप में उभरे खासकर युवा तबके में उनकी लोकप्रियता ज्यादा दिखी। इस नई चुनावी टीम के साथ ही राहुल ने गुलाम नबी आजाद की उत्तरप्रदेश से छुट्टी कर दी और अब वे हरियाणा कांग्रेस के प्रभारी महासचिव बनाए गए हैं। इसी तरह राजस्थान का मुख्यमंत्री बन चुके अशोक गहलोत को भी महासचिव पद से मुक्त कर उनकी जगह संगठन महासचिव की अहम जिम्मेदारी केसी वेणुगोपाल को सौंपी गई है। वेणु कर्नाटक के प्रभारी महासचिव भी बने रहेंगे।
रायबरेली से चुनाव लड़ने का विकल्प खुला
प्रियंका गांधी के राजनीति के मैदान में उतरने के साथ ही उनके 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ने की चर्चाएं भी शुरू हो गई है। कांग्रेस के राजनीतिक गलियारे में इस बात की चर्चा गर्म है कि यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी स्वास्थ्य कारणों से यदि चुनाव नहीं लड़ने का फैसला करती हैं तो फिर रायबरेली से प्रियंका लोकसभा चुनाव में उतर सकती हैं। हालांकि प्रियंका के चुनाव लड़ने पर अंतिम फैसला सोनिया गांधी के निर्णय के आधार पर ही लिया जाएगा। लेकिन यह तय है कि प्रियंका चुनाव में तभी उतरेंगी जब सोनिया गांधी चुनाव नहीं लड़ने का फैसला करेंगी।

कोटेदारों का आंदोलन और उग्र होने के आसार!

0

Posted on : 23-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद:कोटेदार अपनी मांगों को लेकर अनिश्चित कालीन हड़ताल पर है| जिसके चलते जिले भर की राशन दुकानों के साथ ही गोदामों पर भी ताले लटके रहे| जिला प्रशासन व शासन से अभी तक कोई संकेत ना मिलने से आन्दोलन और उग्र होने के आसार लग रहे है|
आल इंडिया फेयर प्राईज शॉप डीलर फेडरेशन व फेयर प्राईज शॉप डीलर एसोसिएशन के बैनर तले जिले भर के कोटेदार 6 सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे है| उनकी हड़ताल का बुधवार को तीसरा दिन था| कोटेदारों की हड़ताल से गाँव-गाँव राशन नही पंहुच पा रहा है| कोटेदार गोदामों से राशन उठान का विरोध कर गोदामों की निगरानी में लगे है|
उचित दर विक्रेताओं की मांग है की लाभांश 70 रुपये प्रति कुंटल दिया जाता है| उसे बढाकर 200 रूपये कुंतल किया जाये| सभी उचित दर विक्रेताओं को 25 हजार रुपये मानदेय दिया जाये व कमीशन झारखंड व छत्तीसगढ़ राज्य की तरह दिया जाये| 2001 से 2016 तक का भाड़ा कोटेदारों को नही दिया गया। मांगों के पूरा न होने तक जनपद के सभी उचित दर विक्रेता 21 जनवरी से खाद्यान्न उठान का बहिष्कार करेंगे। जब तक विभागीय अधिकारियों द्वारा मांगें स्वीकार नहीं कर ली जाती तब तक खाद्यान्न का बहिष्कार चालू रहेगा।
कोटेदारों ने सातनपुर राशन गोदाम के साथ ही साथ राजेपुर,मोहम्मदाबाद,नवाबगंज सहित व्लाक के राशन गोदामों पर प्रदर्शन कर बंदी रख साथियों की निगरानी भी की| अभी तक कोई ठोस कदम जिला प्रशासन की तरफ से ना उठने से कोटेदारों का आन्दोलन उग्र होने का आसार बन गये है| जिलाध्यक्ष अनिल तिवारी,राकेश राजन,अशोक सिंह,राजेश,नीलेंद्र दुबे,अजीत पाण्डेय,रवि दुबे,रावेन्द्र सिंह आदि रहे|
कार्यवाहक जिला पूर्ति अधिकारी (एआरओ) अखिलेश शर्मा ने जेएनआई को बताया की अभी शासन से कोई निर्देश नही आया है| कोटेदारों से बातचीत चल रही है| कोटेदारों की मांगे शासन स्तर की है| जल्द रास्ता निकाला जायेगा|

वन्देमातरम यात्रा के दौरान लगे पाक मुर्दाबाद के नारे

0

Posted on : 23-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, धार्मिक, सामाजिक

