वर्ष का पहला सूर्यग्रहण खत्म,जानिए क्या होगा राशियों पर प्रभाव

0

JNI NEWS : 06-01-2019 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, FEATURED, धार्मिक, सामाजिक

डेस्क:साल का पहला सूर्यग्रहण भारतीय समयानुसार रविवार सुबह 5 बजे से लगा। हालांकि यह भारत में नजर नहीं आया। लगभग 3 घंटे 18 मिनट के यह आंशिक सूर्यग्रहण सुबह 9.18 बजे तक रहा। यह ग्रहण चीन, मंगोलिया, जापान, रूस और अलास्का के कुछ हिस्सों में दिखा। भारत में यह दिखाई नहीं दिया, लेकिन इसका सूतक काल माना जा रहा है।
राशियों पर इसलिए असर नहीं
ज्योतिषियों के मुताबिक, यह प्रथम सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं दे रहा है इसलिए इसका राशियों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। साल में कुल तीन सूर्य ग्रहण लगेंगे। इनमें से 6 जनवरी के बाद 3 जुलाई को दूसरा और तीसरा सूर्य ग्रहण साल के अंतिम सप्ताह में 26 दिसंबर को लगेगा।
बता दें कि इस वर्ष की गणना के अनुसार 2019 में कुल पांच ग्रहण होने वाले हैं। इनमें से तीन सूर्य ग्रहण हैं और दो चंद्र ग्रहण हैं। भारत में केवल दो ही ग्रहण दिखाई देंगे। जिसमे से पहला वर्ष के पहले हफ्ते में 6 जनवरी को लगने वाले आंशिक सूर्यग्रहण से आरंभ हो जायेगा। साथ ही ज्योतिष के अनुसार एक वर्ष में न्यूनतम 2 और अधिकतम 7 ग्रहण हो सकते हैं जिनमें से यदि दो ही ग्रहण पड़ रहे हैं तो एक सूर्य और चंद्र ही होगा दो के दो ग्रहण केवल चंद्र या केवल सूर्य पर नहीं हो सकते।
सूर्य ग्रहण की तारीखें
पहला सूर्य ग्रहण छह जनवरी को पड़ने आंशिक सूर्य ग्रहण है और ये भारत में नहीं दिखेगा। इसके पश्चात दो और तीन जुलाई के बीच की रात को पूर्ण सूर्यग्रहण लगेगा। क्योंकि भारत में उस वक्त रात का समय होगा इसके चलते ये भी यहां दिखार्इ नहीं देगा। तीसरा और अंतिम वलयाकार सूर्यग्रहण होगा जो 26 दिसंबर 2019 को होगा। इसे भारत में देखा जा सकेगा। इस ग्रहण को देश के दक्षिणी हिस्सों में ज्यादा स्पष्ट देखा जा सकेगा, खास तौर से कन्नूर, कोझीकोड, मदुरै और त्रिशूर क्षेत्र में ये सर्वाधिक साफ नजर आयेगा।
चंद्र ग्रहण की तारीखें
वहीं इस साल दो चंद्र ग्रहण होंगे जिसमें से पहला 21 जनवरी को लगने वाला पूर्ण चंद्रग्रहण होगा। परंतु इस को भी भारत में नहीं देखा जा सकेगा क्योंकि उस समय दिन निकला होगा और खिली धूप में चांद नहीं दिख सकता। इसके बाद दूसरा 16 और 17 जुलाई की मध्य रात को लगने वाला आंशिक चंद्रगहण है आैर ये भारत में देखा जा सकता है।

इस लेख/समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया लिखें-