नगर में जगह-जगह हुआ खिचड़ी भोज का आयोजन

0

Posted on : 15-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, धार्मिक, सामाजिक

फर्रुखाबाद:मकर संक्रांति पर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष डा0 जितेंद्र सिंह ने घोड़ा नखास पहुंचकर खिचड़ी भोज कार्यक्रम में भाग लिया। मकर संक्रांति पर्व पर पार्टी के कार्यकर्ता ऋषभ कुमार व बॉबीराज आर्यन के नेतृत्व में खिचड़ी भोज कार्यक्रम हुआ।
जिसमें डा0 जितेंद्र सिंह ने कहा कि खिचड़ी भोज हर साल होता है। हम हमेशा यहां आते रहेंगे। यह त्योहार आपसी भाईचारा व समरसता का त्योहार है। उन्होंने कहा कि आगामी चुनाव में पार्टी के प्रत्याशी को जिताना है। वर्तमान भाजपा सरकार से सभी लोग पीडि़त है। उन्होंने खुशी जाहिर करते हुये कहा कि प्रगतिशील पार्टी का चुनाव चिंह चाबी मिला है। बिना चाबी को आगामी चुनाव में कोई भी ताला नहीं खोल सकता। प्रदेश सचिव विश्वास गुप्ता ने कहा कि प्रगतिशील पार्टी धर्म निरपेक्ष के साथ काम करती है। हर धर्म के लोग इसमें जुड़े हैं। आगामी लोकसभा चुनाव में शिवपाल सिंह के बिना केंद्र में प्रधानमंत्री नहीं बन सकता। खिचड़ी भोज कार्यक्रम में मोहल्ले के लोग व राहगीरों ने भाग लिया। इस दौरान चांद मोहम्मद खां, मोहन सिंह, नीरज वाल्मीकि, पवन सक्सेना, अरविंद कश्यप, अनिल वाल्मीकि, मुईनुद्दीन, अरविंद कुमार, अकील खां, सरफराज, पवन आदि लोग मौजूद रहे। ऋषभ कुमार व बॉबीराज आर्यन ने डा0 जितेंद्र सिंह यादव व विश्वास गुप्ता का स्वागत किया।
हिन्दू महासभा का भी खिचड़ी भोज
अखिल भारत हिन्दू महासभा सभा के द्वारा काशीराम कालोनी हैवतपुर गढिया में युवा मोर्चा खिचड़ी भोज का आयोजन किया गया| जिसमे सैकड़ों की संख्या में लोगों ने खिचड़ी का स्वाद चखा| इस दौरान जिलाध्यक्ष विमलेश मिश्रा,महामंत्री सौरभ मिश्रा,युवा नगरअध्यक्ष मोनू तिवारी,संतोष त्रिवेदी,सनी शुक्ला,अर्जुन दीक्षित,गौरव राजपूत,सौरभ राजपूत,आकाश सिंह आदि रहे|

मार्ग दुर्घटना में बाइक सबार की मौत,एक गंभीर

0

Posted on : 15-01-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, सामाजिक

फर्रुखाबाद:(नवाबगंज)बाइक से बाजार आये युवक की अज्ञात वाहन की टक्कर से मौत हो गयी| जबकि उसका साथी गम्भीर रूप से जख्मी हो गया| घायल को लोहिया अस्पताल में भर्ती किया गया है| पुलिस जाँच पड़ताल कर रही है|
थाना क्षेत्र के बिजली घर के सामने निवासी 18 वर्षीय श्याम सुन्दर कश्यप पुत्र संजू कश्यप अपने साथ मोहल्ले के 22 वर्षीय कौशलेन्द्र शर्मा पुत्र गिरजाशंकर शर्मा के साथ बाइक से सरसों का तेल लेनें कस्बे की तरफ आया था| तभी उसको देर शाम किसी अज्ञात वाहन ने टक्कर मार दी| जिससे दोनों गम्भीर रूप से जख्मी हो गये| घटना की सूचना मिलने पर एसएचओ रविन्द्र नाथ यादव ने अपने सरकारी गाड़ी से लोहिया अस्पताल पंहुचाया| जंहा लोहिया अस्पताल में ईएमओ डॉ० प्रसन्त ने श्यामसुंदर को मृत घोषित कर दिया| जबकि कौशलेन्द्र की हालत भी गम्भीर बतायी गयी है|
घटना की सूचना मिलने पर मृतक की माँ रेखा अन्य परिजनों के साथ लोहिया अस्पताल आ गयी| उनका रो-रो कर बुरा हाल हो गया| प्रभारी निरीक्षक ने बताया की जाँच की जा रही है| तहरीर मिलने पर मुकदमा दर्ज किया जायेगा|

