Featured Posts

मंडलीय खेलकूद में फर्रुखाबाद रहा अब्बलमंडलीय खेलकूद में फर्रुखाबाद रहा अब्बल फर्रुखाबाद: 26 वीं मंडलीय बाल क्रींडा प्रतियोगिता एवं शिक्षक समारोह में आखिर जनपद ने अपना जलवा कायम रखा| उसको प्रथम स्थान मिला| जिसके बाद टीम के लोगों ने जमकर जसं मनाया| पुलिस लाइन मैदान में बीते शनिवार से चल रही प्रतियोगिता में सोमबार को अंतिम दिन आये परिमाण में फर्रुखाबाद...

Read more

जरदोजी व्यापारी की खंजर खोपकर हत्या, दो जख्मीजरदोजी व्यापारी की खंजर खोपकर हत्या, दो जख्मी फर्रुखाबाद: पुरानी रंजिश में युवक पर जान लेवा हमला कर रहे हमलावरों से उलझने में जरदोजी व्यापारी को भी खंजर खोपकर मौत के घाट उतार दिया गया| पुलिस में जाँच पड़ताल शुरू कर दी| गम्भीर रूप से जख्मी दो को निजी अस्पताल में भर्ती किया गया| शहर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला छाबनी निवासी...

Read more

टिकट के नाम पर ठगी में भाजयुमो नेता सहित दो पर केसटिकट के नाम पर ठगी में भाजयुमो नेता सहित दो पर केस फर्रुखाबाद : बीते नगर निकाय चुनाव में वार्ड नंबर 12 से सभासद पद पर भाजपा का टिकट दिलाने के नाम पर भाजयुमो नेता सहित दो पर ठगी करने का आरोप लगा है| एसपी के आदेश पर दोनों के खिलाफ कोतवाल फतेहगढ़ में मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने जाँच शुरू कर दी| फतेहगढ़ कोतवाली के मोहल्ला बनखड़िया वार्ड...

Read more

वार्डो में सपा ने बीजेपी को दी जोरदार पटखनीवार्डो में सपा ने बीजेपी को दी जोरदार पटखनी फर्रुखाबाद:(दीपक शुक्ला) निकाय चुनाव में सपा दो व बीजेपी ने तीन सीटे अध्यक्ष पद के लिये जीती हो| लेकिन वार्डो के चुनाव में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी बीजेपी से दो गुने जीते| समाजवादी पार्टी ने कुल 23 वार्डो में अपने प्रत्याशी लड़ाये थे| जिसमे से उनके 9 प्रत्याशी पार्टी सिम्बल...

Read more

प्रधान पति को चाचा ने गोली मार मौत के घाट उताराप्रधान पति को चाचा ने गोली मार मौत के घाट उतारा फर्रुखाबाद:(राजेपुर)भूमि विवाद के साथ ही साथ चुनावी रंजिश में सगे चाचा ने भतीजे को मौत के घाट उतारा दिया| पुलिस ने मौके पर जाकर जाच पड़ताल| थाना अमृतपुर के ग्राम करनपुर दत्त में सौरभ उर्फ़ अप्पा की पत्नी कीर्ति वर्तमान में ग्राम प्रधान है| उनकी परिवार में भूमि विवाद के साथ...

Read more

राममंदिर मामले में अब शिवपाल सीएम के बयान से सहमतराममंदिर मामले में अब शिवपाल सीएम के बयान से सहमत फर्रुखाबाद: समाजवादी सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे शिवपाल सिंह यादव गुरुवार को यूपी के सीमें योगी आदित्य नाथ के राममंदिर पर दिये गये वयान से सहमत दिखे| उन्होंने कहा की यदि समझौता नही तो कोर्ट का आदेश ही विकल्प है| समाजवादी पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष विश्वास गुप्ता...

Read more

हाई-वे पर जाम में फंसा रहा पूर्व मंत्री शिवपाल का काफिलाहाई-वे पर जाम में फंसा रहा पूर्व मंत्री शिवपाल का काफिला फर्रुखाबाद:(मोहम्मदाबाद) सत्ता की शक्ति से कौन अंजान है और खास कर वो तो बिल्कुल भी नही जो सत्ता का सुख एक लम्बे समय तक ले चुका हो| लेकिन कुर्सी पर ना रहने के बाद नेता को सड़क पर चलना मुश्किल हो जाता है| यही नजारा देखने को मिला जब शिवपाल सिंह का काफिला लगभग 20 मिनट तक जाम की झाम में...

