Featured Posts

राममंदिर मामले में अब शिवपाल सीएम के बयान से सहमतराममंदिर मामले में अब शिवपाल सीएम के बयान से सहमत फर्रुखाबाद: समाजवादी सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे शिवपाल सिंह यादव गुरुवार को यूपी के सीमें योगी आदित्य नाथ के राममंदिर पर दिये गये वयान से सहमत दिखे| उन्होंने कहा की यदि समझौता नही तो कोर्ट का आदेश ही विकल्प है| समाजवादी पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष विश्वास गुप्ता...

Read more

हाई-वे पर जाम में फंसा रहा पूर्व मंत्री शिवपाल का काफिलाहाई-वे पर जाम में फंसा रहा पूर्व मंत्री शिवपाल का काफिला फर्रुखाबाद:(मोहम्मदाबाद) सत्ता की शक्ति से कौन अंजान है और खास कर वो तो बिल्कुल भी नही जो सत्ता का सुख एक लम्बे समय तक ले चुका हो| लेकिन कुर्सी पर ना रहने के बाद नेता को सड़क पर चलना मुश्किल हो जाता है| यही नजारा देखने को मिला जब शिवपाल सिंह का काफिला लगभग 20 मिनट तक जाम की झाम में...

Read more

बसपा प्रत्याशी वत्सला को महान दल का समर्थनबसपा प्रत्याशी वत्सला को महान दल का समर्थन फर्रूखाबाद: नगर पालिका अध्यक्ष पद के लिये बहुजन समाज पार्टी की प्रत्याशी वत्सला अग्रवाल को महान दल ने अपना समर्थन दे तेजी से चुनाव लड़ाने का ऐलान किया है |जिससे वत्सला के खेमे में मजबूती आ गयी है| महान दल के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने रेलवे रोड स्थित बसपा प्रत्याशी के चुनाव...

Read more

नही खुला विशाल की मौत का राज, आखिर कैसे हुई मौत?नही खुला विशाल की मौत का राज, आखिर कैसे हुई मौत? फर्रुखाबाद: बीती रात बाइक चोरी के आरोप में पकड़े गये आरोपी की मौत का राज फ़िलहाल पोस्टमार्टम में भी नही खुल सका| जिससे उसकी मौत की गुत्थी उलझ गयी है| वही पुलिस मामले की जाँच कर रही है| थाना राजेपुर के बमियारी रामपुर निवासी विशाल पाठक पुत्र चन्द्रमोहन पाठक उर्फ़ रामू को बाइक...

Read more

योगी की पुलिस से परेशान महिलाओं ने पकड़े मंत्री के पैरयोगी की पुलिस से परेशान महिलाओं ने पकड़े मंत्री के पैर फर्रुखाबाद: बीते दिनों शराब ठेके पर पुलिस व ग्रामीणों के साथ हुई हिंसक झड़प के बाद पुलिस ने कई को आरोपी बनाया था| जिसको पकड़ने के लिये पुलिस लगातार हाथ-पैर मार रही है |जिस पर अब राजनितिक रंग चढ़ गया है| पुलिस के खौफ से खफा महिलाओ ने राज्य मंत्री के पैर पकड़कर न्याय की मांग की है|...

Read more

चुनावी बिसात पर हर रोज बदलती सियासी चालचुनावी बिसात पर हर रोज बदलती सियासी चाल फर्रुखाबाद:चुनावी रण का धीरे-धीरे रुख बदल रहा है और सियासी लोगों की रणनीति भी। नुक्कड़ सभाओं और जनसम्पर्क के साथ-साथ अब दूसरा दौर शुरू हो गया है। सियासी बिसात पर पल-पल की खुफिया निगरानी के बाद शतरंजी चालें चली जा रही हैं। कोई पूरे पालिका व नगर पंचायत क्षेत्र में मोहल्ले-मोहल्ले...

Read more

अध्यक्ष पद के आधा दर्जन नामांकन वापसअध्यक्ष पद के आधा दर्जन नामांकन वापस फर्रुखाबाद: शुक्रवार को नामांकन के वापसी के दौरान फर्रुखाबाद, मोहम्मदाबाद व कमालगंज के कुल आधा दर्जन प्रत्याशियों ने अपना नामांकन वापस कर लिया| फर्रुखाबाद नगर पालिका से निर्दलीय प्रत्याशी सुधांशु दत्त द्विवेदी, कपड़ा व्यापारी किशन कन्हैया सक्सेन व आभा सिंह ने अपना...