फर्रुखाबाद:प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी वंदेमातरम् यात्रा सुभाष चन्द्र बोस की जयंती पर नगर मे निकाली गयी| यात्रा में जगह-जगह उत्साहित कार्यकर्ताओं ने पाक मुर्दाबाद के गगनचुंबी नारे लगाये| यात्रा का जगह-जगह पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया|
यात्रा का शुभारम्भ नगर के पांडेश्वर नाथ मन्दिर से गाजे-बाजे के साथ हुआ| हाथ में तिरंगा व भगवा झंडा लिए युवा डीजे पर बज रहे भक्ति गीतों में सराबोर नजर आये| यात्रा रेलवे रोड से होते हुए चौक,लोहाई रोड,नाला मछरट्टा,गुदडी,पक्का पुल से चौकव घुमना,लाल दरवाजा होते हुए स्वराज कुटीर में समाप्त हुई| यात्रा में बड़ी संख्या में बाइक सबारों ने हिस्सा लिया| यात्रा में भारत माता की झांकी,सुभाष चन्द्र बोस की झांकी के साथ संतों का रथ मुख्य आकर्षण का केंद्र रहा| जिस पर जगह-जगह पुष्प वर्षा भी हुई| संगठन के प्रदेश अध्यक्ष पियूष कान्त वर्मा ने कहा कि सुभाश चन्द्र बोस सभी के लिए आदर्श होने चाहिए| देश के प्रतिएक नागरिक को राष्ट्र भक्ति की राह पर चलना चाहिए|
कासगंज का चंदन हत्याकांड पुलिस को रहा याद
बीते वर्ष कासगंज में 26 जनवरी को तिरंगा यात्रा के दौरान हुई हिंसा में मारे गए चंदन गुप्ता के बाद कासगंज सहित पूरे देश में माहौल तनाब पूर्ण हो गया था| इसी को ध्यान में रखकर नगर में जिस समय वंदेमातरम् यात्रा गुजर रही थी| तो पुलिस के साथ ही पीएसी के जबान,सीओ सिटी रामलखन सरोज व प्रभारी निरीक्षक राजेश पाठक,महिला दरोगा स्वेता शर्मा के साथ ही टीआई देवेश कुमार मोर्चा पर डटे रहे| यात्रा के दौरान पुलिस पूरी तरह से सक्रिय रही| प्रभारी निरीक्षक ने पटाखे चलाने और विवादित गीतों पर पाबंदी लगाने का प्रयास भी किया| जिस पर हिन्दू महासभा के नेताओं से नोक झोंक भी हुई|
यात्रा से लगा शहर में भीषण जाम
नगर में हिन्दू महासभा द्वारा निकाली गयी वंदेमातरम् यात्रा के दौरान भारी भीड़ के चलते नगर में मुख्य मार्गो पर जाम के हालात रहे| आवास विकास से लेकर पक्के पुल तक कई जगह जाम के हालात रहे| जिससे पुलिस को ट्राफिक व्यवस्था दुरस्त करने के लिए काफी मसक्कत करनी पड़ी|
मुख्यअतिथि सत्यदेव जी महाराज,संत ईश्वर दास,विशिष्ट अतिथि डॉ० सुनिन्दा महाराज,प्रदेश अध्यक्ष पियूष कान्त वर्मा,प्रदेश उपाध्यक्ष राजेश मिश्रा,व्लाक प्रमुख डब्बन दुबे,जिलाध्यक्ष विमलेश मिश्रा,सौरभ मिश्रा,किशन मिश्रा,दिनेश मिश्रा,बबलू गुप्ता,नरेंद्र मिश्रा,सुरेन्द्र पाण्डेय,सत्यव्रत पाण्डेय ,अंकित तिवारी, संजय गर्ग,राजू दीक्षित,पंकज पाल,राजू गुप्ता,आशू मिश्रा,अभय जनसेवक आदि रहे|

सुभाष चन्द्र बोस के आदर्शों को जीवन में उतारें युवा

0

फर्रुखाबाद:अन्तराष्ट्रीय न्यायिक मानवाधिकार संरक्षण की तरफ से नेता जी सुभाष चन्द्र बोस की 122 वी जयंती को मनाया गया| उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया| इस दौरान सुभाष चन्द्र बोस के जीवन को युवाओं को अपने जीवन में उतारने की नसीहत दी गयी|
नगर के बद्री विशाल कालेज में संगठन के कार्यकर्ता एकत्रित हुए उन्होंने सुभाष चन्द्र बोस की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया| इसके साथ ही साथ तुम मुझे खून दो-मै तुम्हे आजादी दूंगा के नारे को भी लगाया गया| संगठन ने कहा की बोस में देश भक्ति कूट-कूट कर भरी थी| युवाओं को सुभाष चन्द्र बोस के विचार को अपने जीवन में उतारने की जरूरत है| पदाधिकारियों ने कहा कि क्रांतिकारियों और महापुरुषों के बलिदान को कभी भुलाया नही जा सकता|
इस दौरान पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष मुनीश मिश्रा,अतुल मिश्रा,आदित्य दीक्षित,राममुरारी शुक्ला,रवि वाजपेयी,शिवम शुक्ला,रानू जाटव,रामजी मिश्रा आदि रहे|

कोर्ट में तारीख पर आये युवक की मौत

0

Posted on : 23-01-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, जिला प्रशासन

फर्रुखाबाद:अपने एक पुराने विवाद के चलते न्यायालय तारीख पर आये युवक की अचानक मौत हो गयी| वह बीते दो दिन पूर्व किसी नुकीली वस्तु से हमला होने से जख्मी भी था| पिता की तहरीर पर पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया|
कोतवाली फतेहगढ़ क्षेत्र के लोको रोड दुर्गा कालोनी निवासी अनूप गुप्ता उर्फ़ अन्नू पुत्र आम्रेंद्र कुमार बुधवार को फतेहगढ़ न्यायालय आया था| एडीजे कोर्ट के निकट से गुजर रहा था तभी उसकी हालत बिगड़ गयी| उसको उल्टी हुई और उसकी मौत हो गयी| घटना के सम्बन्ध में मृतक अनूप के पिता आम्रेंद्र ने पुलिस को तहरीर दी|
तहरीर में कहा है कि बीते 21 व 22 जनवरी की रात आकाश जाटव पुत्र सुभाष जाटव ने उसके पुत्र पर किसी नुकीली चीज ने हमला किया था| जिससे उसके चोट आयी थी| घटना की सूचना मिलने पर एएसपी त्रिभुवन सिंह,प्रभारी निरीक्षक रजनेश चौहान आ गये| पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया|

[bannergarden id="12"]