तीन दिवसीय बालीबाल प्रतियोगिता का आगाज

0

Posted on : 15-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, जिला प्रशासन

फर्रुखाबाद:(मोहम्मदाबाद)राज्य स्तरीय बालीबाल प्रतियोगिता का आगाज मंगलवार को हो गया| जिसमे प्रदेश भर के तमाम जनपदों की टीमें हिस्सा ले रही है|
विकास खंड के ग्राम नवादा दोयम में भोजपुर विधालय नागेन्द्र राठौर के द्वारा स्वर्गीय राजेन्द्र सिंह राठौर स्मारक राज्य स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन कराया गया| जिसका शुभारम्भ डीएम मोनिका रानी,एसपी संतोष मिश्रा व अमृतपुर विधायक सुशील शाक्य के द्वारा फीता काटकर किया गया| बालीबाल प्रतियोगिता में फतेहगढ़,शामली,प्रयागराज,लखनऊ,गोरखपुर,मैनपुरी,फैजाबाद,देवरिया,बाराबंकी आदि जनपदों के खिलाड़ी अपनी-अपनी टीम के साथ प्रतियोगिता में हिस्सा लेनें पंहुचे| प्रतियोगिता 15 जनवरी से 18 जनवरी तक चलेगी| 18 जनवरी को जिले के प्रभारी मंत्री चेतन चौहान व सांसद मुकेश राजपूत मौजूद रहेंगे| इस दौरान सीडीओ अपूर्व दुबे,एसडीएम सदर अमित आसेरी,जिला युवा कल्याण अधिकारी ब्रजेश यादव आदि रहे|

चतुर्थ श्रेणी चिकित्सा कर्मचारी संघ के राकेश बने अध्यक्ष

0

Posted on : 15-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद:चतुर्थ श्रेणी चिकित्सा एवं स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के चुनाव लोहिया अस्पताल में सम्पन्न कराया गया| जिसमे अध्यक्ष पद पर राकेश कुमार ने कब्जा जमा लिया|
मंगलवार को आयोजित हुए चुनाव में चुनाव अधिकारी पंकज शुक्ला व डॉ० बीबी कटियार बने| पहले सभी पदों पर निर्विरोध चुनाव कराये जाने को लेकर सहमति बनाने का प्रयास किया गया| लेकिन जब सहमति नही बनी तो चुनाव कराया गया| जिसमे अध्यक्ष राकेश कुमार वाथम,वरिष्ठ उपाध्यक्ष शैलेन्द्र मिश्रा,मंत्री मुकेश त्रिपाठी,कोषाध्यक्ष रामलखन तोमर,सम्प्रेक्षक नरेंश कुमार,संयुक्त मंत्री हरीकिशन,
संरक्षक रामनन्दन वाथम निर्वाचित किये गये|
इस दौरान अध्यक्ष के रूप में शेष नरायन सचान मौजूद रहे| वही चीफ फार्मासिस्ट संजीब कुमार,प्रवीन कुमार आदि रहे| संचालन जितेन्द्र सिंह ने किया|

सहकारी संघ से 44 वर्ष बाद हटा सपा का कब्जा

0

Posted on : 15-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics- Sapaa, Politics-BJP

