एएनएम टैबलेट से सवारेंगी स्वास्थ सेवायें

0

Posted on : 14-05-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद: स्वास्थ्य विभाग ने एएनएम को स्वास्थ्य सेवाओं को ठीक से सबारने के लिए शासन से टैबलेट उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गयी है| जिले में 218 एएनएम को टैबलेट उपलब्ध होगा|
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक पंकज कुमार ने सभी मुख्य चिकित्साधिकारी पत्र भेजकर निर्देश दिये कि यह टेबलेट एप्लीकेशन के संचालन हेतु केवल अधिकृत एएनएम को उपलब्ध कराये जाएँगे | पत्र में निर्देश अनुसार कानपुर मण्डल में कुल 1,729 टेबलेट वितरित किये जाने है। फर्रुखाबाद में कुल 218 टेबलेट वितरित किये जायेंगे, जिसमें 192 टेबलेट्स सभी उपकेंद्रों में एएनएम को , 25 शहरी क्षेत्र की एएनएम को, और 1 टेबलेट डिस्ट्रिक्ट कमुनिटी प्रोसेस मैनेजर को दिया जाएगा। इससे ऑनलाइन प्रक्रिया के तहत सारे आंकड़े स्क्रीन पर उपलब्ध होगे ।
अब नहीं करना होगा रजिस्टर पर लिखा-पढ़ी 
स्वास्थ्य योजनाओं की गाँव में क्या-क्या प्रगति हो रही है इसकी एक रिपोर्ट एएनएम बनाती है इस पूरी रिपोर्ट को एक रजिस्टर में दर्ज कर स्वास्थ्य विभाग को सौंपा जाता है | इस पूरी प्रक्रिया में समय लगता है | अब ऐसा कुछ नहीं होगा | ऑनलाइन प्रक्रिया के तहत अब सारी जानकारी स्क्रीन पर उपलब्ध रहेगी | टेबलेट में ऑनलाइन के साथ-साथ ऑफलाइन डाटा दर्ज करने की सुविधा भी उपलब्ध है | गोपनीयता रखने के लिए प्रत्येक टेबलेट का अपना एक आइएमईआई नंबर होगा ताकि यह एप किसी अन्य मोबाइल व अन्य टेबलेट पर काम न कर सके | इस योजना के तहत एएनएम को टेबलेट में सारी जानकारियाँ दर्ज करानी होंगी |
हर जानकारी होगी टेबलेट में दर्ज
टेबलेट में अनमोल एप में एएनएम को अपने प्रतिदिन के कार्यों की जानकारी दर्ज करनी होगी | उन्होने किन गाँव का भ्रमण किया है, कहाँ कहाँ अपनी सेवाएँ दी हैं, कितने योग्य दंपत्ति हैं, गर्भवती व धात्री महिलाएं तथा बच्चे हैं | बच्चे किस श्रेणी के हैं , कितने बच्चों का टीकाकरण हुआ है और किनका होना है, गाँव में कौन सा रोग फैला है, कितने लोग बीमार हैं, इससे संबन्धित जानकारियाँ टेबलेट में दर्ज करनी होंगी | टैबलेट चलाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ए.एन.एम. को प्रशिक्षण भी देगा । इस एप के माध्यम से एएनएम लाभार्थियों के लिए कार्ययोजना/ ड्यूलिस्ट तैयार कर समयबद्ध स्वास्थ्य सेवाएँ प्रदान करेगी|
योजना से होगी सहूलियत
टैबलेट में 3 सॉफ्टवेयर
एएनएम. को दिये जाने वाले टैबलेट में 3 सॉफ्टवेयर हैं जैसे अनमोल, एनसीडी तथा आईडीएसपी है । अनमोल सॉफ्टवेयर में गांव की गर्भवती माताओं तथा बच्चों का विवरण होगा। वहीं एनसीडी सॉफ्टवेयर में कैंसर ब्लड प्रेशर शुगर मानसिक रोगी तथा हाइपरटेंशन आदि का विवरण होगा ।जबकि आईडीएसपी सॉफ्टवेयर में कुष्ठ रोगी मलेरिया टाइफाइड डेंगू आदि रोगों का विवरण उपलब्ध रहेगा l ए एन एम के बाद आशाओं को भी स्वास्थ्य विभाग द्वारा ऑनलाइन किए जाने की व्यवस्था की जा रही है l

