Featured Posts

राममंदिर मामले में अब शिवपाल सीएम के बयान से सहमतराममंदिर मामले में अब शिवपाल सीएम के बयान से सहमत फर्रुखाबाद: समाजवादी सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे शिवपाल सिंह यादव गुरुवार को यूपी के सीमें योगी आदित्य नाथ के राममंदिर पर दिये गये वयान से सहमत दिखे| उन्होंने कहा की यदि समझौता नही तो कोर्ट का आदेश ही विकल्प है| समाजवादी पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष विश्वास गुप्ता...

Read more

हाई-वे पर जाम में फंसा रहा पूर्व मंत्री शिवपाल का काफिलाहाई-वे पर जाम में फंसा रहा पूर्व मंत्री शिवपाल का काफिला फर्रुखाबाद:(मोहम्मदाबाद) सत्ता की शक्ति से कौन अंजान है और खास कर वो तो बिल्कुल भी नही जो सत्ता का सुख एक लम्बे समय तक ले चुका हो| लेकिन कुर्सी पर ना रहने के बाद नेता को सड़क पर चलना मुश्किल हो जाता है| यही नजारा देखने को मिला जब शिवपाल सिंह का काफिला लगभग 20 मिनट तक जाम की झाम में...

Read more

बसपा प्रत्याशी वत्सला को महान दल का समर्थनबसपा प्रत्याशी वत्सला को महान दल का समर्थन फर्रूखाबाद: नगर पालिका अध्यक्ष पद के लिये बहुजन समाज पार्टी की प्रत्याशी वत्सला अग्रवाल को महान दल ने अपना समर्थन दे तेजी से चुनाव लड़ाने का ऐलान किया है |जिससे वत्सला के खेमे में मजबूती आ गयी है| महान दल के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने रेलवे रोड स्थित बसपा प्रत्याशी के चुनाव...

Read more

नही खुला विशाल की मौत का राज, आखिर कैसे हुई मौत?नही खुला विशाल की मौत का राज, आखिर कैसे हुई मौत? फर्रुखाबाद: बीती रात बाइक चोरी के आरोप में पकड़े गये आरोपी की मौत का राज फ़िलहाल पोस्टमार्टम में भी नही खुल सका| जिससे उसकी मौत की गुत्थी उलझ गयी है| वही पुलिस मामले की जाँच कर रही है| थाना राजेपुर के बमियारी रामपुर निवासी विशाल पाठक पुत्र चन्द्रमोहन पाठक उर्फ़ रामू को बाइक...

Read more

योगी की पुलिस से परेशान महिलाओं ने पकड़े मंत्री के पैरयोगी की पुलिस से परेशान महिलाओं ने पकड़े मंत्री के पैर फर्रुखाबाद: बीते दिनों शराब ठेके पर पुलिस व ग्रामीणों के साथ हुई हिंसक झड़प के बाद पुलिस ने कई को आरोपी बनाया था| जिसको पकड़ने के लिये पुलिस लगातार हाथ-पैर मार रही है |जिस पर अब राजनितिक रंग चढ़ गया है| पुलिस के खौफ से खफा महिलाओ ने राज्य मंत्री के पैर पकड़कर न्याय की मांग की है|...

Read more

चुनावी बिसात पर हर रोज बदलती सियासी चालचुनावी बिसात पर हर रोज बदलती सियासी चाल फर्रुखाबाद:चुनावी रण का धीरे-धीरे रुख बदल रहा है और सियासी लोगों की रणनीति भी। नुक्कड़ सभाओं और जनसम्पर्क के साथ-साथ अब दूसरा दौर शुरू हो गया है। सियासी बिसात पर पल-पल की खुफिया निगरानी के बाद शतरंजी चालें चली जा रही हैं। कोई पूरे पालिका व नगर पंचायत क्षेत्र में मोहल्ले-मोहल्ले...

