Featured Posts

4 बार चिट्ठी लिखने के बाद DM को जबाब नहीं दिया, SDM सहित 19 अफसरों का वेतन रुका 4 बार चिट्ठी लिखने के बाद DM को जबाब नहीं दिया, SDM सहित 19 अफसरों... फर्रुखाबाद: सरकारी सेवाओ के प्रति लोक सेवको की जिम्मेदारी का आलम ये है कि उच्च अधिकारियो की चिट्ठिओ का जबाब तक अधिकारी नहीं देते| प्रशासनिक व्यवस्था में सत्ताधारी नेताओ की दम पर कुर्सियां पाने और बचाने की जो परंपरा अब उत्तर प्रदेश में चल पड़ी है इससे प्रदेश में हालात निकट...

Read more

सरकार ने खंड शिक्षा अधिकारियों को भी दे दिया कमाई का जरिया फर्रुखाबाद: प्रदेश सरकार ने खंड शिक्षा अधिकारियों को भी कमाई करने का एक नया जरिया दे दिया है| बीईओ अब महिला शिक्षकों को अपने स्तर से प्रसूति अवकास, गर्भपात अवकाश, बाल्य देखभाल अवकाश दे सकेंगे| अभी तक यह अवकास बीएसए ही स्वीकृत करते थे| शिक्षकों को अब इसके लिए बीएसए कार्यालय...

Read more

 छेडछाड़ के आरोपी शिक्षक को छात्रा की माँ ने थाने में घुस कर चप्पलों से पीटा छेडछाड़ के आरोपी शिक्षक को छात्रा की माँ ने थाने में घुस कर... फर्रुखाबाद:(कमालगंज) छात्रा से छेड़छाड़ के आरोप में थाने में पकड़ के आये आरोपी शिक्षक को थाने में घुस कर पीडिता की माँ ने चप्पलो से जमकर पीट दिया| चप्पलो से पीट रही पीडिता ने चिल्ला चिल्ला के कहा की एक पखंडी आशाराम जेल में बंद है और दुसरे इस आशाराम को भी जेल की सजा मिलनी चाहिए|...

Read more

एक पीड़ित कई दलाल, खाकी हो रही माला माल एक पीड़ित कई दलाल, खाकी हो रही माला माल फर्रुखाबाद: अखिलेश राज है कानून व्यवस्था पटरी पर है यह उनके ही हाकिमो का कहना है| पीड़ित को न्याय मिल रहा है यह कोई देखने वाला नही| थानों में केबल नोटों की भाषा जानी जा रही है| जनपद के थाने इस समय दलालों की शरण स्थाली बन हुए है| सुबह से शाम तक जमघट लगा रहना आम बात है| लेकिन जनता...

Read more

नवरात्र में भी गंगा में प्रवाहित नहीं हो सकेंगी मूर्तियांनवरात्र में भी गंगा में प्रवाहित नहीं हो सकेंगी मूर्तियां फर्रुखाबाद: नवरात्र में दुर्गा माँ की बड़ी बड़ी मूर्तियाँ लगाने वाले देवी भक्तों के लिए बुरी खबर है| गणेश विसर्जन की भांति ही जिला प्रशासन नवरात्र में भी मूर्तियों को गंगा में विसर्जित करने की अनुमति नहीं देगा| भक्तों को प्रतिमाओं का भूविसर्जन ही करना पड़ेगा| साथ ही कोई भी...

Read more

चिट्ठी आई है- मुख्यमंत्री की चिट्ठी साहब ने आगे बढ़ा दी, छोटे साहब ने और आगे बढ़ा दीचिट्ठी आई है- मुख्यमंत्री की चिट्ठी साहब ने आगे बढ़ा दी, छोटे... 1 जुलाई से हर साल शिक्षा का नया सत्र शुरू होता है| इस बार भी हुआ कोई नयी बात नहीं है| पिछले साल की चिट्ठियों को निकाल लखनऊ के साहब नए साल की तारीख डाल मंडलों और मुख्यालयों पर विभिन्न प्रकार की चिट्ठियां चलाना शुरू कर देते है| चिट्ठियों के कई प्रकार होते है| मगर इनका मजमून हर...

