Featured Posts

मंडलीय खेलकूद में फर्रुखाबाद रहा अब्बलमंडलीय खेलकूद में फर्रुखाबाद रहा अब्बल फर्रुखाबाद: 26 वीं मंडलीय बाल क्रींडा प्रतियोगिता एवं शिक्षक समारोह में आखिर जनपद ने अपना जलवा कायम रखा| उसको प्रथम स्थान मिला| जिसके बाद टीम के लोगों ने जमकर जसं मनाया| पुलिस लाइन मैदान में बीते शनिवार से चल रही प्रतियोगिता में सोमबार को अंतिम दिन आये परिमाण में फर्रुखाबाद...

Read more

जरदोजी व्यापारी की खंजर खोपकर हत्या, दो जख्मीजरदोजी व्यापारी की खंजर खोपकर हत्या, दो जख्मी फर्रुखाबाद: पुरानी रंजिश में युवक पर जान लेवा हमला कर रहे हमलावरों से उलझने में जरदोजी व्यापारी को भी खंजर खोपकर मौत के घाट उतार दिया गया| पुलिस में जाँच पड़ताल शुरू कर दी| गम्भीर रूप से जख्मी दो को निजी अस्पताल में भर्ती किया गया| शहर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला छाबनी निवासी...

Read more

टिकट के नाम पर ठगी में भाजयुमो नेता सहित दो पर केसटिकट के नाम पर ठगी में भाजयुमो नेता सहित दो पर केस फर्रुखाबाद : बीते नगर निकाय चुनाव में वार्ड नंबर 12 से सभासद पद पर भाजपा का टिकट दिलाने के नाम पर भाजयुमो नेता सहित दो पर ठगी करने का आरोप लगा है| एसपी के आदेश पर दोनों के खिलाफ कोतवाल फतेहगढ़ में मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने जाँच शुरू कर दी| फतेहगढ़ कोतवाली के मोहल्ला बनखड़िया वार्ड...

Read more

वार्डो में सपा ने बीजेपी को दी जोरदार पटखनीवार्डो में सपा ने बीजेपी को दी जोरदार पटखनी फर्रुखाबाद:(दीपक शुक्ला) निकाय चुनाव में सपा दो व बीजेपी ने तीन सीटे अध्यक्ष पद के लिये जीती हो| लेकिन वार्डो के चुनाव में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी बीजेपी से दो गुने जीते| समाजवादी पार्टी ने कुल 23 वार्डो में अपने प्रत्याशी लड़ाये थे| जिसमे से उनके 9 प्रत्याशी पार्टी सिम्बल...

Read more

प्रधान पति को चाचा ने गोली मार मौत के घाट उताराप्रधान पति को चाचा ने गोली मार मौत के घाट उतारा फर्रुखाबाद:(राजेपुर)भूमि विवाद के साथ ही साथ चुनावी रंजिश में सगे चाचा ने भतीजे को मौत के घाट उतारा दिया| पुलिस ने मौके पर जाकर जाच पड़ताल| थाना अमृतपुर के ग्राम करनपुर दत्त में सौरभ उर्फ़ अप्पा की पत्नी कीर्ति वर्तमान में ग्राम प्रधान है| उनकी परिवार में भूमि विवाद के साथ...

Read more

राममंदिर मामले में अब शिवपाल सीएम के बयान से सहमतराममंदिर मामले में अब शिवपाल सीएम के बयान से सहमत फर्रुखाबाद: समाजवादी सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे शिवपाल सिंह यादव गुरुवार को यूपी के सीमें योगी आदित्य नाथ के राममंदिर पर दिये गये वयान से सहमत दिखे| उन्होंने कहा की यदि समझौता नही तो कोर्ट का आदेश ही विकल्प है| समाजवादी पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष विश्वास गुप्ता...

Read more

हाई-वे पर जाम में फंसा रहा पूर्व मंत्री शिवपाल का काफिलाहाई-वे पर जाम में फंसा रहा पूर्व मंत्री शिवपाल का काफिला फर्रुखाबाद:(मोहम्मदाबाद) सत्ता की शक्ति से कौन अंजान है और खास कर वो तो बिल्कुल भी नही जो सत्ता का सुख एक लम्बे समय तक ले चुका हो| लेकिन कुर्सी पर ना रहने के बाद नेता को सड़क पर चलना मुश्किल हो जाता है| यही नजारा देखने को मिला जब शिवपाल सिंह का काफिला लगभग 20 मिनट तक जाम की झाम में...

