Featured Posts

राजेपुर ब्लाक प्रमुख सुबोध यादव सहित उनके 26 साथियों पर मुकदमा दर्जराजेपुर ब्लाक प्रमुख सुबोध यादव सहित उनके 26 साथियों पर मुकदमा... फर्रुखाबाद: ब्लाक प्रमुखी में अविश्वास प्रस्ताव लाने के प्रयास में लगे बीजेपी नेता को धमकाने के मामले में पुलिस ने राजेपुर ब्लाक प्रमुख सुबोध यादव व उनके 26 साथियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। वहीं बीजेपी नेता को पुलिस सुरक्षा दी गयी है। थाना क्षेत्र के...

Read more

अविश्वास प्रस्ताव- बिना दूल्हे की बारात में दहेज़ पर मसक्कत, सगुना ही रहेगी अध्यक्षा!अविश्वास प्रस्ताव- बिना दूल्हे की बारात में दहेज़ पर मसक्कत,... फर्रुखाबाद: जिला पंचायत में अध्यक्षा के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव बड़े ही ढोल पीट कर दे दिया गया है| मगर अगर अविश्वास प्रस्ताव आ गया तो अगला अध्यक्ष कौन बनेगा? अनुसूचित जाति की महिला के लिए आरक्षित सीट है और दावेदार केवल पांच| एक वर्तमान में अध्यक्षा है और बाकी के चार के लिए...

Read more

आप संडे की छुट्टी मना रहे हैं, वहां योगी ने ले लिया बेहद सनसनीखेज फैसला, पूरे यूपी में मचा तहलकाआप संडे की छुट्टी मना रहे हैं, वहां योगी ने ले लिया बेहद सनसनीखेज... लखनऊ : उत्तर प्रदेश को अब उत्तम प्रदेश बनने से कोई नहीं रोक सकता, ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्कि ऐसा तो आप खुद कहेंगे इस बेहद सनसनीखेज खबर को पढ़ने के बाद. सीएम योगी प्रदेश में कानूनों का सही तरीके से पालन हो इसके लिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहे हैं और अब इसी सिलसिले में योगी सरकार...

Read more

बंदियों ने जेल अधीक्षक का सिर फोड़ा, प्रभारी डीएम घायल, डाक्टर पर कार्यवाहीबंदियों ने जेल अधीक्षक का सिर फोड़ा, प्रभारी डीएम घायल, डाक्टर... फर्रुखाबादः जिला जेल फतेहगढ़ में रविवार सुबह से चल रहे बबाल में आक्रोषित बंदियों ने जेल अधीक्षक का सिर पत्थर मारकर फोड़ दिया। बंदियों की मांग पर जेल के चिकित्सक डा0 नीरज को उनके पद से हटा दिया गया। प्रभारी डीएम सीडीओ एनपी पाण्डेय को भी पत्थर मारकर बंदियों ने घायल कर दिया।...

Read more

ब्रेकिंग - जिला जेल में बंदीयों ने की तोड़फोड़ व पथरावब्रेकिंग - जिला जेल में बंदीयों ने की तोड़फोड़ व पथराव फर्रुखाबादः रविवार को सुबह किसी बात को लेकर जिले जेल के बंदी अचानक भड़क गये। जिसके चलते उन्होंने पथराव शुरू कर दिया। इसके साथ ही बंदियों ने काफी तोड़फोड़ कर दी। आगजनी का मामला भी सामने आया है। सूचना मिलने पर जेल में अलार्म व शायरन भी बजाया गया। लेकिन फिलहाल कोई असर दिखायी...

Read more

योगी मंत्रिमंडल की पूरी अधिकृत सूची- किसको मिला कौन सा विभागयोगी मंत्रिमंडल की पूरी अधिकृत सूची- किसको मिला कौन सा विभाग लखनऊ: उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक ने मुख्यमंत्री श्री आदित्य नाथ योगी के प्रस्ताव दोनों उप मुख्यमंत्रियों सहित सभी 22 मंत्री, 9 राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) तथा 13 राज्यमंत्रियों को विभाग आवंटित करने पर अपना अनुमोदन प्रदान कर दिया है। मुख्यमंत्री ने गृह, आवास...

