Featured Posts

सियासी आकाओं की परिक्रमा में जुटे टिकट के दावेदार! फर्रुखाबाद:लोक सभा की चुनावी आहट शुरू होने के साथ ही सियासी सरगर्मियां बढ़ गई है। जिले का सांसद बनने का सपना देखने वाले लोग अपने राजनैतिक आकाओं की परिक्रमा करने में जुट गये है। वैसे तो सपा,भाजपा,बीएसपी आदि के बैनर तले कई लोग चुनाव लड़ने के इच्छुक है मगर सबसे बड़ी फेहरिस्त...

Read more

गणतंत्र की वर्षगांठ का उल्लास,तिरंगे से सजी दुकानेंगणतंत्र की वर्षगांठ का उल्लास,तिरंगे से सजी दुकानें फर्रुखाबाद:गणतंत्र दिवस को लेकर पूरा शहर तिरंगे रंग में रंगा नजर आ रहा है। गणतंत्र दिवस की वर्षगांठ की रौनक शहर में नजर आने लगी है। बड़े व्यवसायियों और ठेली व्यापारियों ने अपनी दुकान तिरंगे, दुपट्टों, मालाओं, पतंगों से रंग दिया है। बाजार में केसरिया, सफेद और हरे रंग से बने...

Read more

जेएनआई विशेष: कुम्भ में बढ़ी फतेहगढ़ सेन्ट्रल जेल के भगवा झोलों की डिमांडजेएनआई विशेष: कुम्भ में बढ़ी फतेहगढ़ सेन्ट्रल जेल के भगवा झोलों... फर्रुखाबाद:(दीपक-शुक्ला)सेन्ट्रल जेल फतेहगढ़ में बनने वाले झोले आदि सामान तो वैसे भी मजबूती के मामले में बेजोड़ माना जाता है| लेकिन आम जनमानस में इसकी खरीददारी को लेकर साधन उपलब्ध नही है| लेकिन इसके बाद भी उसको खरीदने की चाहत लोगों के जगन में रहती है| अब कारोबार कम है लेकिन...

Read more

महिलाओं का प्रतिशत कम देख नोडल अधिकारी खफामहिलाओं का प्रतिशत कम देख नोडल अधिकारी खफा फर्रुखाबाद: अपने निरीक्षण में महिलाओं की संख्या गाँव के पुरूषों से काफी कम देख नोडल अधिकारी खफा हो गये| उन्होंने कहा की सरकार बेटी-बचाओं और बेटी पढाओ पर अपना पूरा जोर दे रही है| लेकिन इस गाँव में पुरुष वर्ग की अपेक्षा महिलाओं का प्रतिशत चिंता का विषय है| उन्होंने अधिकारियों...

Read more

कोटेदारों का खाद्यान्न उठाने से साफ़ इंकारकोटेदारों का खाद्यान्न उठाने से साफ़ इंकार फर्रुखाबाद:अपनी मांगों को लेकर लगातार संघर्ष कर रहे जिले के कोटेदारों ने अब राशन उठान ने मना कर आन्दोलन की राह पकड़ ली है| जिसके चलते कोतेदारों ने साफ़ कह दिया की जब तक उनकी मांगो पर विचार नही होगा तब तक वह राशन नही उठायेंगे| नगर के ग्राम चाँदपुर में आयोजित हुई उचितदर विक्रेताओं...

Read more

छुट्टा गोवंश के भरण-पोषण को 78.5 करोड़ की मंजूरीछुट्टा गोवंश के भरण-पोषण को 78.5 करोड़ की मंजूरी लखनऊ:छुट्टा गोवंश के रखरखाव के लिए चरागाह की जमीनों का इस्तेमाल किया जा सकेगा। इसके लिए ग्राम सभा की भूमि प्रबंधक समिति किसी गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) या कॉरपोरेट घराने से अनुबंध कर सकती है। वहीं पशु आश्रय स्थलों की स्थापना चरागाह की जमीन से हटकर अनारक्षित श्रेणी की भूमि...