Read more

बसपा प्रत्याशी वत्सला को महान दल का समर्थनबसपा प्रत्याशी वत्सला को महान दल का समर्थन फर्रूखाबाद: नगर पालिका अध्यक्ष पद के लिये बहुजन समाज पार्टी की प्रत्याशी वत्सला अग्रवाल को महान दल ने अपना समर्थन दे तेजी से चुनाव लड़ाने का ऐलान किया है |जिससे वत्सला के खेमे में मजबूती आ गयी है| महान दल के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने रेलवे रोड स्थित बसपा प्रत्याशी के चुनाव...

Read more

नही खुला विशाल की मौत का राज, आखिर कैसे हुई मौत?नही खुला विशाल की मौत का राज, आखिर कैसे हुई मौत? फर्रुखाबाद: बीती रात बाइक चोरी के आरोप में पकड़े गये आरोपी की मौत का राज फ़िलहाल पोस्टमार्टम में भी नही खुल सका| जिससे उसकी मौत की गुत्थी उलझ गयी है| वही पुलिस मामले की जाँच कर रही है| थाना राजेपुर के बमियारी रामपुर निवासी विशाल पाठक पुत्र चन्द्रमोहन पाठक उर्फ़ रामू को बाइक...

Read more

योगी की पुलिस से परेशान महिलाओं ने पकड़े मंत्री के पैरयोगी की पुलिस से परेशान महिलाओं ने पकड़े मंत्री के पैर फर्रुखाबाद: बीते दिनों शराब ठेके पर पुलिस व ग्रामीणों के साथ हुई हिंसक झड़प के बाद पुलिस ने कई को आरोपी बनाया था| जिसको पकड़ने के लिये पुलिस लगातार हाथ-पैर मार रही है |जिस पर अब राजनितिक रंग चढ़ गया है| पुलिस के खौफ से खफा महिलाओ ने राज्य मंत्री के पैर पकड़कर न्याय की मांग की है|...

Read more

JNI की खबर पर मुहर- ज्ञान देवी के मुकाबले सगुना के पक्ष में है गृह दशा

1

Posted on : 07-01-2016 | By : JNI DESK | In : FARRUKHABAD NEWS, PANCHAYAT ELECTION, राषिफल-ज्‍योतिष

HOROSCOPEजेएनआई की खबर पर एक बार फिर से मुहर लगी है| 4 नवम्बर 2015 को ही जेएनआई पर एक आर्टिकल प्रकाशित हुआ था- “ज्ञान देवी के मुकाबले सगुना के पक्ष में है गृह दशा” जिस पर आज 7 जनवरी 2016 को मुहर लग गयी|
बिना किसी छेड़छाड़ के पढ़े पिछली प्रकाशित खबर-

जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर इस बार दलित महिला आसीन होगी| ग्रहो की चाल सत्ता की चाबी दिलाने में निर्णायक भूमिका भले ही अदा न करती हो मगर प्रभावित जरूर करती है| जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी तक जाने के लिए जिन जिन प्रत्याशियों ने चुनाव लड़ा है वे ग्रहो की चाल और दशा के शिकार हो सकते है|

