Featured Posts

फर्रुखाबाद में JNI जन सेवा केंद्र पर मना स्वन्त्रता दिवस फर्रुखाबाद: सीएससी द्वारा आयोजित स्वंतंत्रता दिवस कार्यक्रम जेइनआई ग्रुप के मुख्यालय आवास विकास में धूमधाम से मनाया गया| कार्यक्रम में देश की आजादी और डिजिटल इंडिया के बीच आम नागरिक को सुविधा पहुचाने की जानकारी भी दी गयी| कार्यक्रम में झंडारोहण मुख्य अतिथि जिला विज्ञानं...

Read more

केंद्र और राज्य में अलग अलग सरकारों से उत्तर प्रदेश में इ-गवर्नेंस को लग रहा पलीताकेंद्र और राज्य में अलग अलग सरकारों से उत्तर प्रदेश में इ-गवर्नेंस... फर्रुखाबाद: केंद्र और राज्य सरकार में अपने अपने कामो को प्रचारित करने के चक्कर में उत्तर प्रदेश में इ-गवर्नेंस की ऐसी तैसी हो रही है| इसका खामियाजा उत्तर प्रदेश के 2 लाख से ज्यादा लोकवाणी/जन सेवा केंद्र संचालकों के साथ साथ जनता भी भुगत रही है| राज्य सरकार द्वारा संचालित...

Read more

रेल मंत्रालय ने टिकट बुक करने के लिए आधार कार्ड को किया अनिवार्य!रेल मंत्रालय ने टिकट बुक करने के लिए आधार कार्ड को किया अनिवार्य! भारतीय रेल मंत्रालय ने रेल यात्रा के लिए टिकट बुक करने की प्रक्रिया के दौरान आधार कार्ड को अनिवार्य कर दिया है। रेल मंत्रालय के अनुसार, यात्री के टिकट के साथ आधार को लिंक करने की तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं। यह योजना साल 2013 से रेलवे की योजनाओं के ठंडे बस्ते में है, जिसे...

Read more

सनसनी खेज खुलासा: लेडी डॉन की मौत मगर जिन्दा है मीरा जाटव फर्रुखाबाद:(कमालगंज) बीते कई दिनों से कमालगंज थाना पुलिस और बसपा नेता के नाक का बाल बनी मीरा जाटव मीरा नही बल्कि उसकी छोटी बहन नीरा थी| जेएनआई टीम ने जब कन्नौज जनपद के गुरसहायगंज मानिकपुर जाकर पड़ताल की तो हकीकत कुछ और निकली| पता चला कि मरने वाली मीरा नही बल्कि उसकी छोटी बहन...

Read more

सातों व्लाक प्रमुखों ने ली पद और गोपनीयता की शपथसातों व्लाक प्रमुखों ने ली पद और गोपनीयता की शपथ फर्रुखाबाद: जनपद के सातों व्लाको के व्लाक प्रमुखों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई गयी| सभी को क्षेत्र के विकास और आम जनता की समस्या का निदान करने के भी निर्देश दिये गये| मोहम्मदाबाद में व्लाक प्रमुख की शपथ अमित दुबे (बब्बन) ने ली| उन्हें शपथ एसडीएम सदर सुरेन्द्र सिंह ने दिलाई...

Read more

दीदी तीन और जीजा पांच आज आपको एक कथा सुनाने का मन हो रहा है। एक गांव में बलभद्दर (बलभद्र) रहते थे। क्या कहा...किस गांव में? आप लोगों की बस यही खराब आदत है...बात पूछेंगे, बात की जड़ पूछेंगे और बात की फुनगी पूछेंगे। तो चलिए, आपको सिलसिलेवार कथा सुनाता हूं। ऐसा हो सके, इसलिए एक पात्र मैं भी बन जाता हूं।...