Read more

बीत गए 2 सप्ताह- ..न किताब, और न कापी, शुरू हो गई सत्र की पढ़ाईबीत गए 2 सप्ताह- ..न किताब, और न कापी, शुरू हो गई सत्र की पढ़ाई फर्रुखाबाद: डीएम साहब बड़े सख्त है| मास्टर स्कूल में टाइम से आने और जाने लगे है| हवा हवाई दावे और वादो का हाल ये है कि 2 सप्ताह बीत जाने के बाद भी सरकार के कंधो पर चल रहे सरकारी स्कूल के बच्चो का बस्ता अभी तक खाली है| मास्टर नेतागीरी में मशगूल है, शिक्षा मित्र प्राथमिक शिक्षक बनने...

Read more

डीएम की बैठक- 72 आरा मशीन सील, एक लेखपाल सस्पेंड और 337 नलकूप किसानो के खेत भर रहे है डीएम की बैठक- 72 आरा मशीन सील, एक लेखपाल सस्पेंड और 337 नलकूप किसानो... फर्रुखाबाद: लघु सिचाई में पिछले साल हुआ 14 करोड़ का घोटाला दफ़न है| 112 बोरिंग जो हुई दर्शायी गयी थी वे भौतिक सत्यापन में पुरानी पायी गयी थी| मगर फिर भी नलकूप विभाग के आंकड़े दुरुस्त है| जिलाधिकारी की बैठक में जानकारी दी गयी कि जिले में कुल 337 नलकूप कार्यरत है| 12 नलकूप मैकेनिकल रूप...

Read more

प्रधानमंत्री कार्यालय की तर्ज पर चल रहा जिलाधिकारी कार्यालय... फर्रुखाबाद: अधीनस्थों पर विश्वास न करके जिलाधिकारी को मजबूरन हर विभाग के कामो में सीधी दखल देनी पद रही है| अपने अपने विभागों के दायित्वों को निभाने में नाकाम होने से सरकार की खराब हो रही छवि को सुधरने की जिम्मेदारी अब मुख्यमंत्री से सीधे सीधे जिलाधिकारियो को दी है| इसमें...

Read more

विशेष- जिलाधिकारी एनकेएस राठौर का जुलाई माह में भ्रमण कार्यक्रम विशेष- जिलाधिकारी एनकेएस राठौर का जुलाई माह में भ्रमण कार्यक्रम... फर्रुखाबाद: वैसे तो जिलाधिकारी एनकेएस राठौर के जिले में होने का एहसास जनता को होने लगा है| बाजार समय से बंद होना और बंदी वाले दिन न खुलना जैसे कुछ नए काम बहुत सालो बाद दिखाई पड़ रहे है| हर दफ्तर और सरकारी अमले पर क्रॉस चेकिंग का फंडा भी कामयाब दिख रहा है| जरुरत गलती पकडे जाने...

Read more

बंद होगी ‘पढ़ें बेटियां, बढ़े बेटियां’ योजना

1

Posted on : 25-02-2013 | By : पंकज दीक्षित | In : LUCKNOW

Akhilesh Mulayam cartoonलखनऊ : अखिलेश सरकार ने पिछले साल अक्टूबर में गरीब तबके की बेटियों के लिए ‘पढ़े बेटियां, बढ़ें बेटियां’ नामक जिस योजना की शुरुआत की थी, उसे अगले वित्तीय वर्ष में बंद करने का फैसला किया है। इस योजना के तहत सूबे में गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों की हाईस्कूल उत्तीर्ण छात्राओं को आगे की पढ़ाई के लिए 30,000 रुपये एकमुश्त दिये जाने की व्यवस्था है। शासन में शीर्ष स्तर पर यह फैसला होने पर अगले वित्तीय वर्ष में योजना के लिए कोई धनराशि नहीं आवंटित नहीं की गई है।

