प्रसूता की हालत बिगड़ने पर परिजनों का हंगामा, अस्पताल पर लगे सवालिया निशान

0

JNI NEWS : 26-02-2017 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE, जिला प्रशासन

फर्रुखाबाद: कोतवाली कायमगंज क्षेत्र के कुबेरपुर कायमगंज निवासी 27 वर्षीय प्रसूता वीना पत्नी अबधेश जाटव के मामले ने जिले की स्वास्थ्य सेवाओं की पोल खोलकर रख दी। जहां एक गरीब प्रसूता को उपचार के लिए दर – दर भटकना पड़ा वहीं एक निजी नर्सिंगहोम में भर्ती होने के बाद प्रसूता की हालत बिगड़ने पर परिजनों ने हंगामा काटकर अस्पताल और चिकित्सक पर कई सवालिया निशान लगाये। मौके पर पुलिस ने पहुंचकर मामले को रफादफा किया।
प्रसूता वीना को बीते 23 फरवरी को आशा शहनाज ने प्रसव पीड़ा होने पर कायमगंज सीएचसी में पहुंचाया। जहां से वीना को लोहिया अस्पताल रिफर कर दिया गया। लोहिया अस्पताल में महिला चिकित्सक ने वीना को फिर रिफर कर दिया। जिसके बाद आशा उसे लेकर आवास विकास स्थित द केयर हास्पिटल पहुंची और उसे भर्ती करा दिया। उसी दिन शाम को वीना ने सामान्य प्रसव से एक बच्ची को जन्म दिया। वीना की सास रामकिशोरी ने बताया कि प्रसव होने के बाद डाक्टर ने जच्चा-बच्चा को गहन चिकित्सा कक्ष में भर्ती कर दिया। परिजन लगाकर चिकित्सक के सम्पर्क में रहे। परिजनों का कहना है कि 24 फरवरी को चिकित्सक ने कहा कि वीना की हालत में अब सुधार है। उसे सामान्य बार्ड में भर्ती कर देंगे। लेकिन उसके बाद भी उन्होंने आईसीयू से बाहर नहीं किया। 25 फरवरी को उन्होंने पुनः चिकित्सक से वीना के स्वास्थ्य के विषय में जानकारी मांगी तो चिकित्सक ने बताया कि उसकी हालत गंभीर है, कहीं और ले जायें।

वीना की सास राजकिशोरी ने बताया कि उन्हें अस्पताल की तरफ से 21 हजार रुपये और मेडिकल की तरफ से 2350 का बिल पकड़ाया गया। जबकि 18 हजार रुपये भुगतान की रसीद वह लोग पहले ही कटा चुके थे। परिजनों ने रुपये देने में असमर्थता व्यक्त कर दी और अस्पताल कर्मियों पर सवालिया निशान खड़े कर दिये। किसी ने फोन पर आला अधिकारियों को सूचना दे दी। सूचना मिलने पर कोतवाल डी के सिंह मौके पर पहुंचे और उन्होंने अस्पताल के संचालक डा0 के एम द्विवेदी को जमकर हड़काया और कहा कि लाशों के पैसे खाते हो, यह सब अब नहीं चलेगा।

डाक्टर ने कोतवाल को बताया कि महिला कोमा में है, कोतवाल ने सूचना सीओ सिटी को दी। कुछ देर बाद सीओ सिटी भी मौके पर आ गये। तभी पुलिस ने मामले को रफादफा करने के लिए पीड़ित पक्ष से कुछ रुपये अस्पताल प्रशासन को दिलवाकर मामले को रफादफा करना चाहा। लेकिन तभी सूचना फैली कि प्रसूता की मौत हो गयी। परिजनों को यह खबर लगते ही वह आक्रोषित हो गये। इसी दौरान महिला को स्टेचर पर लिटाकर पुलिस ने लोहिया अस्पताल भेजने की व्यवस्था की लेकिन परिजन हंगामा करने लगे। पुलिस ने कड़ी मसक्कत के बाद वीना को निजी एम्बुलेंस से लोहिया अस्पताल भेजा। जहां महिला चिकित्सक अर्चना ने उसे रिफर कर दिया। परिजन उसे सैफई लेकर चले गये।

सीओ सिटी आलोक कुमार ने बताया कि मामले के सम्बंध में फिलहाल कोई शिकायत लिखित रूप से पुलिस को नहीं दी गयी है। शिकायत मिली तो जांच कर कार्यवाही की जायेगी।

Comments are closed.