Read more

बसपा प्रत्याशी वत्सला को महान दल का समर्थनबसपा प्रत्याशी वत्सला को महान दल का समर्थन फर्रूखाबाद: नगर पालिका अध्यक्ष पद के लिये बहुजन समाज पार्टी की प्रत्याशी वत्सला अग्रवाल को महान दल ने अपना समर्थन दे तेजी से चुनाव लड़ाने का ऐलान किया है |जिससे वत्सला के खेमे में मजबूती आ गयी है| महान दल के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने रेलवे रोड स्थित बसपा प्रत्याशी के चुनाव...

Read more

नही खुला विशाल की मौत का राज, आखिर कैसे हुई मौत?नही खुला विशाल की मौत का राज, आखिर कैसे हुई मौत? फर्रुखाबाद: बीती रात बाइक चोरी के आरोप में पकड़े गये आरोपी की मौत का राज फ़िलहाल पोस्टमार्टम में भी नही खुल सका| जिससे उसकी मौत की गुत्थी उलझ गयी है| वही पुलिस मामले की जाँच कर रही है| थाना राजेपुर के बमियारी रामपुर निवासी विशाल पाठक पुत्र चन्द्रमोहन पाठक उर्फ़ रामू को बाइक...

Read more

योगी की पुलिस से परेशान महिलाओं ने पकड़े मंत्री के पैरयोगी की पुलिस से परेशान महिलाओं ने पकड़े मंत्री के पैर फर्रुखाबाद: बीते दिनों शराब ठेके पर पुलिस व ग्रामीणों के साथ हुई हिंसक झड़प के बाद पुलिस ने कई को आरोपी बनाया था| जिसको पकड़ने के लिये पुलिस लगातार हाथ-पैर मार रही है |जिस पर अब राजनितिक रंग चढ़ गया है| पुलिस के खौफ से खफा महिलाओ ने राज्य मंत्री के पैर पकड़कर न्याय की मांग की है|...

Read more

सिपाही ने स्वास्थ्य विभाग की नौकरी दिलाने के नाम पर 10 लाख ठगे

Comments Off on सिपाही ने स्वास्थ्य विभाग की नौकरी दिलाने के नाम पर 10 लाख ठगे

Posted on : 06-06-2016 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE

shishupal sipahi uppफर्रुखाबाद: नबावगंज थाना क्षेत्र के ग्राम वेग निवासी पूर्व प्रधान उमेश यादव ने सीएम से सिपाही की शिकायत की थी| सीएम कार्यालय के हस्तक्षेप के बाद आखिर एसपी ने जाँच सीओ मोहम्मदाबाद को दी है|

पूर्व प्रधान ने सीएम से की गयी शिकायत में कहा है कि वर्ष 2013 में औरया रामगढ़ हरचंडी पुरवा निवासी सिपाही शिशुपाल नवाबगंज थाने में तैनात था| उसके नजदीकी सम्बन्ध हो गये थे| सिपाही ने उनसे कहा की उसकी अच्छी पकड़ है वह स्वास्थ्य विभाग में नौकरी लगवा देगा| इसके बाद पूर्व प्रधान ने सिपाही को भाई वीरेन्द्र, चचेरे भाई योंगेन्द्र सिंह, गाँव के ही निवासी दिनेश चन्द्र के लिये 10 लाख रुपये दे दिये|

लेकिन जब नौकरी नही लगी तो हमने रुपयों को वापस माँगा तो उसने दोबारा फार्म भराये | लेकिन इसके बाद भी नौकरी नही लगी| इसी बीच सिपाही का तबादला कानपुर हो गया| सिपाही तगादा करने पर धमकी देता है| सीएम कार्यालय के हस्तक्षेप के बाद एसपी ने जाँच सीओ मोहम्मदाबाद आरके पाण्डेय को दी है| सोमबार को सीओ के सामने सिपाही और पूर्व प्रधान के बयान दर्ज किये| सीओ ने बताया की अभी तक हुई जाँच में सिपाही की गलती सामने आयी है | जाँच के बाद कार्यवाही होगी|