Read more

सामूहिक बलात्कार के बाद तीन दरिंदों ने उतारा था गोल्डी को मौत के घाटसामूहिक बलात्कार के बाद तीन दरिंदों ने उतारा था गोल्डी को... फर्रुखाबाद:(अमृतपुर)बीते दिन खेत में दुष्कर्म के बाद हत्या किये जाने की घटना ने पूरे जिले में सनसनी फैला दी थी| घटना के बाद से एसपी ने क्षेत्र में डेरा जमा लिया था| 24 घंटे के भीतर घटना करने के आरोपियों में से दो को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया| जबकि एक फरार आरोपी पर ईनाम भी रखा...

Read more

खास खबर:यह शख्स रोज करता परिंदों की मेहमान नवाजीखास खबर:यह शख्स रोज करता परिंदों की मेहमान नवाजी फर्रुखाबाद:(दीपक शुक्ला)ऋषि-मुनि, संत-महात्मा सही कह गए हैं कि पशु-पक्षियों को दाना-पानी खिलाने से मनुष्य के ज‍ीवन में आने वाली कई परेशानियों से छुटकारा बड़ी ही आसानी से मिल जाता है। एक ओर ईश्वर की भक्ति के कृपा पात्र बनते हैं वहीं हमें अच्छे स्वास्थ्य के साथ ही पुण्य-लाभ...

Read more

मिक्सी ने मिस कर दिया सिल-बट्टा के मसालों का स्वादमिक्सी ने मिस कर दिया सिल-बट्टा के मसालों का स्वाद फर्रुखाबाद:(दीपक-शुक्ला)पुराने समय में खाना पकाने के लिए मसाले पीसने के लिए ओखली-मूसल और सिल बट्टा का इस्तेमाल किया करते थे। बेशक इन चीजों में मसाला पीसने में मेहनत और समय दोनों खर्च होते थे लेकिन खाने का जो स्वाद आता था, यब बात आपके परिजन अच्छी तरह जानते होंगे। आजकल लोगों...

Read more

आपत्ति जनक मैसेज डालने में अधिवक्ता को बार का नोटिस

Comments Off on आपत्ति जनक मैसेज डालने में अधिवक्ता को बार का नोटिस

Posted on : 17-10-2018 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, Politics

फर्रुखाबाद: सोशल मीडिया पर आपत्ति जनक मैसेज डालने के मामले में अधिवक्ता के खिलाफ बार एसोसिएशन ने नोटिस जारी कर जबाब तलब किया है|
जिला बार एसोसिएशन अनुशासन समिति के सदस्य डॉ० अनुपम दुबे, दीपक द्विवेदी और शिव प्रताप सिंह ने आरोपी अधिवक्ता श्रीकृष्ण गौतम को नोटिस जारी किया है| जिसमे अनुशासन समिति ने कहा है की अधिवक्ता हरी सिंह के द्वारा पता चला है कि श्री कृष्ण गौतम द्वारा व्हाट्स एप ग्रुप में आपत्ति जनक मैसेज डाला है| जो धार्मिक भवनाओं को भडकाने वाला है| जिसके सम्बन्ध में जनपद एटा और कोतवाली फतेहगढ़ में मुकदमा दर्ज भी हो गया| यह कृत अधिवक्ताओं की एकता विखंडित करने वाला है|
इसके साथ ही समिति ने कहा है कि श्रीकृष्ण गौतम बार एसोसिएशन के सदस्य होने के बाद भी किसी अम्बेडकर लायर्स एसोसिएशन को भी संचालित कर रहे है| जो घोर आपत्ति जनक है|
बार ने नोटिस भेजकर आगामी 24 अक्टूवर को आरोपी को तलब किया है|

