Featured Posts

समाजवादी पत्रकार दाह-संस्कार एवं राहत योजना लागू, पढ़े नियम व् शर्तेसमाजवादी पत्रकार दाह-संस्कार एवं राहत योजना लागू, पढ़े नियम... पत्रकारों पर लगातार हो रहे जानलेवा हमलों से हत-आहत लोगों के लिए एक नायाब राहत योजना शुरू की गई है। सूचना विभाग द्वारा लागू की गई इस योजना का नाम "उप्र समाजवादी पत्रकार दाह संस्कार एवं राहत योजना" दिया गया है। इस योजना को उप्र मान्यता पत्रकार समिति के शीर्ष पदाधिकारियों...

Read more

100 दिनों में खुले 1 लाख डिजीटल लॉकर, फर्रुखाबाद में भी सुविधा उपलब्ध100 दिनों में खुले 1 लाख डिजीटल लॉकर, फर्रुखाबाद में भी सुविधा... डेस्क: देश में 100 दिनों के अंदर करीब एक लाख लोगों ने बैंकों में डिजिटल लॉकर खुलवाए हैं। यह जानकारी संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति में दी। डिजिटल इंडिया विजन के कई पहलों में से एक डिजिटल लॉकर का उद्देश्य कागजी दस्तावेज का इस्तेमाल बंद करना है।...

Read more

अध्यापक राज्य पुरस्कार के लिए कैसे कैसे मास्टर हुए दीवाने फर्रुखाबाद: बच्चो को स्कूल में पढ़ाने से ज्यादा परिषदीय अध्यापको को खुद को चमकाने और वेतन पाने की इच्छा रहती है| बच्चे पढ़े न पढ़े, इनाम मिल जाए, नाम हो जाए तो कुछ काम बन जाए| फर्रुखाबाद से जिन चार अध्यापको में राज्य अध्यापक पुरस्कार के लिए अपना अपना आवेदन किया है उनमे से किसी...

Read more

सोशल मीडिया पर उद्योग व्यापार संगठन के जिलाध्यक्ष ने दी अश्लील गलियां- जिस माँ. ..चो.. ने निष्कासन .सोशल मीडिया पर उद्योग व्यापार संगठन के जिलाध्यक्ष ने दी अश्लील... फर्रुखाबाद: उत्तर प्रदेश में समाजवादी नेताओ द्वारा गालियां देने का दौर चल रहा है| प्रदेश के शिक्षा मंत्री एक मिनट में 76 माँ बहन की गन्दी गन्दी गालियां देकर रिकॉर्ड बना रहे है तो फर्रुखाबाद के नेता भी कमतर नहीं है| कुछ महीनो पहले समाजवादी पार्टी के सानिध्य और संरक्षण में...

Read more

जब जागे तभी सवेरा- छुट्टियों में मिड डे मील बनाने की बाध्यता खत्मजब जागे तभी सवेरा- छुट्टियों में मिड डे मील बनाने की बाध्यता... फर्रुखाबाद: वातानुकूलित कमरो में बैठ चिलचिलाती गर्मी के लिए सपने बुनना काफी कठिन काम है| आमतौर पर इस प्रकार की योजनाये अपने अंजाम तक नहीं पहुचती है| सरकार को खुश रखने और लेखा जोखा की चूल से चूल मिलाने में कवायद तो करनी ही पड़ती है| जेएनआई ने सोमवार 25 जून 2015 को ही लेख प्रकाशित...

Read more

छुट्टियों में मिड डे मील का सच, सरकार से मास्टर साहब तक की अपनी अपनी मजबूरियांछुट्टियों में मिड डे मील का सच, सरकार से मास्टर साहब तक की अपनी... हर वर्ष उत्तर प्रदेश में गर्मियों की छुट्टियों में सरकारी स्कूलों में बाटने वाले मुफ्त के मिड डे मील के जारी रखने का फरमान होता है| ज्यादातर सूखा पद जाने के कारण| हालाँकि इस बार सूखा नहीं पड़ा बल्कि मौसम की खराबी से रबी की फसल (खासकर गेंहू और दलहन) जरूर ख़राब हो गयी| मक्का का...

