Featured Posts

समाजवादी पत्रकार दाह-संस्कार एवं राहत योजना लागू, पढ़े नियम व् शर्तेसमाजवादी पत्रकार दाह-संस्कार एवं राहत योजना लागू, पढ़े नियम... पत्रकारों पर लगातार हो रहे जानलेवा हमलों से हत-आहत लोगों के लिए एक नायाब राहत योजना शुरू की गई है। सूचना विभाग द्वारा लागू की गई इस योजना का नाम "उप्र समाजवादी पत्रकार दाह संस्कार एवं राहत योजना" दिया गया है। इस योजना को उप्र मान्यता पत्रकार समिति के शीर्ष पदाधिकारियों...

Read more

100 दिनों में खुले 1 लाख डिजीटल लॉकर, फर्रुखाबाद में भी सुविधा उपलब्ध100 दिनों में खुले 1 लाख डिजीटल लॉकर, फर्रुखाबाद में भी सुविधा... डेस्क: देश में 100 दिनों के अंदर करीब एक लाख लोगों ने बैंकों में डिजिटल लॉकर खुलवाए हैं। यह जानकारी संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति में दी। डिजिटल इंडिया विजन के कई पहलों में से एक डिजिटल लॉकर का उद्देश्य कागजी दस्तावेज का इस्तेमाल बंद करना है।...

Read more

अध्यापक राज्य पुरस्कार के लिए कैसे कैसे मास्टर हुए दीवाने फर्रुखाबाद: बच्चो को स्कूल में पढ़ाने से ज्यादा परिषदीय अध्यापको को खुद को चमकाने और वेतन पाने की इच्छा रहती है| बच्चे पढ़े न पढ़े, इनाम मिल जाए, नाम हो जाए तो कुछ काम बन जाए| फर्रुखाबाद से जिन चार अध्यापको में राज्य अध्यापक पुरस्कार के लिए अपना अपना आवेदन किया है उनमे से किसी...

Read more

सोशल मीडिया पर उद्योग व्यापार संगठन के जिलाध्यक्ष ने दी अश्लील गलियां- जिस माँ. ..चो.. ने निष्कासन .सोशल मीडिया पर उद्योग व्यापार संगठन के जिलाध्यक्ष ने दी अश्लील... फर्रुखाबाद: उत्तर प्रदेश में समाजवादी नेताओ द्वारा गालियां देने का दौर चल रहा है| प्रदेश के शिक्षा मंत्री एक मिनट में 76 माँ बहन की गन्दी गन्दी गालियां देकर रिकॉर्ड बना रहे है तो फर्रुखाबाद के नेता भी कमतर नहीं है| कुछ महीनो पहले समाजवादी पार्टी के सानिध्य और संरक्षण में...

Read more

जब जागे तभी सवेरा- छुट्टियों में मिड डे मील बनाने की बाध्यता खत्मजब जागे तभी सवेरा- छुट्टियों में मिड डे मील बनाने की बाध्यता... फर्रुखाबाद: वातानुकूलित कमरो में बैठ चिलचिलाती गर्मी के लिए सपने बुनना काफी कठिन काम है| आमतौर पर इस प्रकार की योजनाये अपने अंजाम तक नहीं पहुचती है| सरकार को खुश रखने और लेखा जोखा की चूल से चूल मिलाने में कवायद तो करनी ही पड़ती है| जेएनआई ने सोमवार 25 जून 2015 को ही लेख प्रकाशित...

Read more

छुट्टियों में मिड डे मील का सच, सरकार से मास्टर साहब तक की अपनी अपनी मजबूरियांछुट्टियों में मिड डे मील का सच, सरकार से मास्टर साहब तक की अपनी... हर वर्ष उत्तर प्रदेश में गर्मियों की छुट्टियों में सरकारी स्कूलों में बाटने वाले मुफ्त के मिड डे मील के जारी रखने का फरमान होता है| ज्यादातर सूखा पद जाने के कारण| हालाँकि इस बार सूखा नहीं पड़ा बल्कि मौसम की खराबी से रबी की फसल (खासकर गेंहू और दलहन) जरूर ख़राब हो गयी| मक्का का...