Read more

अध्यक्ष पद के आधा दर्जन नामांकन वापसअध्यक्ष पद के आधा दर्जन नामांकन वापस फर्रुखाबाद: शुक्रवार को नामांकन के वापसी के दौरान फर्रुखाबाद, मोहम्मदाबाद व कमालगंज के कुल आधा दर्जन प्रत्याशियों ने अपना नामांकन वापस कर लिया| फर्रुखाबाद नगर पालिका से निर्दलीय प्रत्याशी सुधांशु दत्त द्विवेदी, कपड़ा व्यापारी किशन कन्हैया सक्सेन व आभा सिंह ने अपना...

Read more

खास खबर: शर्तो के साथ सुधांशु दत्त का पर्चा वापसखास खबर: शर्तो के साथ सुधांशु दत्त का पर्चा वापस फर्रुखाबाद: बीजेपी से सदर विधायक मेजर सुनील दत्त द्विवेदी के बड़े चचेरे भाई पूर्व सभासद सुधांशु दत्त द्विएवेदी ने अपना पर्चा आखिर कुछ शर्तो के साथ वापस ले लिया| शहर के किंराना बाजार स्थित राजन अवस्थी के प्रतिष्ठान पर जिला प्रभारी श्रीकान्त पाठक के साथ सुधाशुं दत्त की...

Read more

सभासद पद के 16 के नामांकन वापससभासद पद के 16 के नामांकन वापस फर्रुखाबाद: नगरिया निकाय चुनाव में फर्रुखाबाद, कमालगंज व मोहम्मदाबाद में से सर्वाधिक सदस्यों ने फर्रुखाबाद के वार्डो से पर्चा वापस कर लिया| जिससे कई प्रत्याशियों के समीकरण बने तो कई का सियासी गणित बिगड़ गया| फर्रुखाबाद नगर पालिका में वार्ड 28 से आरती, वार्ड 31 से नजरीन, वार्ड...

Read more

फ़्लैश बैक: काला धन खपाने के लिए एक डॉक्टर ने खरीदे थे 13 एसी, 5 एलईडी और ....फ़्लैश बैक: काला धन खपाने के लिए एक डॉक्टर ने खरीदे थे 13 एसी, 5... फर्रुखाबाद: नोटबंदी का एक साल पूरा हुआ, कहीं जश्न मना तो किसी के जख्म हरे हुए| 8 नवम्बर 2016 वो दिन है जो इतिहास बन गया| रात 8 बजे उस दिन दफ्तर में सामान्य कार्य में लगा था कि 5 मिनट बाद ही जूनियर ने फोन पर बताया कि 500 का नोट बंद हो गया| किसी बात को एक बार में ही न मानने की आदत पत्रकार...

Read more

फ़्लैश बैक: काला धन खपाने के लिए एक डॉक्टर ने खरीदे थे 13 एसी, 5 एलईडी और ….

0

Posted on : 09-11-2017 | By : पंकज दीक्षित | In : EDITORIALS, FARRUKHABAD NEWS

फर्रुखाबाद: नोटबंदी का एक साल पूरा हुआ, कहीं जश्न मना तो किसी के जख्म हरे हुए| 8 नवम्बर 2016 वो दिन है जो इतिहास बन गया| रात 8 बजे उस दिन दफ्तर में सामान्य कार्य में लगा था कि 5 मिनट बाद ही जूनियर ने फोन पर बताया कि 500 का नोट बंद हो गया| किसी बात को एक बार में ही न मानने की आदत पत्रकार होने के कारण लग चुकी थी| आदतन पुष्टि के लिए दूसरे साधनो पर दिमाग लगाया और लैपटॉप पर एक साथ धड़ाधड़ 3 -4 न्यूज़ वेबसाइट खोल डाली| सब पर एक ही खबर… 500 और 1000 के नोट बंद बैंक बंद करने की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर दी|