MeToo में फंसे अकबर का चला गया ताज

Comments Off on MeToo में फंसे अकबर का चला गया ताज

नई दिल्ली: #MeToo के तहत यौन शोषण के आरोपों का सामना कर रहे विदेश राज्य मंत्री ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। अकबर का कहना है कि उन पर लगाए गए आरोप झूठे हैं और वे अब कोर्ट में कानूनी लड़ाई लड़ेंगे।
हालांकि, एक वक्त ऐसा भी था जब अकबर ने अपने ऊपर लगे आरोपों को राजनीति से प्रेरित बताया था। अकबर पर अब तक करीब 16 महिलाएं सार्वजनिक रूप से आरोप लगा चुकी हैं और 20 महिलाओं ने इन्हें समर्थन दिया है। अकबर पर लगे आरोप लगातार सरकार के गले की फांस बनते जा रहे थे। आइए डालते हैं एक नजर अकबर पर आरोप लगने से लेकर इस्तीफे तक के सफर पर।
7 अक्टूबर- गुमनाम पत्र से शुरुआत
अकबर पर आरोपों की शुरुआत प्रेरणा सिंह बिंद्रा ने की थी। 6 अक्टूबर को जर्नलिस्ट प्रेरणा सिंह बिंद्रा ने ट्वीट करके बताया कि उन्हें एक संपादक ने होटल के कमरे में बुलाया था। जब बिंद्रा ने आने से इनकार कर दिया, तब उन्हें परेशान किया गया। हालांकि, #MeToo के तहत जो खुलासे उन्होंने किए उसमें अकबर का नाम नहीं था। लेकिन बाद में 9 अक्टूबर उसी ट्वीट में उन्होंने सार्वजनिक तौर पर अकबर का नाम लिया और कहा कि उनका शोषण करने वाले कोई और नहीं बल्कि अकबर ही हैं।
बिंद्रा ने बताया कि अकबर ने एक बार पूरी फीचर्स टीम के साथ मीटिंग के दौरान ‘गलत टिप्पणियां’ की थीं। बिंद्रा ये भी याद बताया कि अकबर ऑफिस टीम की दूसरी लड़कियों को भी होटल के कमरों में बुला चुके हैं।सार्वजनिक तौर पर सबसे पहले प्रिया रमानी 8 अक्टूबर को अकबर का नाम लिया।
8 अक्टूबर, 2018 – अकबर पर 6 महिला पत्रकारों ने लगाए आरोप
#MeToo के तहत पत्रकार प्रिया रमानी ने सबसे पहले अकबर पर सार्वजनिक रूप से आरोप लगाए। रमानी ने #MeToo की स्टोरी बताने के लिए एक आर्टिकल लिखा। हालांकि, आर्टिकल में रमानी ने अकबर का नाम नहीं लिया था, लेकिन 8 अक्टूबर को ट्वीट करके उन्होंने सीधे एमजे अकबर का नाम लिया। इसके बाद एक-एक कर करीब 6 महिला पत्रकारों ने अकबर को लेकर कई तरह की आपत्तिजनक बातों और शोषण का खुलासा किया। अकबर पर ये आरोप एशियन एज के संपादक रहने के दौरान के थे।
प्रिया रमानी के बाद एक दूसरी जर्नलिस्ट महिला शुमा राहा ने ट्वीट करके अकबर के बारे में अपनी कहानी सुनाई। शुमा ने कहा कि 1995 में अकबर ने उन्हें कोलकाता के एक होटल में इंटरव्यू के लिए बुलाया था। तब अकबर एशियन एज में संपादक थे। शुमा के बयान के मुताबिक, अकबर ने उनके साथ कुछ नहीं किया था, लेकिन होटल के एक कमरे में बिस्तर पर बैठकर जिस तरह इंटरव्यू लिया जा रहा था, उस वजह से उन्होंने जॉब का ऑफर ठुकरा दिया।
9 अक्टूबर 2018- भाजपा सांसद ने बताया गलत प्रथा शुरू हो गई है
9 अक्टूबर को भाजपा सांसद उदितराज ने कहा कि #MeToo के तहत गलत प्रथा की शुरुआत हो गई है। उदितराज ने कहा, #MeeToo कैंपेन जरूरी है लेकिन किसी व्यक्ति पर 10 साल बाद यौन शोषण का आरोप लगाने का क्या मतलब है? इतने सालों बाद ऐसे मामले की सत्यता की जांच कैसे हो सकेगा? जिस व्यक्ति पर झूठा आरोप लगा दिया जाएगा उसकी छवि का कितना बड़ा नुकशान होगा ये सोचने वाली बात है. गलत प्रथा की शुरुआत है।’
10 अक्टूबर- अकबर के खिलाफ आरोपों की गिनती बढ़ी, इस्तीफे की मांग उठी
