ठंड से बचने को वृद्धाश्रम में बांटे गर्म कपड़े

0

Posted on : 15-12-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, POLICE, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद:ठंड से बचने के लिए वृद्धाश्रम के द्वारा वृद्धजनों को गर्म कपड़ों का वितरण कराया गया| साथ ही साथ उन्हें एक-एक तौलिया भी दी गयी|
नगर ने नारायनपुर स्थित वृद्धाश्रम में मुख्य विकास अधिकारी अपूर्वा दुबे ने पंहुचे वृद्धों को जैकेट,लोअर-अपर,साल व तौलिया का वितरण किया| लगभग 15 वृद्ध महिलाओं को साल व तौलिया दिया गया| इसके साथ वृद्ध पुरुषो को गर्म जैकेट व स्वेटर आदि का वितरण किया|
वृद्धाश्रम में कुल 45 वृद्ध महिलायें व पुरुष है| जिन्हें गर्म कपड़े वितरित हुए| इस दौरान संस्था अधीक्षक मयंक सिंह,राजेश कुमार,प्रवीन द्विवेदी,डॉ० हरिवेश सिंह,अवनीश सिंह,जयवीर सिंह व सुशील कुमार आदि रहे|

एसपी इलेविन के साथ मैच ना खिलानें पर बार टीम ए मंग

0

Posted on : 15-12-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद:जिला बार एसोसिएशन की क्रिकेट टीम (ए) रविवार को होने वाले एसपी इलेविन के साथ मैच ना खिलाने पर पूरी टीम भंग करने की घोषणा कर दी है|(समाचार में लगा चित्र पूर्व का है)
ए टीम के सदस्यों ने जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष व महासचिव को पत्र भेजकर कहा है कि बार ए टीम विगत सभी मैचों में अच्छा प्रदर्शन करती चली आ रही है| यंहा तक कि जिला बार एसोसिएशन की बी व सी टीमों को हराया था| इसके बाद भी 16 दिसम्बर को एसपी इलेविन के साथ ए टीम को चयनित नही किया गया| जिससे खफा होकर पूरी टीम को ही भंग कर दिया गया|
एडवोकेट इलेविन का हुआ गठन
बार ए को रविवार को होने वाले मैच के लिए चयनित ना करने से खफा होकर बार ए को भंग कर एडवोकेट इलेविन का गठन किया गया| जिसके कप्तान दीपक द्विवेदी एडवोकेट के साथ ही प्रबल पाठक,विवेक मिश्रा,पवन मिश्रा,युसुफ अली, वजीजमा खां,विशाल,शहजाद अली,यशपाल,अफजल,सोहेल अली,जयदीप यादव,राघवेन्द्र सिंह राठौर,शरीफ खान का चयन हुआ है|
एडवोकेट इलेविन टीम के कप्तान दीपक द्विवेदी ने बताया कि यह टीम बार एसोसिएशन के साथ मैच नही खलेगी वह स्वतंत्र टीम के रूप में खेलेगी|

