Featured Posts

केंद्र और राज्य में अलग अलग सरकारों से उत्तर प्रदेश में इ-गवर्नेंस को लग रहा पलीताकेंद्र और राज्य में अलग अलग सरकारों से उत्तर प्रदेश में इ-गवर्नेंस... फर्रुखाबाद: केंद्र और राज्य सरकार में अपने अपने कामो को प्रचारित करने के चक्कर में उत्तर प्रदेश में इ-गवर्नेंस की ऐसी तैसी हो रही है| इसका खामियाजा उत्तर प्रदेश के 2 लाख से ज्यादा लोकवाणी/जन सेवा केंद्र संचालकों के साथ साथ जनता भी भुगत रही है| राज्य सरकार द्वारा संचालित...

Read more

रेल मंत्रालय ने टिकट बुक करने के लिए आधार कार्ड को किया अनिवार्य!रेल मंत्रालय ने टिकट बुक करने के लिए आधार कार्ड को किया अनिवार्य! भारतीय रेल मंत्रालय ने रेल यात्रा के लिए टिकट बुक करने की प्रक्रिया के दौरान आधार कार्ड को अनिवार्य कर दिया है। रेल मंत्रालय के अनुसार, यात्री के टिकट के साथ आधार को लिंक करने की तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं। यह योजना साल 2013 से रेलवे की योजनाओं के ठंडे बस्ते में है, जिसे...

Read more

सनसनी खेज खुलासा: लेडी डॉन की मौत मगर जिन्दा है मीरा जाटव फर्रुखाबाद:(कमालगंज) बीते कई दिनों से कमालगंज थाना पुलिस और बसपा नेता के नाक का बाल बनी मीरा जाटव मीरा नही बल्कि उसकी छोटी बहन नीरा थी| जेएनआई टीम ने जब कन्नौज जनपद के गुरसहायगंज मानिकपुर जाकर पड़ताल की तो हकीकत कुछ और निकली| पता चला कि मरने वाली मीरा नही बल्कि उसकी छोटी बहन...

Read more

सातों व्लाक प्रमुखों ने ली पद और गोपनीयता की शपथसातों व्लाक प्रमुखों ने ली पद और गोपनीयता की शपथ फर्रुखाबाद: जनपद के सातों व्लाको के व्लाक प्रमुखों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई गयी| सभी को क्षेत्र के विकास और आम जनता की समस्या का निदान करने के भी निर्देश दिये गये| मोहम्मदाबाद में व्लाक प्रमुख की शपथ अमित दुबे (बब्बन) ने ली| उन्हें शपथ एसडीएम सदर सुरेन्द्र सिंह ने दिलाई...

Read more

दीदी तीन और जीजा पांच आज आपको एक कथा सुनाने का मन हो रहा है। एक गांव में बलभद्दर (बलभद्र) रहते थे। क्या कहा...किस गांव में? आप लोगों की बस यही खराब आदत है...बात पूछेंगे, बात की जड़ पूछेंगे और बात की फुनगी पूछेंगे। तो चलिए, आपको सिलसिलेवार कथा सुनाता हूं। ऐसा हो सके, इसलिए एक पात्र मैं भी बन जाता हूं।...

Read more

जानिये: किस प्रदेश में कैसी है पंचायती राज व्यवस्थाजानिये: किस प्रदेश में कैसी है पंचायती राज व्यवस्था पंचायत व्यवस्था के सम्बन्ध में प्रावधान संविधान के भाग 9 में 16 अनुच्छेदों में शामिल किया गया, जो निम्न प्रकार हैं– पंचायत व्यवस्था के अन्तर्गत सबसे निचले स्तर पर ग्रामसभा होगी। इसमें एक या एक से अधिक गाँव शामिल किए जा सकते हैं। ग्रामसभा की शक्तियों के सम्बन्ध में राज्य...