Read more

अब सिर्फ 48 घंटों में मिल जाएगा पैन कार्ड  नंबर!अब सिर्फ 48 घंटों में मिल जाएगा पैन कार्ड नंबर! डेस्क: जनधन योजना की सफलता के बाद सरकार लोगों तक पैन कार्डों को फटाफट उपलब्ध कराने के लिए जल्द ही मेगा प्रोग्राम लांच करने की तैयारी में है। योजना ने अमलीजामा पहना तो महज 48 घंटों के अंदर आवेदक को स्थायी खाता संख्या यानी पैन कार्ड मिल जाया करेगा। सरकार ने बजट में एलान किया...

Read more

भर्ती होंगी 14 हजार आशा 24 सौ एएनएमभर्ती होंगी 14 हजार आशा 24 सौ एएनएम लखनऊ : ग्रामीण क्षेत्रों की स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी में जुटी राज्य सरकार ने 30 मई तक 14 हजार आशा बहू और संविदा पर 24 सौ एएनएम भर्ती करने का निर्देश दिया है। दूसरी ओर केंद्र सरकार ने डायरिया, निमोनिया से बचाव में इस्तेमाल होने वाली दवाओं में कुछ दवा लिखने का अधिकार आशा बहू...

Read more

यूपी बोर्ड हाईस्कूल, इंटर परीक्षा परिणाम 17 मई को एक साथयूपी बोर्ड हाईस्कूल, इंटर परीक्षा परिणाम 17 मई को एक साथ लखनऊ: यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा के रिजल्ट इस बार न सिर्फ समय से थोड़ा पहले आयेंगे। बल्कि एक साथ भी आएंगे। बोर्ड ने इसकी पूरी तैयारियां कर ली है। कापियां चेक होने के बाद अंतिम रिजल्ट तैयार किया जा रहा है। बोर्ड अधिकारियों की माने तो इस बार परिणाम 17 मई को...

Read more

दिल्ली की सत्ता के लिए राहुल से मिलने को बेचैन थे केजरी?दिल्ली की सत्ता के लिए राहुल से मिलने को बेचैन थे केजरी? नई दिल्ली। क्या सचमुच दिल्ली की सत्ता की खातिर अरविंद केजरीवाल कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से हाथ मिलाने को बेचैन थे? आम डेस्क:आदमी पार्टी (आप) में फूट पड़ने के बाद पहली बार यह खुलासा कभी केजरीवाल के बेहद करीबी रहे प्रशांत भूषण ने किया था। अब बागी गुट के दूसरे बड़े नेता...

Read more

दिल्ली के पालम हबाई अड्डे की तर्ज पर बनेगे थानों के शौचालय

0

Posted on : 01-08-2015 | By : JNI DESK | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE

dm stendr kumar, sp dinesh kuamrफर्रुखाबाद:(कमालगंज) पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार पी व जिलाधिकारी सतेन्द्र कुमार ने कमालगंज थाने के समाधान दिवस में हिस्सा लिया| जिस पर दोनों अधिकारियो ने मौके पर मौजूद पीडव्लूडी के अधिकारियो से कहा कि वह वजट बनाये थानों में दिल्ली पालम हबाई अड्डे की ताज पर पुलिस के शौचालय बनने चाहिए|

निरिक्षण के उपरांत उन्होंने पुलिस कर्मियों को सतर्क रहने के साथ साथ जनता की फरियादो को संतोषजनक तरीके से निस्तारित करने को कहा| एसपी ने थाना कमालगंज का निरिक्षण करने के बाद शहर कोतवाली व थाना मऊदरवाजा, कायमगंज कोतवाली , शमसाबाद के समाधान दिवस में हिस्सा लिया| कायमगंज में उन्होंने खननं को पूर्ण बंद करने के निर्देश दिये| शमसाबाद थाने के समाधान दिवस में उन्होंने चार शिकायतों का निस्तारण करा दिया|