मोदी की हत्या की साजिश रचने वाले लश्कर आतंकी को फांसी की सजा

0

बनगांव:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश रचने वाले लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी अब्दुल नईम उर्फ शेख समीर को शनिवार को बनगांव महकमा अदालत ने फांसी की सजा सुनाई। शेख समीर को गत मंगलवार को अदालत ने दोषी करार देते हुए फैसले को सुरक्षित रखा था।
अदालत सूत्रों के मुताबिक फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद शेख समीर न्यायाधीश विनय कुमार पाठक के सामने यही सफाई देता रहा कि उसने पीएम की हत्या की कोई साजिश नही रची थी। शेख समीर लश्कर-ए-तैयबा का सक्रिय सदस्य था। अप्रैल, 2007 में उसे पेट्रापोल सीमा स्थित एक परित्यक्त मकान से तीन अन्य लोगों के साथ सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने गिरफ्तार किया था। अन्य तीन के नाम मोहम्मद यूनुस, शेख अब्दुल्ला और मुजफ्फर अहमद राठौड़ हैं। सीआइडी ने उन चारों के खिलाफ देश के खिलाफ युद्ध छेडऩे, हथियार जमा करके रखने समेत कई संगीन आरोपों में मामला दर्ज किया था। शेख समीर मूल रूप से महाराष्ट्र के औरंगाबाद का रहने वाला है।
सॉफ्टेवयर इंजीनियर समीर 2005 में सऊदी अरब गया था। वहां लश्कर-ए-तैयबा के एजेंट अहमद से उसका परिचय हुआ। शेख समीर वहां से पाकिस्तान चला गया। वहां उसने आतंकी प्रशिक्षण लिया। कश्मीर में भारतीय सीमा पर कड़ी निगरानी होने के कारण समीर भारत में घुसपैठ नहीं कर पा रहा था इसलिए वह अपने साथियों के साथ पाकिस्तान के रावलपिंडी से बांग्लादेश के ढाका पहुंचा। वहां मोती झील नामक इलाके के एक होटल में ठहरा और फिर बेनापोल से सीमा पार करके बनगांव पेट्रोपोल के एक परित्यक्त मकान में शरण ली। वहीं से बीएसएफ ने शेख समीर व उसके तीन साथियों को दबोचा। उसके खिलाफ 2012 में बनगांव महकमा अदालत में मामला शुरू हुआ।
इस दौरान वह 2014 में एक मामले की पेशी के लिए मुंबई ले जाए जाने के दौरान ट्रेन से भाग निकला। उसे 2017 में राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने दिल्ली से गिरफ्तार किया था। उसपर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या का मामला दर्ज किया गया ह। शेख समीर को तिहाड़ जेल भेज दिया गया। वहां से शेख समीर को बनगांव महकमा अदालत में पेश किया गया। गत मंगलवार को अदालत ने शेख समीर को दोषी करार दिया और शनिवार को फांसी की सजा का एलान कर दिया गया।

घटयात्रा के साथ सिद्धचक्र महामंडल विधान शुरू

0

Posted on : 15-12-2018 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, धार्मिक, सामाजिक

फर्रुखाबाद:जैन समाज के दिगंबर जैन मंदिर में सिद्धचक्र महामंडल विधान की शुरुआत विधिविधान से हो गया। इस मौके गाजेबाजे के साथ घटयात्रा निकाली गई।
सधबाड़ा स्थित जैन मंदिर में सिद्धचक्र महामंडल विधान के शुभारम्भ के दौरान पुष्पेन्द्र शाष्त्री के निर्देशन में इंद्रध्वज महामंडल विधान का शुभारम्भ किया गया| जिसमे संजीब जैन व कैलाश जैन के द्वारा घटयात्रा,ध्वजारोहण का आयोजन किया गया| घट यात्रा नगर में निकाली गयी| इस दौरान मुख्य कलश स्थापना मनोज जैन राही कन्नौज ने स्थापित किया| अभिषेक शांति धारा नेम शरण को मांगलिक सौभाग्य प्राप्त हुआ|
इंद्र ध्वज महामंडल विधान के प्रतिष्ठाचार्य पुष्पेन्द्र शास्त्री ने कहा कि भगवान किसी को दंड नही देते और न ही वे किसी को सजा सुनाते है| वे तो बड़े दयालु है | ना जाने कितने भव से हम पर दया कर रहे है| कर्मी की मार सार संसार सहता है| इस दौरान विमला जैन,रिषभ शरण जैन,मीनू जैन,महेंद्र इंद्र कमल जैन के साथ ही युवा समिति से विक्रम जैन,राहुल जैन,दीपक जैन,अनुज जैन,अमन जैन,दिलीप जैन आदि रहे|