Read more

जानिये: किस प्रदेश में कैसी है पंचायती राज व्यवस्थाजानिये: किस प्रदेश में कैसी है पंचायती राज व्यवस्था पंचायत व्यवस्था के सम्बन्ध में प्रावधान संविधान के भाग 9 में 16 अनुच्छेदों में शामिल किया गया, जो निम्न प्रकार हैं– पंचायत व्यवस्था के अन्तर्गत सबसे निचले स्तर पर ग्रामसभा होगी। इसमें एक या एक से अधिक गाँव शामिल किए जा सकते हैं। ग्रामसभा की शक्तियों के सम्बन्ध में राज्य...

Read more

यादो के झरोखे से: एक साल पहले आज के दिन क्या क्या हुआ था?यादो के झरोखे से: एक साल पहले आज के दिन क्या क्या हुआ था? अतीत कभी पीछा नहीं छोड़ता| कभी सुनहरी यादे तो कभी गम भरे पल| मगर यादे तो यादे है| अतीत से सबक लेकर कल और बेहतर किया जा सकता है| पेश है अतीत के झरोके से- आज के दिन वर्ष 2015 में क्या क्या हुआ था? और कौन कौन सी खबरे सुर्खिया बानी थी- १-मोहल्लो में गंदगी मिली तो ईओ से खुद लगवाई जाएगी झाड़ू:...

Read more

फर्रुखाबाद के 302 वर्ष: कभी पृथ्वी राज कपूर का थियेटर भी मंचन करने आया थाफर्रुखाबाद के 302 वर्ष: कभी पृथ्वी राज कपूर का थियेटर भी मंचन... फर्रुखाबाद के इतिहास में रंगमंच का भी एक स्वर्णिम अध्याय है। सन १९६२ के भारत चीन युद्ध के बाद महान अभिनेता पृथ्वीराज कपूर अपना 'पृथ्वी थियेटर' लेकर फर्रुखाबाद आये और 'किसान' ,'आहुति','दीवार' ,'पैसा'और 'पठान ' नाटक खेले। तत्पश्ात राजकीय इण्टर कालेज के शिक्षक श्री बी०बी०सिंह...

Read more

Countdown2015: पप्पू, फेंकू, खुजलीवालः इस साल नेताओं को मिले नए नाम!Countdown2015: पप्पू, फेंकू, खुजलीवालः इस साल नेताओं को मिले नए नाम! पप्पू, फेंकू, नमो, खुजलीवाल! इन लफ्जों में एक पूरी कहानी सिमटी है। किसी न किसी नेता का पूरा किरदार एक शब्द में बांध दिया गया है। यह मजाकिया भी लग सकते हैं और अपमानजनक भी। लेकिन इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि ये जुमले इस साल छाए रहे। चाहते न चाहते हुए इन्हें नजरअंदाज नहीं...

Read more

बंद होगी ‘पढ़ें बेटियां, बढ़े बेटियां’ योजना

1

Posted on : 25-02-2013 | By : पंकज दीक्षित | In : Uncategorized

Akhilesh Mulayam cartoonलखनऊ : अखिलेश सरकार ने पिछले साल अक्टूबर में गरीब तबके की बेटियों के लिए ‘पढ़े बेटियां, बढ़ें बेटियां’ नामक जिस योजना की शुरुआत की थी, उसे अगले वित्तीय वर्ष में बंद करने का फैसला किया है। इस योजना के तहत सूबे में गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों की हाईस्कूल उत्तीर्ण छात्राओं को आगे की पढ़ाई के लिए 30,000 रुपये एकमुश्त दिये जाने की व्यवस्था है। शासन में शीर्ष स्तर पर यह फैसला होने पर अगले वित्तीय वर्ष में योजना के लिए कोई धनराशि नहीं आवंटित नहीं की गई है।