प्रेमिका का गला दबाया,हाथ बांध और कुएं में फेंका शव

0

Posted on : 14-05-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, POLICE, जिला प्रशासन, सामाजिक

बाराबंकी: लापता युवती का शव कुएं मेंं मिलने के बाद सनसनी फैल गई, युवती के दानों हाथ बंधे थे, कुएं में डालने के बाद ऊपर से पाट दिया गया था। कुर्सी पुलिस ने राजफाश तो किया लेकिन 23 दिन बाद। इसमें पुलिस का कहना है कि युवती को उसके प्रेमी ने बाग में बुलाया और हंसी मजाक में प्रेमी ने युवती के हाथ बांधे और बाद में गला दबाकर हत्या कर दी। आरोपित पुलिस गिरफ्त में हैं।
कुर्सी थाना क्षेत्र के ग्राम नहोई मजरे बहरौली निवासी रामदास की 20 वर्षीय सुभाषनी पुत्री लखनऊ के एक निजी अस्पताल में नर्स थी। युवती 21 अप्रैल को घर से लखनऊ के लिए निकली, सात बजे रात में अपने पिता को फोन किया कि वह कुर्सी आ चुकी है। जब पिता कुर्सी पहुंचा तो वहां पर युवती नहीं मिली। काफी खोजबीन की लेकिन उसका कुछ नहीं पता चल सका। दो दिनों तक तलाश करता रहा लेकिन कहीं भी कुछ युवती का पता नहीं चल रहा था। थकहार कर 23 अप्रैल को थाने पहुंचा तो वहां पर पहले से ही शिकायत थी कि उसके द्वारा पुत्री सुभाषनी का उत्पीडऩ किया जा रहा है। उस समय पुलिस ने पिता की एक भी न सुनी।
रामदास तीन मई को फिर थाने गया तो तहरीर फाड़कर फेंक दी गई। उसने गुहार लगाई तो युवती के मोबाइल नंबर को ट्रैस किया गया। क्षेत्राधिकारी फतेहपुर अरव‍िंंद वर्मा ने बताया कि जब मोबाइल नंबर को ट्रैस किया गया तो उसका लोकेशन गांव में ही बता रहा था। गांव में पूछताछ हुई तो पता चला कि वास्तव में युवती कई दिनों से गायब है। तब आरोपित को पकड़ लिया गया। पूछताछ में उसने सारा जुर्म काबूल लिया। नहोई का रहना वाला नसीम पुत्र यासीन था, जो युवती के घर के सामने रहता था। दो वर्षों से उसका युवती से प्रेम प्रसंग चल रहा था। नसीब का निकाह 24 अप्रैल को था, इसलिए उसने अपनी प्रेमिका को धरसंडा निवासी अजीज की बाग में बुलाया था। उसकी निशानदेही पर शव बरामद हुआ है।
कुर्सी पुलिस के प्रति लोगों का आक्रोश, पुलिस बल तैनात
कुर्सी पुलिस से अब लोगों का विश्वास उठता जा रहा है। पुलिस अब पीडि़तों की सुनवाई समय पर नहीं कर रही है। यही कारण है कि थाने के चक्कर काट रहे पिता को उसकी बेटी नहीं, बल्कि उसकी लाश हाथ लगी। नहोई गांव के रामदास की पुत्री जब गुम हुई तो वह आरोपितों पर कार्रवाई की मांग को लेकर थाने के चक्कर काटने लगा। बताया जा रहा है कि तीन मई को जब फिर थाने गया तो पुलिस ने पीडि़त की सुनी लेकिन नामजद तहरीर को फाड़कर फेंक दिया गया, दूसरी तहरीर लिखाकर गुमशुदगी दर्ज की। पिता गुहार लगा रहा था कि गांव के नसीम ने ही उसकी पुत्री को गायब किया है।
युवती के पिता रामदास ने बताया कि यदि पुलिस सुनवाई कर लेती तो हमे न्याय पहले ही मिल जाता। चुनाव होने की वजह से पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही थी। दस मई को पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर 13 मई की रात साढ़े दस बजे शव बरामद किया है। पुलिस कार्रवाई में देरी से लोगों में आक्रोश है, इसको लेकर गांव में कुर्सी, बड्डूपुर, घुंघटेर थाने की पुलिस तैनात कर दी गई है।
पुलिस को भम्रित कर रहा था नसीम
जब से युवती गायब हुई, तब से युवती के फोन से आरोपित 1090 और सौ नंबर पर सुभाषिनी बनकर लड़की की आवाज में सूचना देकर यह बता रहा था कि उसके पिता रामदास उत्पीडऩ कर रहे हैं, उसकी हत्या करना चाहते हैं। जब रामदास तहरीर लेकर थाने जाता तो पुलिस तहरीर लेने से मना कर देती कि तुम तो स्वयं युवती की हत्या करना चाहते हो। सात मई को भी नसीम ने सौ नंबर पर सूचना देकर पिता के उत्पीडऩ की बात बताई थी।
अपर पुलिस अधीक्षक आरएस गौतम ने बताया कि गांव में तनाव की कोई बात नहीं है, एहतियात के तौर पर पुलिस बल गाांव में मौजूद है। पुलिस की ओर से कोई लापरवाही नहीं बरती गई है, कुर्सी पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए मामले का खुलासा किया है।

