देख लो योगी जी:जंगली कुत्तों के खूनी जबड़े और भूख बन रही गौसदन की गायों के मौत का कारण

0

फर्रुखाबाद:(दीपक-शुक्ला) सूबे में जब से योगी सरकार आयी तभी से गायों के संरक्षण की व्यवस्था में सरकार अपने कदम आगे बढ़ा रही है| जनपद में जब सीएम योगी का आगमन हुआ था उसी समय नगर पालिका ने एक फर्म को आवारा गायों व साड़ों को पकड़ने का ठेका दे दिया| इस समय पालिका के बंधन में लगभग 200 आवारा गाय व गौवंश है| जिनकी हालत यह है की एक-एक कर गाय व गौवंश मौत के मुंह में जा रहे है| जिसमें अभी तक दो महीने में ही लगभग 20 से 25 मबेशी मौत की मौत हो चुकी है| लेकिन इसका भी सही हिसाब किताब किसी के पास नही है| पालिका व पशुधन विभाग भी अपनी-अपनी जिम्मेदारी से किनारा कर रहा| हालात इतने खराब है की पालिका के पंजे में फंसी तकरीबन सभी मबेशी धीरे-धीरे मौत की तरफ बढ़ रहे है| उनकी मौत का प्रमुख कारण मुंह और कमजोरी माना जा रहा है| वही कई जंगली जानवरों और कुत्तो के खूनी जबड़ों का शिकार हो गयी| जेएनआई की टीम ने मौके पर पंहुचकर गौसदन का दौरा किया तो हालात किसी अकाल से कम नही थे|
दरअसल नगर पालिका के पास इतनी बढ़ी जगह नही थी की वह नगर के आवारा जानवरों को रख पाये| जिसके लिये थाना मऊदरवाजा,विधान सभा सदर और तहसील सदर के ग्राम कटटी धर्मपुर में बीते लगभग 40 वर्ष पूर्व बनी पशु धन विकास विभाग के द्वारा गौसदन में पर्याप्त जगह होने के चलते गायों को रखने की व्यवस्था की गयी| पालिका को इनका खान-पान देखना था| नगर पालिका के द्वारा गायों को खाने के लिये सूखा भूसा और पानी ही उपलब्ध कराया गया| लेकिन गाय सूखा भूसा नही खा रही है| जिससे उनकी हालत दिन पर दिन गम्भीर होती जा रही है|
गौसदन में नही है बिजली की व्यवस्था
गौसदन नगर से लगभग तीन किलोमीटर दूर कटरी में बना हुआ है| उसमे बिजली की व्यवस्था नही है| जिससे रात में बदमाशों के भय से कोई कर्मचारी नही रुकता| जिससे पूरी रात कटरी के बीच बना गौसदन अँधेरे में रहता है|
गौसदन में तैंनात चार संबिदा कर्मी
विभाग द्वारा गौसदन और गायों की देखभाल के लिये चार संविदा कर्मियों वेद प्रकाश, रामविलास, ओम पाल व महेश की तैनाती है| लेकिन वह केबल दिन में गायों की देखभाल करते है| रात में उन्होंने बिजली ना होना व जंगली जानवरों से खतरा बताकर रुकने से इंकार कर दिया| उन्होंने यह भी आरोप लगाया की उनका अभी तक मानदेय भुगतान नही किया गया|
अब तक लगभग 20-25 गायों की हो चुकी है मौत
पालिका के द्वारा जो गाय पकड़कर गौसदन में रखी गयी| स्थानीय लोगो और तैनात कर्मी ओमपाल के अनुसार अभी तक लगभग 20-25 गायों की मौत हो चुकी है| लेकिन उनकी मौत का हिसाब गौशाला मैनेजर प्रदीप श्रीवास्तव के पास नही है| उनके हिसाब से लगभग आधा दर्जन गायों की ही मौत हुई है|
गायों के पोस्टमार्टम में हो रहा खेल