सपा ने पंचायत चुनाव के लिए तैयार की रणनीति

0

Posted on : 01-08-2015 | By : JNI DESK | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics- Sapaa, जिला प्रशासन

spaaa baithkफर्रुखाबाद: समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय आवास विकास में आयोजित जिला कमेटी की बैठक में पार्टी नेताओ ने साइकिल यात्रा के साथ ही साथ पंचायत चुनाव को लेकर भी रणनिति बनाई|

पार्टी के जिलाध्यक्ष प्रताप सिंह यादव ने पार्टी कार्यकर्ताओ से कहा कि आने वाले पांच अगस्त से 13 अगस्त तक चलते वाली साइकिल यात्रा में सभी कार्यकर्ता तन-मन से लगे और उसे सफल बनाये| इस दौरान बूथ कमेटी के गठन को लेकर भी समीक्षा कि गयी| इस दौरान पंचायत चुनाव के लिये भी कार्यकर्ताओ को जुटने के निर्देश दिये गये|

इस दौरान सतीश दीक्षित, रामसेवक यादव, नदीम फारुकी, अरविन्द प्रताप सिंह, उर्मिला राजपूत, डॉओ सुबोध याद, असलम शेर खां, जियाउद्दीन, संतोष चौधरी ने भी विचार व्यक्त किये| इस दौरान जिला प्रवक्ता मंदीप यादव ,राधेश्याम श्रीवास्तव, अनिल मिश्रा, प्रदीप यादव, अरशद जमाल सिद्दीकी आदि मौजूद रहे|

डीजल गैंग: चौकी के निकट बदमाशो ने डीसीएम से डीजल लूटा

0

Posted on : 01-08-2015 | By : JNI DESK | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, जिला प्रशासन

dijal choriफर्रुखाबाद: थाना मऊदरवाजा क्षेत्र के इटावा-बरेली हाई-वे के पास मेडिकल कालेज चौकी से चंद कदम की दूरी पर बीती रात डीजल गैंग ने एक नया कारनामा कर दिखाया| उन्होंने ढाबे पर खड़ी एक डीसीएम के डीजल टैंक का लाक तोड़कर डीजल लूट लिया| इस दौरान चालक ने जब विरोध किया तो बदमाशो ने गोली मार देने की धमकी दी| लेकिन 200 लीटर डीजल को लूट ले गये|

एटा अलीगंज क्षेत्र के क़स्बा सराय अगहत निवासी प्रमोद पुत्र रामसेवक गाजियाबाद के अरथाला मोहन नगर निवासी जनबेस यादव की डीसीएम चलाता है| वह बीते दिन दिल्ली से फर्रुखाबाद लौटा था| यंहा उसने आईटीआई चौराहे पर स्थित बजरंग ट्रांसपोर्ट पर गाड़ी लोड करने के सम्बन्ध में जानकारी ली| लेकिन दिल्ली के लिये किसी तरीके का कोई सामान ले जाने के लिये नही मिला| जिसके बाद वह थाना मऊदरवाजा क्षेत्र के इटावा-बरेली हाई-वे पर मेडिकल कालेज चौकी के पास रोंन चिरैया ढाबे पर पंहुचा| चालक प्रमोद ने बताया की वह खाना खा कर ढाबे पर ही चारपाई पर सो गया|