Read more

यादो के झरोखे से: एक साल पहले आज के दिन क्या क्या हुआ था?यादो के झरोखे से: एक साल पहले आज के दिन क्या क्या हुआ था? अतीत कभी पीछा नहीं छोड़ता| कभी सुनहरी यादे तो कभी गम भरे पल| मगर यादे तो यादे है| अतीत से सबक लेकर कल और बेहतर किया जा सकता है| पेश है अतीत के झरोके से- आज के दिन वर्ष 2015 में क्या क्या हुआ था? और कौन कौन सी खबरे सुर्खिया बानी थी- १-मोहल्लो में गंदगी मिली तो ईओ से खुद लगवाई जाएगी झाड़ू:...

Read more

फर्रुखाबाद के 302 वर्ष: कभी पृथ्वी राज कपूर का थियेटर भी मंचन करने आया थाफर्रुखाबाद के 302 वर्ष: कभी पृथ्वी राज कपूर का थियेटर भी मंचन... फर्रुखाबाद के इतिहास में रंगमंच का भी एक स्वर्णिम अध्याय है। सन १९६२ के भारत चीन युद्ध के बाद महान अभिनेता पृथ्वीराज कपूर अपना 'पृथ्वी थियेटर' लेकर फर्रुखाबाद आये और 'किसान' ,'आहुति','दीवार' ,'पैसा'और 'पठान ' नाटक खेले। तत्पश्ात राजकीय इण्टर कालेज के शिक्षक श्री बी०बी०सिंह...

Read more

Countdown2015: पप्पू, फेंकू, खुजलीवालः इस साल नेताओं को मिले नए नाम!Countdown2015: पप्पू, फेंकू, खुजलीवालः इस साल नेताओं को मिले नए नाम! पप्पू, फेंकू, नमो, खुजलीवाल! इन लफ्जों में एक पूरी कहानी सिमटी है। किसी न किसी नेता का पूरा किरदार एक शब्द में बांध दिया गया है। यह मजाकिया भी लग सकते हैं और अपमानजनक भी। लेकिन इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि ये जुमले इस साल छाए रहे। चाहते न चाहते हुए इन्हें नजरअंदाज नहीं...

Read more

घोड़ों पर साल में करोड़ों खर्च करती है उप्र सरकारघोड़ों पर साल में करोड़ों खर्च करती है उप्र सरकार फर्रुखाबाद:घोड़ों की दौड़ पर आप ने भले ही कभी कोई दांव नहीं लगाया हो, लेकिन सरकार इन पर हर साल करोड़ों रुपये का दांव लगाती है। यह और बात है कि यह धनराशि उनके पालन-पोषण पर खर्च होती है। वह मात्र इसलिए कि उनकी दौड़ प्रतियोगिता प्रत्येक साल होती है। वरना, अब न तो घोड़ों से डकैतों...

Read more

यहां शादी से पहले लड़कों की मर्दानगी टेस्ट करतीं हैं लड़कियां

0

Posted on : 27-07-2016 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, FEATURED, POLICE, सामाजिक

men_tested_by_girlsनई दिल्ली: अकसर आपने सुना होगा कि शादी के पहले लड़का-लड़की मिलते हैं और एक-दूसरे को पसंद आने पर शादी के लिए हामी भरते हैं। लेकिन, आपने शायद ही सुना होगा कि लड़के को लड़की शादी के लिए पसंद कर ले और उसकी दुल्हन बनने के पहले मर्दानगी का सबूत मांगे।

लेकिन ऐसा होता है। एक ऐसी जगह भी है जहां लड़कियां शादी के पहले पुरुषों से उनकी मर्दानगी का सबूत मांगती हैं। आइए जानते हैं कैसे देते हैं यहां लड़के अपनी मर्दानगी का सबूत। यहां लड़के को अपनी मर्दानगी साबित करने के लिए एक गेम खेलना होता है। इसमें उन्हें शराब पीते हुए तकरीबन 120 वोल्ट का बिजली का झटका झेलना पड़ता है। यदि लड़का इस झटके को झेल जाता है तो उसे मर्द माना जाता है।

