How to Boost Your Writing Skills

0

Posted on : 10-08-2017 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS

The essay is a great deal more in relation to the question offered and if students provide an immediate and literal answer, they frequently overlook a crucial prospect. The clean display or document before you while composing composition is becoming the hardest portion of the practice. Commonly, echoing documents serve as an assessment device, for equally, students, in addition to the teachers, and occasionally even the administration. Read the rest of this entry »

देश में हर तरफ भय, आतंक, हिंसा, बेचैनी व अफरातफरी का माहौल- मायावती

0

Posted on : 10-08-2017 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics- Sapaa, Politics-BJP, Politics-BSP

लखनऊ:बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने आज आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सरकार के साम, दाम, दंड, भेद आदि अनेकों हथकंडों के अलावा उनकी असंवैधानिक एवं अलोकतांत्रिक नीति तथा व्यवहार के कारण आज देश में हर तरफ भय, आतंक, हिंसा, बेचैनी और अफरातफरी जैसा माहौल है।

बसपा कायार्लय की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, बैठक में मायावती ने कहा कि भाजपा और मोदी सरकार के साम, दाम, दण्ड, भेद आदि अनेकों हथकण्डों और असंवैधानिक तथा अलोकतांत्रिक नीति एवं व्यवहार के कारण आज देश में हर तरफ भय, आतंक, हिंसा, बेचैनी और अफरातफरी जैसा माहौल है।उन्होंने कहा कि सर्वसमाज में खासकर गरीबों, मज़दूरों, किसानों, युवाओं, बुद्धजीवी एवं व्यापारी वर्ग के साथ-साथ दलितों, पिछड़ों, मुस्लिम एवं अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों के प्रति हर प्रकार की सरकारी उपेक्षा, भेदभाव और नाइन्साफी को आज पूरा देश महसूस कर रहा है। इसके तहत देश में कल्याणकारी कानून एवं मानवतावादी संविधान को एक प्रकार से असफल करने की साजि़श की जा रही है।

इन वर्गों के प्रति भाजपा सरकार का रवैया लगातार निरंकुश व दमनकारी होता जा रहा है जिससे पूरा देश चिन्तित है। लेकिन इसे महसूस कर आवश्यक सुधार करने के बजाय भाजपा सरकार का अहंकार देश को लगातार त्रासदी की ओर धकेल रहा है। मायावती ने कहा कि बसपा एक राजनीतिक पार्टी होने के साथ ही जन-आंदोलन भी है। यह बाबा साहेब डॉ़ भीम राव अम्बेडकर की विचारधारा पर बनी देश की एकमात्र सशक्त राजनैतिक पार्टी है। इसने अपने राजनीतिक सफर में काफी उतार-चढ़ाव देखें हैं।

बयान में कहा गया है, वास्तविकता यह है कि बसपा ने बाबा साहेब और कांशी राम की इच्छानुरूप एक न बिकने वाले शक्तिशाली समाज का गठन किया है। यही कारण है बसपा ने उत्तर प्रदेश में चार बार शासन संभाला और “अपना उद्धार स्वयं करने” के बाबा साहेब की विचारधारा पर चलते हुए उसे हकीकत बनाने का प्रयास किया।उसमें कहा गया है, इसे हकीकत में बदलता देख जातिवादी ताकतों के सीने पर सांप लोटता रहता है और वह इस बसपा आंदोलन को पीछे धकेलने के लिये लगातार हर संभव साजिश में जुटे रहते हैं।

बयान के अनुसार, मायावती ने आरोप लगाया कि भाजपा सत्ता में आने के बाद संसद के प्रति भी जवाबदेह होना पसंद नहीं कर रही है। आरएसएस के ‘गुप्त एजेंडा’ और जन-विरोधी नीतियों तथा कार्यों से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए वह सरकारी मशीनरी का दुरूपयोग कर रहे हैं और बसपा सहित अन्य विपक्षी दलों के नेताओं को भ्रष्ट साबित करने के लिए साजिश कर रहे हैं।बसपा सुप्रीमो ने कहा कि भाजपा की सरकार द्वारा शहरों, स्टेशनों, सड़कों आदि का नाम बदला जाना भी उसकी इसी संकीर्ण, जातिवादी, साम्प्रदायिक व फासीवादी सोच का परिणाम है। भाजपा सरकार को नाम बदलने की गलत परम्परा से बचना चाहिए।