‘एक्सीडेंटल हिंदू’ को भी जनेऊ व गोत्र याद आना हमारी वैचारिक जीत:सीएम योगी

0

Posted on : 15-12-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics-BJP

अयोध्या:उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर अपना हमला बरकरार रखा है। रामनगरी में आज दो दिनी समरसता कुंभ के उद्घाटन के दौरान उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को एक्सीडेंटल हिंदू बताया है।
समरसता कुंभ के उद्घाटन के दौरान उन्होंने कहा कि अपने को एक्सीडेंटल हिंदू बताने वालों को भी जनेऊ और गोत्र याद आ गया यह हमारी वैचारिक जीत है। उन्होंने कहा कि कुंभ भारतीय संस्कृति में मानवता का सबसे बड़ा मिलन स्थल है। यह तो मानवता का सबसे बड़ा पर्व भी है। हम बेहद गौरवशाली हैं कि यह उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में होता है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज देश की राजनीति में हावी होने के लिए लोग अपना गोत्र व जनेऊ भी दिखाने लगे हैं। सीएम योगी ने कहा कि जो लोग कहते थे कि हम एक्सीडेंटली हिन्‍दू हैं, उन लोगों को भी एहसास हो रहा है कि नहीं हम भी सनातनी धर्मावलंबी हिन्‍दू हैं। दुनिया के एक कोने में बैठकर कुछ लोग विदेश की झूठन खाकर भारत की संस्कृति और परंपरा को तोड़ने और कोसने का काम करते हैं।
उन्होंने कहा कि आचार और विचार में साम्यता जरूरी है। इसके बिना सफलता और मुक्ति संभव नही है। भारतीय संस्कृति तो विदेशी आक्रांताओं के षडय़ंत्र की शिकार हुई है।सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हिंदुओं से बड़ा प्रकृति पूजक कोई नहीं फिर भी उन्हें पर्यावरण विरोधी साबित करने का षडयंत्र किया जा रहा है। वेद की रचना करने वाले ऋषि उस वर्ग से थे जिन्हें आज हम दलित कहते हैं।

अब रविवार को होगा सीएम के नाम का एलान,छत्तीसगढ़ में सस्पेंस बरकरार

0

Posted on : 15-12-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, POLICE, जिला प्रशासन