माध्यमिक शिक्षा विभाग ने बीती 18 अक्टूबर को यह योजना शुरू की थी। फिलहाल इस योजना का लाभ हाईस्कूल उत्तीर्ण करने वाली उन्हीं छात्राओं को देने का फैसला किया गया था जिनके परिवार ग्राम्य विकास विभाग से जारी बीपीएल परिवारों की सूची में शामिल हैं या जिनके पास खाद्य विभाग का बीपीएल अंत्योदय राशन कार्ड है। चालू वित्तीय वर्ष में योजना के लिए 100 करोड़ रुपये आवंटित किये गए थे। इस धनराशि से सूबे की 29,918 छात्राओं को देने का लक्ष्य तय किया गया था। इस लक्ष्य के सापेक्ष अब तक लगभग पांच हजार छात्राओं को योजना का लाभ दिया जा चुका है। माध्यमिक शिक्षा विभाग ने वित्तीय वर्ष 2013-14 में भी योजना के लिए 100 करोड़ रुपये का बजट प्रस्ताव वित्त विभाग को भेजा था लेकिन मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में गठित उच्च स्तरीय समिति ने अगले साल के लिए योजना को अनुमोदित करने से मना कर दिया।

-मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में गठित उच्च स्तरीय समिति का फैसला

-अगले वित्तीय वर्ष में योजना के लिए कोई धनराशि आवंटित नहीं

सूत्रों के मुताबिक, उच्च स्तरीय समिति का तर्क था कि इंटरमीडिएट उत्तीर्ण बालिकाओं को आगे की शिक्षा हासिल करने में आर्थिक मदद के लिए सरकार ‘कन्या विद्या धन’ योजना चला रही है। समिति का मानना है कि कन्या विद्या धन योजना के लागू रहते हाईस्कूल पास लड़कियों को आगे की पढ़ाई के लिए अलग से योजना लागू करने का कोई औचित्य नहीं है। हालांकि सरकार अल्पसंख्यक वर्ग की हाईस्कूल उत्तीर्ण लड़कियों को आगे की पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करने के लिए ‘हमारी बेटी, उसका कल’ योजना संचालित कर रही है। इस पर उच्च स्तरीय समिति का तर्क था कि यदि अल्पसंख्यक वर्ग की हाईस्कूल उत्तीर्ण बेटियों के लिए एक योजना चलायी गई है तो यह जरूरी नहीं कि गैर अल्पसंख्यक वर्ग के लिए भी ऐसी कोई योजना संचालित ही की जाए।

हत्या के इरादे से पीएसी जवान को गोली मारकर किया घायल

Comments Off on हत्या के इरादे से पीएसी जवान को गोली मारकर किया घायल

Posted on : 25-02-2013 | By : JNI REPORTER | In : Uncategorized

swadesh co co mohammadabadफर्रुखाबाद: थाना मोहम्मदाबाद क्षेत्र के ग्राम रोहिला निवासी पीएसी जवान को गोली मारकर घायल कर दिया गया। आनन फानन में पीएसी जवान को इलाज के लिए लोहिया अस्पताल ले जाया गया है।जहां पूछताछ के लिए सीओ मोहम्मदाबाद पहुंचे।

यूपी 45 बटालियन अलीगढ़ में तैनात पीएसी जवान सुदीश यादव पुत्र नरेन्द्र सिंह मोहम्मदाबाद से अपने छोटे भाई अरदीप कुमार के साथ रोहिला अपने गांव मां से मिलने आ रहा था। तभी स्वास्थ्यकेन्द्र के निकट गांव के ही कुछ लोगों ने जानलेवा हमले के इरादे से फायरिंग शुरू कर दी। जिससे एक गोली सुदीश के कूल्हे में जा धंसी। पीएसी जवान वहीं पर लड़खड़ाकर गिर गया। छोटा भाई अरदीप भागने में सफल रहा।

[bannergarden id=”8″]

अरदीप के चिल्लाने पर कुछ दूरी पर खड़े पीएसी जवान मौके पर पहुंचे व उसे १०८ इमरजेंसी एम्बुलेंस से लोहिया अस्पताल भिजवाया गया। पीएसी जवान सुदीश कुमार के पिता नरेन्द्र सिंह पुलिस अधीक्षक कार्यालय मैनपुरी में तैनात हैं। मैनपुरी में ही सुदीश की पत्नी विनीता बच्चों के साथ रहती हैं। सुदीश अलीगढ़ में ४५ बटालियन पीएसी में तैनात है। बीते पांच दिन पूर्व वह मैनपुरी अपने बच्चों से मिलने के लिए आया था। जहां सोमवार को वह रोहिला में वह अपनी मां उर्मिलादेवी व भाई अरदीप कुमार से मिलने के लिए आ रहा था। मैनपुरी से बस पकड़कर सुदीश मोहम्मदाबाद पहुंचा। जहां से फोन द्वारा उसने अपने छोटे भाई अरदीप को मोटरसाइकिल से उसे घर तक ले जाने की बात कही। सुदीश के फोन पर अरदीप मोहम्मदाबाद बस अड्डा पहुंचा। सुदीश को बाइक पर पीछे बैठाकर लेकर आ रहा था।