उन्होंने कहा कि हमेशा की तरह वास्तविकता यही है कि भाजपा और आरएसएस के संकीर्ण जातिवादी एवं साम्प्रदायिक जहर को केवल बसपा की अम्बेडकरवादी विचारधारा व जनसंर्ष ही काट सकती है। बसपा इसके लिए कतसंकल्प होकर काम कर रही है और इसके लिये अगले महीने से ही देश के स्तर पर जनचेतना एवं संर्ष कार्यक्रम का आयोजन करने वाली है। इसकी शुरूआत उत्तर प्रदेश में 18 सितम्बर 2017 को मेरठ में पहले मंडल-स्तरीय बसपा “कार्यकर्ता महासम्मेलन” के साथ होगी।

बढ़पुर व्लाक प्रमुख चुनाव को लेकर बढ़ी सियासी सरगर्मी

0

फर्रुखाबाद: सपा की व्लाक प्रमुख रही उर्मिला राजपूत के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव आने के बाद अब चुनाव आयोग के निर्देश पर शुक्रवार को नामांकन किया जाना है |जिसको लेकर सरगर्मी तेज है| बीजेपी पूरे चुनाव से खुद को अलग-थलग बता रही है| वही सपा में खेमे बंदी की सम्भावना बन गयी है| सपा ने भी किनारा कर लिया|

बढ़पुर की व्लाक प्रमुख रही उर्मिला राजपूत के खिलाफ पूर्व मंत्री नरेन्द्र सिंह समर्थक बॉबी यादव की भाभी रीता ने बीते 28 जून को अविश्वास प्रस्ताव ला दिया था | जिससे सियासी माहौल गर्म हो गया | रीता को 58 मत व उर्मिला को केबल दो मत मिले| जिसमे एक उनका खुद का था|कुल 82 बीडीसी सदस्य थे| एक की मौत हो जाने से केबल 81 बीडीसी शेष बचे| जिसमे से 60 ने अपना मतदान किया था| 58 रीता को व 2 उर्मिला को मत मिले थे|

अविश्वास प्रस्ताव आने के बाद से एक तरफ सपा नेता बॉबी यादव अपनी भाभी रीता यादव को व्लाक प्रमुखी की कुर्सी पर आसीन कराने के लिये पूरी ताकत झोंके है| वह 11 अगस्त को नामाकंन करायेगे| बॉबी यादव का पलड़ा भारी नजर आ रहा है| वही सपा की पूर्व विधायक उर्मिला राजपूत ने भी अपनी पुत्री बधू उर्मिला का शुक्रवार को पूरी दमदारी से नामांकन कराने की बात कही है| उन्होंने कहा है की वह पूरी ताकत के साथ नामाकंन करायेगी|

सियासी पार्टियों की बात करे तो केंद्र व राज्य की सत्ता पर आसीन बीजेपी के जिलाध्यक्ष सत्यपाल सिंह ने जेएनआई को बताया कि व्लाक प्रमुखी चुनाव के लिये उन्हें प्रदेश से कोई निर्देश नही मिले| इस लिये पार्टी इस चुनाव में कोई दिलचस्पी नही ले रही| वही सपा जिलाध्यक्ष नदीम फारुखी ने जेेंएनआई को बताया कि पार्टी इस चुनाव में सक्रिय नही है| उर्मिला या बॉबी ने पार्टी में पहले से कोई आवेदन चुनाव लड़ने के लिये नही किया था|  ना ही उन्हें व्लाक प्रमुख चुनाव के लिये आला कमान ने निर्देश दिये|

22 को बैंक कर्मीयों ने किया हड़ताल का एलान

0

Posted on : 10-08-2017 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, जिला प्रशासन

फर्रुखाबाद: बैंक कर्मियों के बैंकिंग सुधारो के विरोध में एसबीआई फतेहगढ़ की शाखा में प्रदर्शन कर आगामी 22 अगस्त को हड़ताल करने की घोषणा कर दी| साथ ही साथ यह भी कहा की बैंक में कर्मचरियों की कमी है|