फर्रुखाबाद:बीते लगभग चार दशक से अधिक समय से सहकारिता विभाग पर सपा का कब्जा था| लेंकिन इस बार बीजेपी ने जिले की सहकारिता से सपा का पत्ता साफ़ कर दिया| भाजपा के जिला महामंत्री शैलेन्द्र सिंह राठौर की पत्नी पूनम सिंह सहकारी संघ की अध्यक्ष निर्विरोध निर्वाचित हुई|
नगर के रेटगंज स्थित जिला सहकारी संघ के अध्यक्ष पद के लिए पूनम सिंह ने अपना पर्चा आरो रमेश चन्द्र यादव के सामने दाखिल किया| पूनम के विरोध में कोई भी पर्चा दाखिल ना होने पर उन्हें निर्विरोध निर्वाचित किया गया| उन्हें शाम चार बजे जीत का प्रमाण पत्र सौपा गया| समर्थकों ने शैलेन्द्र राठौर व निर्वाचित अध्यक्ष पूनम सिंह का मालाओं से स्वागत किया| जिला सहकारी संघ लि० के रिक्त प्रतिनिधि के पदों पर भी निर्वाचन हुआ| जिसमे इफ्को देहली के दिनेश चन्द्र मिश्रा,पीसीएफ लखनऊ के राजेश त्रिपाठी,पीसीयू लखनऊ के आनन्द किशोर दुबे,सत्यपाल सिंह आलू संघ फर्रुखाबाद,मनोज कुमार केन्द्रीय भंडारण निगम देहली,अरुणा देवी डीसीबी फर्रुखाबाद,संजीब गुप्ता डीसीबी,भूदेव सिंह यूपी उपभोक्ता संघ लखनऊ,शैलेन्द्र सिंह राठौर डीसीबी फर्रुखाबाद,अरुण कुमार यूपी उपभोक्ता सह संघ के प्रतिनिधि चुने गये|
सहकारी संघ पर लगभग 44 वर्षों से सपा के पूर्व सांसद छोटे सिंह का कब्जा था| जो समाप्त हो गया| इस दौरान जिलाध्यक्ष भूदेव राजपूत,सदर विधायक मेजर सुनील दत्त द्विवेदी,क्षेत्रीय उपाध्यक्ष सत्यपाल सिंह आदि रहे|

मायावती का बर्थडे केक खाने को मंच से मैदान तक धक्का-मुक्की

0

फर्रुखाबाद:बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमों मायावती के जन्मदिन पर काटे गये केक को खाने को लेकर मंच से लेकर मैदान तक धक्का-मुक्की की गयी| जिससे आयोजको काफी समस्या का सामना करना पड़ता है|
बसपा सुप्रीमो का जन्मदिन नगर के ठंडी सडक पर आयोजित कार्यक्रम को मुख्य अतिथि मुख्य मंडल प्रभारी जसकरन सिंह कठेरिया ने केक काटकर जन्मदिन मनाया| इसके बाद सभी ने मिलकर मंच से केक काटा| जैसे ही काटा गया दर्शक नीचे कुर्सी छोड़ मंच पर आ गये| एक युवक में तो मारपीट भी हो गयी| भीड़ एक दूसरे पर बढ़ कर केक हासिल करना चाह रही थी|
अयोजकों ने जब यह देखा की भीड़ केक के लिए मंच पर आ गयी है तो उन्होंने सबसे पहले केक को मंच से हटा लिए और पीछे जाकर केकर वितरित किया| इस दौरान अव्यवस्था देखी गयी| लेंकिन अयोजक मौन नजर आये|

बर्थडे पर मायावती को प्रधानमंत्री बनाने की ली शपथ

0

Posted on : 15-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics- Sapaa, Politics-BJP, Politics-BSP, Politics-CONG.