Read more

खास खबर: शर्तो के साथ सुधांशु दत्त का पर्चा वापसखास खबर: शर्तो के साथ सुधांशु दत्त का पर्चा वापस फर्रुखाबाद: बीजेपी से सदर विधायक मेजर सुनील दत्त द्विवेदी के बड़े चचेरे भाई पूर्व सभासद सुधांशु दत्त द्विएवेदी ने अपना पर्चा आखिर कुछ शर्तो के साथ वापस ले लिया| शहर के किंराना बाजार स्थित राजन अवस्थी के प्रतिष्ठान पर जिला प्रभारी श्रीकान्त पाठक के साथ सुधाशुं दत्त की...

Read more

सभासद पद के 16 के नामांकन वापससभासद पद के 16 के नामांकन वापस फर्रुखाबाद: नगरिया निकाय चुनाव में फर्रुखाबाद, कमालगंज व मोहम्मदाबाद में से सर्वाधिक सदस्यों ने फर्रुखाबाद के वार्डो से पर्चा वापस कर लिया| जिससे कई प्रत्याशियों के समीकरण बने तो कई का सियासी गणित बिगड़ गया| फर्रुखाबाद नगर पालिका में वार्ड 28 से आरती, वार्ड 31 से नजरीन, वार्ड...

Read more

फ़्लैश बैक: काला धन खपाने के लिए एक डॉक्टर ने खरीदे थे 13 एसी, 5 एलईडी और ....फ़्लैश बैक: काला धन खपाने के लिए एक डॉक्टर ने खरीदे थे 13 एसी, 5... फर्रुखाबाद: नोटबंदी का एक साल पूरा हुआ, कहीं जश्न मना तो किसी के जख्म हरे हुए| 8 नवम्बर 2016 वो दिन है जो इतिहास बन गया| रात 8 बजे उस दिन दफ्तर में सामान्य कार्य में लगा था कि 5 मिनट बाद ही जूनियर ने फोन पर बताया कि 500 का नोट बंद हो गया| किसी बात को एक बार में ही न मानने की आदत पत्रकार...

Read more

साधू को गोली मारने में तीन सगे भाइयों सहित चार पर मुकदमा, दो गिरफ्तार

Comments Off on साधू को गोली मारने में तीन सगे भाइयों सहित चार पर मुकदमा, दो गिरफ्तार

Posted on : 09-03-2017 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE

फर्रुखाबाद: बीती रात कोतवाली फतेहगढ़ क्षेत्र के सिविल लाइन मढैयां स्थित स्वामी संतदास आश्रम के महंत 65 वर्षीय के एन पाण्डेय उर्फ गुरुचरन दास को गोली मारने के मामले में पुलिस ने तीन सगे भाइयों सहित चार पर मुकदमा दर्ज कर दो को गिरफ्तार कर लिया। घटना के बाद घायल साधु को लोहिया अस्पताल लाया गया था। जहां उसके घुटने में गोली लगी होने के कारण हालत खराब हो गयी थी। डाक्टर ने उन्हें रिफर कर दिया था। जिसके बाद घायल सधु गुरुचरनदास को नेकपुर स्थित ग्लोबल हास्पिटल में भर्ती किया गया था।

घटना के सम्बंध में राजीव सेंगर पुत्र अनिरुद्व सिंह निवासी फतेहगढ़ ने कोतवाली पुलिस को तहरीर दी थी। जिसमें राजीव सेंगर ने कहा है कि वह रात करीब 8 बजकर 45 मिनट पर फतेहगढ़ बाजार से गुरुचरनदास के साथ स्कूटी से जा रहे थे। तभी आश्रम के निकट पहुंचने पर सुधीर कुमार, गुड्डू उर्फ सुशील, संजेश उर्फ संजीव पुत्र लालाराम निवासी सिविल लाइन मढैंया, रघुवीर पुत्र खम्मन निवासी शीशम बाग ने स्कूटी को रोककर धक्का दे दिया व बाबा गुरुचरन दास को लाठी डन्डों से मारते हुए कहा कि मुकदमें में पैरवी करते हो। जब अपने को दोनो छुड़ाकर भागने लगे तभी सुधीर व गुड्डू, सुधीर व संजेश ने तमंचों से जान से मारने की नियत से फायर कर दिया। जिससे साधु गंभीर रूप से घायल हो गये।

पुलिस ने तहरीर के आधार पर सुधीर, गुड्डू, संजेश व रघुवीर के खिलाफ धारा 307, 323, 304, 506 व 7 क्रिमनल लाॅ एक्ट के तहत मुकदमा पंजीकृत कर लिया। जांच कोतवाल अनूप कुमार निगम को दी गयी है। पुलिस ने संजेश व रघुवीर को गिरफ्तार भी कर लिया| फतेहगढ़ कोतवाल अनूप कुमार निगम ने बताया कि मामले में आरोपियों की तलाश की जा रही है। दो को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है अन्य आरोपियों की भी जल्द गिरफ्तारी की जायेगी।