10 अक्टूबर को एक और महिला पत्रकार सुतपा पॉल ने अकबर पर आरोप लगाए। उन्होंने साल 2010-11 के वाकये के बारे में बताया। तब सुतपा इंडिया टुडे में पत्रकार थीं. और एमजे अकबर भी यहीं काम कर रहे थे। सुतपा का आरोप है कि अकबर ने उन्हें कई बार ड्रिंक करने की जिद की। मना करने पर अकबर कहते थे, ‘न ड्रिंक करती हो, न स्मोक करती हो, किस तरह की जनर्लिस्ट हो तुम’ सुतपा पॉल ने बताया कि उनके पास बहुत सारे स्टोरी आइडियाज थे, लेकिन अकबर किसी भी स्टोरी आइडिया के बारे में बात नहीं करना चाहते थे।
इसी दिन कनिका गहलोत ने भी अकबर पर आरोप लगाए। फ्रीलांस जर्नलिस्ट कनिका गहलोत ने कहा कि 1995 से 1997 के दौरान उन्होंने एमजे अकबर के साथ काम किया है, सभी लोगों के साथ उनका व्यवहार बहुत खराब था। घटना के बारे में गहलोत ने बताया कि एक दिन उन्हें भी होटल में बुलाया गया, लेकिन कनिका के एक बार मना करने के बाद अकबर ने फिर दोबारा कभी नहीं बुलाया।
‘अकबर ने मेरी ब्रा का स्ट्रैप खींचा’
कुछ ऐसे ही आरोप एशियन एज की एडिटर सुपर्णा शर्मा ने भी एमजे अकबर पर लगाए। सुपर्णा ने कहा कि साल 1993 से 1996 के दौरान अकबर उनके बॉस थे और वो अपने काम की रिपोर्ट उन्हें देती थीं। सुपर्णा कहती हैं, “मैं एक दिन ऑफिस में काम कर रही थी और अकबर मेरे पीछे खड़े थे। उन्होंने मेरी ब्रा का स्ट्रैप खींचा और धीरे से कुछ कहा, जो मुझे फिलहाल याद नहीं है। मैं डर गई थी।”
एक आर्टिकल में पत्रकार सबा नकवी ने अपने साथ हुए हैरासमेंट का जिक्र किया है। सबा ने सीधे तौर से उस शख्स का नाम नहीं बताया है। लेकिन हिंट देते हुए कहा कि उसका नाम ‘ग्रैंड मुगल सम्राट’ से मिलता जुलता है। सबा ने उस शख्स का नाम लिए बगैर कहा कि उसने पहले ऑफिस में प्रताड़ित किया, फिर बाद में वो एक राजनेता बन गया।
गजाला वहाब बोलीं- छाती पर हाथ फेरा
अकबर की बारे में कुछ ऐसी ही कहानी पत्रकार गजाला वहाब ने सुनाई। गजाला लिखती हैं, ”साल 1994 में मैंने इंटर्न के रूप में एशियन एज अखबार ज्वाइन किया था, जहां अकबर एडिटर थे। इस दौरान अकबर ने उन्हें भद्दे मैसेज भेजे और कई बार अपने केबिन में बुलाकर प्रताड़ित भी किया।
गजाला कहती हैं, ‘एक दिन अकबर ने जब मुझे अपने केबिन में बुलाया, तो वह अपना वीकली कॉलम लिख रहे थे। उन्होंने मुझे डिक्शनरी से कुछ शब्द ढूंढने के लिए कहा।शब्दों को ध्यान से देखने के लिए जब झुकी, तो उन्होंने मेरी छाती से लेकर कमर तक हाथ फेरा। मैं तब बहुत डर गई थी। वहाब कहती हैं कि नौकरी के दौरान कई बार अकबर ने उन्हें छूने की कोशिश की। वहाब के मुताबिक उन्होंने ब्यूरो चीफ सीमा मुस्तफा से भी इसकी शिकायत की थी, लेकिन कुछ एक्शन नहीं लिया गया।
इसी दिन कांग्रेस ने पहली बार अकबर के इस्तीफे की मांग उठाई। कांग्रेस ने बुधवार को कहा कि केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर को यौन उत्पीड़न के आरोपों पर संतोषजनक सफाई देनी चाहिए या तत्काल इस्तीफा देना चाहिए। पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता एस जयपाल रेड्डी ने कहा, ‘जब उनके साथ काम कर चुकी सीनियर पत्रकारों ने आरोप लगाए हैं तो फिर वह पद पर कैसे बने रह सकते हैं।
इसके अलावा AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भी एमजे अकबर को मंत्री पद से हटाए जाने की मांग की। उन्होंने ट्वीट किया, “अकबर शर्म करिए! और आप तीन तलाक विधेयक पर बहस के दौरान संसद में खड़े होकर मुस्लिम महिलाओं के सशक्तिकरण और उनके उत्पीड़न को रोकने की बात करते हैं।” ओवैसी ने आगे कहा कहा, “प्रधानमंत्री कार्यालय अगर सच में बेटी बचाओ में यकीन रखता है तो अपने इस मंत्री को हटाएं।”
सुषमा सवाल सुनकर आगे बढ़ीं, निर्मला ने भी टाल दिया सवाल