Read more

रिश्वत वसूली ऊपर वाले के लिए करनी पड़ती है...रिश्वत वसूली ऊपर वाले के लिए करनी पड़ती है... भाई साहब फाइल पर साहब का अप्र्रोवल लेना है खर्चा दो| दफ्तर के बाबू ने बड़ी शालीनता से ठेकेदार से रिश्वत की मांग अपने साहब के लिए कर दी| साथ ही ठेकेदार पर एहसान भी लाद दिया, आप तो घर के आदमी है मुझे कुछ नहीं चाहिए| रिश्वत कोई अपने लिए नहीं वसूलता है यहाँ सब ऊपर वाले के लिए रिश्वत...

Read more

ब्रेकिंग-आरोपी के घर बंद कमरे में मिली डिस संचालक की लाशब्रेकिंग-आरोपी के घर बंद कमरे में मिली डिस संचालक की लाश फर्रुखाबाद: शहर कोतवाली क्षेत्र के पक्कापुल निवासी मुकेश पुत्र ओमप्रकाश के अपहरण का मुकदमा तकरीबन 10 दिन पूर्व परिजनों ने कोतवाली में दर्ज कराया था। गुरुवार की शाम आरोपी के घर के अंदर ही मुकेश की लाश मिलने से पुलिस पर सवालिया निशान लगने लगे हैं। गुरुवार की शाम परिजनों...

Read more

रेप के आरोपी गायत्री प्रजापति अरेस्ट, 17 दिन से खोज रही थी पुलिसरेप के आरोपी गायत्री प्रजापति अरेस्ट, 17 दिन से खोज रही थी पुलिस लखनऊ: .रेप के आरोपी गायत्री प्रजापति को लखनऊ पुलिस और एसटीएफ ने यहां बुधवार को अरेस्ट कर लिया है। वह करीब 17 दिन से फरार चल रहे थे। ऐसा कहा जा रहा कि लखनऊ के आलमबाग थाने में पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है। मंगलवार को उनके दोनों बेटों अनुराग प्रजापति और अनि‍ल प्रजापति को पूछताछ...

Read more

हम गायत्री मंत्र बोलते हैं, सपा वाले गायत्री प्रजापति मंत्र बोलते हैंहम गायत्री मंत्र बोलते हैं, सपा वाले गायत्री प्रजापति मंत्र... जौनपुर. काशी में शनिवार को रोड शो करने के बाद नरेंद्र मोदी ने जौनपुर में रैली की। उन्होंने कहा- "हम सबका साथ-सबका विकास का नारा देते हैं। सपा- कांग्रेस वाले कुछ का साथ-कुछ का विकास की ही बात कहते हैं। मैं आपको गारंटी देता हूं कि बीजेपी सरकार की पहली मीटिंग में किसानों का कर्जा...

Read more

21 साल की उम्र में छोड़ दिया था योगी ने घर, जानें उनके परिवार के बारे में

0

Posted on : 26-04-2017 | By : JNI-Desk | In : FEATURED, Politics, Politics-BJP

दिल्ली: उत्तर प्रदेश में आज से योगी राज की शुरुआत होगी. आज योगी आदित्यनाथ की देश के सबसे बड़े सूबे के मुख्यमंत्री के तौर पर ताजपोशी होगी. सीएम बनने पर उनके पूरे गांव और परिवार में खुशी का माहौल है. आदित्यनाथ ने 21 साल की उम्र में ही परिवार छोड़ दिया था और वो गोरखपुर आ गए थे. उनके पिता 24 साल पहले उत्तराखंड के एक गांव से संन्यास की दीक्षा लेने वाले बेटे को मनाने आए थे, लेकिन उन्हें खाली हाथ लौटना पड़ा. मां मायूस हो गई, लेकिन बेटे के लिए लगातार दुआएं मांगती रही. आज वो संन्यासी बेटा सीएम बनने जा रहा है तो घर ही नहीं पूरा गांव जश्न मना रहा है|