कई बार लड़कियां अपने होने वाले पति को इस गेम में शामिल करतीं हैं और उनका टेस्ट लेतीं हैं। इसमें लड़के के हाथ में मेटल का दो रॉड थमाया जाता है। शुरुआत में तो बिजली के झटके हलके होते हैं लेकिन धीरे-धीरे यह बढ़कर 120 वोल्ट तक हो जाता है। इस गेम में फेल होने वाले लड़के को नामर्द समझा जाता है।

कम उम्र के बच्चों से काम कराने पर अब होगी जेल

0

Posted on : 27-07-2016 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, जिला प्रशासन, राष्ट्रीय

child_labour_amendmenनई दिल्ली:संसद ने 14 साल से कम उम्र के बच्चों से श्रम कराने और 18 साल तक के किशोरों से खतरनाक क्षेत्रों में काम लेने पर रोक के प्रावधान वाले बालक श्रम (प्रतिषेध और विनियमन) संशोधन विधेयक, 2016 को मंगलवार को पारित कर दिया।

लोकसभा में विधेयक पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए श्रम एवं रोजगार मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने इसे ऐतिहासिक और मील का पत्थर बताया। उन्होंने कहा कि कोई भी कानून जब जमीन से जुड़ा होता है तब ही टिकता है और लोगों को इंसाफ देता है। इस विधेयक के पारित होने पर अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) की दो संधियों का अनुमोदन कर सकेंगे।

बाल श्रम को पूरी तरह से खत्म करना मकसद

श्रम मंत्री ने कहा कि इसका मकसद बाल श्रम को पूरी तरह से समाप्त करना है। इस विधेयक में 14 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए परिवार से जुड़े व्यवसाय को छोड़कर विभिन्न क्षेत्रों में काम करने पर पूर्ण रोक का प्रावधान किया गया है। यह संगठित और असंगठित क्षेत्र दोनों पर लागू होता है।

शिक्षा के अधिकार से जोड़ा गया विधेयक

इसे शिक्षा का अधिकार, 2009 से भी जोड़ा गया है और बच्चे अपने स्कूल के समय के बाद पारिवारिक व्यवसाय में घर वालों की मदद कर सकते हैं। मंत्री ने कहा कि चर्चा के दौरान यह पूरी तरह से साफ हुआ है कि सभी लोग बाल श्रम को समाप्त किए जाने के पक्ष में हैं।

राज्यसभा में पहले पारित हो चुका विधेयक

श्रम मंत्री के जवाब के बाद लोकसभा ने बालक श्रम (प्रतिषेध और विनियमन) कानून 1986 में संशोधन के प्रावधान वाले बालक श्रम (प्रतिषेध और विनियमन) संशोधन विधेयक, 2016 को ध्वनिमत से पारित कर दिया और इस बारे में कुछ सदस्यों द्वारा पेश संशोधनों को नकार दिया। राज्यसभा में यह विधेयक पहले ही पारित हो चुका है।

पारिवारिक व्यवसाय पर सरकार का रुख

बंडारू दत्तात्रेय ने परिवार से जुड़े व्यवसायों में भी 14 साल से कम उम्र के बच्चों से काम लेने पर रोक के सुझाव को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि भारत जैसे विविधितापूर्ण देश में ऐसा करना उचित नहीं होगा। उन्होंने कहा कि ऐसे कई उदाहरण हैं, जहां गरीब परिवारों में बच्चे स्कूल के समय के बाद अपने परिवार की मदद करते हैं। उन्होंने इस क्रम में अपने बचपन के अनुभवों को भी साझा किया।

‘मानसिकता बदलने की जरूरत’

कोई भी परिवार जिस पृष्ठभूमि और पेशे में है, उस परिवार का बच्चा भी उसी पेशे को अपनाये यह जरूरी नहीं है। गरीब का बच्चा भी अच्छे स्थान या पद को प्राप्त कर सकता है। इस विषय पर मानसिकता बदलने की जरूरत है। मंत्री ने कहा कि इस विषय पर संसद की स्थायी समिति के छह सुझावों को पूरी तरह से और एक सिफारिश को आंशिक तौर पर स्वीकार कर लिया गया है।