माध्यमिक शिक्षा विभाग ने बीती 18 अक्टूबर को यह योजना शुरू की थी। फिलहाल इस योजना का लाभ हाईस्कूल उत्तीर्ण करने वाली उन्हीं छात्राओं को देने का फैसला किया गया था जिनके परिवार ग्राम्य विकास विभाग से जारी बीपीएल परिवारों की सूची में शामिल हैं या जिनके पास खाद्य विभाग का बीपीएल अंत्योदय राशन कार्ड है। चालू वित्तीय वर्ष में योजना के लिए 100 करोड़ रुपये आवंटित किये गए थे। इस धनराशि से सूबे की 29,918 छात्राओं को देने का लक्ष्य तय किया गया था। इस लक्ष्य के सापेक्ष अब तक लगभग पांच हजार छात्राओं को योजना का लाभ दिया जा चुका है। माध्यमिक शिक्षा विभाग ने वित्तीय वर्ष 2013-14 में भी योजना के लिए 100 करोड़ रुपये का बजट प्रस्ताव वित्त विभाग को भेजा था लेकिन मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में गठित उच्च स्तरीय समिति ने अगले साल के लिए योजना को अनुमोदित करने से मना कर दिया।

-मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में गठित उच्च स्तरीय समिति का फैसला

-अगले वित्तीय वर्ष में योजना के लिए कोई धनराशि आवंटित नहीं

सूत्रों के मुताबिक, उच्च स्तरीय समिति का तर्क था कि इंटरमीडिएट उत्तीर्ण बालिकाओं को आगे की शिक्षा हासिल करने में आर्थिक मदद के लिए सरकार ‘कन्या विद्या धन’ योजना चला रही है। समिति का मानना है कि कन्या विद्या धन योजना के लागू रहते हाईस्कूल पास लड़कियों को आगे की पढ़ाई के लिए अलग से योजना लागू करने का कोई औचित्य नहीं है। हालांकि सरकार अल्पसंख्यक वर्ग की हाईस्कूल उत्तीर्ण लड़कियों को आगे की पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करने के लिए ‘हमारी बेटी, उसका कल’ योजना संचालित कर रही है। इस पर उच्च स्तरीय समिति का तर्क था कि यदि अल्पसंख्यक वर्ग की हाईस्कूल उत्तीर्ण बेटियों के लिए एक योजना चलायी गई है तो यह जरूरी नहीं कि गैर अल्पसंख्यक वर्ग के लिए भी ऐसी कोई योजना संचालित ही की जाए।

हत्या के इरादे से पीएसी जवान को गोली मारकर किया घायल

Comments Off

Posted on : 25-02-2013 | By : JNI DESK | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE

swadesh co co mohammadabadफर्रुखाबाद: थाना मोहम्मदाबाद क्षेत्र के ग्राम रोहिला निवासी पीएसी जवान को गोली मारकर घायल कर दिया गया। आनन फानन में पीएसी जवान को इलाज के लिए लोहिया अस्पताल ले जाया गया है।जहां पूछताछ के लिए सीओ मोहम्मदाबाद पहुंचे।

यूपी 45 बटालियन अलीगढ़ में तैनात पीएसी जवान सुदीश यादव पुत्र नरेन्द्र सिंह मोहम्मदाबाद से अपने छोटे भाई अरदीप कुमार के साथ रोहिला अपने गांव मां से मिलने आ रहा था। तभी स्वास्थ्यकेन्द्र के निकट गांव के ही कुछ लोगों ने जानलेवा हमले के इरादे से फायरिंग शुरू कर दी। जिससे एक गोली सुदीश के कूल्हे में जा धंसी। पीएसी जवान वहीं पर लड़खड़ाकर गिर गया। छोटा भाई अरदीप भागने में सफल रहा।

