ट्रक की टक्कर से बाइक सबार की मौत

0

Posted on : 17-06-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, सामाजिक

फर्रुखाबाद:(मेरापुर) दावत खाकर लौट रहे बाइक सबार को तेज रफ्तार ट्रक ने जोरदार टक्कर मार दी| जिससे उसकी मौत हो गयी| परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया|
थाना क्षेत्र के ग्राम नगला कोटा निवासी 32 वर्षीय शिवनन्दन पुत्र सालिगराम जनपद एटा के अलीगंज से दाबत खाकर बाइक से लौट रहा था| तभी अलीगंज थाना क्षेत्र के नगला बक्स के निकट तेज रफ्तार ट्रक ने उसके जोरदार टक्कर मार दी| जिससे वह गम्भीर रूप से जख्मी हो गया| उसे अलीगंज में भर्ती किया गया| हालत गम्भीर होने पर उसे लोहिया अस्पताल रिफर कर दिया गया|
लोहिया अस्पताल में चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया| शिवनन्दन की मौत की खबर से
उसके घर पर कोहराम मच गया| पत्नी का मोनी और अन्य परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया|

पूर्व केन्द्रीय मंत्री जेपी नड्डा बने भारतीय जनता पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष

0

Posted on : 17-06-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS

दिल्ली: बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा के नाम पर मुहर लगाई गई। जेपी नड्डा को मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान स्वास्थ्य मंत्री बनाया गया था।

हालांकि, मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान भी जेपी नड्डा बीजेपी के अध्यक्ष पद की रेस में थे। उस वक्त, अमित शाह को बीजेपी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया था।

नड्डा को बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने की बात बीजेपी के वरिष्ठ नेता और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार की शाम को दी।

राजनाथ सिंह ने कहा- अमित शाह जी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने कई चुनाव जीते हैं। लेकिन, प्रधानमंत्री की तरफ से उन्हें गृह मंत्री बनाने के बाद खुद अमित शाह जी ने कहा कि यह जिम्मेदारी किसी और को दे दी जानी चाहिए।

रक्षा मंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के संसदीय बोर्ड ने जेपी नड्डा को कार्यकारी अध्यक्ष चुना है। हालांकि, अमित शाह अगले 6 महीने तक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने रहेंगे। उनके मार्गदर्शन में जेपी नड्डा कामकाज संभालेंगे।

स्कूल में पौधे लगाने पर बच्चों को अतिरिक्त अंक मिलेंगे

0

Posted on : 17-06-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS

फर्रुखाबाद: स्कूल परिसर में एक पौधा लगाकर बच्चे अतिरिक्त अंक प्राप्त कर सकेंगे।  बच्चों को जुलाई में न केवल पौधारोपण करना है बल्कि साल भर उसका ख्याल भी रखना होगा। वार्षिक परीक्षा से पहले विद्यालय स्तर पर बनी शिक्षकों की एक टीम उसका मूल्यांकन करेगी। उसके आधार पर बच्चों को अतिरिक्त अंक दिए जाएंगे। सभी यूपी बोर्ड, सीबीएसई और आईएससी स्कूलों को यह निर्देश जारी किए हैं। गौरतलब है कि हाल में हुई समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री की ओर से पौधारोपण को बढ़ाने देने के लिए विशेष कदम उठाने के निर्देश दिए।

प्रधानाचार्य की कमेटी देगी अंक 
सभी स्कूलों में प्रधानाचार्य की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय समिति का गठन किया जाएगा। वार्षिक परीक्षा के समय समिति जिन बच्चों को पौधे सुरक्षित रहेंगे उनको आंतरिक मूल्यांकन में पृथक से अंक प्रदान करेगी। प्रत्येक पौधे की जियो टैगिंग एवं जीपीएस लोकेशन अंकित किया जाए। आगामी एक से 15 जुलाई के बीच विशेष अभियान चलाकर जिला विद्यालय निरीक्षक समेत विभाग के अन्य अधिकारी पौधारोपण कार्यक्रमों में प्रतिभाग करेंगे। सभी स्कूल प्रधानाचार्यों को 30 जून को पौधारोपण के लिए गड्ढे खुदवाने समेत अन्य तैयारियां पूरी करने की हिदायत दी गई है।  डीआईओएस ने साफ किया है कि विद्यालय परिसर में जगह कम होने की स्थिति कम से कम 10 पौधे अवश्य लगाए जाएंगे। इसी तरह, जगह न होने की स्थिति में कम से कम 20 गमलों में पौधरोपण कराना अनिवार्य होगा।