विधेयक के प्रावधानों के उल्लंघन पर कड़ी सजा

बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि इस विधेयक के प्रावधानों के उल्लंघन पर सख्त सजा का प्रस्ताव किया गया है। पहले के प्रावधानों के मुताबिक 10 हजार से 20 हजार रुपए तक का जुर्माना और तीन महीने से एक साल तक की सजा हो सकती थी। लेकिन इस संशोधन विधेयक में सजा को और सख्त करते हुए 20 हजार से 50 हजार रुपए तक जुर्माना का प्रस्ताव किया गया है।

कब, कितनी सजा

इसके साथ ही पहली बार अपराध होने पर छह महीने से दो साल की सजा का प्रस्ताव किया गया है जबकि दूसरी बार अपराध के मामले में एक साल से तीन साल तक की सजा का प्रस्ताव है।

बच्चों के कल्याण और उनके कौशल विकास पर जोर

बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि विधेयक में बच्चों के कल्याण और उनके कौशल विकास पर भी जोर दिया गया है तथा राज्य सरकारों को भी इससे जोड़ा जाएगा। उन्होंने बताया कि यह विधेयक लाने से पहले ‘बचपन बचाओ आंदोलन’ जैसे प्रतिष्ठित गैर-सरकारी संगठनों से भी विचार विमर्श किया गया।

बच्चे पढ़ाई करें काम नहीं

बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि इस विधेयक का मुख्य उद्देश्य 14 साल तक के किसी भी बच्चे का किसी कारखाने, किसी प्रतिष्ठान, किसी दुकान, किसी मॉल आदि में श्रमिक के रूप में काम करना निषेध किया गया है। इसके साथ ही विधेयक के प्रावधानों के तहत कानून को शिक्षा के अधिकार (आरटीई) कानून 2009 से जोड़ा गया है। श्रम एवं रोजगार मंत्री ने कहा कि हम चाहते हैं कि बच्चा स्कूल जाए, इसलिए हमने कानून को आरटीई से जोड़ा है।

कठिन कार्यों में श्रम निषेध

दत्तात्रेय ने कहा कि इसके जरिये 14 से 18 आयु वर्ग के बच्चों, जिन्हें किशोर कहा जाता है, की नयी परिभाषा दी गई है। इनके लिए भी कठिन कार्यो में श्रम को निषेध किया गया है।

पुनर्वास कोष का प्रावधान

मंत्री ने कहा कि इसमें कानून का उल्लंघन करने वालों के लिए कड़े दंड का प्रावधान किया है। इसके उल्लंघन को संज्ञेय अपराध बनाया गया है। इसके साथ ही बच्चों के लिए पुनर्वास कोष का प्रावधान किया गया है जिसे बालक किशोर कोष कहा गया है।

छात्राओ को सम्मानित करेंगी अभिनेत्री पूनम ढिल्लो

0

Posted on : 27-07-2016 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, सामाजिक

punam12फर्रुखाबाद: शहर के आवास विकास स्थित कृष्णा देवी डिग्री कालेज में सिने अदाकार पूनम ढिल्लो पंहुचकर मेधावी और नये प्रवेश लेनें वाली छात्राओ को सम्मानित करेगी| अभिनेत्री के आने को लेकर छात्राओ में काफी उत्साह है |

डॉ० जितेन्द्र यादव के डिग्री कालेज में अभिनेत्री के आने की खबर से छात्राओं में अलग ही उत्साह देखने को मिल रहा है| जनपद में पहली बार आ रही अभिनेत्री पूनम नव प्रवेशित एवं मेधावी छात्राओं के विशाल सम्मान समारोह में छात्राओ को सम्बोधित भी करेगी| सम्मानित होने वाली छात्राओ की सूची भी तैयार कर ली गयी है | जनपद में यह पहली बार हो रहा है जब अभिनेत्री किसी कालेज में पंहुच रही है| डॉ० जितेन्द्र यादव ने कहा है कि इस कार्यक्रम से विधालय में पढने वाली छात्राओ को प्रेरणा मिलेगी| जिससे वह सम्मान लेने के लिये भी मन लगाकर पढाई भी करेगी|