अरदीप के चिल्लाने पर कुछ दूरी पर खड़े पीएसी जवान मौके पर पहुंचे व उसे १०८ इमरजेंसी एम्बुलेंस से लोहिया अस्पताल भिजवाया गया। पीएसी जवान सुदीश कुमार के पिता नरेन्द्र सिंह पुलिस अधीक्षक कार्यालय मैनपुरी में तैनात हैं। मैनपुरी में ही सुदीश की पत्नी विनीता बच्चों के साथ रहती हैं। सुदीश अलीगढ़ में ४५ बटालियन पीएसी में तैनात है। बीते पांच दिन पूर्व वह मैनपुरी अपने बच्चों से मिलने के लिए आया था। जहां सोमवार को वह रोहिला में वह अपनी मां उर्मिलादेवी व भाई अरदीप कुमार से मिलने के लिए आ रहा था। मैनपुरी से बस पकड़कर सुदीश मोहम्मदाबाद पहुंचा। जहां से फोन द्वारा उसने अपने छोटे भाई अरदीप को मोटरसाइकिल से उसे घर तक ले जाने की बात कही। सुदीश के फोन पर अरदीप मोहम्मदाबाद बस अड्डा पहुंचा। सुदीश को बाइक पर पीछे बैठाकर लेकर आ रहा था।

सुदीश के भाई अरदीप ने बताया कि तभी बाइक की रोशनी में सामने खड़े नरेन्द्र सिंह पुत्र धर्मपाल, नागेन्द्र सिंह पुत्र वीरेन्द्र सिंह, जितेन्द्र सिंह पुत्र कुंवर सिंह निवासी रोहिला के अलावा एक अज्ञात व्यक्ति दिखायी दिया। जिसकी जानकारी उसने तुरंत सुदीश को दी व दोनो भाइयों को घटना की भनक सी लग गयी। दोनो बाइक को वहीं छोड़कर पैदल भाग खड़े हुए। जिससे पीछे से उक्त लोगों ने दो फायर किये। जिसमें एक गोली सुदीश के पीछे कूल्हे में लग गयी। सुदीश मौके पर ही गिर गया। समाजवादी एम्बुलेंस से घायल पीएसी जवान सुदीश कुमार यादव को लोहिया अस्पताल भर्ती कराया गया। मामले की जानकारी होने पर क्षेत्राधिकारी मोहम्मदाबाद योगेश कुमार लोहिया अस्पताल पहुंचे व घायल सुदीश कुमार के भाई अरदीप से मामले के सम्बंध में पूछताछ की। अरदीप ने क्षेत्राधिकारी को जमीनी रंजिश के विषय में बताया है। उसने कहा कि डेढ़ साल पूर्व उसके ताऊ इन्द्रपाल सिंह की हत्या उक्त लोगों के द्वारा ही करायी गयी थी। जिसको लेकर उसकी मां न्यायालय में गवाह हैं। पुलिस ने घटना के सम्बंध में एफआर लगा दी लेकिन कोर्ट में मामला अभी चल रहा है।

इस सम्बंध में क्षेत्राधिकारी मोहम्मदाबाद योगेश कुमार ने बताया कि मामले के सम्बंध में जांच की जा रही है, आरोपियों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर कार्यवाही की जायेगी।

एक अप्रैल से गुटखा व तंबाकूयुक्त मसाला प्रतिबंधित

Comments Off

Posted on : 25-02-2013 | By : पंकज दीक्षित | In : FARRUKHABAD NEWS, FEATURED

cancer-300 लखनऊ: प्रदेश सरकार ने फिर दोहराया है कि प्रदेश में एक अप्रैल से गुटखा और तंबाकूयुक्त पान मसाले को प्रतिबंधित कर दिया जाएगा। इस तारीख से राज्य में इसका निर्माण, भंडारण और बिक्री नहीं हो सकेगी। सरकार ने कहा है कि गुटखा एवं तंबाकूयुक्त पान मसाले के कारण होने वाली खतरनाक बीमारियों को देखते हुए यह कदम उठाया गया है।

इसके साथ ही प्रदेश सरकार ने गुणवत्तायुक्त खाद्य पदार्थो के उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए मोबाइल प्रयोगशाला की व्यवस्था का निर्णय किया है। प्रयोगशाला मौके पर ही खाद्य पदार्थ की जाच कर नागरिकों व खाद्य कारोबारियों को जानकारी देगी। मिलावटी खोये व अन्य मिलावटी खाद्य पदार्थो के भंडारण पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से प्रभावी योजना बना कर कार्यवाही की जा रही है।

खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग के अनुसार जनता और खाद्य कारोबारियों को सुरक्षित व गुणवत्तायुक्त खाद्य पदार्थ उपलब्ध कराने के लिये जागरुकता अभियान चलाया गया है। विभाग ने प्रर्वतन के दौरान संग्रहित खाद्य पदार्थो के नमूनों से छेड़छाड़ को रोकने को नमूने की कोड स्लिप व्यवस्था को अब केंद्रीकृत करने का निर्णय किया है। साथ ही खाद्य कारोबारियों की सुविधा के लिये निवेश मित्र योजना के अंतर्गत उनके लाइसेंसिग एवं रजिस्ट्रेशन को आनलाइन करने की सुविधा के साथ ही ऑफ लाइन करने की अनुमति भी दी गयी है।

सीएम अखिलेश को फोन पर सिपाही ने कर दिया ‘टाइट’

Comments Off

Posted on : 25-02-2013 | By : पंकज दीक्षित | In : LUCKNOW
Akhilesh yadav phoneलखनऊ. यूपी में सत्‍ता के गलियारों में इन दिनों एक वाकया काफी चर्चा में है। पता चला है कि जनवरी में पुराने लखनऊ की एक घटना के संबंध में देर रात सीएम अखिलेश यादव ने खुद ही सीधे एसएसपी कैंप कार्यालय में फोन लगा दिया। फोन उठा तो लेकिन यहां सिपाही ने उन्‍हें मुख्‍यमंत्री मानने से ही इंकार कर दिया उलटे उन्‍हें ‘टाइट’ करते हुए फोन पटक दिया। कुछ ही देर बाद एसएसपी साहब ने खुद सिपाही की तरफ से माफी मांगी और किसी तरह मामला रफा-दफा कराया। हालांकि इस वाकये को लेकर तत्‍कालीन एसएसपी साहब अनभिज्ञता ही जता रहे हैं लेकिन ये वाकया इन दिनों चर्चा का केंद्र बना हुआ है।
सूत्रों के अनुसार हुआ कुछ यूं कि देर रात एसएसपी दफ्तर में फोन बजता है। सिपाही फोन उठाता है, उधर से आवाज आती है कप्‍तान साहब से बात कराइए। सिपाही पूछता है आप कौन, कहां से बोल रहे हैं। उधर से जवाब मिलता है मैं मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव बोल रहा हूं, कप्‍तान साहब हैं तो बात कराइए। सिपाही कहता है, हांय कौन? इस पर दूसरी तरफ से शख्‍स फि‍र बोलता है मैं सीएम अखिलेश बोल रहा हूं कप्‍तान साहब हैं कि नहीं। अब सिपाही के तेवर कड़े हो जाते हैं, तल्‍ख आवाज में उत्‍तर देता है, पिए हो क्‍या, मुख्‍यमंत्री होते तो सीधे फोन करते अरे अपने किसी मातहत से फोन कराते। तुम्‍हारे जैसे पच्‍चीसों को रोज डील करता हूं। फोन रख। इसके बाद सिपाही ने फोन पटक दिया। फि‍र उसे लगा कि साहब को बताया जाए, वह फौरन एसएसपी साहब के पास गया और बताने लगा कि साहब एक फोन आया था, उधर से शख्‍स कह रहा था कि वह सीएम अखिलेश यादव है। बताइए मुख्‍यमंत्री कहीं ऐसे फोन करते हैं। उनके स्‍टॉफ पहले फोन करते हैं।
ये सुनना था कि एसएसपी साहब के होश उड़ गए। उन्‍होंने फौरन पूछा अरे, ये पता किया कि फोन कहां से आया था? ट्रेस कराओ। इसके बाद जांच की गई तो लैंडलाइन नंबर विक्रमादित्‍य मार्ग स्थित सपा मुखिया के घर का निकला। फौरन एसएसपी साहब ने उस नंबर पर फोन किया। इसके बाद एसएसपी साहब ने सिपाही की गुस्‍ताखी पर माफी मांगनी शुरू कर दी। आखिरकार मामला रफा-दफा कर दिया गया। जनवरी के इस वाकए के संबंध में अब जब तत्‍कालीन एसएसपी साहब से बात की गई तो उन्‍होंने कहा कि सीएम दफ्तर की तरफ से जो जानकारी मांगी जाती है, वह फौरन उपलब्‍ध कराई जाती है। लखनऊ में जब वह तैनात थे तो मुख्‍यमंत्री द्वारा ऐसा कोई फोन तो नहीं आया था।
व़ैसे ये पहला मौका नहीं है जब सीएम अखिलेश को फोन पर इस तरह की स्थिति से जूझना पड़ा है। खुद मुख्यमंत्री ने पिछले साल नवंबर में खुलासा किया कि उनके पर्सनल नंबर पर एक शख्स कई बार फोन कर रहा था और कह रहा था कि आप लैपटॉप कब देंगे, जल्दी दीजिए। इसके कुछ दिनों बाद उसी शख्स  ने उन्हें फोन पर ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया, जिसे सार्वजनिक तौर पर बयां नहीं किया जा सकता। यही नहीं उस शख्स ने उन्हें धमकियां भी दीं। मामले में उन्होंने आदेश दिया कि इस शख्‍स का पता लगाया जाए। उन्होंने कहा कि उस शख्स के खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं करने की हिदायत दी थी लेकिन यह जरूर जानना चाहते थे कि आखिर ये शख्स है कौन? बाद में पता चला कि वो श्रावस्ती या बस्ती का निवासी है और समाजवादी पार्टी से जुड़ा भी हुआ है।
यही नहीं पिछले साल ही सीएम अखिलेश ने जालौन एसपी को फोन मिला दिया तो वह भी उन्‍हें नहीं पहचान सके और देर रात किए इस फोन के लिए उलटे उन्‍हें ही डांटने लगे कि सीएम होते तो ओएसडी से फोन कराते, देर रात मजाक कर रहे हो क्‍या। बाद में ये एसपी साहब सपा के एक नेता की लिखित शिकायत मिलने के बाद कार्यो में गड़बड़ी पाये जाने पर निलंबित कर दिए गए। ये अब तक निलंबित हैं।