संन्यास लेने के बाद बेटे का नाम बदल गया और ठिकाना भी बदल गया. उत्तराखंड के पंचुर गांव का अजय सिंह बिष्ट आज सत्ता के शीर्ष पर पहुंच चुका है. बहुत बड़ी जिम्मेदारी संभालने जा रहा है. खुशी इतनी है कि मां संन्यासी बेटे की तस्वीर को गोद में लिए बैठी है और उसकी कामयाबी की खुशी पिता की आंखो में छलक रही है| योगी के बड़े भाई बड़े गौरव से भाई अजय के बारे में बात करते हैं, उनके बारे में बताते हैं. योगी के पिता आनंद सिंह बिष्ट का कहना है कि यूपी में गुंडाराज खत्म होना चाहिए और सबका साथ सबका विकास होना चाहिए. उम्मीद ये भी है कि उनके गांव में मौजूद बाबा गोरखनाथ डिग्री कॉलेज का अब उद्धार हो जाएगा और वो अब सरकारी कॉलेज बन जाएगा|

26 साल की उम्र में बने थे सांसद, जानें योगी आदित्यनाथ की पूरी कहानी

उत्तराखंड के पौड़ी जिले के रहने वाले योगी चार भाई और तीन बहनों में दूसरे नंबर के भाई हैं. उनके दो भाई कॉलेज में नौकरी करते हैं, जबकि एक भाई सेना की गढ़वाल रेजिमेंट में सूबेदार हैं. योगी आदित्यनाथ पौड़ी गढवाल के इस गांव से संन्यास और राजनीति का लंबा सफर तय कर चुके हैं| आज जब लखनऊ के स्मृति उपवन में हजारों लोगों की मौजूदगी में भव्य समारोह के बीच योगी आदित्यनाथ जब मुख्यमंत्री पद की शपथ ले रहे होंगे, तब पंचुर में मां सावित्री देवी अपने संन्यासी बेटे के लिए आंचल भर के दुआएं दे रही होंगी|

योगी आदित्यनाथ का असली नाम अजय सिंह बिष्ट है. योगी आदित्यनाथ का जन्म 5 जून 1972 को उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले एक छोटे से गांव पंचूर में हुआ, उनके पिता का नाम आनंद सिंह बिष्ट हैं जो गांव में रहते हैं. सीएम बनाने के ऐलान के बाद आजतक ने योगी आदित्यनाथ ऊर्फ अजय सिंह नेगी के भाई महेंद्र सिंह बिष्ट से बात की. उन्होंने कहा कि आदित्यनाथ में बचपन से सेवा भावना थी. हालांकि, उन्होंने कभी सोचा नहीं था कि वे सीएम पद तक पहुंचेंगे. महेंद्र सिंह ने कहा कि कि वह हमेशा से ही समाजसेवा की भावना थी और उसी दिशा में आगे बढ़े हैं. उनके भाई बोले कि योगी ने 1993 में गोरखपुर चले गए 21 साल में छोड़ दिया था|

आगरा के थानों में हिंसा, 4 गिरफ्तार, नेता बोले- अब योगी राज में ‘जंगलराज’ की शुरुआत

0

Posted on : 24-04-2017 | By : JNI-Desk | In : CRIME, POLICE, Politics-BJP

आगरा: आगरा के सदर बाजार और फतेहपुर सीकरी थानों में शनिवार को हुई हिंसा और पुलिसकर्मियों पर हमले के मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है. तीन अलग-अलग एफआईआर दर्ज हुई हैं. 35 लोग नामज़द हैं. 250 अज्ञात लोगों के खिलाफ एफ़आईआर दर्ज की गई है. दरअसल- हिंदू संगठन के कुछ लोगों ने शुक्रवार को मोबिन नाम के एक शख़्स की पिटाई कर दी थी, जिसके आरोप में पांच लोगों को गिरफ़्तार किया गया था. बाद में शनिवार को हिंदूवादी संगठन के लोग अपने लोगों को रिहा करवाने के लिए फ़तेहपुर सीकरी थाने पहुंचे और वहां हंगामा कर दिया, जिसे देखते हुए पुलिस पांचों आरोपियों को सदर बाज़ार थाने लेकर गई. भीड़ वहां भी पहुंच गई और वहां भी हंगामा कर दिया. पुलिसवालों पर पथराव किया और थाने में तोड़फोड़ की और सब इंस्पेक्टर की बाइक जला दी.