तम्बाकू निषेध दिवस पर रैली निकाल किया जागरूक

0

Posted on : 14-05-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद: विश्व तम्बाकू निषेध दिवस माह के तहत रैली निकाल कर लोगों को जागरुक किया गया| ताकि लोगों को इस जानलेवा लत से बचाया जा सके |
फतेहगढ़ स्थित ब्रह्मदत्त स्टेडियम से जन जागरूकता रैली निकालकर नशे से दूर रहने की अपील की गई | रैली को मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ० चंद्रशेखर ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया | हर वर्ष 31 मई को तंबाकू निषेध दिवस के रुप में मनाया जाता है, दुनिया में यह दिन 31 मई 1989 को मनाया गया था और अब भारत में भी यह दिवस मनाया जाता है, ताकि लोगों को इस जानलेवा लत से बचाया जा सके |
डॉ चंद्रशेखर ने कहा कि नशा करने से बौद्धिक, शारीरिक और आध्यात्मिक रूप से भी व्यक्ति कमजोर होता है, उन्होंने कहा कि पूरे विश्व के लोगों को तंबाकू मुक्त और स्वस्थ बनाने के लिए तथा सभी स्वास्थ्य खतरों से बचाने के लिए तंबाकू चबाने या धुम्रपान के द्वारा होने वाले सभी परेशानियों और स्वास्थ्य जटिलताओं से लोगों को आसानी से जागरुक बनाने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा पहली बार विश्व तंबाकू निषेध दिवस को आरम्भ किया गया, जिसके तहत हर वर्ष यह दिवस जागरूकता के लिए मनाया जाता है |
अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ दलवीर सिंह, तम्बाकू प्रकोष्ठ के जिला सलाहकार सूरज दुबे ने कहा कि तम्बाकू एक ऐसा जहर है जो दिखाई नहीं देता और शरीर को अंदर-ही अंदर खोखला करता जाता है |
रैली के दौरान राजकीय इंटर कालेज बालक बालिका फतेहगढ़ के छात्र छात्राएं, अध्यापक अध्यापिकाएं डी.पी.एम. कंचनबाला, डी.सी.पी.एम. रणविजय, डॉ शेखर प्रभाकर बर्मा, अमित सिसोदिया आदि लोग मौजूद रहे |

