LIVE: सीदी सैय्यद मस्जिद पहुंचे PM मोदी और शिंजो अबे-

0

JNI NEWS : 13-09-2017 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Narendra Modi, Politics, Politics-BJP, राष्ट्रीय

अहमदाबाद: जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे अपनी दो दिवसीय यात्रा के दौरान बुधवार को गुजरात पहुंचें। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के अहमदाबाद एयरपोर्ट पर जापानी प्रधानमंत्री शिंजो अबे का गले लगाकर स्वागत किया। दोनों प्रधानमंत्री का रोड शो सरदार बल्लभ भाई पटेल अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से शुरू हो कर साबरमती आश्रम पर खत्म हुआ।

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे और उनकी पत्नी एकी अबे ने पीएम मोदी के साथ साबरमती आश्रम में महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान पीएम मोदी ने साबरमती आश्रम में महात्मा गांधी की चरखे और तीन बंदरों के बारे में भी जानकारी दी। इसके बाद दोनों प्रधानमंत्री साबरमती रिवर फ्रंट पहुंचे। इस भव्य रोड शो में दोनों नेताओं को 28 स्थानों पर सांस्कृतिक झांकियां दिखाई गईं। 28 अलग-अलग राज्यों के नर्तकों ने पारंपरिक वेशभूषा में अपनी कला का प्रदर्शन किया। रोड शो साबरमती रिवरफ्रंट पर खत्म हुआ। शिंजो और उनकी पत्नी को पीएम मोदी अहमदाबाद के बुटीक हेरीटेज होटल हाउस ऑफ़ मंगलदास गिरधरदास में ख़ास डिनर के लिए लेकर जाएंगे। इसके बाद उन्हें 400 साल पुरानी अहमदाबाद की मश्हूर सिदी सईद मस्जिद भी ले जाया जाएगा।

LIVE अपडेट्स-

6:14PM: सीदी सैय्यद मस्जिद पहुंचे पीएम मोदी और शिंजो अबे

4.51 PM:शिंजो आबे और उनकी पत्नी साबरमती से रवाना हुए।

4.50 PM:मोदी ने शिंजो आबे को गांधी जी के 3 बंदरों के बारे में भी बताया।

4.49 PM:आबे और उनकी पत्नी ने साबरमती आश्रम में विजिटर्स बुक में अपने अनुभव लिखे।

4.44 PM:आश्रम में वैष्णव जन और रघुपति राघव भजन भी गाए गए।

4.40 PM:मोदी ने आबे और उनकी पत्नी को गांधी जी के चरखे के बारे में बताया।

4.39 PM:मोदी और आबे साबरमती आश्रम पहुंचे। शिंजो आबे ने सूत की माला गांधी जी की तस्वीर पर चढ़ाई।

4.38 PM:मोदी और आबे का रोड शो खत्म हुआ। रोड शो करीब 38 मिनट तक चला।

4.33 PM:रोड शो के दौरान लोग हाथों में इंडिया और जापान के राष्ट्रीय ध्वज लिए नजर आए और शिंजो आबे के स्वागत में नारे भी लगे।

4.30 PM:रोड शो के रास्ते में 28 राज्यों की झांकियां सजाई गईं।

4.26 PM:साबरमती रिवर फ्रंट पहुंचा नरेंद्र मोदी और आबे का काफिला।

4.02 PM: मोदी जैकेट में नजर आए आबे। रोड शो के दौरान जापान के पीएम की वाइफ सलवार कुर्ते में नजर आईं।

4.00 PM: मोदी-आबे का रोड शो शुरू।

3.49 PM: 36 बौद्ध भिक्षुओं ने शिंजो आबे के आने पर मंत्रोच्चार किया।

3.48 PM: लोकनृत्य और सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

3.45 PM: रेड कारपेट पर शिंजो आबे, उनकी पत्नी और नरेंद्र मोदी एयरपोर्ट से बाहर आने के लिए निकले।

3.42 PM: जापान के प्रधानमंत्री को गार्ड ऑफ आनर दिया गया।

3.38 PM: नरेंद्र मोदी ने गले मिलकर शिंजो आबे का स्वागत किया। आबे के साथ उनकी पत्नी भी मौजूद हैं।

3.30 PM: शिंजो आबे अहमदाबाद एयरपोर्ट पहुंचे।

3.15 PM: नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा कि भारत आपका (शिंजो आबे) स्वागत करता है।

3.14 PM:नरेंद्र मोदी अहमदाबाद पहुंचे।

दोनो नेता शाम सवा छह बजे यहां वास्तुकला का बेजोड़ नमूना माने जाने वाले पुराने शहर स्थित सीदी सैयद की मजार पर जाएंगे और अगासिये रेस्त्रां में रात का भोजन करेंगे। इस दौरान करीब एक सौ तरह के व्यंजन परोसे जाएंगे। पत्नी के साथ आ रहे अबे रात्रि विश्राम वस्त्रापुर के हयात होटल में करेंगे। 14 सितंबर की सुबह करीब दस बजे दोनों साबरमती रेलवे स्टेशन के निकट एक समारोह में मुंबई अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना का शिलान्यास करेंगे। इसके बाद अबे मोदी के साथ गांधीनगर में दांडी कुटीर संग्रहालय देखने जाएंगे। गांधीनगर के महात्मा मंदिर में दोनों नेताओं के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की 12वीं भारत जापान वार्षिक शिखर बैठक होगी जिसमें परस्पर लाभ के कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाएंगे।
गुजरात में 15 जापानी कंपनियां निवेश करेंगी
जापानी प्रधानमंत्री शिंजो अबे की यात्रा के दौरान वहां की करीब 15 कंपनियां गुजरात में निवेश के लिए समझौते पर हस्ताक्षर करेंगी। जापान अंतरराष्ट्रीय सहयोग एजेंसी (जेआईसीए) से राज्य को इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण के लिए सस्ता ऋण भी मिलेगा। 12वें जापान-भारत वार्षिक सम्मेलन के दौरान ये समझौते होंगे।

गुजरात औद्योगिक विकास निगम (के उपाध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक डी थारा ने कहा कि शिखर सम्मेलन के दौरान 17-18 समझौते पर हस्ताक्षर किए जाएंगे, जिनमें से 15 समझौते जापानी कंपनियों और निगम के बीच होंगे। जापान के साथ अपने संबधों को भारत काफी महत्व देता है। मैं प्रधानमंत्री शिंजो आबे का स्वागत करने को उत्सुक हूं। प्रधानमंत्री अबे और मैं 13-14 सितंबर को कई कार्यक्रमों में भाग लेंगे, इन कार्यक्रमों का मकसद द्विपक्षीय संबंधों को और आगे बढ़ाना है।

इस लेख/समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया लिखें-