सुबह तकरीबन चार बजे उसे गाड़ी के पास से आबाज सुनाई पड़ी तो उसने जाकर देखा तो एक सफेद रंग की बुलेरो के पास कुछ लोग खड़े थे| वह डीसीएम के टैंक से डीजल निकाल रहे थे| उसने उन्हें टोंक दिया| जिस पर बदमाशो ने उसे गोली मार देने कि चेतावनी दी| तभी घवराकर ढाबा मालिक व चालक खेतो की तरफ जान बचाकर भाग गये| मजे की बात यह है की बघार चौकी घटना स्थल से महज कुछ दूरी पर ही है| थानाध्यक्ष सुनील यादव ने बताया की तहरीर मिलने पर कार्यवाही की जायेगी| अपर पुलिस अधीक्षक रामभुवन चौरसिया ने बताया कि जाँच करायी जायेगी| मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही होगी|

मुख्यमंत्री के गृहनगर में तो आबादी से ज्यादा बन गये वोटर

0

Posted on : 01-08-2015 | By : पंकज दीक्षित | In : FARRUKHABAD NEWS

panchayat_chunav_948729786डेस्क: मुख्यमंत्री के जिले में पंचायत चुनाव के लिए बनायी जा रही मतदाता सूची में बडा घालमेल सामने आया है। जिले के 127 गांवों में मतदाता जनसंख्या अनुपात ज्यादा पाया गया है। यहां पर मतदाता 80 से लेकर 150 फीसद तक बना दिये गये हैं। पूरे मामले पर चुनाव आयोग का माथा ठनका तो निर्देश जारी हुए कि 65 फीसद से अधिक मतदाता जनसंख्या अनुपात वाले गांवों में चुनाव नहीं कराया जायेगा। पूरे मामले में पंचायत स्तर पर फर्जी वोट बनाने की कार्रवाई सामने आयी है, अब चुनाव आयोग के डंडे के बाद जिला प्रशासन हरकत में आया है। जिलाधिकारी के निर्देश पर मतदाता सूचियों के सत्यापन के निर्देश दिये गये हैं। 127 गांवों में से महेवा ब्लाक में 38, बसरेहर ब्लाक में पांच, बढ़पुरा में 30, ताखा में 13, भरथना में 15, जसवंतनगर में 18 व सैफई में 8 ग्राम पंचायतें पायी गयी हैं जहां पर मतदाता जनसंख्या अनुपात 65 फीसद से ऊपर पाया गया है। 78 ग्राम पंचायतें ऐसी हैं जहां पर यह अनुपात 80 से 150 फीसद तक पाया गया है। 30 जुलाई को जिलाधिकारी की समीक्षा बैठक में इस अभियान में करीब 160 अधिकारी जांच के लिए लगाये गये हैं।

बीएलओ ने दबाव में आकर बनायीं सूचियां

सूचियों के घालमेल के पीछे गांव-गांव सत्यापन करने गये बीएलओ की भूमिका सामने आयी है। बताया जा रहा है कि मतदाता सूचियों के सत्यापन को लेकर गांवों में बीएलओ के ऊपर भारी दबाव था। इस पर बीएलओ ने बिना कोई लड़ाई झगड़ा मोल लेते हुए जिसने जो बताया उसके नाम सूची में शामिल कर दिये। नतीजा यह हुआ कि कई गांवों में यह सूची 100 फीसद से ऊपर निकल गयी और मामले चुनाव आयोग की पकड़ में आ गये।

आगरा के 100 मतदाता जोड दिए गए

बढ़पुरा ब्लाक के पुरा मुरौंग गांव में सीमा से लगने वाले आगरा के शिवपुर गांव के 100 मतदाता बना दिये गये। मामला उपजिलाधिकारी महेंद्र कुमार सिंह ने जांच में पकड़ लिया। अब इस पर कार्रवाई की जा रही है। कई गांवों में ऐसा हुआ कि पड़ोस के गांव में रहने वाले एक ही परिवार ने दूसरे पड़ोस के गांव में वहां पर एक सामान्य झोपड़ी दिखाकर अपने वोट मतदाता सूची में बढ़वा लिये।

panchayat_chunav_948729786

ऐसा वर्ग जो शहर में रहता है और उसने अपना वोट गांव में भी बनवा लिया। डुप्लीकेट मतदाता जो दो जगह पर वोटर बने हुए हैं। ऐसे मतदाता जिनकी मृत्यु हो चुकी है परंतु सूची से नाम नहीं काटे गये। गांव से विवाहित होकर चली गयी पुत्रियों के नाम नहीं कटे। 16 वर्ष की आयु वाले किशोरों को 18 वर्ष का दिखाकर मतदाता बना दिया गया।