मतगणना की घड़ी अब नजदीक, प्रत्याशियों की धड़कनें बढ़ीं

0

फर्रुखाबाद: लोकसभा चुनाव जीतकर संसद पहुंचने का सपना संजोये  प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला होने की घड़ी नजदीक आती जा रही है। इसी के साथ इनके दिल की धड़कन भी बढ़ने लगी है। कौन जीतेगा और कौन हारेगा, इसको लेकर कयास लगने लगे हैं। प्रत्याशी और उनके समर्थक सुबह से शाम तक यही गुणा-भाग लगाने में जुटे हैं कि किसको कहां से कितना वोट मिलेगा। मजे की बात तो यह है कि सभी अपनी-अपनी जीत पक्की बता रहे हैं। साथ ही इसके लिए पर्याप्त तर्क देते हुए जीत की दावेदारी कर रहे हैं।
सातनपुर गल्ला मंडी में 23 मई को सुबह से मतगणना शुरू होगी यानी मतों की गिनती होने में सिर्फ 9 रोज बचे हैं। मतगणना की तारीख नजदीक आने के साथ चुनावी रणभूमि में हर दांव पेंच अपनाने वाले प्रत्याशियों की बेचैनी भी बढ़ने लगी है। कमोबेश सभी प्रत्याशी अपने समर्थकों के साथ बैठकें कर जीत-हार के समीकरण पर विचार मंथन कर रहे हैं। साथ ही पूरा लेखाजोखा भी निकाल रहे हैं कि किस प्रत्याशी को कहां से कितना वोट मिला है।
जातीय समीकरण के आधार पर भी गुणा-भाग लगाया जा रहा है। तमाम कवायद के बीच हर प्रत्याशी अपनी जीत को लेकर आश्वस्त दिख रहा है। साथ ही यह रूपरेखा बनाने में भी जुटे हैं कि चुनाव में जीत का सेहरा बांधने के बाद विकास कार्यों की गंगा कैसे बहानी है।

घरेलू हिंसा रोकने में मददगार होंगी आशा

0

Posted on : 14-05-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद:(राजेपुर) आशा कार्यकर्ता मां व बच्चों को स्वस्थ रखने के लिए काम करती हैं। इस कारण समाज में उनकी अलग पहचान है। इसको देखते हुए घरों में होने वाली हिंसा को रोकने के लिए अब आशाओं को स्वास्थ्य विभाग की ओर से प्रशिक्षण दिया गया|
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर चिकित्सक दीपेन्द्र अवस्थी के नेतृत्व में तीसरा पांच दिवसीय प्रशिक्षण सम्पन्न हुआ| जिसमे  अब तक आशा कार्यकत्री महिलाओं, नवजात और किशोर किशोरियों को होने बीमारियों से बचाव के लिए जागरूक करती रही हैं लेकिन अब एक नई जिम्मेदारी आशा कार्यकर्ताओं पर विभाग की ओर से सौंपी गयी है|
आशाओं को घरेलू हिंसा रोकने के लिए भी कार्य करने की जिम्मेदारी दी गयी है| प्रशिक्षण में बताया गया कि महिलाओं को मानसिक रूप से प्रताड़ित करने, अनावश्यक कार्य के लिए दबाव बनाने, मजदूरी करने के लिए मारपीट किए जाने आदि जैसी हिंसा आम समस्या है। इन समस्याओं से निपटने के लिए अब आशा कार्य करेंगी। उन्हें अगर महिला हिंसा से जुड़ी जानकारी मिलती है, तो आशा कार्यकर्ता पहले विभाग को सूचना देने के साथ ही पुलिस को भी खबर करेंगी।  बताया गया कि आशा कार्यकर्ताओं का कार्य क्षेत्र गांव है। इससे प्राथमिक स्तर पर महिलाओं को होने वाली परेशानी का बेहतर ढंग से पता चल जाएगा। समय रहते सही जगह पर सूचना पहुंच जाने से समस्याओं के समाधान में मदद मिलेगी। स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ दिलाने के साथ ही आशाओं को दी जाने वाली यह जिम्मेदारी चुनौतीपूर्ण होगी।
इस व्यवस्था से महिलाओं के साथ होने वाली घरेलू हिंसा को रोकने में काफी हद मदद मिल सकती है।
इस दौरान स्वास्थ शिक्षा अधिकारी अखिलेश कुमार, अनीता त्रिपाठी, डॉ० पर्मित व  नीतू शामिल रहे|