नई दिल्ली:छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में शानदार जीत दर्ज करने वाली कांग्रेस अभी भी अपने मुख्यमंत्री के नाम पर फैसला नहीं कर पाई है। एमपी और राजस्थान की तरह अब छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस आलाकमान सीएम का नाम तय करने पर काफी माथापच्ची कर रहा है। आज यानी शनिवार को होने वाली विधायक दल की बैठक में सीएम का नाम तय किया जाना था, लेकिन अब ये बैठक टल गई है। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस प्रभारी ने बताया कि रविवार दोपहर 12 बजे पार्टी के विधायक दल की बैठक होगी। जिसके बाद मुख्यमंत्री के नाम का एलान किया जाएगा।पुनिया ने यह भी कहा ‘राज्यपाल ने हमें शपथ ग्रहण के लिए 17 दिसंबर की शाम साढ़े चार बजे तक का वक्त दिया है। ऐसे में जल्दी क्या है?’
इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री पद के चारो उम्मीदवार भूपेश बघेल, टीएस सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू और चरणदास महंत के साथ ट्विटर पर एक तस्वीर शेयर की। इस तस्वीर पर उन्होंने रिड हॉफमेन का एक कोटेशन लिखते हुए कहा, ‘इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपका दिमाग या रणनीति कितनी शानदार है, अगर आप एकल गेम खेल रहे हैं, तो आप हमेशा एक टीम से हार जाएंगे।’
भाजपा ने तो 7-8 दिन लिए थेः सिंह देव
मुख्यमंत्री के नाम को लेकर हो रही देरी पर टीएस सिंह देव ने कहा, ‘छत्तीसगढ़ में एक से ज्यादा योग्य उम्मीदवार दावेदार हैं इसीलिए नाम तय करने में समय लग रहा है। 11 तारीख को भी देर में परिणाम आया इस लिहाज से अभी सिर्फ 4 ही दिन हुए हैं। भाजपा ने अपने सीएम (यूपी) को चुनने के लिए 7-8 दिन लिए थे।’
कौन होगा डिप्टी सीएम?
इस वक्त छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री के लिए भूपेश बघेल का नाम सबसे आगे बताया जा रहा है। उनके बाद टीएस सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू और चरणदास महंत का नाम भी रेस में है। ऐसे में जानकार मानते हैं कि ताम्रध्वज साहू और टीएस सिंह देव में से किसी एक डिप्टी सीएम बनाया जा सकता है। जबकि कुछ अन्य लोगों का ये भी कहना है कि मुख्यमंत्री टीएस सिंह देव होंगे जबकि बघेल और साहू में से किसी एक को डिप्टी सीएम की कुर्सी मिलेगी।
भूपेश बघेलः प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष हैं। 23 अगस्त 1961 को जन्मे बघेल कुर्मी जाति से आते हैं। छत्तीसगढ़ की राजनीति में उनका महत्वपूर्ण स्थान है। वह छत्तीसगढ़ में कुर्मी समाज के सन् 1996 से वर्तमान तक संरक्षक बने हुए हैं। 1999 में मध्य प्रदेश सरकार में परिवहन मंत्री रहे हैं।
अक्टूबर 2017 में कथित सेक्स सीडी कांड में भूपेश के खिलाफ रायपुर में एफआईआर हुई और उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल जाना पड़ा। अक्टूबर में ही भूपेश बघेल नए विवाद में पड़ गए थे। एक सभा के दौरान बीजेपी पर निशाना साधते वक्त उनके मुंह से लड़कियों के लिए आपत्तिजनक शब्द निकल गए थे। इससे सभा में उपस्थित महिलाएं बीच कार्यक्रम में ही उठकर चली गईं थीं।
टीएस सिंहदेवःनेता प्रतिपक्ष हैं। वह चुनाव जीतने वाले छत्तीसगढ़ के पहले नेता प्रतिपक्ष बने हैं। अपनी परंपरागत अंबिकापुर सीट से लगातार तीसरी बार जीत दर्च की है। वह शुरू से सीएम पद के प्रबल दावेदार माने जा रहे हैं। उनका रुतबा पूरे छत्तीसगढ़ में है। राज घराने से ताल्लुक रखने के बावजूद लोग उन्हें राजा जी या राजा साहब की जगह प्यार से टीएस बाबा कहकर पुकारते हैं। वह राज्य के सबसे अमीर विधायक भी हैं। 2013 के आंकड़ों के अनुसार मध्य प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली और मिजोरम के सभी विधायकों की संपत्ति मिला दी जाए तो वह टीएस बाबा की संपत्ति के बराबर होगी। ताम्रध्वज साहूः पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं। राहुल के कहने पर वह बतौर सांसद रहते हुए विधानसभा चुनाव लड़े। इसलिए माना जाता है पार्टी ने उन्हें कुछ सोचकर विधानसभा चुनाव में उतारा है। लिहाजा उन्हें सीएम रेस में माना जा रहा है।
साहू, ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) विभाग के अध्यक्ष हैं। वह 1998-2000 तक राज्य विधान सभा मध्य प्रदेश के सदस्य रहे। 2000 से 2003 तक छत्तीसगढ़ सरकार में राज्यमंत्री रहे। 2000 से 2013 तक तीन कार्यकाल के लिए छत्तीससगढ़ विधान सभा सदस्य रहे। 2014 में लोकसभा चुनाव जीता।

बूथ मजबूत करने को बसपा झोंकेगी ताकत

0

Posted on : 15-12-2018 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics-BSP