एमजे का अकबर का मामला गरमाने लगा था। लेकिन विदेश में होने के चलते उनकी ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आ रही थी। विदेश राज्यमंत्री सुषमा स्वराज से अकबर पर प्रतिक्रिया मांगी गई तो उन्होंने अनसुना कर दिया और पत्रकारों को छोड़ आगे बढ़ गईं।
कुछ ऐसा ही रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी किया। एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि एमजे अकबर पर लगे आरोपों पर कमेंट करने के लिए वह सही पर्सन नहीं हैं।
11 अक्टूबर- ईरानी बोलीं- आपबीती बताने वाली महिलाओं को न करें बदनाम
11 अक्टूबर को सुबह सूत्रों के हवाले से मीडिया में ख़बर आई कि एमजे अकबर विदेश से लौटते ही इस्तीफा दे सकते हैं। शाम को जब अकबर के मामले पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से प्रतिक्रिया मांगी गई तो उन्होंने महिलाओं का साथ दिया।
ईरानी ने कहा, वैसे तो इन आरोपों पर तो अकबर ही सही से बता सकते हैं लेकिन #MeToo के जरिए जो भी महिलाएं आपबीती बता रही हैं उन्हें न तो बदनामी का शिकार बनाया जाना चाहिए और न उनका मजाक उड़ाना चाहिए।
12 अक्टूबर- स्वामी का #MeToo को समर्थन, मालीवाल का पीएम को पत्र
एक और महिला पत्रकार ने एमजे अकबर पर आरोप लगाए। महिला पत्रकार का कहना था कि अकबर ने उन्हें तब प्रताड़िता किया जब वे एशियन एज अखबार में इंटर्न थीं। यह घटना साल 2007 की बताई गई। पत्रकार के मुताबिक, ‘वो (अकबर) उठे और जहां मैं बैठी थी वहां आए, तो मैं भी उठी और उनकी तरफ मैंने हाथ बढ़ाया। उन्होंने मेरे सीधे कंधे के नीचे से, मेरे हाथों को पकड़ा और अपनी तरफ खींच लिया। उन्होंने मेरे मुंह पर किस किया और जबरदस्ती अपनी जीभ मेरे मुंह में घुसाने लगे। मैं सिर्फ खड़ी रही।”
दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने भी आरोपों के बाद एमजे अकबर को प्रधानमंत्री पद से हटाने के लिए पत्र लिखा। मालीवाल ने कहा, ”ये सही वक्त है, सामने आइए और इसकी रिपोर्ट करिए ताकि हमारे समाज में मौजूद ऐसे लोगों को सबक सिखाया जा सके और उन्हें सलाखों के पीछे भेजने की जरूरत है।”
12 अक्टूबर को एक और भाजपा नेता और सांसद सु्ब्रमण्यम स्वामी ने बयान दिया। उन्होंने #MeToo कैंपेन को समर्थन दिया और कहा ”अकबर मंत्री हैं। उन्हें पीएम मोदी ने मंत्री बनाया है। मैं मीटू कैंपन का समर्थन करता हूं। इन पर कई महिलाओं ने आरोप लगाए हैं। प्रधानमंत्री को इस पर बोलना चाहिए।”
स्वामी ने कहा, “मैंने 20 साल पहले कई नेताओं पर सवाल उठाए थे। उन्होंने महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार किया था। तब मीडिया ने मुझसे कहा कि आप बहुत पर्सनल हो रहे हैं। पर्सनल चीजों पर नहीं जाना चाहिए लेकिन आज परिस्थिति बदल गई है। यहां ये सवाल नहीं पूछा जाना होना चाहिए कि पहले शिकायत नहीं की, अब क्यों कर रहे हैं।”
वहीं, जब केंद्रीय मंत्री उमा भारती से एमजे अकबर पर लगे आरोपों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया। उमा भारती ने कहा, “ये मामला उस समय का है, जब वो केंद्र सरकार में शामिल नहीं थे। इसलिए ये मामला अकबर और उन महिलाओं के बीच का है। सरकार इस पर कुछ नहीं कर सकती है।”
13 अक्टूबरः शाह बोले- आरोपों की जांच की जरूरत