सपा नेता नरेश अग्रवाल ने घटना की निंदा की है. उन्होंने कहा है कि तमाम आपराधिक तत्व भगवा दुपट्टा डाले हुए हैं. थानों, अस्पतालों पर हमले कर रहे हैं.लड़के- लड़कियों को परेशान कर रहे हैं| एनसीपी के नेता नवाब मलिक ने कहा कि योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने के बाद यूपी में जंगलराज की शुरुआत हो गई. बजरंग दल और दूसरे कई संगठनों के हौसले बढ़ गए हैं| जेडीयू के नेता राजीव रंजन ने कहा कि योगी आदित्यनाथ को यूपी में बड़ा जनादेश मिला है.जनता को उम्मीद है कि योगी अपनी पुरानी छवि बदलेंगे. योगी बजरंग दल औऱ अपने कार्यकर्ताओं को छवि को सुधारें|

राशन कार्ड में कटौती से युवा व्यापार मंडल आक्रोशित

0

Posted on : 23-04-2017 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics-BJP

फर्रुखाबाद: नगर युवा व्यापार ने सदर विधायक मेजर सुनील दत्त द्विवेदी को ज्ञापन देकर राशन कार्डो में कटौती की शिकायत की है| इसके साथ ही साथ शहर क्षेत्र के बिजली बिल ठीक करने वाले बाबू ब्रजेश गंगवार पर भी रिश्वत खोर होने का आरोप लगाया है|

नगर युवा व्यापार मंडल मिश्रा गुट ने सदर विधायक को दिये ज्ञापन में मांग कर कहा है कि राशन पाना हर गरीब का हक है| इसके बाद भी उनके नाम राशन कार्ड से नाम काट दिये गये| कार्ड धारको के नाम काटना गनी मानसिकता का प्रमाण है| सीएम किसानो और गरीबो को हर मदद पंहुचाने में लगे है| वही कोटेदार गरीबों का पेट काटने का काम कर रहे है| शहरी सभी कोटेदारों के भ्रष्टाचार की जाँच कराकर दोषियों के कोटे निरस्त किये जाये| वही व्यापार मंडल ने शहर क्षेत्र के बिजली बिल ठीक करने वाले ब्रजेश गंगवार पर रिश्वत खोर होने का आरोप लगाया है| उसे हटाये जाने की मांग की गयी है |

इस दौरान अंकुर श्रीवास्तव, आरिफ खान, नितिन वर्मा, राजू गुप्ता, अंकुर वर्मा, सुजीत वाथम आदि मौजूद रहे|

एमआईसी मामले पर एबीवीपी फिर गम्भीर

0

Posted on : 23-04-2017 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, NAGAR PALIKA, Politics, Politics-BJP

फर्रुखाबाद: अखिल भारतीय विधार्थी परिषद ने नगर पालिका द्वारा संचालित एमआईसी कालेज की जर्जर बिल्डिंग को ना बनबाने और अभी तक केवल गुमराह करने पर नाराजगी जतायी है| संगठन ने बिगत वर्ष में किये गये कार्यो की समीक्षा भी की|

बैठक में जिलासंयोजक अभिषेक वाथम ने कहा कि 11 जून से 14 जून से प्रदेश अभ्यास वर्ग का आयोजन होगा| इसके साथ ही फर्जी मदरसों के खिलाफ भी विधार्थी परिषद आन्दोलन खड़ा करेगा| अभिषेक ने कहा की नगर पालिका विधार्थियों के जीवन और भविष्य के साथ खिलबाड कर रही है| अपने वादे के अनुसार पालिका ने अभी तक वजट पास नही किया| ना ही काम शूरू किया| पुस्तकालय और प्रयोगशाला डीएम तोड़ रहे है| संगठन को मजबूत करने के लिये विधार्थी परिषद 10 हजार नये सदस्य बनायेगी|