सबसे पहले घर पर पत्नी के पास फोन लगाया (मैं जानता हूँ कि ज्यादातर ने यही किया होगा), पूछा 500 और 1000 के कितने नोट है तुम्हारे पास| जबाब जैसा सबको मिला, मुझे भी मिला| पता नहीं देखना पड़ेगा| ऐसा जबाब सबको मिला होगा मगर कारण अलग अलग हो सकते है| किसी के पास बेहिसाब हो सकता था और किसी के पास जो था वो प्रथम दृष्टया बताना नहीं चाहती थी| दो दिन बैंक बंद रहेगी उसके बाद नोट बदली शुरू होगी| अपने को नोट बदलने की चिंता से ज्यादा चिंता उन लोगो की होने लगी जिनके पास बोरो में नोट थे| बेहिसाब थे| मोदी जानते थे कि ऐसे लोग गिनती के होंगे जिनके पास बेहिसाब दौलत होगी मेरे जैसे बहुतायत में| वोट बैंक के हिसाब से देखे तो चिंता बहुतायत की होती है| मोदी का तीर निशाने पर लगा| नोट बंदी के बाद कई राज्यों में भाजपा चुनाव जीतती जा रही है| क्योंकि हम भारतीयों में वसुधैव कुटुम्बकम ठूस ठूस कर भरा है| अपने घर में बिजली जाने पर फ्यूज चेक करने की जगह घर से बाहर निकल कर पडोसी की बिजली चेक करने की आदत जो है| पडोसी की भी बिजली नहीं आ रही तो संतोष हो जाता है| नोट बंदी से मुझ पर क्या असर पड़ा इससे ज्यादा ख़ुशी इस बात में जनता को हो रही थी कि फलां की “लुटिया डूबी”| मध्यमवर्गीय से लेकर निम्नवर्गीय भारतीय को कोई खास फरक नहीं पड़ रहा था| हाँ अगले तीन महीने टीवी न्यूज़ चेंनल वालो की उड़ के लग गयी थी| नवम्बर का महीना, मीठी सर्दी में नास्ता पानी करके मूंगफली चवाते हुए घर से निकलो, किसी एटीएम पर खड़े हो जाओ, ध्यान से गैर भाजपाई तलाशो और सरकार और नोट बंदी के खिलाफ बयान रिकॉर्ड करो और चलाओ| क्या धूम थी| कई मौते भी एटीएम के पास हो गयी| खैर वो सब तो टीवी पर खूब देखा| और अगले कई सालो तक हमारे बच्चो के बच्चो को भी टीवी वाले लाइब्रेरीज़ से विडियो निकाल निकाल कर दिखाते रहेंगे| हमने तो नोट बंदी के बाद दिसम्बर के आखिरी दिनों में 1 नोट 500 का और 1 नोट 1000 का छोड़ अपने नोट भी जमा कराये| पत्नी के सारे 786 क्रमांक वाले नोट रिजर्व बैंक की टकसाल में चले गए| मुझे याद है बड़े बेमन से दिए थे|

जनवरी आते आते अब नोट बंदी अब डिजिटल कैशलेस में तब्दील होने की हुंकार भर रही थी| मगर सर पर उत्तर प्रदेश का चुनाव थे| मध्य फरवरी तक बाजार में प्रयाप्त नोट आ चुका था और डिजिटल कैशलेस के फेफड़े किसी सांस के रोगी की तरह फूलने लगे| व्यापारियों ने अपने स्वाइप मशीने बंद कर अन्दर रख दी| 1 मार्च २०१७ के बाद कार्ड से पेमेंट करने पर बैंक चार्ज वसूलने लगी और कैशलेस की दम निकल गयी| सरकार बिकी मशीनों और मोबाइल में इंस्टाल पेटीम की संख्या बताकर आंकड़ेबाजी करती रही|