सुदीश के भाई अरदीप ने बताया कि तभी बाइक की रोशनी में सामने खड़े नरेन्द्र सिंह पुत्र धर्मपाल, नागेन्द्र सिंह पुत्र वीरेन्द्र सिंह, जितेन्द्र सिंह पुत्र कुंवर सिंह निवासी रोहिला के अलावा एक अज्ञात व्यक्ति दिखायी दिया। जिसकी जानकारी उसने तुरंत सुदीश को दी व दोनो भाइयों को घटना की भनक सी लग गयी। दोनो बाइक को वहीं छोड़कर पैदल भाग खड़े हुए। जिससे पीछे से उक्त लोगों ने दो फायर किये। जिसमें एक गोली सुदीश के पीछे कूल्हे में लग गयी। सुदीश मौके पर ही गिर गया। समाजवादी एम्बुलेंस से घायल पीएसी जवान सुदीश कुमार यादव को लोहिया अस्पताल भर्ती कराया गया। मामले की जानकारी होने पर क्षेत्राधिकारी मोहम्मदाबाद योगेश कुमार लोहिया अस्पताल पहुंचे व घायल सुदीश कुमार के भाई अरदीप से मामले के सम्बंध में पूछताछ की। अरदीप ने क्षेत्राधिकारी को जमीनी रंजिश के विषय में बताया है। उसने कहा कि डेढ़ साल पूर्व उसके ताऊ इन्द्रपाल सिंह की हत्या उक्त लोगों के द्वारा ही करायी गयी थी। जिसको लेकर उसकी मां न्यायालय में गवाह हैं। पुलिस ने घटना के सम्बंध में एफआर लगा दी लेकिन कोर्ट में मामला अभी चल रहा है।

इस सम्बंध में क्षेत्राधिकारी मोहम्मदाबाद योगेश कुमार ने बताया कि मामले के सम्बंध में जांच की जा रही है, आरोपियों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर कार्यवाही की जायेगी।

एक अप्रैल से गुटखा व तंबाकूयुक्त मसाला प्रतिबंधित

Comments Off on एक अप्रैल से गुटखा व तंबाकूयुक्त मसाला प्रतिबंधित

Posted on : 25-02-2013 | By : पंकज दीक्षित | In : Uncategorized

cancer-300 लखनऊ: प्रदेश सरकार ने फिर दोहराया है कि प्रदेश में एक अप्रैल से गुटखा और तंबाकूयुक्त पान मसाले को प्रतिबंधित कर दिया जाएगा। इस तारीख से राज्य में इसका निर्माण, भंडारण और बिक्री नहीं हो सकेगी। सरकार ने कहा है कि गुटखा एवं तंबाकूयुक्त पान मसाले के कारण होने वाली खतरनाक बीमारियों को देखते हुए यह कदम उठाया गया है।

इसके साथ ही प्रदेश सरकार ने गुणवत्तायुक्त खाद्य पदार्थो के उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए मोबाइल प्रयोगशाला की व्यवस्था का निर्णय किया है। प्रयोगशाला मौके पर ही खाद्य पदार्थ की जाच कर नागरिकों व खाद्य कारोबारियों को जानकारी देगी। मिलावटी खोये व अन्य मिलावटी खाद्य पदार्थो के भंडारण पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से प्रभावी योजना बना कर कार्यवाही की जा रही है।

खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग के अनुसार जनता और खाद्य कारोबारियों को सुरक्षित व गुणवत्तायुक्त खाद्य पदार्थ उपलब्ध कराने के लिये जागरुकता अभियान चलाया गया है। विभाग ने प्रर्वतन के दौरान संग्रहित खाद्य पदार्थो के नमूनों से छेड़छाड़ को रोकने को नमूने की कोड स्लिप व्यवस्था को अब केंद्रीकृत करने का निर्णय किया है। साथ ही खाद्य कारोबारियों की सुविधा के लिये निवेश मित्र योजना के अंतर्गत उनके लाइसेंसिग एवं रजिस्ट्रेशन को आनलाइन करने की सुविधा के साथ ही ऑफ लाइन करने की अनुमति भी दी गयी है।

सीएम अखिलेश को फोन पर सिपाही ने कर दिया ‘टाइट’

Comments Off on सीएम अखिलेश को फोन पर सिपाही ने कर दिया ‘टाइट’

Posted on : 25-02-2013 | By : पंकज दीक्षित | In : Uncategorized
Akhilesh yadav phoneलखनऊ. यूपी में सत्‍ता के गलियारों में इन दिनों एक वाकया काफी चर्चा में है। पता चला है कि जनवरी में पुराने लखनऊ की एक घटना के संबंध में देर रात सीएम अखिलेश यादव ने खुद ही सीधे एसएसपी कैंप कार्यालय में फोन लगा दिया। फोन उठा तो लेकिन यहां सिपाही ने उन्‍हें मुख्‍यमंत्री मानने से ही इंकार कर दिया उलटे उन्‍हें ‘टाइट’ करते हुए फोन पटक दिया। कुछ ही देर बाद एसएसपी साहब ने खुद सिपाही की तरफ से माफी मांगी और किसी तरह मामला रफा-दफा कराया। हालांकि इस वाकये को लेकर तत्‍कालीन एसएसपी साहब अनभिज्ञता ही जता रहे हैं लेकिन ये वाकया इन दिनों चर्चा का केंद्र बना हुआ है।
सूत्रों के अनुसार हुआ कुछ यूं कि देर रात एसएसपी दफ्तर में फोन बजता है। सिपाही फोन उठाता है, उधर से आवाज आती है कप्‍तान साहब से बात कराइए। सिपाही पूछता है आप कौन, कहां से बोल रहे हैं। उधर से जवाब मिलता है मैं मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव बोल रहा हूं, कप्‍तान साहब हैं तो बात कराइए। सिपाही कहता है, हांय कौन? इस पर दूसरी तरफ से शख्‍स फि‍र बोलता है मैं सीएम अखिलेश बोल रहा हूं कप्‍तान साहब हैं कि नहीं। अब सिपाही के तेवर कड़े हो जाते हैं, तल्‍ख आवाज में उत्‍तर देता है, पिए हो क्‍या, मुख्‍यमंत्री होते तो सीधे फोन करते अरे अपने किसी मातहत से फोन कराते। तुम्‍हारे जैसे पच्‍चीसों को रोज डील करता हूं। फोन रख। इसके बाद सिपाही ने फोन पटक दिया। फि‍र उसे लगा कि साहब को बताया जाए, वह फौरन एसएसपी साहब के पास गया और बताने लगा कि साहब एक फोन आया था, उधर से शख्‍स कह रहा था कि वह सीएम अखिलेश यादव है। बताइए मुख्‍यमंत्री कहीं ऐसे फोन करते हैं। उनके स्‍टॉफ पहले फोन करते हैं।
ये सुनना था कि एसएसपी साहब के होश उड़ गए। उन्‍होंने फौरन पूछा अरे, ये पता किया कि फोन कहां से आया था? ट्रेस कराओ। इसके बाद जांच की गई तो लैंडलाइन नंबर विक्रमादित्‍य मार्ग स्थित सपा मुखिया के घर का निकला। फौरन एसएसपी साहब ने उस नंबर पर फोन किया। इसके बाद एसएसपी साहब ने सिपाही की गुस्‍ताखी पर माफी मांगनी शुरू कर दी। आखिरकार मामला रफा-दफा कर दिया गया। जनवरी के इस वाकए के संबंध में अब जब तत्‍कालीन एसएसपी साहब से बात की गई तो उन्‍होंने कहा कि सीएम दफ्तर की तरफ से जो जानकारी मांगी जाती है, वह फौरन उपलब्‍ध कराई जाती है। लखनऊ में जब वह तैनात थे तो मुख्‍यमंत्री द्वारा ऐसा कोई फोन तो नहीं आया था।
व़ैसे ये पहला मौका नहीं है जब सीएम अखिलेश को फोन पर इस तरह की स्थिति से जूझना पड़ा है। खुद मुख्यमंत्री ने पिछले साल नवंबर में खुलासा किया कि उनके पर्सनल नंबर पर एक शख्स कई बार फोन कर रहा था और कह रहा था कि आप लैपटॉप कब देंगे, जल्दी दीजिए। इसके कुछ दिनों बाद उसी शख्स  ने उन्हें फोन पर ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया, जिसे सार्वजनिक तौर पर बयां नहीं किया जा सकता। यही नहीं उस शख्स ने उन्हें धमकियां भी दीं। मामले में उन्होंने आदेश दिया कि इस शख्‍स का पता लगाया जाए। उन्होंने कहा कि उस शख्स के खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं करने की हिदायत दी थी लेकिन यह जरूर जानना चाहते थे कि आखिर ये शख्स है कौन? बाद में पता चला कि वो श्रावस्ती या बस्ती का निवासी है और समाजवादी पार्टी से जुड़ा भी हुआ है।
यही नहीं पिछले साल ही सीएम अखिलेश ने जालौन एसपी को फोन मिला दिया तो वह भी उन्‍हें नहीं पहचान सके और देर रात किए इस फोन के लिए उलटे उन्‍हें ही डांटने लगे कि सीएम होते तो ओएसडी से फोन कराते, देर रात मजाक कर रहे हो क्‍या। बाद में ये एसपी साहब सपा के एक नेता की लिखित शिकायत मिलने के बाद कार्यो में गड़बड़ी पाये जाने पर निलंबित कर दिए गए। ये अब तक निलंबित हैं।