स्टेट बैंक आफ इंडिया स्टाफ एसोसिएशन के कानपुर परिक्षेत्र के महामंत्री विजय अवस्थी के नेतृत्व में बैंक कर्मियों ने बैंक के बाहर नारेबाजी कर प्रदर्शन किया| उन्होंने कहा कि बैंक कर्मी जन विरोधी बैंकिंग सुधारो का विरोध करते है| साथ ही साथ कहा की शाखाओ में कर्मचारियों की कमी है |इससे एक ओर तो बैंक कर्मियों पर कार्य का बोझ बढ़ जाता है| वही दूसरी तरफ ग्राहक साव भी प्रभावित होती है |

उन्होंने वेतन समझौता निर्धारित तिथि में लागू करने की मांग की| उन्होंने बताया कि 22 अगस्त को सभी हड़ताल पर रहेंगे| फर्रुखाबाद शाखा पर प्रदर्शन किया जायेगा | साथ ही रैली निकाली जायेगी| इस दौरान श्याम कुमार अग्रवाल, राजीव पारिया, विमल अग्निहोत्री, राघवेन्द्र शर्मा, कु० अर्पिता घटक, बीरू वाथम, रामदास, उमेश गुप्ता, धर्मेन्द्र सिंह आदि मौजूद रहे |

कानून व्यवस्था में योगी सरकार ने काफी किया निराश: अखिलेश

0

Posted on : 10-08-2017 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार पर गंभीर आरोप जड़े। उन्होंने कहा कि प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार यहां की कानून-व्यवस्था को दुरुस्त करने की बात कहकर सत्ता पर काबिज हुई है, लेकिन इस मामले में योगी सरकार ने बेहद निराश किया है। अब तो प्रदेश में अपराधी बेखौफ हैं। अखिलेश समाजवादी पार्टी कार्यालय में मीडिया को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कुद लोग भगवा अंगोछा लपेटकर पुलिस के इकबाल को लगातार चुनौती दे रहे हैं। थानाध्यक्ष के साथ पुलिसकर्मी भी पीटे जा रहे हैं। एसपी के घर के अंदर घुसकर हमला किया जा रहा है। ऐसा तो पहले कभी नहीं हुआ।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने भू-माफिया पर एक्शन लेने की बात की थी, लेकिन अब तो सभी भूमाफिया भारतीय जनता पार्टी में चले गए हैं। सुना है कि आने वाले समय में इनमें से कुछ तो मंत्री बनने जा रहे हैं। अब इनके खिलाफ कैसे कार्रवाई संभव है? योगी आदित्यनाथ सरकार हर मोर्चे पर विफल हो रही है। मुख्यमंत्री प्रदेश का दौरा करते रहते हैं, लेकिन अफसर मस्त ही रहते हैं।

अखिलेश ने कहा कि बलिया में एक बेटी की जान चली गई। स्कूल जा रही छात्रा को चाकुओं से गोद दिया गया। एसपी और अन्य पुलिसकर्मी हाथ पर हाथ धरे बैठे रहे। लेकिन प्रदेश सरकार कह रही है कि उसने कार्रवाई की। बलिया में जो कुछ हुआ, वह बेहद गंभीर घटना है। प्रदेश की कानून व्यवस्था की स्थिति किसी से छिपी नहीं है।उन्होंने कहा, “योगी हम पर आरोप लग रहे थे कि थाना हम चलाते थे, लेकिन अब हम पूछ रहे हैं कि थाना कौन चला रहा है? अब तो पुलिस वसूली कर रही है। प्रदेश में 100 नंबर की व्यवस्था हमने दी थी। सबने तारीफ की। इस सरकार ने इस व्यवस्था का भी सत्यानाश कर दिया।”

उन्होंने कहा, “योगी सरकार पुलिस की भर्ती रोके हुए है। सब इंस्पेक्टर परीक्षा का तो पेपर ही आउट हो गया। पुलिस का अब सिर्फ एक काम रह गया है, विपक्षी दल के नेताओं पर दबाव बनाने का। औरैया, मैनपुरी, कन्नौज और आगरा में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ अन्याय हो रहा है। इस पर मैंने खुद डीजीपी सुलखान सिंह से बात की। वह कुछ भी बोलने और करने की स्थिति में नहीं हैं। पंचायत अध्यक्ष और सदस्यों को फंसाया जा रहा है, पुलिस हमारे लोगों को परेशान कर रही है।”