विवाहिता की हत्या में पति सहित तीन पर मुकदमा

Comments Off on विवाहिता की हत्या में पति सहित तीन पर मुकदमा

Posted on : 06-06-2016 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE

uppफर्रुखाबाद: कोतवाली फतेहगढ़ क्षेत्र के ग्राम अतरिया निवासी रोली पत्नी सुनील पुत्र श्रीपाल की हत्या में सुनील सहित तीन लोगो पर हत्या कर शव फेंकने के आरोप में मुदकमा दर्ज किया गया है| पुलिस मामले की जाँच कर रही है|

जनपद हरदोई के सांडी बकटापुर निवासी छोटेलाल की पुत्री का विवाह बीते चार वर्ष पूर्व सुनील पुत्र श्रीपाल के साथ हुआ था| मृतक रोली के परिजनों का आरोप है की शादी के बाद से सुनील उसके पिता श्रीपाल, सास उसे दो लाख रुपये के लिये प्रताड़ित करने लगे| कई बार परिजनो को मामले की जानकारी होने पर उसके ससुराल वालो को समझाने का प्रयास किया|

रोली के परिजनों का आरोप है की बीते दिन रोली के ससुराल वालो ने रोली की हत्या कर शव फेंक दिया| घटना के बाद से परिजन मौके से फरार हो गये| पुलिस ने पति, सास,ससुर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है|

भीड़ देख केन्द्रीय मंत्रीयों ने कार्यक्रम संयोजक प्रांशु की ठोंकी पीठ

Comments Off on भीड़ देख केन्द्रीय मंत्रीयों ने कार्यक्रम संयोजक प्रांशु की ठोंकी पीठ

Posted on : 06-06-2016 | By : JNI-Desk | In : FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics-BJP

bjp 5675फर्रुखाबाद: विकास पर्व कार्यक्रम में आये केन्द्रीय मंत्रियों ने कार्यक्रम के संयोजक भाजयुमो के राष्ट्रीय मंत्री प्रांशु दत्त द्विवेदी की पीठ ठोक दी| नवभारत सभा भवन पूरा खचाखच भरा था| लोग बाहर भी खड़े रहे|

केन्द्रीय वाणिज्य राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार निर्मला सीतारमण, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हरिभाई पार्थी, राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुसूचित जाति मोर्चा दुष्यंत गौतम ने अपने भाषण में कई बार इस बात का जिक्र किया की इतनी भीषण गर्मी में बड़ी संख्या में लोग आये है और बैठे भी है| जिसके लिये कार्यक्रम संयोजक प्रांशु दत्त द्विवेदी को धन्यबाद है| नेताओ ने कहा की भीड़ देखकर यह अंदाजा लगाया जा सकता है की कार्यक्रम को सफल बनाने के लिये कितनी मेहनत की गयी है| उन्होंने मुख्य अतिथि का स्वागत भी किया| यह भीड़ आने वाले 2017 के चुनाव में इतिहास बदलेगी| सुबह तकरीबन 10 बजे से भीड़ नवभारत सभा भवन पंहुचने लगी| महिलाये भी बड़ी संख्या में आयी थी|

प्रांशु दत्त द्विवेदी ने भी केंद्रीय मंत्रियो और नेताओं का जनपद में आकर कार्यकर्ताओ का उत्साह बढ़ाने के लिये धन्यवाद दिया|

केन्द्रीय मंत्रियो ने बांटे मुफ्त गैस कनेक्शन

Comments Off on केन्द्रीय मंत्रियो ने बांटे मुफ्त गैस कनेक्शन

Posted on : 06-06-2016 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, Politics, Politics-BJP

bjp 56bjp 234फर्रुखाबाद: भारतीय जनता पार्टी के चल रहे विकास पर्व पर आयोजित कार्यक्रम में पंहुचे केन्द्रीय मंत्रियों ने 97 लोगो को पीएम उज्वला योजना के अंतर्गत गैस कनेक्शन वितरित किये| कार्यक्रम में भारी संख्या में भीड़ उमड़ी|