स्कूलों में बनेंगे ईको क्लब 

सभी विद्यालयों में एक ईको क्लब का गठन करने के निर्देश दिए गए हैं। एक शिक्षक को इस क्लब का प्रभारी बनाया जाएगा। पांच-पांच बच्चों का पूल बनाया जाएगा।  एक पौधा लगाने, सींचने एवं देखरेख करने की जिम्मेदारी पूल में सम्मिलित सभी बच्चों को उठाना पड़ेगी। जब तक वह बच्चा स्कूल में पढ़ेगा उस पौधे की देखरेख की जिम्मेदारी उसे संभालनी होगी।  स्कूलों को जिम्मेदारी दी गई है कि वह छात्र का नाम, पिता का नाम, कक्षा और लगाए गए पौधे का पूरा रिपोर्ट तैयार करेंगे।

कुठला झील प्यासी, वजट बुझा रहा फाइलों की प्यास

0

Posted on : 17-06-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद: उत्तर प्रदेश सरकार के सिचाई मंत्री के फरमान का जिला प्रशासन पर कोई फर्क नही पड़ा| दरअसल मंत्री धर्मपाल सिंह ने 15 जून तक ही सभी पोखर तालाब भरने के आदेश प्रदेश भर के जिलाधिकारियों को दिये थे| प्रदेश का तो पता नही लेकिन जिला स्तर पर तालाबों और पोखरों को भरने का काम नही किया गया|यंहा तक की जिले की ऐतिहासिक कुठला झील भी पानी ना होने पर दरारे छोड़ गयी है| झील में रहने वाले परिंदे बूंद-बूंद पानी ना मिलने से धीरे-धीरे मौत के आगोश में समाये जा रहे है| लेकिन कोई देखने वाला नही|
तहसील अमृतपुर मुख्यालय से बमुशिकल एक किलोमीटर दूर कुठला झील स्थित है| जो 4.650 हेक्टेयर में फैली हुई है| जिसमे विदेशी पक्षी स्टेटवर्ड, क्रेन, कुलन बैगटेल, व्हाइट साइबेरियन, स्पूनविल, नैटोगिल आदि पानी होने पर अपना डेरा जमा लेते थे|  विदेशी मेहमानों के कलरव व चहचहाट से गूंजने वाली कुठला झील इस बार मौन है|विदेशी पक्षी तो झील में पानी ना होने के चलते अपने वतन लौटने को मजबूर हुए ही स्थानीय परिंदे भी एक-एक बूंद को तरस रहे है| पानी के आभाव से कई परिंदों की झील में ही कब्र बन गयी| दूर-दूर तक पानी की जगह केबल आसमान तरफ मुंह फाडे झील की दरारों वाला धरातल नजर आता है|
विकास के नाम पर पिछले वर्ष 35 लाख रूपये का वजट कुठला झील के विकास में लगना था| लेकिन फ़िलहाल अभी 20 लाख रूपये ही वजट खर्च हो सका| बीते 11 मई को मुख्य विकास अधिकारी डॉ० राजेन्द्र पैंसिया ने कुठला झील का निरीक्षण किया था| इसके साथ ही सीडीओ ने बीडीओ नजमा सिद्दीकी को झील की साफ़-सफाई के निर्देश दिये थे| 
इस सम्बन्ध में बीडीओ नजमा सिद्दीकी ने बात करने प्रयास किया गया लेकिन उनका सरकारी फोन बंद था| 






UP के सभी DM, SSP के लिए CM योगी आदित्यनाथ ने जारी किया नया फरमान

0

Posted on : 17-06-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में अधिकारियों की लगातार मिल रही शिकायतों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सख्त हो गए हैं. सीएम योगी ने सभी जिलों के जिलाधिकारियों और पुलिस कप्तानों के लिए नया फरमान जारी किया है. इसके तहत अब सुबह 9 बजे से लेकर 11 बजे तक अधिकारियों को अपने दफ्तर में बैठना होगा. इन दो घंटों के दौरान अधिकारी आम जनता की फरियाद को सुनेंगे|

मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ ने ऐसे समय यह कदम उठाया है जब विपक्षी दल राज्य की कानून व्यवस्था को लेकर बीजेपी सरकार को घेर रहे हैं|

बहरहाल, राज्य में खराब कानून व्यवस्था को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री मायावती और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव लगातार यूपी की बीजेपी सरकार पर हमलावर हैं. मायावती ने जहां कई बार योगी आदित्यनाथ सरकार पर सवाल खड़े किए तो अखिलेश यादव ने राज्यपाल राम नाईक से मुलाकात कर मेमोरेंडम सौंपा था|