फर्रुखाबाद:बहुजन समाज पार्टी ने संगठन को मजबूत करके आगामी लोकसभा के महासंग्राम में उतारने के लिए बूथ को मजबूत करने के साथ ही बूथ कमेटी का गठन जल्द करने के निर्देश दिए है|
नगर के चाँदपुर स्थित बसपा के जिलाकार्यलय पर मासिक समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया| जिसमे मुख्य जोंन इंचार्ज नौशाद अली,नरेश कुशवाह,बौद्धप्रिय गौतम व मुकेश कठेरिया ने कार्यकर्ताओं की क्लास ली| उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव कुछ महीनों में है| इसमे बसपा अपने सभी सांसद जिताकर संसद भेजेगी| लेकिन यह तब सम्भव होगा जब बूथ मजबूत होंगे| इस लिए जल्द से जल्द बूथ कमेटियों का गठन पूर्ण कर आगामी लोक सभा चुनाव की तैयारी में लगे| कार्यक्रम की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष विजय भास्कर ने की| विनोद गौतम,सुरेश वर्मा,प्रमोद दिवाकर,स्वदेश पाल,देवेश तिवारी,अरुण कुशवाह आदि रहे|
जिलाउपाध्यक्ष पद पर ताजपोशी
बसपा ने विधानसभा भोजपुर के शब्बीर मंसूरी को जिलाउपाध्यक्ष मनोनीत किया है| उन्हें संगठन मजबूत करने के निर्देश दिये है|

एनएसए ने नीलाम कर दिया भाजपा नेत्री के पूर्वजों का विधालय,नोटिस जारी

0

फर्रुखाबाद:नगर शिक्षा अधिकारी सोमवीर का नया कारनामा सामने आया है| जब उन्होंने भाजपा नेत्री के पूर्वजों के द्वारा दान किये गये विधालय को ही नीलाम कर दिया| भाजपा नेत्री के विरोध पर जिलाधिकारी ने तत्काल नीलामी रोकने के आदेश जारी किये|
भाजपा नेत्री डॉ० रजनी सरीन के पूर्वजों ने वर्षों पहले फतेहगढ़ के नरेंद्र सरीन मांटेसरी विधालय को जिला प्रशासन को दान कर दिया था| लेकिन दान करने के दौरान यह शर्त भी रखी गयी थी कि सरकार विधालय इसे बिक्री या नीलम नही कर सकती यदि यह करती है तो यह सम्पत्ति खुद व खुद वर्तमान में जो वारिस होगा उसके नाम पर चली जायेगी|
लेकिन इसके बाद भी नगर शिक्षा अधिकारी ने अभी ठीक हालत में बने नरेंद्र सरीन मांटेसरी विधालय को नीलम कर दिया| इसकी भनक जब भाजपा नेत्री डॉ० रजनी सरीन को हुई तो उन्होंने तत्काल जिलाधिकारी मोनिका रानी को पूरे मामले से अवगत कराया| जिलाधिकारी ने प्रकरण को समझते हुए तत्काल बीएसए को नीलामी निरस्त करने के निर्देश दिये| डीएम के निर्देश पर बीएसए ने नीलामी प्रक्रिया पर रोंक लगाकर एनएसए सोमबीर सिंह को नोटिस जारी किया है|
लिंजीगंज के सही भवन को भी करा दिया नीलाम
बीएसए ने जारी किये गये आदेश में नरेंद्र सरीन विधालय की नीलामी रोंकने के साथ ही साथ उच्च प्राथमिक विधालय लिंजीगंज के भवन की भी नीलामी पर रोंक लगा दी है| बीएसए ने कहा की लिंजीगंज के भी सही भवन को नीलाम करा दिया गया| उस पर भी तत्काल प्रभाव से रोंक लगाते हुए आख्या करें| आख्या के साथ ही पूरे मामले पर जबाब-तलब भी किया गया है| जबाब लौटती डाक से उपलब्ध कराने के आदेश दिए गये है| जबाब ना देंने पर प्रशासनिक कार्यवाही की चेतावनी दी गयी है| इस सम्बन्ध में राष्ट्रिय शौक्षिक महासंघ ने भी बीएसए को 6 दिसम्बर को ज्ञापन सौपा था|
कभी सिफ़ारिश पर होते ने नरेन्द्र सरीन में दाखिले
डॉ० रजनी सरीन ने जेएनआई को फोन पर बताया कि काफी समय पहले नरेंद्र सरीन विधालय में अपने बच्चों का दाखिला कराने के लिए लोग उनके पास सिफारिश कराने के लिए आते थे| लेकिन आज उसी विधालय में कोई अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए तैयार नही है| उन्होंने कहा की वह अभी बाहर है| बापस लौटते ही विधालय में विधा दान के लिए पूर्व सैनिकों आदि लोगों से बात कर विधालय में शिक्षा का स्तर सुधारने का प्रयास किया जायेगा| विधालय की नीलामी लगत कर दी गयी| उन्होंने कहा की विधालय में सुन्दरीकरण भी कराया जायेगा|