Read more

अब सिर्फ 48 घंटों में मिल जाएगा पैन कार्ड  नंबर!अब सिर्फ 48 घंटों में मिल जाएगा पैन कार्ड नंबर! डेस्क: जनधन योजना की सफलता के बाद सरकार लोगों तक पैन कार्डों को फटाफट उपलब्ध कराने के लिए जल्द ही मेगा प्रोग्राम लांच करने की तैयारी में है। योजना ने अमलीजामा पहना तो महज 48 घंटों के अंदर आवेदक को स्थायी खाता संख्या यानी पैन कार्ड मिल जाया करेगा। सरकार ने बजट में एलान किया...

Read more

भर्ती होंगी 14 हजार आशा 24 सौ एएनएमभर्ती होंगी 14 हजार आशा 24 सौ एएनएम लखनऊ : ग्रामीण क्षेत्रों की स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी में जुटी राज्य सरकार ने 30 मई तक 14 हजार आशा बहू और संविदा पर 24 सौ एएनएम भर्ती करने का निर्देश दिया है। दूसरी ओर केंद्र सरकार ने डायरिया, निमोनिया से बचाव में इस्तेमाल होने वाली दवाओं में कुछ दवा लिखने का अधिकार आशा बहू...

Read more

यूपी बोर्ड हाईस्कूल, इंटर परीक्षा परिणाम 17 मई को एक साथयूपी बोर्ड हाईस्कूल, इंटर परीक्षा परिणाम 17 मई को एक साथ लखनऊ: यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा के रिजल्ट इस बार न सिर्फ समय से थोड़ा पहले आयेंगे। बल्कि एक साथ भी आएंगे। बोर्ड ने इसकी पूरी तैयारियां कर ली है। कापियां चेक होने के बाद अंतिम रिजल्ट तैयार किया जा रहा है। बोर्ड अधिकारियों की माने तो इस बार परिणाम 17 मई को...

Read more

दिल्ली की सत्ता के लिए राहुल से मिलने को बेचैन थे केजरी?दिल्ली की सत्ता के लिए राहुल से मिलने को बेचैन थे केजरी? नई दिल्ली। क्या सचमुच दिल्ली की सत्ता की खातिर अरविंद केजरीवाल कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से हाथ मिलाने को बेचैन थे? आम डेस्क:आदमी पार्टी (आप) में फूट पड़ने के बाद पहली बार यह खुलासा कभी केजरीवाल के बेहद करीबी रहे प्रशांत भूषण ने किया था। अब बागी गुट के दूसरे बड़े नेता...

Read more

बंद होगी ‘पढ़ें बेटियां, बढ़े बेटियां’ योजना

1

Posted on : 25-02-2013 | By : पंकज दीक्षित | In : LUCKNOW

Akhilesh Mulayam cartoonलखनऊ : अखिलेश सरकार ने पिछले साल अक्टूबर में गरीब तबके की बेटियों के लिए ‘पढ़े बेटियां, बढ़ें बेटियां’ नामक जिस योजना की शुरुआत की थी, उसे अगले वित्तीय वर्ष में बंद करने का फैसला किया है। इस योजना के तहत सूबे में गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों की हाईस्कूल उत्तीर्ण छात्राओं को आगे की पढ़ाई के लिए 30,000 रुपये एकमुश्त दिये जाने की व्यवस्था है। शासन में शीर्ष स्तर पर यह फैसला होने पर अगले वित्तीय वर्ष में योजना के लिए कोई धनराशि नहीं आवंटित नहीं की गई है।