जब ट्रैफिक हवलदार ने रोक दी नरेंद्र मोदी की कार

0

Posted on : 27-07-2016 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Narendra Modi, Politics, Politics-BJP

kissa_narendra_modi12दिल्ली: यह किस्सा बहुत प्रचलित है कि एक बार देश की पहली महिला आईपीएस किरण बेदी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की दिल्ली में गलत जगह खड़ी कार को क्रेन से उठवा दिया था। तबसे मीडिया में उनका नाम ‘क्रेन बेदी” पड़ गया। ऐसा ही एक किस्सा वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़ा हुआ है।

ये उस समय की बात है जब मोदी भाजपा प्रभारी हुआ करते थे और अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री। तब भोपाल में एक ट्रैफिक हवलदार ने मोदी की कार रोक दी थी, बदले में मोदी ने मुस्कराकर शाबाशी वाले अंदाज में हौसलाअफजाई की थी।हुआ यूं था कि 1998 में मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव थे और जगदलपुर (छग तब अलग नहीं हुआ था) में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटलजी की सभा थी। सभा में भाजपा प्रभारी नरेंद्र मोदी भी पहुंचे थे।

सभा के बाद उन्हें भोपाल आना था, इसलिए वे रायपुर से एक छोटे विमान में सवार हुए और भोपाल हवाई अड्डे पर उतरे। यहां वे भाजपा कार्यालय द्वारा भेजी गई एम्बेसेडर में सवार हुए।रास्ते में हमीदिया अस्पताल के पास अचानक ट्रैफिक हवलदार ने उनकी कार रोक दी। पता चला कि मध्य प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का काफिला निकल रहा है इसलिए ट्रैफिक रोका है।

चूंकि मोदी भी कम कद्दावर नहीं थे इसलिए उनके ड्राइवर ने हवलदार से कहा ‘कार में भाजपा प्रभारी नरेंद्र मोदी बैठे हैं।” लेकिन हवलदार टस से मस नहीं हुआ और उसने कार को नहीं जाने दिया।काफिला गुजरने के बाद जब ट्रैफिक खुला तो मोदी ने कार में से ही हवलदार को सही ड्यूटी के लिए शाबाशी दी और मुस्कराकर उसका हौसला बढ़ाया।

राजेपुर के एबीआरसी को पीटकर बाइक लूटी

0

Posted on : 26-07-2016 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics-CONG.

luut 65फर्रुखाबाद:(नवाबगंज) विकास खंड राजेपुर के एबीआरसी सुरेश सिंह यादव की बाइक बदमाशो ने मारपीट कर लूट ली| वह कानपुर से आ रहे अपने पुत्र को लेने मोहम्मदाबाद जा रहे थे|

सोमबार की रात मोहम्मदाबाद के ग्राम सिरोली निवासी सुरेश सिंह कानपुर से आ रहे अपने पुत्र मयंक यादव को लेने मोहम्मदाबाद जा रहे थे| तभी ग्राम सिरोली के निकट नगला जोगियान के निकट सुरेश के सामने बदमाशो ने बाइक लगा दी थी| दो युवको ने सुरेश को दबोच कर मारपीट शुरू कर दी| जब तक वह कुछ जान पाते तब तक बदमाशो ने जेब की तलाशी ली| जब जेब में कुछ नही मिला तो आरोपी बाइक लूट कर मोहम्मदाबाद की तरफ भाग गये|

उन्होंने सूचना परिजनों को दी| पुलिस को भी सूचित किया| बाइक लूट की सूचना मिलने पर थानाध्यक्ष नरेन्द्र गौतम फ़ोर्स के साथ मौके पर पंहुचे| उन्होंने कार्यवाही का भरोसा दिया| थानाध्यक्ष ने बताया की तहरीर मिलने पर कार्यवाही की जायेगी|

[bannergarden id="12"]