प्रवास पर आये प्रदेश सहमंत्री अतुल प्रताप ने कहा कि संगठन से मजबूत करने के लिये कार्यकर्ता का मानसिक विकास होना चाहिए| शैक्षिक कार्यो में फैली अव्यवस्था के खिलाफ भी विधार्थी परिषद गम्भीर है|इस दौरान आकाश वाजपेयी, ईशुपाल सिंह कृष्ण मुरारी, रोहित, शिवम्, अभिषेक, अमन,आकाश आदि मौजूद रहे|

योगी सरकार ने डिंपल-शिवपाल-आजम की सुरक्षा घटाई

0

Posted on : 23-04-2017 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics- Sapaa, Politics-BJP

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने वीआईपी कल्चर को खत्म करने की ओर कदम बढ़ाते हुए पूर्व सरकार के कई मंत्रियों और विपक्षी नेताओं की सिक्योरिटी घटा दी है। जिनकी सिक्योरिटी कवर में कटौती की गई हैं, उनमें समाजवादी पार्टी की कन्नौज से सांसद और पूर्व सीएम अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव, पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव, आजम खान, राज्यसभा सदस्य राम गोपाल यादव समेत कई नेता शामिल है। डिंपल, शिवपाल और आजम की ‘जेड’ श्रेणी की सिक्योरिटी को घटाकर ‘वाई’ श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की है। प्रदेश सरकार ने सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और बीएसपी प्रमुख मायावती की सुरक्षा बरकरार रखी है। वहीं, बीजेपी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य विनय कटियार की सुरक्षा ‘वाई’ श्रेणी से बढ़ाकर ‘जेड’ श्रेणी कर दी गई है।

योगी सरकार ने सुरक्षा समिति की बैठक के बाद आशू मलिक, राकेश यादव, अभय सिंह और अतुल प्रधान समेत करीब 100 नेताओं की सुरक्षा वापस ले ली है। हाल ही में गृह विभाग की बैठक के बाद पूर्व सरकार में नेताओं और मंत्रियों को दी गई सुरक्षा के संबंध में रिपोर्ट मंगाई। जिसके बाद सुरक्षा घटाने का फैसला लिया गया। वीआईपी कल्चर खत्म करने के तहत सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रमुख सचिव गृह को सिर्फ जरूरत के मुताबिक सुरक्षा देने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद सभी वीवीआईपी और वीआईपी को मिली श्रेणीवार सुरक्षा का रिव्यू किया गया। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल बत्ती का कल्चर खत्म करने की वकालत की थी। उसके बाद कई नेताओं ने स्वेच्छा से अपनी-अपनी गाड़ियों से लाल बत्ती उतार ली थी।

कैसे मिलती है सुरक्षा
किसी राजनीतिक या विशिष्ट व्यक्ति को वीआईपी सुरक्षा देने का फैसला खतरे के आकलन के बाद होता है। चार श्रेणियों में सुरक्षा प्रदान की जाती है, जिसे जेड प्लस, जेड, वाई एवं एक्स श्रेणी कहा जाता है। सुरक्षा हासिल करने के लिए सुरक्षा मांगने वाले आवेदक को संभावित खतरे के बारे में बता कर सरकार के समक्ष आवेदन करना होता है। राज्य सरकार व्यक्ति द्वारा बताए खतरे के आकलन पर खुफिया एजेंसियों से रिपोर्ट मांगती है। इसकी पुष्टि होने पर राज्य में गृह सचिव, महानिदेशक और मुख्य सचिव की एक समिति यह तय करती है कि उसे संभावित खतरे के मद्देनजर किस श्रेणी की सुरक्षा दी जाए। ऐसे व्यक्ति का ब्यौरा औपचारिक मंजूरी के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय को भी दिया जाता है।

[bannergarden id="12"]