वर्षो बाद जमीन पर दिखे आसमान के रक्षक सफेद बाज!

0

फर्रुखाबाद:जिले में पक्षियों की चहचहाहट लगातार कम होती जा रही है। गिद्ध और बाज विलुप्त होते जा रहे हैं। कौए की संख्या भी लगातार घट रही है। इन पक्षियों के सरंक्षण के लिए सरकार की तरफ से कोई योजना भी नहीं बनाई गई है। दिलचस्प यह है कि सरकारी विभाग के पास ऐसा कोई डाटा भी नहीं है कि जनपद में कहां-कहां इन पक्षियों का बसेरा है। ऐसे में आने वाले दिनों में इन पक्षियों को बचाना मुश्किल होगा। कई वर्षो से गायब से हो गये सफेद चील शनिवार को जेएनआई के कैमरे में कैद हुए| लेकिन उन्हें देखकर लगता है की यह भी कुछ दिनों के मेहमान ही है|
गिद्ध व बाज विलुप्त प्राय पक्षी बन चुके है। इसकी मुख्य कारण जानकारों ने बताया है कि मानव या अन्य पशुओं के शवों में दर्द निवारक दवाओं और इंजेक्शन की मात्रा रह जाती है। ये दवाएं इन पक्षियों के शरीर में पहुंचने पर उनकी मौत का कारण बन जाती हैं। इसके पीछे की यह बड़ी वजह है।मनुष्य या पशुओं को जो दर्द निवारक दवाएं दी जाती हैं उसमें डाइक्लोफिनेक सोडियम होता है। यह दर्द तो खत्म कर देता है, लेकिन इंसान या पशु के टिश्यू में ही रह जाता है। मौत होने की स्थिति में शव अगर खुला रहता है और गिद्ध, बाज या कौए इन्हें खाते हैं तो यह रसायन पशु के शरीर में पहुंच जाता है। डाइक्लोफिनेक सोडियम इन पक्षियों के लिए टॉक्सिन का काम करता है और उनके लीवर पर असर डालता है, जिससे इनकी मौत हो जाती है। वहीं कुनैन या अन्य कोई कीटनाशक युक्त अनाज गौरेया और तोतों को डाला जाता है तो उनकी भी मौत हो जाती है।
सर्दी में दिखाई पड़ते थे गिद्द और बाज
आमतौरपर सर्दी के मौसम में गिद्ध दिखाई पड़ते थे। जनवरी में 10 से 15 दिनों तक गिद्ध दिखाई देते थे। गिद्द भी जनपद में ना के बराबर या यूँ कहें इक्का-दुक्का ही दूसरे स्थानों पर दिखाई देते हैं। यह हाल सिर्फ जनपद कानहीं है अन्य जनपदों में भी लगभग 99 प्रतिशत गिद्ध विलुप्त हो चुके हैं। गिद्ध की तरह ही बाज भी विलुप्त होने के कगार पर हैं। बाज भी विलुप्त होते जा रहे हैं। हालांकि जिले में बाज का भी कोई सर्वे नहीं हुआ है।
बड़े काम के हैं पक्षी
कुक्कुटप्रजाति मुर्गे, बटेर समेत तमाम पक्षी अंडे-मांस के चलते व्यापारिक दृष्टि से महत्वपूर्ण हैं।
गिद्ध, बाज, कौआ सफाई प्रहरी पक्षी होते हैं। ये शवों को खाकर धरती को साफ रखने में मदद करते हैं।
गौरेया समेत कई पक्षी नए पौधों के लिए सहायक होते हैं।
पक्षियों के विलुप्त होने का असर पर्यावरण संतुलन पर भी दिख रहा है।
गौरेया भी गायब
अबघर-आंगन में गौरेया भी नहीं दिखती है। घरों में घोंसले बनाने वाली और अपनी चहचहाहट से सुबह का खुशनुमा माहौल का अहसास कराने वाली गौरेया की संख्या भी तेजी से घट रही है। इसके पीछे की बड़ी वजह मोबाइल टॉवरों से होने वाले रेडिएशन को माना जा रहा है। गोरैया की तरह तोते भी कम हो रहे हैं।