हत्या में पुलिस के हाथ लगे अहम सुराग

Comments Off on हत्या में पुलिस के हाथ लगे अहम सुराग

Posted on : 09-03-2017 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE

फर्रुखाबाद: बीते मंगलवार की रात गला दबाकर मौत की घाट उतारे गये रंजीत राजपूत निवासी बिलावलपुर मढैयां की हत्या में पुलिस को अहम सुराग हाथ लगे हैं। हालांकि पुलिस अभी किसी भी तरह की वयानबाजी से बच रही है।

मृतक के छोटे भाई राजीव ने गांव के ही नीरज व बबलू पर हत्या का शक जाहिर करते हुए पुलिस को तहरीर दी थी कि बबलू व नीरज रंजीत को घर से बुला ले गये और उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की। पुलिस ने घटना के दिन ही कई लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था। मृतक के भाई राजीव व उसका दोस्त रमाकांत भी पुलिस के पूछताछ में शामिल किया गया। पुलिस के सूत्रों की मानें तो उसकी हत्या में बहुत ही करीबी व्यक्ति का हाथ होने की आशंका है। हिरासत में बैठे लोगों को पुलिस ने आला अधिकारियों के सामने पेश भी किया। सूत्रों की मानें तो पुलिस खुलासे के बिलकुल करीब में है और करीबियों पर शिकंजा कसना भी तय माना जा रहा है।

थाना प्रभारी संजीव राठौर ने बताया कि अभी जांच जारी है। पुलिस पूछताछ में जुटी है। अभी कुछ कहना संभव नहीं। जल्द खुलासा किया जायेगा।

आग से जली शिक्षिका की उपचार के दौरान मौत

Comments Off on आग से जली शिक्षिका की उपचार के दौरान मौत

Posted on : 09-03-2017 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE

फर्रुखाबाद: बीते 4 मार्च को घरेलू विवाद के चलते आग से जली सहायक अध्यापक पद पर तैनात 35 वर्षीय शिक्षिका लक्ष्मी पत्नी अमित प्रताप उर्फ पिंटू यादव निवासी तलैया काजल कायमगंज की उपचार के दौरान मौत हो गयी। पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम कराया।

4 मार्च को आग से झुलसी लक्ष्मी को सीएचसी में भर्ती कराने के बाद आवास विकास स्थित एक निजी नर्सिंगहोम में भर्ती किया गया था। 5 दिन तक मौत से लड़ी शिक्षिका ने आखिर गुरुवार को मौत से हार मान ली। मौके पर पहुंचे लक्ष्मी के भाई संजीव यादव ने बहनोई अमित, लक्ष्मी के ससुर रामाधार सिंह , सास प्रभाकुमारी, देवर पुनीत उर्फ पिंटू, देवरानी सपना के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। घटना की सूचना मिलने पर आवास विकास चैकी इंचार्ज दिनेश कुमार ने मौके पर पहुंचकर शव का पंचनामा भरा और पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन व फर्रुखाबादी आलू

Comments Off on राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन व फर्रुखाबादी आलू

Posted on : 09-03-2017 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, सामाजिक

फर्रुखाबाद: 7 मार्च को शहर की सातनपुर स्थित आलू मण्डी से रवाना हुई आलू किसान बचाओ यात्रा राजभवन लखनऊ पहुंची और राज्यपाल रामनाईक को किसानों की समस्याओं को लेकर ज्ञापन सौंपा। राज्यपाल ने आलू किसानों की समस्या पर चिंता व्यक्त की है।

किसान नेता अशोक कटियार व सुधीर शुक्ला आदि के नेतृत्व में यात्रा के सदस्यों ने राज्यपाल रामनाइक से भेंट की। राज्यपाल रामनाइक ने किसानों की समस्या पर चिंता प्रकट की। उन्होंने मुख्य सचिव को निर्देशित किया है कि किसानों के हित में सही कदम उठाकर राहत पहुंचायी जाये। राज्यपाल ने आलू किसान बचाओ यात्रा के सदस्यों से कहा कि नई सरकार बनने के बाद वह सबसे पहले आलू किसानों की समस्या का समाधान ढूढेंगे। यात्रा में गये सदस्यों ने राज्यपाल को फर्रुखाबादी आलू भी सौंपा। राज्यपाल ने विलुप्त होती जा रही आलू की फुलवा किस्म पर चर्चा की। आलू निर्यात संघ के अध्यक्ष सुधीर शुक्ला ने आलू की किस्मों से राज्यपाल को अवगत कराया।

इस दौरान अरविंद राजपूत, कुंवरजीत प्रधान, संजय कटियार, अखिलेश अवस्थी, रामबाबू दुबे, उमलेश यादव आदि मौजूद रहे।

राहुल-अखिलेश-शाह, अगर यूपी हारे तो क्या होगा इनका भविष्य?