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने सोमवार को ट्विटर पर लिखा, ‘यूपी में अपराध नियंत्रण व कानून-व्यवस्था की बिगड़ी स्थिति के साथ-साथ सर्वसमाज की बहन- बेटियों की जान व इज्जत-आबरू के सम्बंध में अराजकता जैसी स्थिति अति-दुःखद व अति-चिन्ता का विषय.|

मायावती ने कहा, ‘सरकारी दावों के विपरीत पूरे प्रदेश में हर प्रकार के जघन्य अपराधों की बाढ़ से जनता में त्राहि-त्राहि.’ बिजली की किल्लत पर मायावती ने कहा, ‘यूपी की त्रस्त जनता व बीपीएल परिवारों पर भी बिजली की दरों में भारी वृद्धि करके उन्हें तेज झटका देने की सरकारी तैयारी घोर निन्दनीय. लोकसभा चुनाव के बाद क्या बीजेपी सरकार इसी रूप में यूपी की 20 करोड़ जनता को आघात पहुंचाएगी? यह वृद्धि सौभाग्य को दुर्भाग्य योजना में नहीं बदल देगी?’

इसके पहले अखिलेश यादव ने राज्यपाल राम नाईक से मुलाकात कर प्रदेश की कानून व्यवस्था के मद्दे पर ज्ञापन सौंपा था. अखिलेश यादव ने राज्यपाल से कहा कि वो कानून व्यवस्था पर सरकार को जगाएं. अखिलेश यादव ने राज्य में जंगलराज होने की बात कही. उन्होंने कहा कि सपा नेता आजम खान के खिलाफ झूठे मुकदमे किए गए हैं. राज्यपाल से मुलाकात के बाद अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार ने अपराधियों को खुली छूट दे रखी है|

सड़क सुरक्षा सप्ताह में बताये ट्राफिक नियम

0

फर्रुखाबाद: यातायात नियमों की जानकारी देने के लिए शासन की ओर से सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाने के निर्देश पर शुभारम्भ किया गया| जिसमे आये वाहन चालकों, वाहन मालिकों और आम जनमानस को ट्राफिक के नियमों से रूबरू कराया गया|
सोमबार को ठंडी सड़क स्थित नवभारत सभा भवन में सड़क सुरक्षा सप्ताह का शुभारम्भ किया गया| जिसका शुभारम्भ जिलाधिकारी मोनिका रानी, पुलिस अधीक्षक डॉ० अनिल कुमार मिश्रा, सदर विधायक मेजर सुनील दत्त द्विवेदी ने दीप प्रज्वलित कर किया|
इसके बाद एसपी ने सड़क सुरक्षा से जुड़ी छोटी-छोटी जानकारी देकर कहा कि अक्सर इन जानकारियों के अभाव में लोग हादसे का शिकार हो जाते हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि दो पहिया वाहन चलाते समय हेलमेट का प्रयोग कराना बहुत ही जरूरी है। ज्यादातर हादसे के शिकार हेलमेट न पहनने की वजह से होते हैं। सदर विधायक ने भी वाहन चालकों से धीमी गति से वाहन चलाने की अपील की| सड़क सुरक्षा सप्ताह आगामी 22 जून तक चलेगा|
इस दौरान मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ० चन्द्र शेखर, यातायात प्रभारी देवेश कुमार, एआरटीओ मो० हसीब खां, पीटीओ बीके आनन्द, कृष्ण कुमार द्विवेदी, गुंजन अग्निहोत्री आदि रहे| 

सांसद मुकेश राजपूत संसद में, बेटे ने सम्भाला संसदीय क्षेत्र

0

Posted on : 17-06-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS

फर्रुखाबाद: लगता है प्रधानमंत्री मोदी की सरकार का दूसरा कार्यकाल कुछ खास होने वाला है| खबर है कि इस बार निर्देश दे दिया गया है कि जिन दिनों सांसद या विधायक सदन में होंगे क्षेत्र में उनके प्रतिनिधि जनता से लगातार सम्पर्क बनाये रखेंगे| बात भी सही है आखिर कब तक अकेले मोदी सब को ढोयेंगे| सोमवार 17 जून को  संसद का पहले दिन था और सभी सांसदों को शपथ लेनी थी | ऐसे में फर्रुखाबाद में क्षेत्र में कमान सम्भाली सांसद के  पुत्र अमित राजपूत ने|

