पुलिस ने खंगाली गायब छात्रा की मोबाइल लोकेशन

0

Posted on : 10-01-2019 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, सामाजिक

फर्रुखाबाद:(राजेपुर)बीते दिन छेड़छाड ने आहत होकर लापता हुई किशोरी की तलाश में पुलिस छानबीन कर रही है| लेकिन 24 घंटे के बाद भी उसका कोई पता नही चल सका है| पुलिस को उसका कुछ सामान जरुर मिल गया है| जिससे पुलिस अपनी जाँच की दिशा तय करने में लगी है|
बीते दिन सुबह शहर कोतवाली क्षेत्र के घोडा नखास निवासी छात्रा तकरीबन 7 बजे कोचिंग के लिए गयी थी| उसके बाद उसने फोन पर अपने परिजनों को अवगत कराया की वह कोचिंग ना जाकर गंगा में आत्महत्या करने जा रही है| उसके बैग में कुछ है| जिसके बाद जब परिजनों को उसका बैग जनपद शाहजंहापुर के थाना अल्लागंज स्थित रामगंगा के पुल पर मिला था| बैग में ही उसने सोसाइड नोट भी मिला| जिसमे लिखा था कुछ लड़के आते जाते उसके साथ छेडखानी करते है| उसे कई बार अपने साथ ले जाने की कोशिश भी की| आते जाते छेड़छाड करते है जिससे वह तंग आ गयी है और वह आत्महत्या करने जा रही है|
परिजनों ने घटना की सूचना पुलिस को दी| पुलिस ने जाँच पड़ताल शुरू की| शुक्रवार को छात्रा के मामले में जाँच करने सर्विलांस टीम के साथ ही एसओजी और थाना राजेपुर की फ़ोर्स रामगंगा पंहुची| अल्लागंज थाना पुलिस से गायब युवती की कुछ सामान भी पुलिस को मिली है| जो जनपद पुलिस ने कब्जे में ले लिए|
सर्विलांस टीम को नही मिली छात्रा के फोंन की लोकेशन
सोसाइट नोट में आत्महत्या की बात लिखकर गयी किशोरी का पुलिस को कोई अता-पता नही चला| शुक्रवार को जब सर्विलांस टीम ने रामगंगा के पुल पर जाकर छात्रा के फोन की लोकेशन की तलाश की| लेकिन बीते दिन से ही उसका फोन बंद होने से उसकी लोकेशन नही मिल सकी| जिसके बाद पुलिस खाली हाथ लौट गयी|
कार्यवाहक प्रभारी थानाध्यक्ष रविन्द्र कुमार ने बताया कि छात्रा की किताब,बैग व जूती पुलिस को मिली है| पुलिस जाँच कर रही है|