चुनाव आयोग के निर्देशों का पालन होगा

जिलाधिकारी नितिन बंसल ने बताया कि पंचायत चुनाव के लिए चुनाव आयोग ने जनसंख्या मतदाता अनुपात 65 प्रतिशत करने का निर्देश दिया है। अन्यथा उस गांव में चुनाव नहीं कराये जायेंगे। अधिकारियों की टीम सत्यापन करने में लगी हुई है, तीन अगस्त तक सूचियों को फायनल कर दिया जायेगा। आयोग की मंशा के अनुसार ही कार्य होगा।

फर्रुखाबाद में पंचायत चुनाव यूपी पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था में होगा

0

Posted on : 01-08-2015 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS

electionफर्रुखाबाद: जनपद में आगामी होने वाले पंचायत चुनावो में अर्ध सैनिक बलो की तैनाती की संभावना नहीं है| आयोग द्वारा केंद्र सरकार से अर्ध सैनिक बलो की माग के लिए तैयार सूची में फर्रुखाबाद का नाम नहीं है| हालाँकि अभी सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कई दौर चलेंगे| वहीँ राज्य चुनाव आयोग ने राज्य सरकार से 423 कम्पनी केंद्रीय अर्ध सैनिक बलो की माग की है|

राज्य की कानून व्यवस्था पर लगातार उठते सवालों के बीच राज्य निर्वाचन आयोग का भी साफ मानना है कि केंद्रीय अद्र्धसैनिक बल के बिना राज्य में निष्पक्ष और शांतिपूर्ण पंचायत चुनाव कराना असंभव है। चुनाव को बिना किसी खून-खराबे के निर्भीक माहौल में सुनिश्चित करने के लिए आयोग ने राज्य सरकार से 423 कंपनी केंद्रीय अद्र्धसैनिक बल मांगा है। दो चरण में चुनाव के मद्देनजर आयोग को 25 सितंबर से 15 दिसंबर तक के लिए केंद्रीय बल चाहिए। हरहाल में केंद्रीय बल सुनिश्चित करने के लिए आयोग ने सरकार से स्पष्ट तौर पर कहा है कि केंद्र सरकार से केंद्रीय अद्र्धसैनिक बल उपलब्ध कराए जाने के लिए तत्काल अनुरोध करें।

दरअसल, लोकसभा और विधानसभा चुनाव से हटकर पंचायत चुनाव के स्थानीय मुद्दों और समीकरण के आधार पर लड़े जाने के कारण कहीं ज्यादा खून-खराबे की आशंका और बिगड़ी कानून-व्यवस्था के साथ ही सांप्रदायिक घटनाओं को देखते हुए आयोग ने चुनाव के लिए पहली बार बड़े पैमाने पर केंद्रीय बल की मांग की है। आयोग का मानना है कि बिना केंद्रीय बल को तैनात किए राज्य में निर्भीक, निष्पक्ष और शांतिपूर्ण पंचायत चुनाव कराना कतई संभव नहीं है। राज्य पुलिस बल की उपलब्धता भी इतनी नहीं है कि चुनाव की दृष्टि से संवेदनशील क्षेत्रों में शांतिपूर्ण व निष्पक्ष चुनाव कराए जा सकें।

सूत्रों के मुताबिक प्रमुख सचिव गृह से लेकर डीजीपी व पुलिस महानिरीक्षकों और जिलों में जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षकों के साथ बैठकें करने के बाद आयोग ने चुनाव की दृष्टि से संवेदनशील जिले चिह्नित किए हैं। वैसे तो ऐसे संवेदनशील जिलों में निष्पक्ष चुनाव के लिए सरकार ने 361 कंपनी केंद्रीय बल की जरूरत आंकी है लेकिन सूत्र बताते हैं कि आयोग ने तमाम पहलुओं को ध्यान में रखते हुए 423 कंपनी केंद्रीय बल की आवश्यकता बतायी है।

