फर्जीबाड़ा: मदरसे की मान्यता पर इंग्लिश मीडियम की शिक्षा

0

खबरे सोशल मीडिया पर शेयर करे-facebooktwittergoogle_pluslinkedintumblrmailby feather

फर्रुखाबाद: बेसिक शिक्षा विभाग में क्या कब हो जाये कहा नही जा सकता| विकास खंड कमलागंज के ग्राम हिसामपुर में विभाग की मिली भगत से मदरसे की मान्यता लेकर इंग्लिश माध्यम का विधालय संचालित किया जा रहा है| अब यह भी नही कह सकते की विभाग को इसकी भनक नही| बीते लगभग तीन सप्ताह पूर्व ही खंड शिक्षा अधिकारी सुमित वर्मा से इसका निरीक्षण भी किया था और बात चाय नाश्ते में ही निपट गयी|शहर के आवास विकास के लिपिक शब्बीर अहमद ने बीते 3 दिसम्बर 2010 को यूपी मदरसा शिक्षा परिषद लखनऊ से मदरसा दारुल उलूम गरीब नबाज के नाम मदरसे की मान्यता ली| जिसमे तहतानिया (कक्षा 1 से 5 तक), फौकानिया (कक्षा 6 से 8 तक) , आलिया (मुंशी व मौलवी कक्षा 9 से 10 तक की मान्यता दी गयी| मो-० आमिर एजुकेशन वेलफेयर सोसाइटी आवास विकास सोसाइटी द्वारा संचालित इस मदरसे में विभाग की कृपा से अंग्रेजी माध्यम की कक्षा संचालित की जा रही है|मजे की बात यह है कि यह सब चोरी छुपे नही बल्कि गा-बजाकर किया जा रहा है| दीवारों पर पम्पलेट भी चस्पा करके इंग्लिश माध्यम से शिक्षा देने का प्रचार किया जा रहा है| प्रबन्धक ने अपने पुत्र मो० शरीफ को ही विधालय का प्रधानाचार्य बना दिया है| विधालय में मदरसे के नाम पर तीन अध्यापको की तैनाती है जिनका सरकार से वेतन भी निकल रहा है लेकिन यह पैसा उनकी जेब में ना जाकर प्रबंध समिति के कब्जे में है| विधालय में अंग्रेजी माध्यम के शिक्षक चंद रुपयों पर लगाये गये है| जो उर्दू के विधालय में अंग्रेजी की शिक्षा दे रहे है| मजे की बाद यह है की यह खेल वर्षो से चला आ रहा है| लेकिन खाऊ कमाऊ निति के चलते आज तक मदरसे पर आंच नही आयी|

योगी सरकार में शिक्षा के इस खेल में कार्यवाही करने वाले ही अपने जेबे गर्म कर मुंह पर पट्टी बांधे है और सरकार और जनता को बेबकुफ़ बनाया जा रहा है| जेएनआई टीम से जब विधालय के प्रबन्धक शब्बीर अहमद से उर्दू के छात्रों के विषय में पूंछा तो वह जबाब नही दे सके| विधालय के भीतर अंग्रेजी माध्यम से छात्र-छात्रायें शिक्षा ले रहे थे|

खंड शिक्षा अधिकारी सुमित वर्मा ने जेएनआई को बताया की शब्बीर अहमद के विधालय में मदरसे की मान्यता है| वह जब निरीक्षण में गये थे तब प्रबन्धक ने मदरसे के ही कागजात दिखाये थे| यदि वह अंग्रेजी माध्यम विधालय संचालित कर रहे है तो उन पर तत्काल कार्यवाही की जायेगी|

खबरे सोशल मीडिया पर शेयर करे-facebooktwittergoogle_pluslinkedintumblrmailby feather

Comments are closed.