सैनिक की अंत्येष्टि पर गारद ने दी सलामी

0

फर्रुखाबाद:सड़क दुर्घटना में घायल हुए सैनिक की मौत कानपुर में उपचार के दौरान हो गई। सैनिक सम्मान के साथ उनकी अंत्येष्टि की गई। इस दौरान हर एक आँख नम थी|
जनपद कन्नौज के बटेला कसाबा निवासी 42 वर्षीय गजेन्द्र सिंह पुत्र लालमन वर्तमान में आसाम के जोटाला में जाट रेजीमेंट में तैनात थे| गजेन्द्र की माँ रामकांति उनके पैत्रक गाँव बटेला में रहती थी| जबकि उनकी पत्नी सुषमा देवी व 20 वर्षीय पुत्र अंकित व 16 वर्षीय अंकित बिधूना में रहते है| बीते 7 जनवरी को वह अपने घर छुट्टी पर आये थे| 27 को गजेन्द्र को वापस डियूटी पर पंहुचना था| 26 जनवरी को वह घर से डियूटी पर जाने वाले थे| 25 जनवरी को वह बाइक से अपनी माँ रामकांति से मिल पत्नी के पास जा रहे थे, उसी दौरान अहरबा कटरा के निकट किसी अज्ञात वाहन ने गजेन्द्र को जोरदार टक्कर मार दी| जिससे उन्हें गम्भीर हालत में सीएचसी में भर्ती किया गया|
हालत गम्भीर होने पर कानपुर सेना के अस्पताल में भर्ती किया गया| जंहा उनकी मौत हो गयी| रविवार को उनका पार्थिव शरीर पांचाल घाट लाया गया| तो सैनिक को अंतिम विदाई देने को भीड़ लग गयी| सेना की टुकड़ी ने गंगा घाट पर तिरंगे में लिपटे गजेन्द्र सिंह को सलामी दी| यह देखकर हर आँख नम थी|

इस लेख/समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया लिखें-