फर्रुखाबाद:लोकसभा चुनाव के लिए सपा से ठीक से बसपा का अभी गठबंधन तक नही हो पाया सीटों का बटवारा होना अभी बांकी है| लेकिन उनके जन्मदिन पर बसपा नेताओं ने मायावती को देश का प्रधानमन्त्री बनाने की घोषणा तक कर दी| जिससे जिले में सपा के गठबंधन की सियासत में हलचल शुरू हो गयी है|
नगर के ठंडी सड़क स्थित एक कोल्ड में बसपा सुप्रीमो मायावती का 63 वां जन्मदिन जनकल्याणकारी दिवस के रूप में मनाया गया| जिसमे मुख्य अतिथि के रूप में पंहुचे मुख्य मंडल प्रभारी जसकरन सिंह कठेरिया ने सपा से सारी बुराई भुलाकर भाजपा पर तीखे प्रहार किये| उन्होंने कहा कि जब से देश आजाद हुआ कांग्रेस और भाजपा की सरकारों ने कभी भी दलित समाज को आगे बढने नही दिया| भाजपा व कांग्रेस धर्म व जाति की बात करते है लेकिन बसपा में केबल भाईचारे की बात होती है|
भाजपा की केंद्र में सरकार बनने से पूर्व पीएम मोदी ने घोषणा कर कहा था कि वह देश में दो करोड़ लोगों को रोजगार देंगे | लेकिन दो हजार को भी रोजगार नही दिया गया| बसपा की जब प्रदेश में सरकार थी तो लाखों लोगों को नौकरी दी| गाँव-गाँव सफाई कर्मी नियुक्त किये| भाजपा किसानों के खिलाफ कार्य करती है| प्रदेश में इस समय सांड योजना चल रही है| भाजपा के खुले सांड किसानों की खेतों को खा रहे है| जिससे किसान बेहाल है| बसपा सरकार में बीजेपी स्मारक का विरोध कर रही थी लेकिन अब खुद ही मूर्ति लगाये जा रही है| इसके बाद बसपा सुप्रीम का जन्मदिन केक काटकर मनाया गया| कार्यक्रम की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष विजय भास्कर ने की|
इस दौरान पूर्व एमएलसी मनोज अग्रवाल,उमर खां,दुर्गा प्रसाद,विनोद गौतम,रामनरेश गौतम,राजकुमार गौतम,दीपक कुशवाह,जंगली लाल वाथम,सुरेश चन्द्र वर्मा,प्रमोद दिवाकर आदि रहे| संचालन शरद श्रीवास्तव ने किया|

दो दुकानों पर चोरों का कहर,नकदी सामान साफ़

0

Posted on : 15-01-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, Politics

फर्रुखाबाद:(मेरापुर)बीती रात दो दुकानों पर चोरों नें हमला बोला और ताला तोड़कर नकदी व सामान साफ कर दिया| घटना की सूचना मिलने पर पुलिस ने जाँच पड़ताल की|
थाना क्षेत्र की अचरा चौकी से निकट सराय अगहत मार्ग के किनारे रखी परचून की दुकान एवं खोखे में रखी जनरल स्टोर की दुकान आमने सामने है| बीती रात अज्ञात चोरों ने दोनों दुकानों को निशाना बनाया| चोरी की सूचना पर दोनों दुकानदार अपनी अपनी दुकान पर पहुंचे थाना क्षेत्र के गांव गठवाया निवासी दिनेश चंद गुप्ता की परचून की दुकान का ताला तोड़कर सामान केसाथ हीएक हजार की नकदी एवं वहीं नवाबगंज थाना क्षेत्र के गांव बलीपुर निवासी राजू के खोखे में जनरल स्टोर की दुकान से चोरों ने एक पटली तोड़कर हजारों का सामान व 900 की नकदी एवं अन्य सामान अज्ञात चोर चुरा ले गए|
अचरा चौकी इंचार्ज जय प्रकाश शर्मा ने बताया कि बीती देर रात कस्बा अचरा में दो होमगार्ड गश्त पर थे| शटर के खट्कने की आवाज सुनकर दोनों होमगार्ड घटनास्थल की तरफ गए तभी चोर भाग गए जिसकी सूचना होमगार्ड ने मुझे दी| रात में ही घटनास्थल पर पहुंचकर जांच पड़ताल की और इधर उधर छानबीन की पर चोरों का कोई पता नहीं चल सका जाँच की जा रही है|

मिक्सी ने मिस कर दिया सिल-बट्टा के मसालों का स्वाद

0

Posted on : 15-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, FEATURED, सामाजिक