पार्टी की बैठक में पंहुची केन्द्रीय वाणिज्य उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण केव साथ अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष दुष्यंत गौतम, केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री हरिभाई पार्थी ने बीपीएल सूची धारक पात्रो को घरेलू गैस के कनेक्शन वितरित किये| उन्होंने 75 लोगो को इस योजना के अंतर्गत लाभ पंहुचाया| केन्द्रीय मंत्री निर्मला सीता रमण ने कहा की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के पांच करोड़ लोगो को मुफ्त में गैस कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा है| उन्होंने कहा की फर्रुखाबाद में आलू बहुत अधिक मात्रा में पैदा है| इस लिये जल्द फर्रुखाबाद को आलू आधारित प्लांट लगाये जाने की घोषणा की गयी| उन्होंने भाजयुमो नेता प्रांशु दत्त द्विवेदी की पीठ ठोंकी |केंन्द्रीय गृह राज्य मंत्री हरिभाई पार्थी ने कानून व्यवस्था पर सबाल खड़े किये उन्होंने कहा केंद्र सरकार कानून व्यवस्था के सुधार के लिये प्रयास रत है| लेकिन उसके बाद भी प्रदेश सरकार कानून व्यवस्था में किसी भी तरह का सुधार नही ला पा रही| उन्होंने ने मथुरा मामले में कहा की प्रदेश अनुमोदन करे केंद्र सीबीआई जाँच के लिये तैयार है| उन्होंने कहा की आने वाले 2019 देश के हर गाँव में बिजली पंहुचेगी| अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष दुष्यंत गौतम ने कहा की समाज को बांटने का काम मुलायम सिंह और मायावती ने किया है| हम क्षेत्रवाद की राजनीति नही करते| जनता हमारे साथ है| आने वाले विधानसभा चुनाव में बीजेपी ही फतेह करेगी| उन्होंने कहा की बीजेपी कम से कम 346 सीट लेकर आयेगी|

मेजर के जन कल्याण रथ को दिखाई हरी झंडी
मेजर सुनील दत्त के जनकल्याण रथ को भाजपा मय बनाया गया | जिसको नेताओ ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया| मेजर ने बताया की यह रथ क्षेत्र के घरघर के सामने से गुजरेगा| जो मोदी द्वारा चलाई जा रही योजनाओ का प्रचार करेगा|
इस दौरान कार्यक्रम का संचालन जिला महा मंत्री विमल कटियार ने किया| सांसद मुकेश राजपूत, जिलाध्यक्ष सत्यपाल सिंह, पूर्व सांसद मुन्नू बाबू, पूर्व विधायक सुशील शाक्य, कुलदीप गंगवार, रुपेश गुप्ता,शैलेन्द्र सिंह,चेयर मैंन विजय गुप्ता, शिवांग रस्तोगी, रामवीर शुक्ला, वीरेन्द्र कठेरिया आदि लोग मौजूद रहे|
,

मथुरा के जवाहर बाग में 2 जून को क्या-क्या हुआ था, कहां हुई चूक?

Comments Off on मथुरा के जवाहर बाग में 2 जून को क्या-क्या हुआ था, कहां हुई चूक?

Posted on : 06-06-2016 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE

MATHURA, INDIA - JUNE 2: A file photo of Superintendent of Police Mukul Dwivedi, who died after clashes between police and encroachers, believed to be of Azad Bharat Vidhik Vaicharik Kranti Satyagrahi, who were being evicted from Jawaharbagh on June 2, 2016 in Mathura, India. 21 people including two senior police officers died in violence that erupted during a police drive to evict about 3,000 people who had encroached into the Jawahar Bagh park. The squatters belonged to Azad Bharat Vidhik Vaicharik Kranti Satyagrahi group and claimed to be true followers of Netaji Subhash Chandra Bose have illegally occupied public land from last two years. A cache of arms and several spent bullets of AK-47 assault rifles were seized by police from the site of the deadly clashes. (Photo by Anant Ram/Hindustan Times via Getty Images)नई दिल्ली: 2 जून का दिन मथुरा को बड़ा दर्द दे गया। पुलिस ने अपने दो होनहार अफसर खो दिया वहीं ये दिन 24 मौतों का गवाह बना। हर स्तर पर आरोप प्रत्यारोप जारी है। 2 जून की शाम का कड़वा सच क्या है, उस शाम को हकीकत में क्या हुआ था ये जानना बेहद जरूरी है। पेश है उस शाम का अनकहा सच-