माध्यमिक शिक्षा विभाग ने बीती 18 अक्टूबर को यह योजना शुरू की थी। फिलहाल इस योजना का लाभ हाईस्कूल उत्तीर्ण करने वाली उन्हीं छात्राओं को देने का फैसला किया गया था जिनके परिवार ग्राम्य विकास विभाग से जारी बीपीएल परिवारों की सूची में शामिल हैं या जिनके पास खाद्य विभाग का बीपीएल अंत्योदय राशन कार्ड है। चालू वित्तीय वर्ष में योजना के लिए 100 करोड़ रुपये आवंटित किये गए थे। इस धनराशि से सूबे की 29,918 छात्राओं को देने का लक्ष्य तय किया गया था। इस लक्ष्य के सापेक्ष अब तक लगभग पांच हजार छात्राओं को योजना का लाभ दिया जा चुका है। माध्यमिक शिक्षा विभाग ने वित्तीय वर्ष 2013-14 में भी योजना के लिए 100 करोड़ रुपये का बजट प्रस्ताव वित्त विभाग को भेजा था लेकिन मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में गठित उच्च स्तरीय समिति ने अगले साल के लिए योजना को अनुमोदित करने से मना कर दिया।

-मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में गठित उच्च स्तरीय समिति का फैसला

-अगले वित्तीय वर्ष में योजना के लिए कोई धनराशि आवंटित नहीं

सूत्रों के मुताबिक, उच्च स्तरीय समिति का तर्क था कि इंटरमीडिएट उत्तीर्ण बालिकाओं को आगे की शिक्षा हासिल करने में आर्थिक मदद के लिए सरकार ‘कन्या विद्या धन’ योजना चला रही है। समिति का मानना है कि कन्या विद्या धन योजना के लागू रहते हाईस्कूल पास लड़कियों को आगे की पढ़ाई के लिए अलग से योजना लागू करने का कोई औचित्य नहीं है। हालांकि सरकार अल्पसंख्यक वर्ग की हाईस्कूल उत्तीर्ण लड़कियों को आगे की पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करने के लिए ‘हमारी बेटी, उसका कल’ योजना संचालित कर रही है। इस पर उच्च स्तरीय समिति का तर्क था कि यदि अल्पसंख्यक वर्ग की हाईस्कूल उत्तीर्ण बेटियों के लिए एक योजना चलायी गई है तो यह जरूरी नहीं कि गैर अल्पसंख्यक वर्ग के लिए भी ऐसी कोई योजना संचालित ही की जाए।

हत्या के इरादे से पीएसी जवान को गोली मारकर किया घायल

Comments Off on हत्या के इरादे से पीएसी जवान को गोली मारकर किया घायल

Posted on : 25-02-2013 | By : JNI REPORTER | In : CRIME, FARRUKHABAD NEWS, POLICE

swadesh co co mohammadabadफर्रुखाबाद: थाना मोहम्मदाबाद क्षेत्र के ग्राम रोहिला निवासी पीएसी जवान को गोली मारकर घायल कर दिया गया। आनन फानन में पीएसी जवान को इलाज के लिए लोहिया अस्पताल ले जाया गया है।जहां पूछताछ के लिए सीओ मोहम्मदाबाद पहुंचे।

यूपी 45 बटालियन अलीगढ़ में तैनात पीएसी जवान सुदीश यादव पुत्र नरेन्द्र सिंह मोहम्मदाबाद से अपने छोटे भाई अरदीप कुमार के साथ रोहिला अपने गांव मां से मिलने आ रहा था। तभी स्वास्थ्यकेन्द्र के निकट गांव के ही कुछ लोगों ने जानलेवा हमले के इरादे से फायरिंग शुरू कर दी। जिससे एक गोली सुदीश के कूल्हे में जा धंसी। पीएसी जवान वहीं पर लड़खड़ाकर गिर गया। छोटा भाई अरदीप भागने में सफल रहा।

[bannergarden id=”8″]

अरदीप के चिल्लाने पर कुछ दूरी पर खड़े पीएसी जवान मौके पर पहुंचे व उसे १०८ इमरजेंसी एम्बुलेंस से लोहिया अस्पताल भिजवाया गया। पीएसी जवान सुदीश कुमार के पिता नरेन्द्र सिंह पुलिस अधीक्षक कार्यालय मैनपुरी में तैनात हैं। मैनपुरी में ही सुदीश की पत्नी विनीता बच्चों के साथ रहती हैं। सुदीश अलीगढ़ में ४५ बटालियन पीएसी में तैनात है। बीते पांच दिन पूर्व वह मैनपुरी अपने बच्चों से मिलने के लिए आया था। जहां सोमवार को वह रोहिला में वह अपनी मां उर्मिलादेवी व भाई अरदीप कुमार से मिलने के लिए आ रहा था। मैनपुरी से बस पकड़कर सुदीश मोहम्मदाबाद पहुंचा। जहां से फोन द्वारा उसने अपने छोटे भाई अरदीप को मोटरसाइकिल से उसे घर तक ले जाने की बात कही। सुदीश के फोन पर अरदीप मोहम्मदाबाद बस अड्डा पहुंचा। सुदीश को बाइक पर पीछे बैठाकर लेकर आ रहा था।