फर्रुखाबाद:(दीपक-शुक्ला)पुराने समय में खाना पकाने के लिए मसाले पीसने के लिए ओखली-मूसल और सिल बट्टा का इस्तेमाल किया करते थे। बेशक इन चीजों में मसाला पीसने में मेहनत और समय दोनों खर्च होते थे लेकिन खाने का जो स्वाद आता था, यब बात आपके परिजन अच्छी तरह जानते होंगे। आजकल लोगों के पास समय नहीं है इसलिए अब इस काम के लिए ग्राइंडर, ब्लेंडर और मिक्सर आदि का इस्तेमाल होता है। जिससे सिल-बट्टा का कारोबार करने वाले कारीगरों की रोजी-रोटी पर खासा असर डाला है| एक जमाने में मेला रामनगरिया से लोग सिल-बट्टा लेंने के लिए साल भर इंतजार करते थे| लेकिन आज इस कारोबार को तो जंग लगी ही है साथ ही आम आदमी की रसोई से सिल-बट्टा से पीसे गये मसालों का स्वाद गायब सा हो गया है|
मेला रामनगरिया लगभग लग गया है| हजारों की संख्या में कल्पवासी भी जुट गये है| मेला का शुभारम्भ भी जल्द होने वाला है|मेला देखें के लिए दूर-दराज से लोग आने भी शुरू होंगे| मेले में दुकान लगाने वाले कारोबारी अपनी दुकानें भी सजाने लगे है| उन्ही में से आधा दर्जन दुकाने सिल-बट्टा बनाने वाली है| जो पत्थर को काटकर उसे सिल-बट्टे का रूप दे रहे है| यह कारोबारी बीते कई दशकों से सिल-बट्टा की दुकानें लगाकर कारोबार करते आये है| लेकिन आज उनके सामने निराशा है| घरों के रसोईघर से सिल-बट्टा की जगह मिक्सी ने ले ली है| कुछ मिनटों में ही सब्जी के लिए मसाला एक बटन दबाकर पीसा जा सकता है|
रामनगरिया में सिल-बट्टे की दुकान लगाये कारीगर अमित कुमार ने बताया की उसके परिवार में पुश्तैनी यह कारोबार होता चला आ रहा है| इस समय सिल सफेद या लाल पत्थर की 150 से 200 रूपये में इसके साथ ही साथ बड़ी सिल चार सौ से 500 रुपये में उपलब्ध है| अमित ने जेएनआई को बताया कि लेकिन पिछले वर्षों में कारोबार में भारी गिरावट आयी है| ग्राहकों की संख्या और सिल के प्रति रूचि भी घटी है| घर की महिलायें सिल से मसाला पीसनें में कोई रूचि नही रखती| जिस कारण बिक्री भी कम है| ग्रामीण क्षेत्रों में तो अभी सिल प्रयोग हो रहा है| लेकिन शहरी क्षेत्र में अधिकतर सिल की जगह इलेक्ट्रानिक मिक्सी ने ले ली है| रामनगरिया में सिल-बट्टा बना रहे कारोबारी कुलदीप ने जेएनआई को बताया की आगरा और इलाहाबाद से वह सिल खरीदते है| लेकिन सरकार इस बिलुप्त होते कारोबार पर भी 15 प्रतिशत जीएचटी चार्ज करती है| जिससे कारीगर काफी आहत है|
पहले लोग मसालों को पिसने के लिए किसी ग्राइंडर, ब्लैडर और मिक्सी को उपयोग में नहीं लाते थे। बल्कि वो मसाले को पीसने के लिए ओखली मसूल या सिल बट्टा का प्रयोग करते थे। बेशक उस समय मसाला पीसने में मेहनत और समय दोनों ही बहुत अधिक लगता था।
लेकिन उस समय उनके खाने में जो स्वाद आता था वो आज के खाने के कहीं दूर दूर तक नजर नहीं आता। इसका कारण यह कि आज कम सिल बट्टा का उपयोग नहीं बल्कि मिक्सर को मसाले पिसने के लिए उपयोग में लाते हैं इससे मसाले झटपट से पीस तो जाते हैं लेकिन मसालों का स्वाद खत्म हो जाता है।
सिल बट्टा पर मसाले पीसने के फायदे
1. टेस्ट को बढायें
जब आप सिल बट्टा या ओखली मसूल में मसाले को पीसते तो इसकी खुशबु भी मसालें में मिल जाती है जिसके कारण मसाले का टेस्ट ओर अधिक बढ़ जाता है। इसका कारण यह हैं कि ये जड़ी बूटियों और मसाले में तेल जारी करती है। जिससे इनका स्वाद और ज्यादा बढ़ जाता है।
2.साबुत मसाले पीसें जाते हैं
जब आप ब्लैडर को प्रयोग में लाते हो तो आपको चीजों को काटकर पीसना पड़ता है। जबकि सिल बट्टा पर सब चीजों को साबुत ही पीसा जाता है। जिससे चीजों के तेल और फाइबर भी पिसें जाते हैं। यहीं कारण हैं कि सिल बट्टा पर तैयार चटनी ग्राइंडर की चटनी से अधिक स्वादिष्ट होती है।
3.गर्मी को पैदा नहीं होने देता
जब आप इलेक्ट्रिक ब्लैडर को मसाले पीसने के लिए प्रयोग में लाते हो तब उसमें गर्मी पैदा हो जाती है। जिससे उसका स्वाद बदल जाता है। जब आप ब्लेंडर में अदरक को पीसते हो तो गर्मी के कारण लहसुन का स्वाद कडवा हो जाता है। जबकि सिल बट्टा पर गर्मी पैदा नहीं होती।
4.एक्सरसाइज
यह जाहिर सी बात है कि जब आप सिल बट्टा या ओखली पर अधिक देर तक अपने हाथों को चलाते हो तो इससे आपकी अच्छी-खासी एक्सरसाइज भी हो जाती है। आपकी दादी के हाथ, कंधे और बाहें मजबूत होने का एक मुख्य कारण यह भी हैं। जब सिल बट्टे पर काम करते समय आपकी एक्सरसाइज होती हैं। तब आपका पेट बाहर की तरफ नहीं निकलता।
5.हाथों का इस्तेमाल
ब्लैडर में आप चीजों को डालकर दो मिनट में पीस लेते हो जबकि सिल बट्टा या ओखली मसूल में आपको काफी देर तक अपने हाथों को चलाना पड़ता है। इसके आपको यह पता रहता हैं कि खाने में आपको कैसा मसाला चाहिए। आप उसे अपने जरूरत के अनुसार बना सकते हो।
6.बिजली की बचत
जब आप सिल बट्टे पर मसाले पिसते है तब आपको ब्लैडर की आवश्यकता नहीं होती। जिससे आपकी बिजली की भी बचत हो जाती है।