खैर अब बताते है उस बात को इसके लिए आपने पूरा लेख पढ़ डाला| भारतीय होने और भारतीयता दिखाने वाली आदत के अनुसार भारतीयों वाली बात हो जाए| नोट बंदी पर पडोसी का घर झाँक लिया जाए| कई दोस्तों और सूत्रों से मिली जानकारी की पुष्ठी कर लेने के बाद बताने वाली बात ये है कि नोट बंदी के दौरान किस किस ने काला धन सफ़ेद किया इसकी जानकारी सबसे ज्यादा जिन लोगो को है उनमे बैंक कर्मी और वो व्यापारी है जिनके यहाँ मोटा सौदा होता है| मसलन कार, बाइक, टीवी एसी के शोरूम वाले, भवन निर्माण सामग्री विक्रेता सुनार आदि| काला धन सफ़ेद करने के लिए लोगो ने भवन निर्माण सामग्री बेचने वाले और हार्डवेयर स्टोर्स पर अग्रिम करोडो धन जमा कर दिया| जिसमे तम तो ऐसे है जिन्होंने एक साल बीतने के बाद भी सामान नहीं लिया है| दुकानदारो ने इसी अग्रिम धनराशी से अपने बैंक के सीसी खातो में रकम जमा कर दी| बैंक को व्याज मिलना कम हो गया| अभी भी बैंक इस व्यथा से बाहर नहीं निकले है| बड़ी लम्बी जानकारी है कभी फुर्सत में लिखूंगा| चलते चलते बता दू आवास विकास में एक डॉक्टर ने नोट बंदी के दौरान 13 स्प्लिट एसी, 5 1.5 मीटर के एलईडी टीवी खरीद डाले| जिनमे से 2 आइटम को छोड़ कर साल भर बाद भी डिब्बे में ही बंद तहखाने में पड़े है| सनद रहे इस बार की दीवाली नोट बंदी के बाद की दिवाली थी मगर कमजोर नहीं रही| बाजार से बहुत सा कीमती सामान जिसका पैसा अग्रिम 500 और 1000 के नोट की शक्ल में नोटबंदी के बाद दुकानदार के पास जमा किया था इस दिवाली पर घर गया था| दुकानदार ने भी दिल खोल कर बैक डेट में बिलिंग कर खूब काले धन को सफ़ेद करने में आखिरी कील ठोकी थी| फिर मिलेंगे…..

तीन दिवसीय उर्स की तैयारी पूर्ण

0

Posted on : 09-11-2017 | By : JNI-Desk | In : धार्मिक, सामाजिक

फर्रुखाबाद:(कमालगंज) क्षेत्र के शेखपुर स्थित दरगाह पर तीन दिवसीय उर्स की सभी तैयारी पूर्ण कर ली है| जिसमे बड़ी सख्या में दूर-दराज से शिरकत करने वाले लोग पंहुचने लगे है|

दरगाह अहसनी व महमूदी पर ख्वाजा अहसन अली शाह के 118 वें उर्स की तैयारी पूर्ण कर ली गयी है| 11 नवम्बर से लेकर 13 नवंबर तक चलने वाले उर्स के कार्यक्रम को लेकर लोगो में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है| दरगाह के सरपरस्त मकसूद अहसन उर्फ मन्नू मियां ने उर्स कमेटी को सदस्यो को व्यवस्था संभलने की जिम्मेदारी सौप दी है| उन्होंने बताया कि बीती बर्षो की तर्ज पर इस बार भी धूम धाम से मनाया जायेगा| (कमालगंज से मुईद खान)

पीके के पालिका ईओ बनने से कर्मियों का वेतन लटका

0

Posted on : 09-11-2017 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, NAGAR PALIKA

फर्रुखाबाद : नगर पालिका चुनाव को देखते हुये जिलाधिकारी मोनिका रानी ने नगर पालिका फर्रुखाबाद के अधिशासी अधिकारी का चार्ज कायमगंज नगरपालिका के ईओ पीके श्रीवास्तव को दे दिया था| लेकिन उनके ईओ बनने से पालिका कर्मियों का वेतन लटक गया है|
तात्कालीन ईओ रोली गुप्ता को शासन ने तबादला मुगलसराय (चंदौली)कर दिया था| जिसके बाद बीते 2 नबम्वर को जिलाधिकारी मोनिका रानी ने ईओ का चार्ज पीके श्रीवास्तव को दे दिया| लेकिन उनको वित्तीय चार्ज नही दिया| जिससे पालिका कर्मियों का वेतन लटक गया| यूपी सफाई संघ ने जिलाधिकारी कार्यालय पंहुचकर ज्ञापन सौपा| जिसमे कहा गया की वर्तमान ईओ पीके श्रीवास्तव को वित्तीय अधिकार ना मिलने से कर्मचारियों का वेतन लटक गया है|
इस दौरान संगठन के जिलाध्यक्ष नीरज वाल्मीकि, सत्यपाल, मुकेश, धर्मेन्द्र कुमार आदि रहे|