पहली बार भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अकबर के मामले पर चुप्पी तोड़ी। उन्होंने कहा कि वह इस मामले पर टिप्पणी करने की स्थिति में नहीं हैं क्योंकि अकबर पर लगे आरोपों की जांच किए जाने की जरूरत है। एक इंटरव्यू में शाह ने कहा, “किसी चीज पर यूं ही टिप्पणी करना बहुत मुश्किल है, जो एक वेबसाइट पर छपा हो। कोई भी एक वेबसाइट पर कुछ भी डाल सकता है। इसलिए इसकी जांच की जरूरत है. चाहे वह सच हो या झूठ या फिर इस तरह की घटना हुई हो या नहीं।”
14 अक्टूबर- अकबर स्वदेश लौटे, बोले- जल्द अपना पक्ष रखेंगे
एमजे अकबर नाइजीरिया से स्वदेश लौट आए। जब पत्रकारों ने उनसे आरोपों को लेकर सवाल पूछा तो उन्होंने सिर्फ इतना ही कहा कि जल्द ही वे अपना पक्ष रखेंगे। इसके बाद शाम होते-होते उन्होंने मीडिया से कहा कि उन पर लगे सभी आरोप झूठे हैं और वे कानूनी कार्रवाई करेंगे।
अकबर ने कहा, ‘मेरे खिलाफ जो भी आरोप लगे हैं वो झूठे हैं और मसाला लगाकर पेश किए जा रहे हैं। क्योंकि मैं ऑफिशियल विदेशी दौरे पर थे तो इसलिए जवाब नहीं दे सका लेकिन अब मैं लौट आया हूं। मेरे वकील इन झूठे आरोपों की जांच करने के बाद भविष्य के लीगल एक्शन की तैयारी करेंगे।
15 अक्टूबर- प्रिया रमानी पर मानहानि का केस
इसके बाद अगले दिन एमजे अकबर पहली बार सार्वजनिक रूप से नाम लेकर आरोप लगाने वाली प्रिया रमानी के खिलाफ मानहानि का केस करते हैं। इसके बाद प्रिया का बयान आता है। प्रिया कहती हैं कि अकबर ने अपना रवैया साफ कर दिया है, वे पीड़िताओं को डरा-धमका कर चुप कराना चाहते हैं। अकबर की ओर से दायर मुकदमे की सुनवाई पटियाला हाउस कोर्ट में गुरुवार को होगी।
16 अक्टूबरः प्रिया रमानी को समर्थन बढ़ा तो अकबर पर इस्तीफे का दबाव
अकबर की ओर से दायर मुकदमे को लेकर प्रिया रमानी के समर्थन में करीब 20 और महिलाएं आ गईं। एम जे अकबर पर मी टू के तहत ‘द एशियन एज’ अखबार में काम कर चुकीं पत्रकारों ने संयुक्त बयान पर दस्तखत किए। इन महिलाओं में मीनल बघेल (1993-1996), मनीषा पांडेय (1993-1998), तुषिता पटेल (1993-2000), कणिका गहलोत (1995-1998), सुपर्णा शर्मा (1993-1996), रमोला तलवार बादाम (1994-1995), होइहनु हौजेल (1999-2000), आयशा खान (1995-1998), कुशलरानी गुलाब (1993-1997), कनीजा गजारी (1995-1997), मालविका बनर्जी (1995-1998), ए टी जयंती (1995-1996), हामिदा पार्कर (1996-1999), जोनाली बुरागोहैन, मीनाक्षी कुमार (1996-2000), सुजाता दत्ता सचदेवा (1999-2000), रेशमी चक्रवाती (1996-98), किरण मनराल(1993-96) और संजरी चटर्जी शामिल हैं। डेक्कन क्रॉनिकल की एक पत्रकार क्रिस्टीना फ्रांसिस (2005-2011) ने भी इस बयान पर हस्ताक्षर किए हैं।
17 अक्टूबर को एमजे अकबर विदेश राज्यमंत्री पद से इस्तीफा दे देते हैं। अकबर के इस्तीफे के की नींव कई कारणों से पड़ीं। इनमें आरोपों और महिला पत्रकारों की बढ़ती एकजुटता के अलावा कांग्रेस का राजनीतिक दांव और सरकार का भी एक कदम शामिल है। दरअसल, बुधवार को कांग्रेस ने यौन शोषण के आरोपों के बाद NSUI के अध्यक्ष फिरोज खान का इस्तीफा ले लिया। जिसके बाद सरकार पर भी अकबर का इस्तीफे लेने का दबाव बढ़ने लगा।
इसके अलावा #MeToo के तहत लग रहे यौन उत्पीड़न के आरोपों को लेकर केंद्र सरकार की ओर से भी एक जांच कमेटी बनाने की बात सामने आ रही थी। महिला एवं बाल विकास मंत्री के मुताबिक सेवानिवृत्त जज और वकील इस जांच कमेटी का हिस्सा होंगे और यौन उत्पीड़न के खुलासों पर सरकार को रिपोर्ट सौंपेंगे। ऐसे में शायद सरकार के सामने ये भी बड़ी दुविधा रही हो कि जांच कमेटी से पहले खुद के मंत्री को लेकर जांच की मांग पर क्या किया जाए और अगर अकबर मंत्री पद पर बने रहते जांच की निष्पक्षता पर भी सवाल उठते।