जिले की प्रथम महिला के सहारे जिला पंचायत की चाबी हथियाने के लिए सगुना, ज्ञान देवी को चुनाव मैदान में उतारा गया है| दोनों ही निरक्षर है| राजनीति से लेकर जिला पंचायत के मायने तक नहीं जानते मगर चुनाव में जीते है| कमालगंज वार्ड 2 से जीती अनपढ़ रिंकी ने तो ग्रेजुएट अंजुला देवी को चुनावी मैदान में पटखनी दी है| नवाबगंज तृतीय से जीती सगुना देवी कम से कम राजनैतिक परिवार से तो है| उनके पति अजीत कठेरिया कायमगंज से विधायक है मगर रिंकी और ज्ञान देवी तो मात्र मोहरे भर है जिला पंचायत सदन में काम करने के लिए| हालाँकि शैक्षिक योग्यता में सगुना भी अनपढ़ है जैसा की परचा दाखिल करते समय इन लोगो ने बताया है| इन सबके इतर एक और नाम है सुरभि सिंह का| नवाबगंज प्रथम से सुरभि ने नवाबगंज प्रथम के कुल मतदाताओ का केवल 6.7 फ़ीसदी मत पाकर जिला पंचायत में अपनी एक कुर्सी पक्की की है मगर चुनाव लड़ने तक जिला पंचायत अध्यक्ष जैसा ख्वाव उनके पति अजीत गंगवार ने नहीं देखा था| मगर ग्रहो की चाल सियासत के नए मायने गढ़ती है ये पौराणिक सत्य है वर्ना किसने सोचा था कि देश में वो भी प्रधानमंत्री बन सकता है जिसकी पार्टी के केवल दो ही सांसद थे और सबसे ज्यादा सांसद वाली पार्टी BJP विपक्ष में बैठी थी|

तो बात फर्रुखाबाद के जिला पंचायत की कुर्सी को लेकर राजनैतिक से लेकर ज्योतिषीय आंकड़ों की है| और इसमें स अक्षर से शुरू होने वाली सगुना देवी और सुरभि के पक्ष में गुरु, शनि और सूर्य नजरे गड़ाए है| ज्ञान देवी को अध्यक्ष की कुर्सी तक पहुचने के लिए मंगल रास्ते में रोड़े अटका रहा है| वैसे भी संख्या बल में कम समर्थको के जीतने के कारण दावा कमजोर ही रहेगा| फिलहाल सगुना और ज्ञान देवी को प्रत्याशी बनाने के लिए दोनों के चाणक्यो ने लखनऊ में डेरा डाला हुआ है और सपा से प्रत्याशी बनाने के लिए जोर लगाया जा रहा है| एक बात ग्रहो की दशा से साफ़ है कि अगर सपा हाई कमान ने सगुना को प्रत्याशी नहीं बनाया तो सुरभि सिंह के सितारे जिला पंचायत की कुर्सी तक पहुचने के लिए सबसे बुलंद होंगे| इसके पीछे तार्किक राजनैतिक सोच भी है और एकता भी|

फिलहाल जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए भाजपा और बसपा के पास तो प्रत्याशी तक नहीं मगर अध्यक्ष उनका भी बन सकता है| चौकाने वाली बात हो सकती है| मगर इस जुगाड़ के देश में कुछ भी हो सकता है| जहाँ अंगूठा छाप ग्रेजुएट को हरा रहा हो वहां ये भी हो सकता है| अगर सगुना को सपा ने प्रत्याशी नहीं बनाया तो सुरभि लगभग एक दर्जन समर्थित वोटो के साथ या तो भाजपा प्रत्याशी बनेगी या फिर बसपा जिनके पास तीन और चार सदस्य ही है| बाकी का जुगाड़ तो हो ही जाता है इस भ्रष्ट और कलंकित लोकतंत्र में| ज्ञान देवी को सपा प्रत्याशी बनाये जाने के हालात में सुरभि सिंह के सितारे बुलंदी पर होंगे| ज्ञान देवी का वक्री मंगल रास्ता भटकायेगा वहीँ सुरभि के प्रबल शनि उन्हें सत्ता तक पहुचाने में ताकत लगा रहा होगा| मगर ये सब तब होगा जब सगुना देवी को सपा प्रत्याशी नहीं बनाएगी जिसके आसार कम ही लगते है क्योंकि गणित के हिसाब से अब तक सबसे ज्यादा जीते हुए सदस्य सगुना के पक्ष में ही दिख रहे है और अन्य ज्यादातर सदस्य भी अपने राजनैतिक भविष्य के लिए जिला पंचायत की ताकत को जिले के बाहर नहीं भेजना चाहेंगे| लखनऊ में पड़े नेताओ की वापसी से पहले ही काफी कुछ तस्वीर साफ़ होने लगेगी| वैसे दिवाली तो चारो की चमकदार बीतने वाली है| राजनीति के ककहरे से अज्ञान चारो दावेदार जिले के प्रथम नागरिक बनने की लाइन में जो खड़े है|

[bannergarden id="12"]