चुनाव में केंद्रीय बल की हरहाल में उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए राज्य निर्वाचन आयुक्त एसके अग्र्रवाल ने मुख्य सचिव आलोक रंजन को पत्र भी लिखा है। आयुक्त ने ऐनवक्त पर केंद्र सरकार से केंद्रीय बल मिलने में किसी तरह की दिक्कत न आए इसके लिए तत्काल केंद्र सरकार से अनुरोध करने के लिए कहा है। आयोग ने संवेदनशीलता को देखते हुए सर्वाधिक केंद्रीय बल पश्चिमी उत्तर प्रदेश के खासतौर से मेरठ जोन के लिए 83 कंपनी व बरेली जोन के लिए 75 कंपनी मांगी है। वाराणसी के लिए 60, लखनऊ के लिए 52, आगरा के लिए 46, गोरखपुर के लिए 45, कानपुर के लिए 32 व इलाहाबाद के लिए 30 कंपनी केंद्रीय बल मांगा गया है।

निष्पक्ष चुनाव के लिए आयोग प्रतिबद्ध

राज्य निर्वाचन आयुक्त एसके अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश में निष्पक्ष, पारदर्शी और शांतिपूर्ण पंचायत चुनाव कराने के लिए आयोग प्रतिबद्ध है। विभिन्न पहलुओं से संवेदनशीलता को देखते आयोग ने अपने स्तर से आकलन कर चुनाव के लिए पहली बार 423 कंपनी केंद्रीय अद्र्धसैनिक बल हरहाल में उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार से कहा है। केंद्रीय बल के साथ ही राज्य स्तरीय पुलिस में पीएसी, जिला आम्र्ड रिजर्व बल को भी चुनाव में लगाया जाएगा। मतदान स्थलों पर पोलिंग पार्टी के साथ ही कांस्टेबिल या होमगार्ड भी मतदान की सुरक्षा के लिए तैनात किए जाएंगे।

आंकलन का पैमाना

– जिले की सांप्रदायिक संवेदनशीलता

– वर्तमान में सांप्रदायिक परिदृश्य, जिले की जनसंख्या का संप्रदायवार व वर्गवार आंकड़े

– एक-डेढ़ वर्ष में सांप्रदायिक घटनाएं

– एक वर्ष में चुनाव संबंधी हिंसक घटनाओं की संख्या

-राजधानी और इसके अगल-बगल के क्षेत्र

– वामपंथी उग्रवाद व वर्ग संघर्ष से प्रभावित जिले

– मतदान स्थलों का जिलेवार तथा पुलिस स्टेशनवार घनत्व

किस जिले को कितना केंद्रीय बल (कंपनी में)

मुजफ्फरनगर 15

सहारनपुर 15

मेरठ 14

बरेली 14

मुरादाबाद 14

आजमगढ़ 11

अलीगढ़ 11

आगरा 10

बागपत 10

शामली 10

संभल 9

फैजाबाद 9

बुलंदशहर 8

बदायूं 8

अमरोहा 8

रामपुर 8

इलाहाबाद 8

प्रतापगढ़ 8

मऊ 8

जौनपुर 8

गोरखपुर 7

बिजनौर 7

कानपुर नगर 6

गोण्डा 6

बहराइच 6

बाराबंकी 6

मिर्जापुर 6

अंबेडकरनगर 6

चंदौली 6

मथुरा 5

हापुड़ 5

वाराणसी 5

गाजीपुर 5

सुल्तानपुर 5

लखनऊ 5

सोनभद्र 5

कुशीनगर 5

बलरामपुर 5

[bannergarden id="12"]