अखिलेश सरकार ने 53 मनमाने ढंग से बाँटे यश भारती सम्मान

0

Posted on : 10-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics- Sapaa

लखनऊ:खनन घोटाले के बाद अखिलेश यादव सरकार में अब यश भारती पुरस्कार प्रदान करने पर प्रश्न उठ रहा है। सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. नूतन ठाकुर ने आरोप लगाया है कि अखिलेश सरकार ने 53 लोगों को मनमाने ढंग से यश भारती दी। नूतन ठाकुर ने सूचना के अधिकार के तहत संस्कृति विभाग से मिली सूचना के आधार पर यह आरोप लगाया है।
डॉ. नूतन ने आरटीआइ की सूचना के हवाले से बताया कि 2016-17 के लिए यश भारती पुरस्कारों के संबंध में 20 अक्टूबर, 2016 को स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक में 54 नामों की संस्तुति की गई। उस समय की संस्कृति मंत्री अरुण कुमारी कोरी की संस्तुति से यह अखिलेश यादव को भेजी गई। नूतन ठाकुर के मुताबिक अखिलेश यादव ने इसमें बिना कोई कारण बताए आगरा के जरदोजी कला के शमीमुद्दीन का नाम काट दिया तथा उसी प्रकार मनमर्जी से 23 नए नाम जोड़ दिए। इसमें चार नाम हाथ से बढ़ाए गए थे। फिर बिना किसी आधार या संस्तुति के 12 नाम बढ़ाए गए। इसमें शाबाद रुवैदी का नाम हाथ से बढ़ाया गया था।
इसके बाद फिर छह नए नाम, फिर तीन, फिर 29 नवंबर 2016 को आइएएस सुहास एलवाई समेत दो तथा 19 दिसंबर 2016 को सात नए नाम मनमाने ढंग से बढ़ाए गए। नाम बढ़ाये जाने का कोई कारण या आधार पत्रावली में नहीं है। नूतन का कहना है यह राजनेताओं के अधिकारों के भारी दुरुपयोग का स्पष्ट उदाहरण है। यश भारती पुरस्कार लेने वालों में 6 लोग ऐसे हैं जो किसी ना किसी समाजवादी नेता की सिफारिश पर पुरस्कार हासिल कर पाए हैं। अखिलेश सरकार में कद्दावर मंत्री रहे उनके चाचा शिवपाल यादव की सिफारिश पर दो लोगों को जबकि मंत्री आजम खान की सिफारिश पर एक व्यक्ति को यश भारती पुरस्कार से नवाजा गया है। बाहुबली विधायक और उस वक्त मंत्री रह चुक राजा भैया ने भी दो लोगों को पुरस्कार दिलाने में मदद की थी।
सेंटर फॉर सिविल लिबर्टीज की वकील नूतन ठाकुर ने कोर्ट से कहा कि सरकार हर पुरस्कृत व्यक्ति को 11 लाख रुपये नकद और मासिक पेंशन दे रही है। पुरस्कार मनमाने ढंग से दिए जा रहे हैं। इस पर शासकीय अधिवक्ता ने जवाब के लिए समय मांगा। कोर्ट से आग्रह किया गया है कि हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में एक जांच कमेटी बना कर 2012 से 2016 के बीच दिए गए सभी यश भारती पुरस्कारों की समीक्षा कराई जाए।
हाईकोर्ट ने भी मांगा है जवाब
आरटीआई कार्यकर्ता के मुताबिक यश भारती पुरस्कार देने में अखिलेश यादव सरकार ने न सिर्फ पूरी तरह से मनमर्जी चलाई बल्कि किसी भी तरह नियम कायदे को फॉलो नहीं किया। इन आरोपों के बाद समाजवादी पार्टी की तरफ से किसी भी तरीके का सफाई या बयान नहीं दिया गया है। जस्टिस देवेन्द्र कुमार अरोड़ा और जस्टिस राजन रॉय की बेंच के समक्ष याची सेंटर फॉर सिविल लिबर्टीज ने कहा पुरस्कारों में सार्वजनिक धन का उपयोग होता है, जिसे मनमाने तरीके से नहीं दिया जा सकता। इस पर कोर्ट ने जवाब देने के लिए संस्कृति सचिव को अभिलेखों के साथ तलब किया है। मामले की अगली सुनवाई 23 जनवरी को होगी।
यश भारती लौटाएंगे हॉकी ख‍िलाड़ी शकील
पहले यश भारती पेंशन बंद होने और फिर आयकरदाताओं को इसके दायरे से बाहर करने पर पूर्व हॉकी खिलाड़ी शकील अहमद ने नाराजगी जताई है। भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान और ओल‍िंपिक में देश का प्रतिनिधत्व कर चुके शकील ने यश भारती लौटाने का ऐलान किया है। मौजूदा समय में एयर इंडिया में एजीएम शकील का दावा है कि यश भारती पाने वाले कई और धुरंधर खिलाड़ी भी सम्मान वापस कर सकते हैं। अखिलेश सरकार ने तीन नवम्बर 2015 को जारी पेंशन नियमावली में यश भारती व पद्म पुरस्कार से सम्मानित प्रतिभाओं को 50 हजार रुपये मासिक पेंशन देने की व्यवस्था की थी।
बीजेपी सरकार ने सत्ता में आने के बाद यह पेंशन बंद कर दी। हाल ही में प्रदेश सरकार ने साहित्यकारों, कलाकारों व खिलाड़ियों की मांग पर नई नियमावली जारी की गई, लेकिन इसमें आयकरदाताओं व सरकारी पेंशन पाने वालों को यश भारती की पेंशन के दायरे से बाहर कर दिया गया। सरकार के इस निर्णय से आहत शकील अहमद ने बताया कि वह जल्द ही यश भारती सम्मान सरकार को लौटा देंगे। शकील का कहना है कि ओलंपिक में हॉकी टीम की अगुआई करने व बेहतरीन प्रदर्शन के लिए यश भारती सम्मान मिला था। सम्मान उन्हें उनकी प्रतिभा और मेहनत की वजह से मिले हैं। एयर इंडिया में नौकरी भी मेहनत से मिली है। फिर भी आयकर अदा करने के आधार पर पेंशन रोकने के फैसले से मैं सहमत नहीं हूं।