सुदीश के भाई अरदीप ने बताया कि तभी बाइक की रोशनी में सामने खड़े नरेन्द्र सिंह पुत्र धर्मपाल, नागेन्द्र सिंह पुत्र वीरेन्द्र सिंह, जितेन्द्र सिंह पुत्र कुंवर सिंह निवासी रोहिला के अलावा एक अज्ञात व्यक्ति दिखायी दिया। जिसकी जानकारी उसने तुरंत सुदीश को दी व दोनो भाइयों को घटना की भनक सी लग गयी। दोनो बाइक को वहीं छोड़कर पैदल भाग खड़े हुए। जिससे पीछे से उक्त लोगों ने दो फायर किये। जिसमें एक गोली सुदीश के पीछे कूल्हे में लग गयी। सुदीश मौके पर ही गिर गया। समाजवादी एम्बुलेंस से घायल पीएसी जवान सुदीश कुमार यादव को लोहिया अस्पताल भर्ती कराया गया। मामले की जानकारी होने पर क्षेत्राधिकारी मोहम्मदाबाद योगेश कुमार लोहिया अस्पताल पहुंचे व घायल सुदीश कुमार के भाई अरदीप से मामले के सम्बंध में पूछताछ की। अरदीप ने क्षेत्राधिकारी को जमीनी रंजिश के विषय में बताया है। उसने कहा कि डेढ़ साल पूर्व उसके ताऊ इन्द्रपाल सिंह की हत्या उक्त लोगों के द्वारा ही करायी गयी थी। जिसको लेकर उसकी मां न्यायालय में गवाह हैं। पुलिस ने घटना के सम्बंध में एफआर लगा दी लेकिन कोर्ट में मामला अभी चल रहा है।

इस सम्बंध में क्षेत्राधिकारी मोहम्मदाबाद योगेश कुमार ने बताया कि मामले के सम्बंध में जांच की जा रही है, आरोपियों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर कार्यवाही की जायेगी।

एक अप्रैल से गुटखा व तंबाकूयुक्त मसाला प्रतिबंधित

Comments Off on एक अप्रैल से गुटखा व तंबाकूयुक्त मसाला प्रतिबंधित

Posted on : 25-02-2013 | By : पंकज दीक्षित | In : FARRUKHABAD NEWS, FEATURED

cancer-300 लखनऊ: प्रदेश सरकार ने फिर दोहराया है कि प्रदेश में एक अप्रैल से गुटखा और तंबाकूयुक्त पान मसाले को प्रतिबंधित कर दिया जाएगा। इस तारीख से राज्य में इसका निर्माण, भंडारण और बिक्री नहीं हो सकेगी। सरकार ने कहा है कि गुटखा एवं तंबाकूयुक्त पान मसाले के कारण होने वाली खतरनाक बीमारियों को देखते हुए यह कदम उठाया गया है।

इसके साथ ही प्रदेश सरकार ने गुणवत्तायुक्त खाद्य पदार्थो के उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए मोबाइल प्रयोगशाला की व्यवस्था का निर्णय किया है। प्रयोगशाला मौके पर ही खाद्य पदार्थ की जाच कर नागरिकों व खाद्य कारोबारियों को जानकारी देगी। मिलावटी खोये व अन्य मिलावटी खाद्य पदार्थो के भंडारण पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से प्रभावी योजना बना कर कार्यवाही की जा रही है।

खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग के अनुसार जनता और खाद्य कारोबारियों को सुरक्षित व गुणवत्तायुक्त खाद्य पदार्थ उपलब्ध कराने के लिये जागरुकता अभियान चलाया गया है। विभाग ने प्रर्वतन के दौरान संग्रहित खाद्य पदार्थो के नमूनों से छेड़छाड़ को रोकने को नमूने की कोड स्लिप व्यवस्था को अब केंद्रीकृत करने का निर्णय किया है। साथ ही खाद्य कारोबारियों की सुविधा के लिये निवेश मित्र योजना के अंतर्गत उनके लाइसेंसिग एवं रजिस्ट्रेशन को आनलाइन करने की सुविधा के साथ ही ऑफ लाइन करने की अनुमति भी दी गयी है।

सीएम अखिलेश को फोन पर सिपाही ने कर दिया ‘टाइट’

Comments Off on सीएम अखिलेश को फोन पर सिपाही ने कर दिया ‘टाइट’

Posted on : 25-02-2013 | By : पंकज दीक्षित | In : LUCKNOW
Akhilesh yadav phoneलखनऊ. यूपी में सत्‍ता के गलियारों में इन दिनों एक वाकया काफी चर्चा में है। पता चला है कि जनवरी में पुराने लखनऊ की एक घटना के संबंध में देर रात सीएम अखिलेश यादव ने खुद ही सीधे एसएसपी कैंप कार्यालय में फोन लगा दिया। फोन उठा तो लेकिन यहां सिपाही ने उन्‍हें मुख्‍यमंत्री मानने से ही इंकार कर दिया उलटे उन्‍हें ‘टाइट’ करते हुए फोन पटक दिया। कुछ ही देर बाद एसएसपी साहब ने खुद सिपाही की तरफ से माफी मांगी और किसी तरह मामला रफा-दफा कराया। हालांकि इस वाकये को लेकर तत्‍कालीन एसएसपी साहब अनभिज्ञता ही जता रहे हैं लेकिन ये वाकया इन दिनों चर्चा का केंद्र बना हुआ है।
सूत्रों के अनुसार हुआ कुछ यूं कि देर रात एसएसपी दफ्तर में फोन बजता है। सिपाही फोन उठाता है, उधर से आवाज आती है कप्‍तान साहब से बात कराइए। सिपाही पूछता है आप कौन, कहां से बोल रहे हैं। उधर से जवाब मिलता है मैं मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव बोल रहा हूं, कप्‍तान साहब हैं तो बात कराइए। सिपाही कहता है, हांय कौन? इस पर दूसरी तरफ से शख्‍स फि‍र बोलता है मैं सीएम अखिलेश बोल रहा हूं कप्‍तान साहब हैं कि नहीं। अब सिपाही के तेवर कड़े हो जाते हैं, तल्‍ख आवाज में उत्‍तर देता है, पिए हो क्‍या, मुख्‍यमंत्री होते तो सीधे फोन करते अरे अपने किसी मातहत से फोन कराते। तुम्‍हारे जैसे पच्‍चीसों को रोज डील करता हूं। फोन रख। इसके बाद सिपाही ने फोन पटक दिया। फि‍र उसे लगा कि साहब को बताया जाए, वह फौरन एसएसपी साहब के पास गया और बताने लगा कि साहब एक फोन आया था, उधर से शख्‍स कह रहा था कि वह सीएम अखिलेश यादव है। बताइए मुख्‍यमंत्री कहीं ऐसे फोन करते हैं। उनके स्‍टॉफ पहले फोन करते हैं।
ये सुनना था कि एसएसपी साहब के होश उड़ गए। उन्‍होंने फौरन पूछा अरे, ये पता किया कि फोन कहां से आया था? ट्रेस कराओ। इसके बाद जांच की गई तो लैंडलाइन नंबर विक्रमादित्‍य मार्ग स्थित सपा मुखिया के घर का निकला। फौरन एसएसपी साहब ने उस नंबर पर फोन किया। इसके बाद एसएसपी साहब ने सिपाही की गुस्‍ताखी पर माफी मांगनी शुरू कर दी। आखिरकार मामला रफा-दफा कर दिया गया। जनवरी के इस वाकए के संबंध में अब जब तत्‍कालीन एसएसपी साहब से बात की गई तो उन्‍होंने कहा कि सीएम दफ्तर की तरफ से जो जानकारी मांगी जाती है, वह फौरन उपलब्‍ध कराई जाती है। लखनऊ में जब वह तैनात थे तो मुख्‍यमंत्री द्वारा ऐसा कोई फोन तो नहीं आया था।
व़ैसे ये पहला मौका नहीं है जब सीएम अखिलेश को फोन पर इस तरह की स्थिति से जूझना पड़ा है। खुद मुख्यमंत्री ने पिछले साल नवंबर में खुलासा किया कि उनके पर्सनल नंबर पर एक शख्स कई बार फोन कर रहा था और कह रहा था कि आप लैपटॉप कब देंगे, जल्दी दीजिए। इसके कुछ दिनों बाद उसी शख्स  ने उन्हें फोन पर ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया, जिसे सार्वजनिक तौर पर बयां नहीं किया जा सकता। यही नहीं उस शख्स ने उन्हें धमकियां भी दीं। मामले में उन्होंने आदेश दिया कि इस शख्‍स का पता लगाया जाए। उन्होंने कहा कि उस शख्स के खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं करने की हिदायत दी थी लेकिन यह जरूर जानना चाहते थे कि आखिर ये शख्स है कौन? बाद में पता चला कि वो श्रावस्ती या बस्ती का निवासी है और समाजवादी पार्टी से जुड़ा भी हुआ है।
यही नहीं पिछले साल ही सीएम अखिलेश ने जालौन एसपी को फोन मिला दिया तो वह भी उन्‍हें नहीं पहचान सके और देर रात किए इस फोन के लिए उलटे उन्‍हें ही डांटने लगे कि सीएम होते तो ओएसडी से फोन कराते, देर रात मजाक कर रहे हो क्‍या। बाद में ये एसपी साहब सपा के एक नेता की लिखित शिकायत मिलने के बाद कार्यो में गड़बड़ी पाये जाने पर निलंबित कर दिए गए। ये अब तक निलंबित हैं।