गौसदन में मरी गायों को उसके भीतर ही जेसीबी से गड्डा खोदकर दफन किया जा रहा है| गौसदन में ही उनकी कब्र बन रही है| लेकिन गायों का पोस्टमार्टम कराने में सम्बन्धित विभाग कंजूसी कर रहा है| कई गौ वंश जंगली कुत्ते और कई गाय उनका निबाला बन गयी| वही अन्य भूख व बीमार होकर दम तोड़ रही है | जनपद में गायों की रक्षा के नाम पर दर्जनों संगठन अपनी राजनैतिक रोटी सेंक रहे है| लेकिन नगर के गौसदन मे बंद भूख से बिलख रही गायों की पुकार सुनने वाला कोई नही|
गायों का पेट भरने के के लिये सूखा भूसा
नगर पालिका ने गायों के लिये जो व्यवस्था कागजों में की है उसमे भूसा के साथ दाना भी है| लेकिन मौके पर जेएनआई टीम को दाना नजर ही नही आया| तैनात कर्मियों ने बताया की 200 से 230 मबेशियों के लिये अब तक केबल 80 से 90 किलो ही दाना आया था| बीते कई दिनों से तो वह भी नही है|
सर्दी भी बनेगी अब गायों की मौत का कारण
अब दिन प्रतिदिन सर्दी बढ़ रही है| गायों के कई छोटे बच्चे यह सर्दी सहन नही कर पायेंगे|जिससे यदि व्यवस्था नही की गयी तो गायों व गौवंश की मौत की संख्या में इजाफा होगा| लेकिन अभी तक जिम्मेदारों के पास इसकी भी कोई व्यवस्था नही है|
भूखी गायों को जंगली कुत्ते व सियार बना रहे निवाला
गौसदन के आस-पास जंगल है| जंहा से जंगली कुत्ते और सियार उन्हें मौका देखकर अपना निबाला बना है| इस बात की सत्यता का प्रमाण तस्वीर में देखकर लगाया जा सकता है| जो तस्वीर जेएनआई के कैमरे में कैद हुई वह झूंठ नही बोल रही| तस्वीर में कुत्ते एक गौवंश को निबाला बनाने का प्रयास कर रहे है| लेकिन मौके पर मौजूद कर्मीयो ने उसे बचा लिया| इस तरह के हमले आये दिन हो रहे है| एक दिन पूर्व एक नवजात गौबंश को सियार व जंगली कुत्ते नोच-नोच कर खा गये|
हिन्दू महासभा ने दी आन्दोलन की चेतावनी
गायों की दुर्दशा की जानकारी पर हिन्दू महासभा के जिलाध्यक्ष विमलेश मिश्रा,अंकित तिवारी, सौरभ शुक्ला, लल्ला पाण्डेय, सचिन शर्मा आदि भी पंहुचे| उन्होंने गम्भीर रूप से भूखी गायों को गौसदन के आस-पास से घास को काटकर खिलाया| हिन्दू महासभा के नेताओं का कहना है की बेहद गम्भीर मामला है| विमलेश मिश्रा ने बताया की इस सम्बन्ध में नगर पालिका चेयरमैंन व जिलाधिकारी से भेट कर समस्या से अवगत कराया जायेगा | यदि एक दो दिन में भूखी गायों को भर पेट भोजन नही मिला तो संगठन भी आन्दोलन की रणनीति बनायेगा|
गौसदन मैनेजर प्रदीप श्रीवास्तव का कहना है की वह दाना गायों को उपलब्ध करा रहे है| जब जेएनआई टीम ने जानना चाहा की हम मौके पर है यंहा कही भी दाना नजर नही आ रहा तो उन्होंने बताया की अभी बीते कुछ दिनों से दाना नही है|
नगर पालिका अध्यक्ष वत्सला अग्रवाल के पति मनोज अग्रवाल ने जेएनआई को बताया की प्रशासन के द्वारा जो निर्धारित चारा गायों के लिये तय किया गया वह दिया जा रहा है| यदि यह नही पंहुच रहा है तो इस सम्बन्ध में जानकारी की जायेगी| जल्द गायों की व्यवस्था के सुधार के प्रयास होंगे| वह खुद मौके पर जाकर हालात देखेंगे|

प्रमोद द्विवेदी (नगर प्रतिनिधि जेएनआई)

इस लेख/समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया लिखें-