कुम्भ मेले के लिए रवाना हुई गंगा मनुहार यात्रा

0

फर्रुखाबाद:संस्कार भारती के कला साधक गंगा व काली नदी का जल लेकर प्रयागराज कुम्भ के लिए चलो बुलावा आया मां गंगा ने बुलाया है‘ के उद्घोष के साथ रवाना हो गए|
संस्था संस्कार भारती की फर्रुखाबाद इकाई के कला साधक गंगा मनुहार कार्यक्रम के लिए प्रयाग राज कुम्भ रवाना हुए। शहर के गणमान्य नागरिकों ने सभी साधकों को रवाना किया। कुम्भमें 11 व 12 जनवरी को गंगा मनुहार कार्यक्रमआयोजित होगा।जिसमें पूरे देश से लगभग 2 हजार कला साधक विभिन्न नदियों का जल लेकर प्रयागराज कुम्भ पहुँच रहेहैं। वहाँ पर सेक्टर 14 में भव्य कार्यक्रमआयोजित होगा।इसके साथ ही पूरे देश के कला साधकअपनी-अपनी पारम्परिक वेश-भूषा में कुम्भ में जल कलश लेकर एक शोभा यात्रा निकालेेगें। यह शोभायात्रा सेक्टर 14 से संगमतट तक जायेगी। उसकेपश्चात देश के विभिन्न प्रान्तों से आया नदियों के जल का गंगा मेंआ मेलन कर पूजनअर्चन किया जायेगा। इसके साथ ही देश के विभिन्न हिस्सों से आये कलाकार सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करेगें।
प्रान्तीय महामंत्री सुरेन्द्र पाण्डेय ने बताया कि कार्यक्रम का उद्देश्य नदियों की स्वच्छता,सरलता,अविरलता है।फर्रुखाबाद से संस्कार भारती के16 कला साधक कुम्भ में जा रहे है।जिनके द्वारा कल प्रयागराज कुम्भ में संगीतमय सुन्दरकांडपाठ का आयोजन किया जायेगा। उन्होंने बताया कि फर्रुखाबाद से रविन्द्रभदौरिया,नवीनमिश्रा,श्याम,देवेन्द्रदुबे,रमापाण्डेय,पूनमपाण्डेय,संदीप चौरसिया, शिवम,पलक पाण्डेय,डा0 शमरेन्द्र शुक्ला ‘कवि‘, शिवानी शुक्ला,जितेन्द्रगुप्ता,काव्यांश, तेजस्व,यशिका पाण्डेय,संस्था के कोषाध्यक्ष, आदेशअवस्थी आदि जा रहे है।
शोभायात्रा में भाजपा नेता राघव दत्त मिश्रा,नमामिगंगे के जिला संयोजक रवि मिश्रा,अनुराग पाण्डेय, कार्यकारी अध्यक्ष संजय गर्ग, सचिव आकांक्षासक्सेना रितिक पाण्डेय सहित तमाम लोगउपस्थितरहे।