संक्राति पर गंगा में नालों का संगम,दूषित जल से आचमन

0

Posted on : 15-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, धार्मिक, सामाजिक

फर्रुखाबाद:पर्यावरण को बेहतर बनाने के लिए भले ही नित नई योजनाएं बन रही हों लेकिन धरातल पर हकीकत कुछ और ही कहानी बयां कर रही है। पर्यावरण के संरक्षण में मुख्य भूमिका पानी, वायु की होती है लेकिन जल व वायु दोनों में लगातार बढ़ रहा प्रदूषण खतरे को दावत दे रहा है। कल कारखानों का गंदा पानी, घरेलू गंदा पानी, नालियों में प्रवाहित मल, सीवर लाइन का गंदा निष्कासित पानी नालों के माध्यम से गंगा के आंचल को दागदार कर रहा है। इसी गंदे पानी के गंगा में गोता लगाने के बाद श्रद्धालु व कल्पवासी मकर संक्राति पर आचमन करते नजर आये| जबकि जिला प्रशासन के कागजों में नाले पूरी तरह से बंद है और गंगा अबिरल और निर्मल प्रवाहित हो रही है|
गंगा की अस्मिता को भंग कर रहे नालों को रोकने के लिए कई प्रयास किये गये| जिला प्रशासन ने बीते कई दिनों से आस्थाई बांध बनाने का प्रयास किया लेकिन उसके बाद भी अब तक किसी ने गंभीरता नहीं दिखाई। गंदे नालों को रोकने के लिए प्रशासन के पास कोई योजना नहीं है। जो योजनाएं हैं भी वे सिर्फ कागजों तक ही सीमित हैं। ऐसे में गंगा को स्वच्छ बनाने के सपना सिर्फ सपने सरीखा है। सोमबार व मंगलवार को मकर संक्राति पर जिले से ही नही आस-पास से भी लोग गंगा का में स्नान करने पंहुचे लेकिन उन्हें आस्था के आगे घुटने टेंककर गंगा के नाला के पानी युक्त जल से ही आचमन करना पड़ा| पांचाल घाट के निकट पुरानी घटिया व टोका घाट की तरफ से आने वाले नाले गंगा को दूषित करनें का प्रयास कर रहे थे|
ईओ नगर पालिका रमेश यादव ने जेएनआई को बताया की बांध बनाये गये थे| 14 व 15 जनवरी के मकर संक्राति स्नान के लिये लेकिन उसके बाद कुछ लोगों ने उसे खोल दिया है| दोबारा कर्मचारियों को भेजकर बांध दुरस्त करायें जायेंगे| सूचना मिल गयी है| मंगलवार को टीम पूरे दिन बांधो पर रहेगी|