पुलिस मुठभेड़ में दो सिपाही व शातिर जख्मी

Comments Off on पुलिस मुठभेड़ में दो सिपाही व शातिर जख्मी

Posted on : 17-10-2018 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE

फर्रुखाबाद:बीते लगभग दो वर्ष पूर्व अदालत परिसर से फरार हुए आरोपी की देर शाम पुलिस टीम से मुठभेड़ हो गयी| पुलिस की गोली लगने से बदमाश और बदमाश की गोली लगने से दो पुलिस कर्मी जख्मी हो गये|
बुधबार शाम नवाबगंज एसओ रजनेश कुमार चौहान ग्राम बघौना गांव के पास चेकिंग कर रहे है| उसी दौरान पुलिस को देखकर मोटरसाइकिल पर सबार दो संदिग्ध मौके से फरार होने की कोशिश करने लगे| उन्हें भागता देखते हुए पहले पुलिस ने उनका पीछा किया| लेकिन सफलता ना मिलने पर आलाधिकारियों को सूचना दी| सूचना मिलने पर स्वाट टीम प्रभारी भी अपने साथियों के साथ आ गये|
उन्होंने महमदपुर कामरान गांव के पास बदमाशों को रोकने का काफी प्रयास किया| लेकिन पुलिस को देखकर आरोपी हमलावर हो गये| पुलिस का कहना है कि उन्होंने पुलिस पर फायरिंग कर दी| मुठभेड़ में पुलिस टीम के सिपाही सिपाही शेष नारायन और नवनीत जख्मी हो गये | जबकि मुठभेड़ में बीते दो वर्ष पूर्व अदालत परिसर से फरार हुये आरोपी शहर कोतवाली क्षेत्र के नरकसा कादरीगेट निवासी विनोद कुमार को पुलिस ने जख्मी हालत में गिरफ्तार कर लिया| बताया गया है कि पकड़े गये बदमाश पर हरियाणा और दिल्ली व उत्तर-प्रदेश में काफी मुकदमे दर्ज है|