अव्यवस्थाओं के कारण ढाईघाट गंगा पुल पर लगा जाम

Comments Off on अव्यवस्थाओं के कारण ढाईघाट गंगा पुल पर लगा जाम

Posted on : 25-02-2013 | By : JNI REPORTER | In : Uncategorized

jamशमसाबाद (फर्रुखाबाद): माघ पूर्णिमा के दिन ढाईघाट मेले में हजारों श्रद्धालु गंगा नहाने पहुंचे। लेकिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु उमड़ने की पूर्व संभावना के बावजूद प्रशासन द्वारा कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किये गये। जिससे घंटो श्रद्धालुओं को गंगा पुल पर लगे जाम में फंसे रहना पड़ा। श्रद्धालु प्रशासनिक व्यवस्थाओं को कोसते नजर आये।

गंगा तट ढाईघाट पर पीपों के पुल पर निकलने के लिए ठेकेदारों द्वारा वसूली तो जमकर की गयी लेकिन व्यवस्थाओं के नाम पर कोई इंतजाम नहीं किये गये। पुल पर कई जगह रेलिंग टूटी होने से श्रद्धालुओं के गंगा में गिर जाने का भी खतरा मढ़राता रहा। वहीं गंगा तट पर दुकानें लगाने वालों से भी जमकर वसूली की गयी। जबकि सुरक्षा के नाम पर पुलिस की तरफ से कोई अतिरिक्त व्यवस्था नहीं की गयी। जिससे मेले में उठाईगीर व चोर उचक्के हावी रहे।

[bannergarden id=”8″]
लगभग दोपहर के समय पीपों के पुल पर गंगा पार होने के लिए श्रद्धालुओं की इतनी भीड़ उमड़ पड़ी कि पुल पर ही जाम की स्थिति बन गयी। जिससे श्रद्धालुओं को तेज धूप में घंटों पुल पर ही फंसे रहना पड़ा।

[bannergarden id="12"]