अमित राजपूत ने अम्रतपुर विधानसभा के कई गाँव में पंचायत लगाकर जनता की समस्या सुनी वही लोगो ने अपना दुखड़ा भी रोया| सबसे ज्यादा दुखड़ा निचले स्तर के कर्मचारी के खिलाफ नजर आया| कोई शौचालय से तो  कोई मरहूम, किसी  में कोटेदार ने राशन नहीं बाटा तो कहीं 35 किलो की जगह 25 किलो दिया| अमित राजपूत ने समस्याओ की सूची बनायीं और जनता समस्या के समाधान का वादा करते हुए चुनावो में अपने पिता को  जिताने के लिए धन्यवाद भी किया|

वैसे अमित राजपूत का स्वागत समारोह और जन सुनवाई को लोगो ने सराहा मगर एक सवाल भी पीछे छूट गया जिसका जबाब स्वतः निकट भविष्य में मिल जायेगा| अमृतपुर से विधायक सुशील शाक्य अपने पुत्र संदीप शाक्य को अमृतपुर से अपनी विरासत सौपने का सन्देश दे चुके है ऐसे में मुकेश राजपूत का अपने पुत्र अमित राजपूत को भी राजनीति में उतारने के लिए कोई प्लान तो नहीं वो भी अमृतपुर क्षेत्र से| जबाब मिलेगा थोडा इन्तजार करिए…. वैसे सांसद मुकेश राजपूत भी दूसरे कार्यकाल में बदले बदले से नजर आने लगे है… बात भी सही है आखिर अकेले मोदी कब तक सब को ढोयेंगे?

अबैध बूचड़खाना चलाने में पिता-पुत्र सहित तीन गिरफ्तार

0

Posted on : 17-06-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE

फर्रुखाबाद:(कमालगंज) अबैध रूप से बूचड़खाना चलाने के मामले में पुलिस ने पिता-पुत्र सहित तीन को गिरफ्तार कर लिया|
थाना क्षेत्र के ग्राम शेखपुर में पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर दबिश दी| मौके से पुलिस ने मेहरान पुत्र इब्राहीम, इमरान सहित तीन को गिरफ्तार कर लिया| पता चला है कि आरोपी काफी लम्बे समय से पुलिस की आँखों में धूल झोंककर अबैध बूचड़खाना संचालित कर रहे थे| आरोपियों के पास से जानवर काटने वाले हथियार व रस्सी आदि भी बरामद हुई है|

जेएनआई पर खास खबर: मणीन्द्र की शहादत के 86 साल

0

Posted on : 17-06-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद:(दीपक शुक्ला) महान क्रांतिकारी एवं स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी मणीन्द्र नाथ बनर्जी का नाम किसी चर्चा का मोहताज नही रहा| 20 जून को शहीद मणीन्द्र नाथ बनर्जी का 86 वां पुन्य स्मृति दिवस मनाये जाने की तैयारी चल रही है| जिसमे देश के दूर दराज से आजादी के मतवाले रहे और उनके परिजन शिरकत करेंगे|
मणीन्द्र नाथ के विषय में जाने उनके शहादत के 86 साल………
शहीद मणीन्द्र नाथ बनर्जी का जन्म 13 जनवरी 1909 में वाराणसी के सुबिख्यत एवं कुलीन पाण्डेघाट स्थित माँ सुनपना देवी के उदर से हुआ था| इसके पिता ताराचन्द्र बनर्जी एक प्रसिद्ध होम्योपैथिक के चिकित्सक थे| उनके पितामह श्रीहारे प्रसन्न बनर्जी डिप्टी कलक्टर के पद पर आसीन रहे| जिन्होंने 1899 में बदायूं से बिर्टिश शासन की नीतियों से दुखी होकर अपने अपने पद से त्याग पत्र दे दिया और स्वतन्त्रता आन्दोलन में सक्रिय हो गये|
श्री बनर्जी आठ भाई थे इन आठो भाईयो को मात्रभूमि के प्रति बहुत लगाव था| उन्होंने स्वतंत्रता आन्दोलन में सक्रिय भूमिका अदा की| काकोरी कांड से सम्बंधित राजेन्द्र लाहिडी को फांसी दिलाने में सीआईडी के डिप्टी अधीक्षक श्री जितेन्द्र नाथ बनर्जी ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी| जिसे बनजी ने बर्दास्त ना कर सके और उन्होंने जितेन्द्र से बदला लेने की ठान ली| 13 जनवरी 1928 को जितेन्द्र नाथ बनर्जी से वाराणसी गुदौलिया में बदला ले लिया| इस शौर्यपूर्ण कार्य के लिये उन्हें दस वर्ष की सजा व तीन माह तन्हाई की सजा मिली| 20 मार्च 1928 को उन्हें वाराणसी केन्द्रीय कारागार से केन्द्रीय कारागार फतेहगढ़ भेजा गया| जंहा उन्होंने अन्य राजनैतिक बन्दियो को उच्च श्रेणी दिलाने के लिये भी संघर्ष किया| 20 जून 1934 को सांयकाल आठ बजे कारागार के चिकित्सालय में उन्होंने अंतिम साँस ली| उनका अंतिम संस्कार 21 जून को पांचाल घाट पर गंगा किनारे किया गया था|
प्रति वर्ष की तरह इस वर्ष भी 20 जून को सुबह उनके प्रतिमा स्थल सेन्ट्रल जेल परिसर पर एक श्रधांजलि सभा का आयोजन होगा| जिसमे जिले के सभी अधिकारी व जाने पहचाने चेहरे उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित करेगे|
जेल प्रशासन से मिले कार्यक्रम के अनुसार मुख्य अतिथि के रूप में जिलाधिकारी मोनिका रानी को आमंत्रित किया गया है| इसके साथ स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी वंशज आदि रहेंगे|