अव्यवस्थाओं के कारण ढाईघाट गंगा पुल पर लगा जाम

Comments Off

Posted on : 25-02-2013 | By : JNI DESK | In : FARRUKHABAD NEWS, धार्मिक

jamशमसाबाद (फर्रुखाबाद): माघ पूर्णिमा के दिन ढाईघाट मेले में हजारों श्रद्धालु गंगा नहाने पहुंचे। लेकिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु उमड़ने की पूर्व संभावना के बावजूद प्रशासन द्वारा कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किये गये। जिससे घंटो श्रद्धालुओं को गंगा पुल पर लगे जाम में फंसे रहना पड़ा। श्रद्धालु प्रशासनिक व्यवस्थाओं को कोसते नजर आये।

गंगा तट ढाईघाट पर पीपों के पुल पर निकलने के लिए ठेकेदारों द्वारा वसूली तो जमकर की गयी लेकिन व्यवस्थाओं के नाम पर कोई इंतजाम नहीं किये गये। पुल पर कई जगह रेलिंग टूटी होने से श्रद्धालुओं के गंगा में गिर जाने का भी खतरा मढ़राता रहा। वहीं गंगा तट पर दुकानें लगाने वालों से भी जमकर वसूली की गयी। जबकि सुरक्षा के नाम पर पुलिस की तरफ से कोई अतिरिक्त व्यवस्था नहीं की गयी। जिससे मेले में उठाईगीर व चोर उचक्के हावी रहे।


लगभग दोपहर के समय पीपों के पुल पर गंगा पार होने के लिए श्रद्धालुओं की इतनी भीड़ उमड़ पड़ी कि पुल पर ही जाम की स्थिति बन गयी। जिससे श्रद्धालुओं को तेज धूप में घंटों पुल पर ही फंसे रहना पड़ा।