अव्यवस्थाओं के कारण ढाईघाट गंगा पुल पर लगा जाम

Comments Off on अव्यवस्थाओं के कारण ढाईघाट गंगा पुल पर लगा जाम

Posted on : 25-02-2013 | By : JNI REPORTER | In : FARRUKHABAD NEWS, धार्मिक

jamशमसाबाद (फर्रुखाबाद): माघ पूर्णिमा के दिन ढाईघाट मेले में हजारों श्रद्धालु गंगा नहाने पहुंचे। लेकिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु उमड़ने की पूर्व संभावना के बावजूद प्रशासन द्वारा कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किये गये। जिससे घंटो श्रद्धालुओं को गंगा पुल पर लगे जाम में फंसे रहना पड़ा। श्रद्धालु प्रशासनिक व्यवस्थाओं को कोसते नजर आये।

गंगा तट ढाईघाट पर पीपों के पुल पर निकलने के लिए ठेकेदारों द्वारा वसूली तो जमकर की गयी लेकिन व्यवस्थाओं के नाम पर कोई इंतजाम नहीं किये गये। पुल पर कई जगह रेलिंग टूटी होने से श्रद्धालुओं के गंगा में गिर जाने का भी खतरा मढ़राता रहा। वहीं गंगा तट पर दुकानें लगाने वालों से भी जमकर वसूली की गयी। जबकि सुरक्षा के नाम पर पुलिस की तरफ से कोई अतिरिक्त व्यवस्था नहीं की गयी। जिससे मेले में उठाईगीर व चोर उचक्के हावी रहे।

[bannergarden id=”8″]
लगभग दोपहर के समय पीपों के पुल पर गंगा पार होने के लिए श्रद्धालुओं की इतनी भीड़ उमड़ पड़ी कि पुल पर ही जाम की स्थिति बन गयी। जिससे श्रद्धालुओं को तेज धूप में घंटों पुल पर ही फंसे रहना पड़ा।

[bannergarden id="12"]