अब पचास हजार लिए है तो मुह बंद कर ट्रेनिंग कर लो….

0

Posted on : 17-06-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS

फर्रुखाबाद: ईमान तो पहले ही 50 हजार में गिरऊँ ध्ध दौ तो सवाल का मूसर पूछियो? ये वार्तालाप की वो पंक्तिया है जो दो क्षेत्र पंचायत सदस्य अपने चुने जाने के चौथे साल अपने प्रशिक्षण के दौरान एक दूसरे से कर रहे थे| मामला फर्रुखाबाद जनपद के राजेपुर ब्लाक का है| यहाँ त्रिस्तरीय पंचायत चुनावो के चार साल बाद क्षेत्र पंचायत सदस्यों को सरकारी खर्चे पर पंचायत चलाना सिखाया जा रहा है| यानि प्रशिक्षण चल रहा है|

सोमवार 17 जून 2019 को दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू हुआ| पूरे क्षेत्र के कुल 93 सदस्यों में से 79 सदस्य उपस्थित हुए| बाकी का लंच ख़राब नहीं हुआ स्टाफ के काम आया| इसी राजेपुर  ब्लाक से सुबोध यादव ब्लाक प्रमुख है| जो भारी मतों से जीते थे| अब ब्लाक प्रमुख उत्तर प्रदेश में कैसे बनते है इसके लिए किसी प्रशिक्षण की जरुरत नहीं| पहले सपाई बनते थे अबकी बार भाजपाई बनेगे| होता था किसी जमाने में ब्लाक प्रमुख का रुतवा, तब वोट पैसे से नहीं रुआब और व्यवहार में पड़ते थे| जबसे प्रमाण पत्र बिकने लगे, कोई न पूछता| न बिकने वाले को और न खरीदने वाले को| बने रहो कलेक्टर अपने मन में|

खैर बात राजेपुर ब्लाक में चल रहे दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की चल रही थी| क्षेत्र पंचायत सदस्य आपस में बात करके खिसिया से रहे थे, इत्ती गर्मी में बेकार बुलाओ| कल्ल ही बुला लेते पैसे दे देते| कोई पुच्छैया ल तो है नाही| अपना अपना दर्द है| और सबसे बड़ा सवाल सरकारी व्यवस्था का, 1 साल रह गया कार्यकाल का तो प्रशिक्षण के नाम पर जनता के धन की बर्बादी क्यों? प्रशिक्षण के लिए डायरी पेन दिया गया| सबसे पहले पेप्सी पिलाई गयी| दोपहर में लंच पैकेट दिया गया| बताया गया कि कैसे क्षेत्र पंचायत सदस्य क्षेत्र के विकास के लिए अपनी भूमिका निभा सकता है| उसे बैठक में प्रस्ताव कैसे देना है| कैसे सवाल उठाना है| कोरम में उसकी क्या भूमिका है| त्रिस्तरीय पंचायत प्रणाली में उसकी क्या भूमिका है| जो लिखा गया है वो बताया गया है| सब चुपचाप बैठे सुनते रहे जैसे सब समझ में आ गया है और कोई सवाल है ही नहीं| क्या महिलाएं क्या पुरुष| कल समापन में ब्लाक प्रमुख के आने की भी खबर है| अगले साल चुनाव होने है……भाजपा सरकार है… रणनीति इसी पर बनानी है कि इस बार के मोहरे कौन सजाएगा और बाजी कौन खेलेगा… बाकी प्रशिक्षण तो मात्र सरकारी बजट को खर्च करना भर है और रिपोर्ट केंद्र तक भेजने के लिए फोटोसेशन कराने से ज्यादा कुछ नहीं….