अन्नदाता को ‘तुरुप का इक्का’ बनाएगी भारतीय जनता पार्टी

0

लखनऊ:भारतीय जनता पार्टी मिशन 2019 को लेकर बेहद गंभीर है। बाइक रैली के बाद पदयात्रा के साथ भाजपा उत्तर प्रदेश में हर वर्ग में अपनी बात को पहुंचाने की खातिर बेहद आतुर है। अब भाजपा लोकसभा चुनाव 2019 को जीतने के लिए किसानों को ‘तुरुप का इक्का’ बनाएगी।
उत्तर प्रदेश में करीब ढाई करोड़ लघु व सीमांत किसान परिवार हैं। सरकार और संगठन के लोग इस बड़ी तादाद को खुश करके उत्तर प्रदेश में 2014 के रिकार्ड को बरकरार रखने की मुहिम में जुट गए हैं। भाजपा कार्यकर्ताओं को किसानों के सुख-दुख में शामिल होने की हिदायत दी गई है।छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान विधानसभा चुनाव में अपनी पराजय से भाजपा सतर्क हो गई है। उत्तर प्रदेश में ज्यादातर किसान सवर्ण और पिछड़ी जातियों के हैं। किसानों के जरिये भाजपा न केवल जातीय समीकरण दुरुस्त करेगी बल्कि, एक बड़े समूह को अपने पक्ष में लामबंद करेगी। इसके लिए पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने रणनीति भी तैयार कर ली है।
भाजपा किसान मोर्चा का राष्ट्रीय अधिवेशन 21-22 फरवरी को उत्तर प्रदेश में होना है। उद्घाटन और समापन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के हाथों होना प्रस्तावित है। इस सम्मेलन में देश भर के किसान जुटेंगे और गोलबंदी का नया अध्याय शुरू होगा। यद्यपि पहले भी भाजपा ने किसानों को लामबंद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 जुलाई को शाहजहांपुर में किसान महाकुंभ को संबोधित किया था। लखनऊ में 26 से 28 अक्टूबर तक कृषि कुंभ अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन और प्रदर्शनी आयोजित की गई। प्रदेश और जिला स्तर पर 23 दिसंबर को चौधरी चरण सिंह के जन्म दिन पर किसान सम्मान समारोह का आयोजन किया जा रहा है। इसके अलावा प्रदेश में ग्रामीण इलाकों के करीब 360 विधानसभा क्षेत्रों में किसान सम्मेलन और किसान जागरुकता अभियान भी आयोजित होने हैं। राष्ट्रीय अधिवेशन से पहले ही यह कार्यक्रम पूरे किये जाने हैं।
भाजपा ने 2017 के उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में किसानों की कर्जमाफी का वादा कर 325 सीटें जीती। यह पीएम नरेंद्र मोदी का वादा था और योगी आदित्यनाथ के शपथ लेने के बाद पहली कैबिनेट में कर्ज माफी की घोषणा हुई। यद्यपि बाद में भाजपा सरकार गन्ना व आलू किसानों को खुश नहीं कर सकी और दिल्ली तक प्रदर्शन हुए लेकिन, कांग्रेस ने मध्यप्रदेश में भाजपा की कर्जमाफी का फार्मूला अपनाकर बाजी अपने नाम कर ली। यही वजह है कि एक बार फिर भाजपा किसानों को खुश करने में जी-जान से जुटेगी।