देवी मन्दिर पर महाआरती में सड़क पर दिखी आस्था

Comments Off on देवी मन्दिर पर महाआरती में सड़क पर दिखी आस्था

फर्रुखाबाद:नवरात्रि की अष्टमी पर नगर के रेलवे रोड स्थित मठिया देवी मन्दिर पर आयोजित किये गये महाआरती के कार्यक्रम में श्रधालुओ का एक विशाल जनसमूह उमड़ा| जयकारो के साथ विधि विधान ने सभी ने माँ का प्रसाद व आशीर्वाद ग्रहण किया|
नंदी संकल्प सेना के प्रमुख विक्रांत अवस्थी ने पूर्व की भांति इस वर्ष भी माँ की महाआरती का आयोजन किया| जिसमे सभी ने माँ की आरती की और घर, समाज व जिले में सुख शांति बनाये रखने की मन्नत मांगी| सभी को मन्दिर के पुजारियों ने प्रसाद प्रदान किया| भीड़ मठिया देवी मन्दिर से लेकर चौक बाजार तक नजर आ रही थी| माँ के जयकारो और हरहर महादेव के जयकारों से सारा नगर गुंज उठा| वही नंदी सेना द्वारा राममन्दिर निर्माण के लिये चलाये जा रहे हस्ताक्षर अभियान में भी सैकड़ों ने हस्ताक्षर किये|
इस दौरान क्रांति पाठक, नबल यादव, विशाल दुबे, रवि शुक्ला, गौरव सिंह, अरुण यादव, बबलू, रामबरन, सौरभ शाक्य, गोविन्द वाथम आदि मौजदू रहे|

जिला जेल में सियाराम का हुआ वनवास

Comments Off on जिला जेल में सियाराम का हुआ वनवास

फर्रुखाबाद:(दीपक शुक्ला)बीते लगभग पांच दिनों से जिला जेल में चल रही राम लीला जनपद में चर्चा का विषय बनी हुई है| आपराधिक मानसिकता के लोगों में अध्यात्म की गंगा बहाने का काम किया जा रहा है| जिसके चलते यह जिला जेल में पहली अनोखी पहल है| जो बंदियों में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करेगी|
बीते 13 अक्टूबर को जिला जेल के अधीक्षक विजय विक्रम सिंह ने फीता काटकर रामलीला का शुभारम्भ किया था| जिसके बाद रामलीला प्रभु श्रीराम के जन्मोत्सव से लेकर उनके सीता जी के साथ विवाह तक पंहुची| रामलीला देखने के लिये बंदी बड़े चाव से आनन्द ले रहे है| बुधवार को राम के वनवास का प्रंसग बन्दियो द्वारा किया गया| इसके साथ ही साथ रामलीला में मंचन भी बंदी कर रहे है| आपराधिक मानसिकता वाले बंदियों के बीच आध्यात्मिक मानसिकता भरने का यह काम यूपी भर की जेलों में नया है|
जिस तरह से सेन्ट्रल जेल में जन्माष्टमी पर झांकी लोगो को अपनी तरह करती है| उसी प्रकार रामलीला यूपी भर की जेलों में केबल बनारस सेन्ट्रल जेल में खेली जाती है| इसके बाद जिला जेल फतेहगढ़ में रामलीला की शुरुआत जिला जेल अधीक्षक विजय विक्रम सिंह ने कर दी| रामलीला का मंचन 20 अक्टूबर तक चलेगा| इसके बाद रावण दहन का कार्यक्रम होगा|
जिला जेल अधीक्षक ने बताया की जेल में रामलीला अपने आप में एक अनोखी बात है| इसे और बेहतर बनाने का प्रयास किया जायेगा|

[bannergarden id="12"]