Comments Off on राहुल-अखिलेश-शाह, अगर यूपी हारे तो क्या होगा इनका भविष्य?

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के हाई प्रेशर चुनाव के सातवें चरण की वोटिंग पूरी हो चुकी है. नतीजे 11 मार्च को आएंगे. इस बीच सभी राजनीतिक दलों के हाई-प्रोफाइल चेहरों को बीते 6 महीने से जारी जी तोड़ मेहनत से छुट्टी मिल गई है. इसमें अखिलेश यादव, राहुल गांधी, अमित शाह, शामिल हैं. इनमें से किसी एक या दो नेता के हाथ में उत्तर प्रदेश की कमान जाने वाली है. वहीं बाकी नेताओं को हार के चलते किसी और काम में अपने आप को व्यस्त करने की जरूरत पड़ेगी, खासतौर पर 2019 के आम चुनावों को देखते हुए हारने वाले नेताओं को नए सिरे से अपनी रणनीति तैयार करनी होगी.
अखिलेश यादव
चुनाव हारते ही अखिलेश यादव सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री हो जाएंगे. नए मुख्यमंत्री को सत्ता हस्तांतरण करने और मुख्यमंत्री आवास खाली करने के बाद हार के कारणों को समझने के लिए लंबा वक्त मिल जाएगा. प्रदेश में अगला चुनावी बिगुल 2019 में आम चुनावों के लिए बजेगा. तब तक अखिलेश को समाजवादी पार्टी से चुनौती का सामना करना पड़ेगा. मौजूदा समय में पार्टी के राष्ट्रीय ढ़ांचे की कमान उनके हाथ में है लेकिन चुनावों में हार मिलने के बाद उन्हें इस कुर्सी को बचाने की लंबी कवायद करनी होगी. चाचा शिवपाल और पिता मुलायम उनके पर कतरने का कोई मौका नहीं छोड़ेंगे. वहीं कांग्रेस के रूप में मिला पार्टनर भी संसद में अस्तित्वहीन होने के कारण किसी तरह की मदद देने में कारगर नहीं रहेगी.
राहुल गांधी
एक दशक से लंबे समय से राजनीति में सक्रिय राहुल गांधी को लगातार उत्तर प्रदेश में मुंह की खानी पड़ रही है. कभी कांग्रेस का सबसे मजबूत गढ़ रहा प्रदेश एक-एक कर राहुल गांधी के नेतृत्व में लड़े गए सभी विधानसभा और लोकसभा चुनावों में नकार चुका है. पार्टी के सूत्रों का भरोसा था कि इस बार उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के साथ चुनाव लड़ने पर कांग्रेस को अधिक सीटों को जीतने का मौका मिलेगा जिसके बाद उन्हें आसानी से पार्टी का अध्यक्ष चुन लिया जाएगा. लेकिन 11 मार्च को वोटों की गिनती में एक बार फिर मुंह की खाने के बाद राहुल गांधी को कवायद पार्टी में अपनी पकड़ मजबूत करने की करनी होगी. वहीं बिना किसी बड़ी जीत पर सवार हुए अध्यक्ष बनने की स्थिति में राहुल को 2019 के आम चुनावों के लिए अपनी नई रणनीति खोजनी होगी. पहले बीजेपी, फिर बिहार में जेडीयू के लिए करिश्मा करने वाले प्रशांत किशोर विफल हो जाएंगे और इसका जवाब भी राहुल गांधी को तैयार करना होगा.
अमित शाह
2014 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी की जीत का ताज पार्टी अध्यक्ष बनाकर अमित शाह के सिर पर रख दिया गया था. इस ताज के लिए 2014 में यदि बीजेपी को 80 सीट मिलना जिम्मेदार है तो 2017 के विधानसभा चुनावों में हार इस ताज पर सवाल खड़ा कर देगी. अमित शाह को जवाब देना होगा कि आखिर क्यों वह 2014 वाला करिश्मा 2017 में नहीं दोहरा पाए? इसके अलावा उन्हें पार्टी को यह भी समझाना होगा कि हार के बावजूद 2019 के आम चुनावों लिए क्यों कमान उनके ही हाथ में रहनी चाहिए.

[bannergarden id="12"]