4 जून को होनी थी अंतिम कार्रवाई
2 जून को मथुरा के जवाहर बाग में क्या-क्या हुआ था, कहां हुई चूक? पढ़ें इनसाइड स्टोरी
2 जून का दिन मथुरा को बड़ा दर्द दे गया। पुलिस ने अपने दो होनहार अफसर खो दिया वहीं ये दिन 24 मौतों का गवाह बना।
2 जून को जवाहर बाग में जो पुलिस कार्रवाई हुई वो दरअसल पुलिस की फाइनल कार्रवाई नहीं थी। पुलिस दरअसल जवाहर बाग में 4 तारीख को अंतिम कार्रवाई की योजना बना चुकी थी। अतिरिक्त पुलिस बल आसपास के जिलों से बकायदा मंगाया जा चुका था। जितने पुलिसकर्मी 2 जून को कार्रवाई करने पहुंचे उससे दोगुना संख्या में पीएसपी, आरएएफ मथुरा में अलग-अलग जगह डेरा डाले हुए थी। पुलिस का दरअसल एक प्लान ये था कि इस पूरे मामले में कम से कम लोग हताहत हों। शनिवार-रविवार को कार्रवाई की स्थिति में भीड़ कम होने की उम्मीद थी। साथ ही जवाहर बाग से अधिक से अधिक लोगों को पहले ही चेतावनी देकर बाहर निकालने की योजना थी। मंशा ये थी कि अंतिम कार्रवाई से पहले अधिक से अधिक लोग जवाहर बाग छोड़ कर निकल जाएं।

गुरुवार, 2 जून

इसी कड़ी में एसपी सिटी की अगुआई में 2 जून को एक बड़ी टीम जवाहर बाग पहुंची। साथ पहुंचे बुलडोजर ने बाग की दीवार तोड़ डालीं ताकि अगर कुछ लोग निकल कर भागना चाहें तो भाग सकें। पुलिस को ये भी अच्छी तरह पता था कि उनके पास काफी मात्रा में हथियार हैं। सीनियर अफसरों के बीच हुए पत्र व्यवहार में ये बात स्पष्ट रूप से कई बार रेखांकित हुई थी कि जवाहर बाग में जनहानि की आशंका बहुत ज्यादा है। इसी के चलते बकायदा पुलिस की ओर से प्लान बनाया गया था।

चूक कहां हुई

अब सवाल उठता है कि चूक कहां हुई। दरअसल ये आला अफसरों की रणनीतिक चूक का नतीजा था। गुरुवार की शाम 4.30 बजे एसपी सिटी मुकुल द्विवेदी की अगुआई में 500 पीएसी, ट्रेनी जवान और पुलिस का अमला जवाहर बाग पहुंचा। इसमें एक एडिशनल एसपी, 4 सीओ और 6 एसओ स्तर के अफसर मौजूद थे।

4.45 बजे

एसपी सिटी जवाहर बाग के मेन गेट से न जाकर करीब 100 मीटर दूर जेल की ओर वाली दीवार के किनारे-किनारे आगे बढ़े। दीवार बुलडोजर से तोड़ दी गई। वहीं एसपी सिटी को फोर्स के साथ आगे बढ़ता देख सरगना रामवृक्ष यादव के लोगों को ये आभास हुआ कि पुलिस अभी अंतिम कार्रवाई करने जा रही है। पहले से अंदर मौजूद भीड़ ने पुलिस पर पत्थर फेंकना शुरू किया, जब पुलिस पीछे हटने लगी तब उनके हौसले बढ़ गए।

4.55 बजे

पेड़ों पर बैठी महिलाओं ने रामवृक्ष के आदमियों को कवर फायर देना शुरू किया। इसी फायरिंग में एक गोली एसएचओ संतोष यादव को लगी। संतोष यादव वहीं गिर गए। पुलिस बल ने फायरिंग के आदेश न होने के कारण पीछे हटना शुरू किया। इसी बीच भीड़ ने एसपी सिटी मुकुल द्वीवेदी को खींच लिया। ये देखकर उनके साथ मौजूद पुलिसकर्मी भाग खड़े हुए। भीड़ ने एसपी सिटी पर लाठी डंडों से बुरी तरह हमला करना शुरू कर दिया।