कागज पर उकेरा पर्यावरण संरक्षण का संदेश

0

Posted on : 10-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, सामाजिक

फर्रुखाबाद:नगर के चल रहे युवा महोत्सव के कार्यक्रम के तहत गुरुवार को चित्रकला प्रतियोगिता का आयोंजन हुआ| जिसमे बड़ी संख्या में युवा चित्रकारों ने हिस्सा लिया| जिसमे चित्रकारों ने कागज पर पर्यावरण बचाने का संदेश उकेरा|
15 वें फर्रुखाबाद युवा महोत्सव प्रतियोगिताओं के तहत एयरहोस्टेस एकेडमी निकट स्टेट बैंक फर्रुखाबाद में ड्राइंग-पेन्टिंग प्रतियोगिता आयोजित हुई। प्रतिभागियों नें ‘‘प्राकृतिक सौन्दर्य‘‘विषय पर अपने विचारों को कैनवस पर कलर के माध्यम से व्यक्त किया। युवाओं नें उगते हुए सूर्य,पहाड़ों और नदियों का सजीव चित्रण किया। युवा कलाकारों ने बताया कि ड्राइंग-पेन्टिंग से एकाग्रता मिलती है। जैसा सोचो बैसा कैनवस पर चित्रांकन करके रंग भरने से एक सुख का अनुभव होता है।
युवाओं ने बताया कि कलाकार का समाज में महत्वपूर्ण स्थान है। युवाओं नें सूर्य,तारे,चाँद,नदी,पहाड़ के मनोरम चित्र प्रस्तुत किये। प्रतिभागी-सोनी गुप्ता,अनुकृति,मधु पाल,दिव्यांगी तिवारी,शालिनी गुप्ता,शिखा यादव,रूमा कुमारी,रेशू दुबे,सनोज शाक्य,जाहनवी वर्मा,निशा तरन्नुम,जितेन्द्र सिंह। डा0 कृष्णकान्त त्रिपाठी ‘अक्षर’,विवेक चतुर्वेदी नें निर्णायक की भूमिका निभाई। डा0 संदीप शर्मा (अध्यक्ष),डा0 कृष्णकान्त त्रिपाठी ‘अक्षर’,मयंक मिश्रा,विवेक चतुर्वेदी,हर्षित मिश्रा। आदि रहे|

जिले को सही दिशा में ले जाने की जरूरत:डॉ० कविता

0

Posted on : 10-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, धार्मिक, सामाजिक

फर्रुखाबाद:(राजेपुर) लोक अधिकार मंच के कार्यालय का शुभारम्भ संगठन के जिलाध्यक्ष डॉ० अरविंद गुप्ता की पत्नी डॉ० कबिता ने फीता काटकर किया| उन्होंने कहा कि जिले को एक नई दिशा देने की जरूरत है| इसके लिए संगठन लगातार प्रयास कर रहा है|
कस्बे के जूनियर हाई स्कूल वाली गली में लोक अधिकार मंच के कार्यालय का गुरुवार को फीता काटकर किया| उन्होंने कहा की किसानों की आय को दो गुना करने के लिए किसानों के लिए समग्र विकास पुस्तक का संकलन किया गया है| जिसमे किसानों के खर्च कैसे कम किये जाये इसकी सभी बातों की विस्तार से जानकारी दी गयी है| उन्होंने कहा की युवाओं को प्राकृतिक खेती के गुर सीखने की जरूरत है| जिससे खेतों में खाद का प्रयोग कम हो सके| उन्होंने कहा की जिले को एक नई दिशा देनें की जरूरत है|