प्लैटिनम जुबली पर सेना का हैरतअंगेज प्रदर्शन

0

Posted on : 09-11-2017 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, जिला प्रशासन, सामाजिक

फर्रुखाबाद: सिखलाईट इन्फेंट्री रेजिमेंट सेंटर फतेहगढ़ में 26 वां द्विवार्षिक सम्मेलन व प्लैटिनम जुबली का आयोजन किया गया| जिसमे सेना के जाबाज जवानो ने साहसिक हैरतंगेज करतब दिखा दर्शको को आश्चर्य में डाल दिया|
सेंटर पंहुचे कर्नल ऑफ दि रेजिमेंट ले जनरल डी अम्बू, पूर्व थल सेना अध्यक्ष जनरल वेड प्रकाश मलिक, जनरल विक्रम सिंह ने गुरु द्वारा साहिब में माथा टेका और सेना के प्रदर्शन में हिस्सा लिया| जिसमे सेना के जाबाज जबानो ने डॉग शो, मोटर साइकिल डिस्प्ले और कंटीन्यूटी ड्रीन का नायब प्रदर्शन किया| पैरा सूट से कूदे जबानो को सभी से सलाम किया|
वही डॉग शो व बाइक डिस्प्ले भी खूब सराही गयी| कार्यक्रम के बाद कर्नल ऑफ दि रेजिमेंट ले जनरल डी अम्बू ने आर्मी अधिकारियो के साथ सैनिको के युद्ध कौशल, बेहतर प्रशिक्षण आदि मुद्दों पर विचार विमर्श किया|

नामांकन वापसी के बाद बदलेगी सियासी तस्वीर

0

Posted on : 09-11-2017 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, NAGAR PALIKA, PALIKA CHUNAV, Politics, जिला प्रशासन

फर्रुखाबाद: दूसरे चरण के नगरीय निकाय चुनाव के लिए नामांकन पत्रों की जांच में पूरे जिले में एक अध्यक्ष व एक वार्ड सदस्य के नामांकन निरस्त किए गए। शुक्रवार को नाम वापसी की जायेगी| जिसके बाद नगर पालिका चुनाव की सियासी तस्वीर बदलेगी|

नगर पालिका परिषद व नगर पंचायत अध्यक्ष व सभासद पद के लिये 26 नबम्वर को मतदान होना है| जिसके लिये 1 नवम्वर से7नवम्बर तक नामांकन प्रक्रिया पूर्ण की गयी| 8 नवम्बर से 9 नबम्वर को नामांकन पत्रों की जाँच का दौर चला| इसके बाद शुक्रवार को 10 नबम्वर को नाम वापसी की जायेगी| 11 नवम्बर को प्रतीक चिन्ह आवंटित किये जायेगे| 26 नवम्बर को सुबह 7:30 से शाम को 5 बजे तक मतदान किया जायेगा|

एक दिसम्बर को सभी नगर पंचायत व नगर पालिका के मतो की मतगणना का कार्य सम्पन्न होना| 1 दिसम्बर को सभी पालिका व पंचायत को अपना नया अध्यक्ष मिल जायेगा | जिले की सभी नगर पालिका व पंचायत मिलाकर कुल 123 वार्ड है| व कुल 114 प्रत्याशी अध्यक्ष पद के लिये चुनाव मैदान में है| जिले में कुल 125 मतदान केंद्र व 395 मतदान स्थल बनाये गये है| कुल 161876 पुरुष मतदाता व 141568 महिला मतदाता करेगी| कुल 303444 मतदाता मतदान में हिस्सा लेने के लिये तैयार बैठे है |

[bannergarden id="12"]