5.10 बजे

बाउंड्री के पास मौजूद पत्रकारों ने जब हल्ला मचाना शुरू किया तब पुलिस एकजुट होकर लौटी। लेकिन तब तक बुरी तरह हुई पिटाई से एसपी की मौत हो चुकी थी। पुलिस ने एसपी के शव को कब्जे में लिया और सिटी मजिस्ट्रेट की गाड़ी में तुरंत अस्पताल लाया गया।

गोली चलाने के आदेश

दरअसल, मामला बिगड़ने की असली जड़ गोली चलाने का आदेश जल्द न मिलना बताया जा रहा है। जब ये साफ था कि रामवृक्ष के लोगों के पास भारी मात्रा में हथियार हैं तो डीएम या सिटी मजिस्ट्रेट की ओर से गोली चलने की स्थिति में जवाबी गोलीबारी की पूर्व अनुमति क्यों नहीं दी गई। इस बात का जवाब अभी तक रहस्य बना हुआ है। बताया जाता है कि सिटी मजिस्ट्रेट से एक आला अधिकारी और पीएसी के जवानों की गोली चलाने के आदेश को लेकर बहस हुई। आखिर में फायरिंग का आदेश मिलने पर पुलिस ने जोरदार कार्रवाई शुरू कर दी।

करीब एक घंटे चली कार्रवाई

अपने दो साथियों की मौत के बाद पुलिस ने जोरदार कार्रवाई करते हुए करीब एक घंटे गोलियां चलाईं। पुलिस की कार्रवाई के दौरान बाग में मौजूद भीड़ ने फायरिंग के साथ-साथ पेट्रोल बम भी चलाए। इसी बीच पूरे बाग में मौजूद गाड़ियों में आग लगा दी गई। इसमें एक दर्जन से ज्यादा गाड़ियां जल कर स्वाह हो गईं।

कहां गए वो 2 हजार लोग?

इस विवाद में जो चीज अभी तक खुलकर सामने नहीं आ रही है वो ये कि जवाहर बाग में कितने लोग मौजूद थे। मथुरा के आला अधिकारी कई बार कह चुके हैं कि बाग में 2 हजार से ज्यादा लोग मौजूद थे तो पुलिस कार्रवाई के बाद वो कहां उड़न छू हो गए। क्यों पुलिस ने करीब 350 लोगों की गिरफ्तारी की बात कही है। इससे इस बात की आशंका और बलवती होती है कि जितने लोगों के इस कार्रवाई में मारे जाने की बात चल रही है, कहीं उससे ज्यादा मौतें तो नहीं हुई हैं। अनहोनी की आशंका इसलिए भी प्रबल हो रही है कि जवाहर बाग के चारों तरफ सदर 33, जजेस कंपाउंड, जेल, कलेक्ट्रेट, पीछे बालाजी पुरम और पुलिस लाइन की दीवार पर पुलिस मौजूद थी। हालात इस कदर खराब थे कि बाहर भागते कई लोगों को जनता ने ही खूब धुना। कई को पुलिस के हवाले किया।

ये घटना यूपी सरकार, प्रशासन की कलई खोलने वाली है। गोली चलाने का आदेश क्यों देर से दिया गया, किसके दम पर रामवृक्ष 2 साल से करोड़ों की उस जमीन पर कब्जा जमाए न सिर्फ बैठा रहा बल्कि सबके साथ मारपीट कर आतंक फैलाता रहा, 2 जून की रात बाग में क्या कार्रवाई हुई। आग कैसे लगी और अगर वहां 2 हजार लोग थे तो सिर्फ 4-5 सौ लोग ही कैसे पकड़ में आए, इनके जवाब मिलने बाकी हैं। बहरहाल, ये घटना सीएम अखिलेश की राजनीतिक फजीहत तो कर ही गई साथ उनके 5 साल के शासनकाल पर एक और दाग लगा गई।

[bannergarden id="12"]