जेलर की जेब मोंटी,कैदी खा रहे मिट्टी मिली रोटी

1

JNI NEWS : 16-11-2015 | By : JNI-Desk | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, JAIL

jail copykaidiफर्रुखाबाद: सेन्ट्रल जेल में जेबे भर रहे अधिकारियो की मिली भगत के चलते जिस तरह का गेंहू खरीद कर कैदियों के लिये लाया गया वह देखने लायक है| गेंहू में गेंहू कम व मिट्टी की मात्रा अधिक दिखायी दे रही है| जिसे पीस कर उसका आटा तैयार किया जा रहा है| जब उसकी रोटी बनती है तो वह खाने के योग्य ही नही होती| खबर आटे की रोटी खाने को मजबूर जेल के कैदियों में आक्रोश है|

सेन्ट्रल जेल में वर्तमान में लगभग तीन हजार कैदी सजा काट रहा है| जिनकी मजबूरी का फायदा खूब उठाया जा रहा है| खाने में गोलमाल का जेलर से लेकर अन्य अधिकारी मोटी कमाई कर रहे है| लेकिन किसी की क्या मजाल की वह जबान खोल सके| कैदी मुंह खोले तो उसकी जमकर खातिरदारी कर दी जाये और यह कोई कर्मचारी मुंह खोले तो अधिकारी उसे निगल जाये| जिस कारण जेल की बात जेल में ही दब जाती है| जेल में कभी भी मीनू के हिसाब से खाना नही बनता| खाने में हो रहे गोलमाल से अधिकारियो की बल्ले-बल्ले है|
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जेल बंद कैदियों को मिट्टी मिले गेंहू की रोटी खाने को लेकर जेल प्रशासन को चेतावनी जारी कर दी है| कैदियों ने फरमान जारी करते हुये कहा है कि यदि उन्हें इसी तरह की रोटी उपलब्ध कराई जायेगी तो वह इसका विरोध करेगे| जेल के बाहर खेतो में काम करने वाले कैदीयो को पुड़ी का लालच दिया जाता है| जेल में घटिया गेंहू की सप्लाई में कई अधिकारियो के हाथ रंगे है| इसके साथ ही साथ जेल में कैंटीन भी बखूबी संचालित है| जिसे जेल अधिकारी मोटी रकम देकर चला रहे है|

जेलर सुनीत कुमार सिंह चौहान ने बताया कि जेल में गेंहू केबल जेलर के ही नही जिला पूर्ति अधिकारी व एसडीएम सदर की देखरेख में आता है| खबर गेंहू सप्लाई किये जाने की बात गलत है| किसी कैदी को कोई समस्या नही है|

पाठक की प्रतिक्रिया (1)

This is wrong,